Menu

9 Best tips to teach mathematics

Contents hide
1 1.गणित पढ़ाने के 9 बेहतरीन टिप्स (9 Best tips to teach mathematics)-
1.2 3.गणित के लिए बेहतर माहौल बनाएं (Create a better environment for mathematics)-

1.गणित पढ़ाने के 9 बेहतरीन टिप्स (9 Best tips to teach mathematics)-

गणित  पढ़ाने के 9 बेहतरीन टिप्स (9 Best tips to teach mathematics) क्या हैं, इसके बारे में इस आर्टिकल में बताया गया है। आधुनिक युग में कई पुरानी मान्यताएं, प्रथाएं,नियम तथा कानून में बदलाव आया है।

पुराने जमाने में आज जितनी कड़ी प्रतिस्पर्धा नहीं थी।इसका कारण यह था कि पुराने जमाने में वैश्य का लड़का व्यापार,बढ़ई का लड़का खाती, कुम्हार का लड़का मटके बनाता था।यानि सभी अपने परम्परागत तरीकों से ही तथा परम्परागत व्यवसाय ही करते थे। इसलिए उनमें प्रतिस्पर्धा नहीं थी। परन्तु आधुनिक युग में किसी भी व्यवसाय को किसी भी जाति का व्यक्ति सीखता है,सीख सकता है और उसे करता है व कर सकता है।
कोई भी व्यक्ति किसी व्यवसाय को अपनी आजीविका अपना सकता है। इसलिए आधुनिक युग में परम्परागत तरीकों से काम नहीं चलाया जा सकता है।आगे बढ़ने तथा दुनिया के अन्य लोगों के साथ बराबर चलने के लिए नई तकनीक व नए तरीके अपनाने होते हैं।
गणित विषय का आधुनिक युग में प्रत्येक क्षेत्र में प्रवेश हो गया है। इसलिए इसका अत्यधिक महत्त्व होने के कारण हर विद्यार्थी को गणित सीखने की इच्छा रहती है।
आज हम कुछ ऐसी टिप्स का वर्णन कर रहे हैं जिनका प्रयोग करके गणित को सरल,रोचक व मनोरंजक बनाया जा सकता है।
आपको यह जानकारी रोचक व ज्ञानवर्धक लगे तो अपने मित्रों के साथ इस गणित के आर्टिकल को शेयर करें ।यदि आप इस वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो वेबसाइट को फॉलो करें और ईमेल सब्सक्रिप्शन को भी फॉलो करें जिससे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन आपको मिल सके ।यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए ।आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं। इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

Also Read This Article-what is tips to solve mathematics?

2.गणित पढ़ाने की 9 बेहतरीन टिप्स में प्रथम टिप्स है कि बच्चों के साथ मित्रतापूर्ण व्यवहार करें (9 best tips to teach mathematics are the first tips for dealing with children in a friendly manner)-

बच्चे अक्सर अपनी समस्याएं,कठिनाइयां तथा हर बात उसी के साथ शेयर करते हैं जो उनके साथ मित्रतापूर्ण व्यवहार करता है। मित्रतापूर्ण व्यवहार करने से बच्चे गणित सम्बन्धी कोई भी कठिनाई या समस्या को आपको बताएंगे। आपको बच्चे कोई समस्या नहीं बताएंगे तो आपको कैसे मालूम पड़ेगा कि उनके सामने किस प्रकार की समस्याएं आती है?जब समस्याओं का मालूम ही नहीं पड़ेगा तो उनका समाधान कैसे कर सकते हैं?

3.गणित के लिए बेहतर माहौल बनाएं (Create a better environment for mathematics)-

गरीब व निर्धन परिवार के बच्चे कोचिंग क्लासेज का खर्चा वहन नहीं कर सकते हैं। जिससे उन्हें गणित को हल करने के लिए बेहतर माहौल नहीं मिल पाता है।
इसलिए बेहतर माहौल बनाने के लिए कमजोर,निर्धन व असहाय बच्चों की पहचान करें।ऐसे बच्चों को अतिरिक्त कालांश में पढ़ाकर उनकी गणित को इम्प्रूव करें।
कुछ बच्चों में प्रतिभा तो होती है परन्तु उचित माहौल और संसाधन न मिलने के कारण आईआईटी जैसे संस्थानों में चयन से वंचित रह जाते हैं।

4.गणित को प्रैक्टिकल करके समझाएं (Practically explain mathematics)-

यदि बच्चों को गणित के किताबी ज्ञान के साथ-साथ प्रैक्टिकल करके समझाया जाए तो गणित को आसानी से समझा जा सकता है। गणित की कांसेप्ट क्लीयर हो जाती है।
शिक्षा संस्थान में समृद्ध व्यक्तियों के सहयोग से गणित के किताबी ज्ञान के साथ-साथ प्रैक्टिकल करके समझाएं।
प्रिज्म का सम्पूर्ण पृष्ठीय क्षेत्रफल,आयतन निकालना हो तो उन्हें प्रिज्म को दिखाकर बताएं कि प्रिज्म किस आकृति का होता है और उसका सम्पूर्ण पृष्ठीय क्षेत्रफल व आयतन निकालने से क्या तात्पर्य है?

5.छात्रों को अंग्रेजी का ज्ञान कराएं (Make students knowledge of english)-

यह सही है कि छात्र मातृभाषा व राष्ट्रीय भाषा के माध्यम से शिक्षा प्राप्त करने में सुविधा अनुभव करते हैं और तेजी से आगे बढ़ते हैं। परन्तु अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर आगे आने के लिए अंग्रेजी का ज्ञान आवश्यक है।
आधुनिक गणित का अधिकांश विकास पाश्चात्य देशों में हुआ है इसलिए इसकी शब्दावली अंग्रेजी भाषा में ही है।साथ ही अन्तर्राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं में प्रश्न-पत्र भी अंग्रेजी भाषा में ही होता है। अतः बच्चों को धीरे-धीरे अंग्रेजी का ज्ञान कराया जाए। गणित को धीरे-धीरे अंग्रेजी में पढ़ाने का अभ्यास कराया जाए।

6.बच्चों की तारीफ करें (Praise children)-

विद्यार्थी यदि किसी भी सवाल का उत्तर बता देते हैं या किसी प्रश्न को हल कर देते हैं तो उनकी प्रशंसा की जाए।
बच्चों के अच्छे कार्यों की प्रशंसा करने पर उनमें आत्मविश्वास की वृद्धि होती है।
साथ ही बच्चों को आपस में खुलकर बातचीत करने का मौका दिया जाए, जिससे वे अपनी गणित की समस्याओं को हल कर सकें।
गणित को औपचारिकता निभाकर ही नहीं पढ़ाएं बल्कि बच्चों में गणित की अलख जगाने के तरीके ढूंढें।
बच्चे जब किसी सवाल को हल करते हैं तथा उसके फलस्वरूप उन्हें प्रशंसा मिलती है तो उनमें आगे बढ़ने का हौसला बढ़ता है।
गणित पढ़ाने के 9 बेहतरीन टिप्स (9 Best tips to teach mathematics) की यह छठ्ठी टिप्स है।

7.प्रतिभाशाली बच्चों को पुरस्कृत करें (Reward talented children)-

समाज के दानवीर व्यक्तियों से सहयोग लेकर गणित में प्रतिभाशाली छात्रों को सम्मानित करें। उन्हें पुरस्कृत कराएं।पुरस्कृत करने से उनमें आगे बढ़ने की ललक पैदा होती है।
बच्चों के बीच प्रतियोगिता कराएं।जो श्रेष्ठ बच्चे निखरकर आएं उन्हें ईनाम देकर पुरस्कृत करें तथा उनकी खुले दिल से हौसला अफजाई करें।
इससे गणित में उनको आगे बढ़ने की हिम्मत पैदा होती है।जो बच्चे असफल हो जाते हैं,उनकी कोशिश की तारीफ करें तथा उन्हें आगे ओर अधिक मेहनत करने के लिए प्रेरित करें।

8.विद्यार्थियों को आनलाईन पढ़ाएं (Teach students online)-

बच्चों में गणित के कारण हीन भावना बैठी हुई है उसे दूर करने के लिए बच्चों को गणित से जोड़े रखना आवश्यक है।
कोरोनावायरस से फैली महामारी तथा लोकडाॅउन के कारण बच्चों की शिक्षा बुरी तरह प्रभावित हुई है।ऐसे समय में तथा अन्य समय में भी बच्चों की आनलाईन क्लास लें।
आनलाईन क्लास के लिए फेसबुक ग्रुप, फेसबुक पेज, यूट्यूब और व्हाट्सएप्प ग्रुप का उपयोग किया जा सकता है।
इसके अलावा वेब एप्लीकेशन बनाकर उसके जरिए भी गणित शिक्षा प्रदान की जा सकती है।

9.बच्चों के माता-पिता व अभिभावकों से सम्पर्क करें (Contact the parents and guardians of the children)-

बच्चों में गणित को लोकप्रिय बनाने तथा उसे सरल व रोचक बनाने के लिए बच्चों के माता-पिता व अभिभावकों से सम्पर्क भी आवश्यक है।
माता-पिता व अभिभावकों से सम्पर्क करके गणित में आनेवाली समस्याओं को जानने का प्रयास करें। गणित सम्बन्धी समस्याओं को जानकर उनका समाधान करने की कोशिश करें।
बच्चों के माता-पिता व अभिभावकों से मिलकर उनकी गणित की परफॉर्मेंस के बारे में चर्चा करें।
माता-पिता व अभिभावकों से मिलने पर बच्चा आत्मीयता अनुभव करता है तथा उसमें गणित को हल करने की प्रेरणा उत्पन्न होती है।
माता-पिता व अभिभावकों को बच्चों का रिपोर्ट कार्ड शिक्षा संस्थान से समय-समय पर प्राप्त करते रहना चाहिए।
गणित पढ़ाने के 9 बेहतरीन टिप्स (9 Best tips to teach mathematics) की यह आठवीं टिप्स है।

10.नवाचार का प्रयोग (Use of innovation)-

गणित पढ़ाने के 9 बेहतरीन टिप्स (9 Best tips to teach mathematics) के अलावा ओर भी तरीके हो सकते हैं। इसलिए शिक्षक को उन तरीकों को जानने और बच्चों को उन तरीकों से पढ़ाने के लिए हमेशा विद्यार्थी बने रहना चाहिए।
नवाचार के बारे में जानकारी रखनी चाहिए।विश्व में गणित में क्या कुछ हो रहा है उसकी जानकारी बच्चों को देते रहना चाहिए।
इन गणित पढ़ाने के 9 बेहतरीन टिप्स (9 Best tips to teach mathematics) से आप गणित को सरल रोचक व मनोरंजक बना सकते हैं।

11.मैं अपने गणित शिक्षण कौशल में सुधार कैसे कर सकता हूं?(How can I improve my maths teaching skills?)-

(1.)अंडरस्टैंडिंग कॉन्सेप्ट पर ध्यान दें। आप कई गणित की समस्याओं को पूरा करने के लिए सूत्र और नियम याद कर सकते हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप जो कर रहे हैं उसके पीछे अंतर्निहित अवधारणाओं को समझते हैं।
(2.)नई अवधारणाओं और अभ्यास समस्याओं पर जाएँ।
(3.)अतिरिक्त समस्याओं का समाधान करें।
(4.)शब्द समस्याएँ बदलें।
(5.)मैथ को रियल लाइफ में लागू करें।
(6.)ऑनलाइन अध्ययन करें।

12.गणित पढ़ाने का सबसे अच्छा तरीका क्या है?,गणित सिखाने के लिए किन विधियों का उपयोग किया जाता है? (What is the best method of teaching mathematics?,What methods are used to teach mathematics? )-

गणित के शिक्षण विधियों में व्याख्यान, आगमनात्मक, निगमनात्मक, ह्यूरिस्टिक या खोज, विश्लेषणात्मक, सिंथेटिक, समस्या समाधान, प्रयोगशाला और परियोजना विधियां शामिल हैं। शिक्षक कक्षा में विशिष्ट पाठ्यक्रम, उपलब्ध संसाधनों और छात्रों की संख्या के अनुसार किसी भी विधि को अपना सकते हैं।

13.मैथ्स में कमजोर छात्रों को कैसे सुधारें?,गणित प्रदर्शन को बेहतर बनाने के लिए कार्य योजना (how to improve weak students in maths?, action plan to improve math performance)-

(1.)विश्वास बनाओ।
(2.)पूछताछ को प्रोत्साहित करें और जिज्ञासा के लिए जगह बनाएं।
(3.)प्रक्रियात्मक वैचारिक समझ पर जोर दें।
(4.)गणित के साथ संलग्न करने के लिए छात्रों की ड्राइव बढ़ाने वाली प्रामाणिक समस्याएं प्रदान करें।
(5.)गणित के बारे में सकारात्मक दृष्टिकोण साझा करें।

14.गणित पढ़ाने में दृष्टिकोण और रणनीति (approaches and strategies in teaching mathematics)-

(1.)इसे हाथों से बनाएं।
(2.)दृश्यों और छवियों का उपयोग करें।
(3.)सीखने में अंतर करने के अवसर खोजें।
(4.)छात्रों से अपने विचारों को समझाने के लिए कहें।
(5.)वास्तविक दुनिया के परिदृश्यों से संबंध बनाने के लिए कहानी सुनाना शामिल करें।
(6.)नई अवधारणाएँ दिखाएं और बताएं।

15.गणित में कमजोर छात्रों के लिए सुधारात्मक योजना (remedial plan for weak students in math)-

गणित के बारे में सकारात्मक दृष्टिकोण साझा करें। शिक्षकों का सुझाव है कि माता-पिता गणित के बारे में नकारात्मक बातें करने से बचें, और विशेष रूप से यह कहने से बचें कि यह कठिन या बेकार है -क्योंकि उन्हें अपने बच्चों को हार न मानने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए, और जब वे जवाब देने में सक्षम नहीं होते हैं, तो उन्हें गणित के संरक्षक खोजने में मदद करें।

16.गणित में कठिनाइयों के साथ छात्रों को पढ़ाने के लिए प्रभावी रणनीति (effective strategies for teaching students with difficulties in mathematics)-

(1.)संरचित सहकर्मी-सहायता प्राप्त शिक्षण गतिविधियों का उपयोग।
(2.)दृश्य प्रतिनिधित्व का उपयोग करके व्यवस्थित और स्पष्ट निर्देश।
(3.)छात्रों के फॉर्मेटिव मूल्यांकन (जैसे कक्षा चर्चा या क्विज़) से डेटा के आधार पर निर्देश संशोधित करना
(4.)छात्रों को काम करते समय जोर से सोचने के अवसर प्रदान करना।
इस प्रकार आप गणित पढ़ाने के 9 बेहतरीन टिप्स (9 Best tips to teach mathematics) तथा उसके नीचे दिए गए प्रश्नों के उत्तर द्वारा अपने शिक्षण में निखार ला सकते हैं।

Also Read This Article-Who can teach mathematics?

No.Social MediaUrl
1.Facebookclick here
2.you tubeclick here
3.Twitterclick here
4.Instagramclick here
5.Linkedinclick here
6.Facebook Pageclick here
Social Media
No Responses

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *