Menu

Engineering attracting most Israeli students law business in decline

1.अधिकांश इजरायली छात्रों को आकर्षित करने वाली इंजीनियरिंग;कानून,व्यापार में गिरावट का परिचय (Introduction to Engineering attracting most Israeli students law business in decline):

  • अधिकांश इजरायली छात्रों को आकर्षित करने वाली इंजीनियरिंग;कानून,व्यापार में गिरावट का परिचय (Engineering attracting most Israeli students law business in decline) के द्वारा इस आर्टिकल में इजराइल देश की उन्नति का कारण बताया गया है। इजराइल देश में अन्य विषयों की तुलना में इंजीनियरिंग, कम्प्यूटर विज्ञान और गणित विषय लेने में लोकप्रियता में बढ़ोतरी देखी गई है तथा कानून व व्यापार जैसे विषयों में गिरावट देखी गई है। द्वितीय विश्वयुद्ध से पूर्व इजराइल का विश्वपटल पर कोई अस्तित्व नहीं था। इजराइल में यहूदी रहते हैं। द्वितीय विश्वयुद्ध से पूर्व यहूदी जर्मनी में रहते थे परन्तु हिटलर (हिटलर स्वयं नाजी था) द्वारा यहूदियों का दमन और नरसंहार करने के कारण यहूदी विश्व में चारों ओर बिखर गए उनमें ऑटोहान वैज्ञानिक थे वे अमेरिका चले गए।को हिरोशिमा के बारे में पहली बार 6 अगस्त 1945 को फार्म हॉल में ब्रिटिश अधिकारी द्वारा सूचित किया गया था। खबर ने उन्हें पूरी तरह से चकनाचूर कर दिया, क्योंकि उन्हें लगा कि विखंडन की उनकी खोज ने परमाणु बम का निर्माण संभव कर दिया है, और इस तरह वे जापान में हजारों मौतों के लिए व्यक्तिगत रूप से जिम्मेदार थे। बहुत पहले, उन्होंने आत्महत्या पर विचार किया था, जब उन्होंने पहली बार विखंडन के संभावित सैन्य उपयोग को मान्यता दी थी; अब, अपने अहसास के दोष को अपने कंधों पर तिरछे खींचते हुए, आत्महत्या फिर से अपने उजाड़ से बचने का एक तरीका लग रहा था। इस डर से, मैक्स वॉन ल्यु उनके साथ तब तक रहे, जब तक कि उन्होंने इस व्यक्तिगत संकट को पार नहीं कर लिया। इस तरह के प्रभाव से किसी वैज्ञानिक की सामाजिक जिम्मेदारी कभी प्रभावित नहीं हुई।
  • उनके कैदियों के अनुसार, “काफी शराबी उत्तेजक की मदद से उन्हें शांत किया गया”।  उनके नाभिकीय विखंडन के आधार पर परमाणु बम का आविष्कार किया और वे परमाणु बम जापान के हिरोशिमा व नागासाकी पर गिराए गए और दोनों शहर पूरी से बर्बाद हो गए अर्थात् नष्ट हो गए तब जाकर द्वितीय विश्व युद्ध समाप्त हुआ।
  • तब अमेरिका के राष्ट्रपति हैरी एस ट्रूमैन ने ऑटोहान से ईनाम देने की इच्छा से उनसे प्रश्न किया कि वे क्या चाहते हैं अर्थात् उनको क्या ईनाम दिया जाए? ऑटोहान ने कहा कि विश्व पटल पर यहूदियों के लिए कोई देश नहीं है इसलिए उनके रहने के लिए कोई जगह उपलब्ध करा दी जाए। तब यूरोप जहाँ इजराइल बसा हुआ है यहाँ बिल्कुल रेगिस्तान था, यह जगह यहूदियों को दी गई। यहूदियों ने यहाँ आकर अपनी मेहनत, कठोर परिश्रम, बौद्धिक कौशल से रेगिस्तान को समृद्ध और विकसित किया। आज इजराइल का नाम विकसित देशों में शामिल किया जाता है।
    इजराइल में इंजीनियरिंग, कम्प्यूटर विज्ञान और गणित विषय में लोकप्रियता बढ़ने का सीधा सम्बन्ध आधुनिकता व विकास से है। आज किसी भी देश को विकसित और उन्नत करना है तो इंजीनियरिंग, कम्प्यूटर विज्ञान और गणित में अव्वल रहना ही होगा। इंजीनियरिंग का सम्बन्ध भी सीधे-सीधे गणित विषय से जुड़ा हुआ है। इंजीनियरिंग का कोर्स वही विद्यार्थी कर सकता है जिसने गणित विषय को ऐच्छिक विषय के रूप में लिया है या गणित विषय में उत्कृष्ट योग्यता रखता है। कम्प्यूटर विज्ञान के लिए भी मध्यम स्तर का गणितीय ज्ञान आवश्यक है। इस प्रकार देखा जाए तो आधुनिक विश्व में आगे बढ़ने के लिए गणित कितना आवश्यक है यह भली प्रकार समझा जा सकता है? यदि किसी देश में गणित, कम्प्यूटर विज्ञान, इंजीनियरिंग, विज्ञान, तकनीकी जैसे विषयों में रुझान बढ़ रहा है तो निश्चित रूप से उसे आधुनिक, विकसित, उन्नत व समृद्ध होने से कोई नहीं रोक सकता है। वरना जो देश इन विषयों में पिछड़ा हुआ है तो समझा जाना चाहिए कि वह देश दूसरे देशों पर निर्भर है अर्थात् आत्मनिर्भर नहीं है। यूरोप में कुछ इस्लामिक देश ऐसे हैं जहाँ तेल के कुएँ है जिनके कारण उनके पास अकूत दौलत, धन प्राप्त होता है परन्तु आर्थिक रूप से सम्पन्न होने का यह तात्पर्य नहीं है कि वह विश्व पटल पर कोई बहुत बड़ा योगदान कर सकता है अथवा उसे विकसित या उन्नत कहा जा सकता है। जब तक गणित, इंजीनियरिंग, कम्प्यूटर व तकनीक के लिए कोई भी देश दूसरे देशों पर आश्रित है तब तक न तो वह देश विकसित कहा जा सकता है और न ही अपनी प्रतिभा की छाप अन्य देशों पर छोड़ सकता है।
  • हमारे देश में भी विज्ञान, तकनीकी, गणित व विज्ञान जैसे विषयों में बढ़ोतरी अर्थात् रुझान में वृद्धि 90 के दशक के बाद उदारीकरण से वृद्धि हुई है जिसके शुभ व अच्छे परिणाम हमें उपलब्ध हो रहे हैं। लेकिन अभी देश विकासशील की श्रेणी में ही आता है इसलिए विकसित देशों की श्रेणी में आने के लिए हमें इन विषयों व क्षेत्रों में ओर अधिक ध्यान देने तथा निवेश करने की आवश्यकता है। हमारे देश की प्रतिभा का पलायन हो रहा है उसको रोकना होगा और उनका उपयोग हमारे देश के विकास में करना होगा। इसके लिए सरकारों तथा सार्वजानिक स्वयंसेवी संस्थाओं को आगे बढ़कर आर्थिक तथा अन्य सहयोग प्रदान करना होगा। प्रतिभा पलायन सामान्यतः आर्थिक कारणों से होता है दूसरा कारण है उनकी प्रतिभा का उपयोग करने के लिए संसाधन देश में उपलब्ध हैं। इसलिए इन संस्थाओं को इन दोनों कारणों का समाधान करना होगा। तभी सच्चे अर्थों में हमारा देश विकसित देशों की श्रेणी में आ सकेगा और उन्नत व समृद्ध हो सकेगा।
  • आपको यह जानकारी रोचक व ज्ञानवर्धक लगे तो अपने मित्रों के साथ इस गणित के आर्टिकल को शेयर करें।यदि आप इस वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो वेबसाइट को फॉलो करें और ईमेल सब्सक्रिप्शन को भी फॉलो करें।जिससे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन आपको मिल सके । यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए । आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं।इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

2.अधिकांश इजरायली छात्रों को आकर्षित करने वाली इंजीनियरिंग;कानून,व्यापार में गिरावट ( Engineering attracting most Israeli students law business in decline):

  • इंजीनियरिंग लगातार दूसरे वर्ष इजरायल के छात्रों के बीच सबसे लोकप्रिय स्नातक पाठ्यक्रम बना हुआ है, काउंसिल फॉर हायर एजुकेशन (CHE) द्वारा प्रकाशित नए आंकड़ों से 2019/20 शैक्षणिक वर्ष की शुरुआत से पहले पता चला है।
    2018/19 शैक्षणिक वर्ष के दौरान कुल 35,041 इजरायली स्नातक ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई की, लगातार दूसरे वर्ष में सामाजिक अध्ययन (34,324) से अधिक छात्रों को आकर्षित किया। सामाजिक अध्ययन पाठ्यक्रम हाल के दशकों में अध्ययन का सबसे लोकप्रिय क्षेत्र रहा है।
  • पिछले एक दशक के दौरान, CHE ने विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में कंप्यूटर विज्ञान सीखने वाले छात्रों में 80% की वृद्धि देखी है। पिछले साल, 16,780 इजरायलियों ने कंप्यूटर विज्ञान का अध्ययन किया – गणित और आंकड़ों का अध्ययन करने के लिए कई ऑप्टींग द्वारा बढ़ाया गया – 2009/10 शैक्षणिक वर्ष के दौरान सिर्फ 9,122 की तुलना में।
    कुल मिलाकर, लगभग 190,000 इजरायली छात्रों में से एक-में से चार ने 2018/19 शैक्षणिक वर्ष के दौरान इंजीनियरिंग या कंप्यूटर विज्ञान और गणित का अध्ययन किया।
  • “नए डेटा से पता चलता है कि हम अपने लक्ष्य को पूरा कर चुके हैं, संस्थानों के लिए प्रोत्साहन और बुनियादी ढांचे के विस्तार के लिए धन्यवाद, हम इजरायल में शैक्षणिक कार्यक्रमों में क्रांतिकारी बदलाव लाने में सक्षम हैं – कई छात्र हाई-टेक अध्ययन की चुनौती का चयन कर रहे हैं,” प्रो। । यफ्फा ज़िल्बरशट्स, चेम की योजना और बजट समिति के अध्यक्ष।
    “शैक्षणिक प्रणाली में एक महत्वपूर्ण बदलाव आया है, जो इजरायल की अर्थव्यवस्था पर भी एक बड़ा प्रभाव डालता है। संस्थानों के सहयोग से, हम इस प्रवृत्ति को जारी रखने, इज़राइल में उद्यमशीलता और नवाचार को बढ़ावा देने और उद्योग के साथ शिक्षा को एकीकृत करने के लिए दृढ़ हैं। “
  • जबकि इंजीनियरिंग और कंप्यूटर विज्ञान लोकप्रियता में बढ़ गए हैं, कानून और व्यवसाय प्रबंधन सहित स्नातक पाठ्यक्रमों में पिछले एक दशक में छात्र संख्या में 20-25% की गिरावट देखी गई है।
    मानविकी का अध्ययन करने वाले छात्रों में इसी तरह की कमी – 2012/13 में 14,248 छात्रों से घटकर 2018/19 में 10,698 हो गई – ने अध्ययन के अन्य क्षेत्रों के साथ मानव-संबंधित पाठ्यक्रमों के एकीकरण को प्रोत्साहित करने वाले अग्रिम कार्यक्रमों को आगे बढ़ाया है।
  • “पिछले एक दशक में कानून और व्यवसाय प्रबंधन में गिरावट के साथ इंजीनियरिंग और कंप्यूटर विज्ञान के छात्रों में महत्वपूर्ण वृद्धि देखी गई है,” चेप के उपाध्यक्ष प्रो। उन्होंने कहा, ‘ये चीजें बाजार की ताकतों के कारण, राष्ट्रीय कार्यक्रम को बढ़ावा देने के साथ-साथ हाई-टेक प्रोफेशनल्स को मजबूत करने के लिए हैं। हम जल्द ही मानविकी उन्नति कार्यक्रम पूरा करेंगे और मानविकी को अध्ययन के अन्य क्षेत्रों में एकीकृत करने और उन्हें कई छात्रों के लिए सुलभ बनाने के लिए भी काम करेंगे। ”
    पिछले महीने सफल उद्यमियों के उत्पादन के लिए 50 विश्व-अग्रणी शैक्षणिक संस्थानों में चार इजरायली विश्वविद्यालयों का नाम लिया गया था। संस्थानों को उन उद्यमियों के अनुसार रैंक दिया गया जो बाद में अपने स्टार्ट-अप्स के लिए वेंचर फंडिंग को सुरक्षित करते हैं।
  • तेल अवीव विश्वविद्यालय में स्नातक कार्यक्रमों को वार्षिक अध्ययन द्वारा सफल उद्यमियों के निर्माण के लिए दुनिया भर में आठवें स्थान पर रखा गया, जो सभी गैर-अमेरिकी विश्वविद्यालयों में सबसे अधिक है।
    हाइफा की तकनीक-इज़राइल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (14 वीं), हिब्रू विश्वविद्यालय यरूशलेम (34 वीं) और बेन-गुरियन यूनिवर्सिटी ऑफ द नेगेव (49 वीं) सभी को स्नातक कार्यक्रमों के लिए शीर्ष 50 विश्वविद्यालयों में स्थान दिया गया था।
  • उपर्युक्त आर्टिकल में अधिकांश इजरायली छात्रों को आकर्षित करने वाली इंजीनियरिंग;कानून,व्यापार में गिरावट का परिचय (Engineering attracting most Israeli students law business in decline) के बारे में बताया गया है।

Engineering attracting most Israeli students law business in decline

अधिकांश इजरायली छात्रों को आकर्षित करने वाली इंजीनियरिंग;कानून,व्यापार में गिरावट का परिचय (Engineering attracting most Israeli students law business in decline)

Engineering attracting most Israeli students law business in decline

अधिकांश इजरायली छात्रों को आकर्षित करने वाली इंजीनियरिंग;कानून,व्यापार में गिरावट का परिचय (Engineering attracting most Israeli students law business in decline) के द्वारा इस आर्टिकल में इजराइल देश की उन्नति का कारण बताया गया है।

No.Social MediaUrl
1.Facebookclick here
2.you tubeclick here
3.Instagramclick here
4.Linkedinclick here
5.Facebook Pageclick here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *