Menu

What are vocational courses after 10th?

1.10 वीं के बाद व्यावसायिक पाठ्यक्रम क्या हैं?(What are vocational courses after 10th?)-

दसवीं के बाद व्यावसायिक पाठ्यक्रम (Vocational courses after 10th) छात्रों की स्किल्स को इंप्रूव करने के लिए किया जाता है।स्कूलों, काॅलेजों तथा अन्य संस्थानों में छात्रों को जो स्किल्स दी जाती है उससे हटकर व्यावसायिक पाठ्यक्रम है।इस आर्टिकल में दसवीं के बाद व्यावसायिक पाठ्यक्रम (Vocational courses after 10th) के बारे में जानकारी दी जाएगी।इसमें 12वीं के बाद स्किल्स इम्प्रूव करने वाले कोर्सेज भी शामिल हैं।कई छात्रों ,माता-पिता तथा अभिभावकों के मन में यह प्रश्न उठता है कि वोकेशनल कोर्स क्यों करना चाहिए तथा कौन कौन-से कोर्स किए जा सकते हैं? वोकेशनल कोर्सेज से जुड़ी हुई इन बातों को बताने का प्रयास करेंगे।
आपको यह जानकारी रोचक व ज्ञानवर्धक लगे तो अपने मित्रों के साथ इस गणित के आर्टिकल को शेयर करें ।यदि आप इस वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो वेबसाइट को फॉलो करें और ईमेल सब्सक्रिप्शन को भी फॉलो करें जिससे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन आपको मिल सके ।यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए ।आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं। इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

Also Read This Article-What are Top 7 Mathematics Careers?

2.दसवीं के बाद व्यावसायिक पाठ्यक्रम करने के लाभ (Benefits of doing vocational courses after 10th)-

(1.)industry-specific-

व्यावसायिक पाठ्यक्रम मुख्यत: छात्रों के लिए जीन स्किल्स पर ध्यान देता है।वह हॉस्पिटैलिटी ,हेल्थ केयर ऑटोमोबाइल्स ,एनिमेशन ,फैशन तथा टेक्सटाइल आदि से जुड़े होते हैं।इन कोर्सेज को करने के बाद छात्र निजी लघु उद्योग स्थापित कर सकता है।

(2.)करियर ग्रोथ (Career growth)-

जो विद्यार्थी 10वीं तथा 12वीं के बाद अध्ययन नहीं करना चाहते हैं ,वे छात्र अपनी रूचि के अनुसार वोकेशनल संस्थानों से डिग्री हासिल कर सकते हैं।इन कोर्सेज के द्वारा वे अपनी रूचि के क्षेत्र में सही मार्गदर्शन प्राप्त कर सकते हैं।

(3.)प्रोफेशनल स्किल्स सीखना (Learn professional skills)-

वोकेशनल एजुकेशन तथा ट्रेनिंग के दौरान छात्रों को प्रोफेशनल एथिक्स और स्किल्स की भी शिक्षा प्रदान की जाती है जो उनके करियर की ग्रोथ के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

(4.)कुशल कर्मचारियों की मांग (Demand for skilled employees)-

किसी भी इंडस्ट्री में आज के समय में कुशल कर्मचारियों की अधिक मांग होती है।जो कंपनी के काम को अच्छी तरह समझकर उसमें लम्बे समय तक योगदान दे सकें। यहां आपके वोकेशनल कोर्स की स्किल्स काफी मददगार साबित होती है।

(5.)शोर्ट टर्म कोर्स (Short term course)-

वोकेशनल कोर्स की अवधि ज्यादा लंबी नहीं होती है जिससे छात्रों का समय बचता है। अधिकतर कोर्स 3महीने से लेकर एक साल की अवधि तक होते हैं ,जिससे छात्र जल्दी अपने कोर्स को समाप्त करके करियर को आगे बढ़ा सकते हैं।

3.10 वीं के बाद व्यावसायिक पाठ्यक्रम (Vocational courses after 10th)

हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट कोर्सेज (Hospitality Management Courses):

(1.)डिप्लोमा इन फ़ूड एंड beverage सर्विस
(2.)डिप्लोमा इन बेकरी एंड confectionary
(3.)डिप्लोमा इन क्राफ्ट कोर्सइन फ़ूड प्रोडक्शन
(4.)डिप्लोमा इन कुकरी
(5.)डिप्लोमा इन हाउस कीपिंग
(6.)डिप्लोमा इन रेस्टोरेंट एंड काउंटर सर्विस
(7.)डिप्लोमा इन होटल रिसेप्शन एंड बुक कीपिंग

(8.)होटल एंड हॉस्पिटैलिटी ऑपरेशन मैनेजमेंट

Also Read This Article-Great opportunities to make a career in mathematics

इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी में पाठ्यक्रमों के डिग्री कक्षा 10वीं के बाद व्यावसायिक पाठ्यक्रम (Vocational courses after 10th):

(1.)डिप्लोमा इन आर्किटेक्चरल असिस्टेंटशिप (2.)डिप्लोमा इन ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग
(3.)डिप्लोमा इन केमिकल इंजीनियरिंग
(4.)डिप्लोमा इन सिविल इंजीनियरिंग
(5.)डिप्लोमा इन कंप्यूटर इंजीनियरिंग
(6.)डिप्लोमा इन कंप्यूटर साइंसएंड इंजीनियरिंग
(7.)डिप्लोमा इन इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग
(8.)डिप्लोमा इन इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्युनिकेशन इंजीनियरिंग
(9.)डिप्लोमा इन इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग
(10.)डिप्लोमा इन इलेक्ट्रॉनिक्स (माइक्रोप्रोसेसर)
(11.)डिप्लोमा इन इलेक्ट्रॉनिक्स एंड टेलीकम्यूनिकेशन इंजीनियरिंग
(12.)डिप्लोमा इन फैशन डिज़ाइन
(13.)डिप्लोमा इन फ़ूड टेक्नोलॉजी
(14.)डिप्लोमा इन गारमेंट टेक्नोलॉजी
(15.)डिप्लोमा इन इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी
(16.)डिप्लोमा इन इंस्ट्रूमेंटेशन टेक्नोलॉजी
(17.)डिप्लोमा इन इंटीरियर डिजाईन एंड डेकोरेशन
(18.)डिप्लोमा इन लेदर टेक्नोलॉजी
(19.)डिप्लोमा इन लेदर टेक्नोलॉजी (फुटवियर)
(20.)डिप्लोमा इन लाइब्रेरी एंड इनफार्मेशन साइंस
(21.)डिप्लोमा इन मैकेनिकल इंजीनियरिंग
(22.)डिप्लोमा इन मैकेनिकल इंजीनियरिंग (Refrigeration and Air Conditioning)
(23.)डिप्लोमा इन मैकेनिकल इंजीनियरिंग (टूल एंड डाई)
(24.)डिप्लोमा इन मरीन इंजीनियरिंग
(25.)डिप्लोमा इन मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नोलॉजी
(26.)डिप्लोमा इन प्लास्टिक टेक्नोलॉजी
(27.)डिप्लोमा इन प्रोडक्शन एंड इंडस्ट्रियल टेक्नोलॉजी
(28.)डिप्लोमा इन टेक्सटाइल प्रोसेसिंग
Permission denied
(1.)टेक्सटाइल डिजाइनिंग
(2.)फैशन डिजाइनिंग
(3.)हेयर एंड स्किन केयर
(4.)ब्यूटिशियन
(5.)इवेंट मैनेजमेंट
(6.)ऑफिस मैनेजमेंट
(7.)हॉस्पिटल एंड हेल्थ केयर मैनेजमेंट (नर्सिंग)
(8.)इंग्लिश कम्युनिकेशन एंड प्रेजेंटेशन स्किल्स
(9.)कास्मेटिक एंड लाइफस्टाइल प्रोडक्ट डिजाइनिंग
(10.)कैटरिंग मैनेजमेंट

4.निष्कर्ष (Conclusion)-

दसवीं के बाद व्यवसायिक पाठ्यक्रम (Vocational courses after 10th ) के उपर्युक्त पाठ्यक्रम तथा विवरण के आधार पर आपको वोकेशनल कोर्स करने में आसानी होगी।इनके आधार पर आप अपनी रुचि के कोर्स का चयन करके अपने कैरियर की दिशा का चुनाव कर सकते हैं।तो देखा आपने दसवीं के बाद व्यावसायिक पाठ्यक्रम (Vocational courses after 10th) के बहुत से विकल्प हैं।

No.Social MediaUrl
1.Facebookclick here
2.you tubeclick here
3.Twitterclick here
4.Instagramclick here
5.Linkedinclick here
6.Facebook Pageclick here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *