Menu

PCM Not Compulsory for Engineering

Contents hide
2 2.इंजीनियरिंग प्रवेश के लिए अनिवार्य नहीं है (Maths Physics and Chemistry not Compulsory for Engineering Entry in Class 12),इंजीनियरिंग में प्रवेश के लिए 12वीं में मैथमेटिक्स फिजिक्स और केमिस्ट्री अनिवार्य नहीं (PCM Not Compulsory for Engineering)-

1.इंजीनियरिंग में प्रवेश के लिए 12वीं में मैथमेटिक्स फिजिक्स और केमिस्ट्री अनिवार्य नहीं (PCM Not Compulsory for Engineering),भौतिकी रसायन विज्ञान और गणित इंजीनियरिंग में प्रवेश के लिए अनिवार्य नहीं है (Physics Chemistry and Maths not Mandatory for Admissions in Engineering)-

  • इंजीनियरिंग में प्रवेश के लिए 12वीं में मैथमेटिक्स फिजिक्स और केमिस्ट्री अनिवार्य नहीं (PCM Not Compulsory for Engineering) है।ऑल इंडिया काउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन (AICTE) द्वारा 2021-22 तक जारी किए गए नए मापदंडों के अनुसार इंजीनियरिंग में प्रवेश के लिए छात्रों को 12वीं कक्षा में मैथ्स, फिजिक्स केमिस्ट्री का अध्ययन करना अनिवार्य नहीं होगा।
  • कुछ विद्वानों का मानना है कि यह बदलाव नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के अनुरूप है।उनके द्वारा इस फैसले के पक्ष निम्न तर्क दिए जाते हैं-
  • अब तक केवल उच्च माध्यमिक विद्यालय में भौतिकी और गणित में चयन करने वाले छात्र ही बीई और बी-टेक प्रोग्राम के लिए आवेदन करने के पात्र थे।2010 में केमिस्ट्री को एक अनिवार्य विषय के रूप में हटा दिया गया था।
    नई शिक्षा नीति सभी साइलो (silo) को तोड़ने और बहु-अनुशासन को बढ़ावा देने के बारे में है।इससे लचीलापन आएगा। इंजीनियरिंग प्रोग्रामों की सभी शाखाओं की विस्तृत श्रृंखला को पहचानना चाहिए।इंजीनियरिंग में आज जितनी भी शाखाएं हैं उन सभी की आवश्यकताएं समान नहीं है।
  • जैव प्रौद्योगिकी के लिए वर्तमान में स्कूल में भौतिकी का अध्ययन करना अनिवार्य है लेकिन जीव विज्ञान नहीं।जबकि जैव प्रौद्योगिकी के लिए जीव विज्ञान का अध्ययन करना अधिक प्रासंगिक है।इस प्रकार कई अन्य बीई व बी-टेक के प्रोग्राम को ध्यान में रखते हुए यह फैसला लिया गया है।
  • हालांकि इंजीनियरिंग के अधिकांश प्रोग्रामों और ब्रांचेज के लिए भौतिकी,गणित की अनिवार्यता है।परंतु जो छात्र 12वीं कक्षा में इन विषयों का अध्ययन नहीं करते थे तथा इंजीनियरिंग की किसी ब्रांच में भौतिकी,गणित व रसायन शास्त्र अनिवार्य है तो वे बीई की डिग्री के प्रथम वर्ष में ब्रिज कोर्स कर सकते हैं।
  • ऐसे छात्र अन्य क्षेत्रों से विशेषज्ञता ला सकते हैं जो मूल्यवान हो सकते हैं। व्यावसायिक या व्यावसायिक कौशल भी सार्थक है यदि अवसर की एक खिड़की बना दी जाए।
  • गत 25 वर्षोंं से कक्षा 10 के बाद स्कूल छोड़ने वाले छात्र डिप्लोमा करते हैं वे बीई डिग्री के दूसरे वर्ष में प्रवेश प्राप्त करते हैं और बीई की डिग्री हासिल करने में सक्षम होते हैं। उनमें से कुछ तो स्वर्ण पदक भी जीते हैं।डिप्लोमा करने वाले छात्र गणित का एक सेमेस्टर प्राप्त कर करते हैं जबकि 10वीं,12वीं और बीए प्रथम वर्ष के माध्यम से गणित के 6 सेमेस्टर प्राप्त करते हैं।जो एक सेमेस्टर प्राप्त करके डिप्लोमाधारी छात्र बीए की डिग्री हासिल करते हैं और सक्सेस होते हैं।
  • उपर्युक्त कथन गणित,भौतिकी और रसायन शास्त्र विषयों की अनिवार्यता खत्म करने के बारे में कुछ विद्वानों ने दिए हैं।
  • आपको यह जानकारी रोचक व ज्ञानवर्धक लगे तो अपने मित्रों के साथ इस गणित के आर्टिकल को शेयर करें।यदि आप इस वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो वेबसाइट को फॉलो करें और ईमेल सब्सक्रिप्शन को भी फॉलो करें।जिससे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन आपको मिल सके ।यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए ।आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं।इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

Also Read This Article-IIT students got jobs in Corona period

2.इंजीनियरिंग प्रवेश के लिए अनिवार्य नहीं है (Maths Physics and Chemistry not Compulsory for Engineering Entry in Class 12),इंजीनियरिंग में प्रवेश के लिए 12वीं में मैथमेटिक्स फिजिक्स और केमिस्ट्री अनिवार्य नहीं (PCM Not Compulsory for Engineering)-

  • इंजीनियरिंग के लिए 12वीं में मैथ,फिजिक्स और केमिस्ट्री की अनिवार्यता खत्म (PCM Not Compulsory for Engineering) करने के AICTE के फैसले से अब कॉमर्स बैकग्राउंड के स्टूडेंट्स भी इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर सकेंगे।
    ऑल इंडिया काउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन (AICTE) ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई से जुड़े नियमों में परिवर्तन किया है।
  • AICTE ने नियमों में संशोधन करते हुए 12वीं में इन विषयों की पढ़ाई की अनिवार्यता को समाप्त कर दिया है।
    अन्य पृष्ठभूमि से आनेवाले छात्रों को इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के लिए यह राहत देने का फैसला लिया गया है।

(1.)मैथ्स फिजिक्स और केमिस्ट्री की अनिवार्यता खत्म (Essentials of Maths Physics and Chemistry is over)[PCM Not Compulsory for Engineering]

  • इस फैसले के बाद 12वीं कक्षा में मैथ,फिजिक्स और केमिस्ट्री की पढ़ाई नहीं करने वाले छात्र भी इंजीनियरिंग कर सकेंगे।
    संशोधित नियमों के अनुसार इंजीनियरिंग के ग्रेजुएशन प्रोग्राम में एडमिशन के लिए स्टूडेंट्स को 12वीं में न्यूनतम 45% अंकों की जरूरत होगी।इसके अलावा 14 विषयों की सूची में से तीन विषयों में पास होना जरूरी होगा।

(2.)इंजीनियरिंग प्रवेश के लिए शामिल किए गए 14 विषय (14 subjects covered for engineering admission)[Physics Chemistry and Maths not Mandatory for Admissions in Engineering]-

  • संशोधित नियमों के तहत तकनीकी नियामक ने निम्न 14 विषयों को शामिल किया है-
    फिजिक्स, मैथ्स, , कंप्यूटर विज्ञान, इलेक्ट्रॉनिक्स, सूचना प्रौद्योगिकी, जीव विज्ञान, इनफॉर्मेटिक्स प्रैक्टिस, जैव प्रौद्योगिकी, तकनीकी व्यावसायिक विषय, इंजीनियरिंग ग्राफिक्स, व्यावसायिक अध्ययन, आंत्रप्रेन्योरशिप
    यह नियम एकेडमिक ईयर 2020-21 से लागू होगा।
  • उपर्युक्त विवरण में इंजीनियरिंग में प्रवेश के लिए 12वीं में मैथमेटिक्स फिजिक्स और केमिस्ट्री अनिवार्य नहीं (PCM Not Compulsory for Engineering),भौतिकी रसायन विज्ञान और गणित इंजीनियरिंग में प्रवेश के लिए अनिवार्य नहीं है (Physics Chemistry and Maths not Mandatory for Admissions in Engineering) के बारे में बताया गया है।

3.क्या रसायन विज्ञान इंजीनियरिंग के लिए अनिवार्य है? (Is chemistry compulsory for engineering?)-

  • अब तक इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए 12 वीं कक्षा में भौतिकी, रसायन और गणित अनिवार्य है।इसके अलावा, जेईई मेन और एडवांस के लिए फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ्स अनिवार्य है।

4.क्या इंजीनियरिंग के लिए भौतिकी या गणित अधिक महत्वपूर्ण है? (Is physics or maths more important for engineering?)-

  • परीक्षा से पहले और इसे पास करें।यह सब आपके विश्लेषणात्मक और तर्क कौशल के बारे में है।
    बुनियादी जीवन के लिए भी गणित बहुत महत्वपूर्ण है।यह दिल से सीखा नहीं जाना चाहिए, लेकिन आपको सीखना चाहिए कि वास्तविक समय के कई अनुप्रयोगों के पीछे तर्क का विश्लेषण कैसे करें।दूसरी ओर, भौतिकी सभी प्राकृतिक घटनाओं, विज्ञान और सभी प्राकृतिक गतिविधियों के पीछे तर्क के बारे में है।भौतिक विज्ञान के माध्यम से आपके द्वारा सीखी जाने वाली अधिकांश चीजें आपके लिए यह समझने के लिए हैं कि दैनिक जीवन की घटना क्यों और कैसे होती है, यह इस पृथ्वी पर आपके जीवन को कैसे प्रभावित करती है और आप प्रकृति के विज्ञान का बेहतर जीवन के लिए उपयोग कैसे कर सकते हैं।
  • इंजीनियर बनने के लिए, आपके पास मैथ और फिजिक्स दोनों में मास्टर होना चाहिए, जो इंजीनियरिंग अवधारणाओं को समझने के लिए आवश्यक हैं।क्योंकि इंजीनियरिंग और कुछ नहीं बल्कि समस्याओं के समाधान के लिए विज्ञान और गणित के अनुप्रयोगों का अध्ययन है।इंजीनियरिंग के कई रूप और कई शाखाएँ हैं।लेकिन आप जो भी अध्ययन करते हैं,आप मानव जीवन को बेहतर बनाने के लिए एक समस्या का रचनात्मक समाधान खोजना सीखेंगे।
    हम उपरोक्त दो शब्दों पर बहुत कुछ लिख सकते हैं।बस रखते हुए, एक इंजीनियर बनने के लिए आपको दोनों क्षेत्रों में ज्ञान होना चाहिए।

5.क्या इंजीनियरिंग के लिए भौतिकी एक आवश्यक है? (Is physics a must for engineering?)-

  • बेशक।यदि आपको पूछना है, तो आपके पास वास्तव में एक समझ नहीं है कि इंजीनियरिंग क्या है।चूंकि इंजीनियरिंग “भौतिक” दुनिया (आर्थिक, राजनीतिक, सामाजिक या धार्मिक दुनिया के बजाय), भौतिकी और गणित में समस्याओं को हल करने से संबंधित है – जो कि भौतिकी की भाषा है -इंजीनियरिंग के लिए मौलिक है।आपको कम से कम दोनों विषयों (तीन चौथाई या दो सेमेस्टर) का एक वर्ष चाहिए।रसायन विज्ञान के द्वारा, सामग्री विज्ञान और (अंग्रेजी रचना और / या तकनीकी लेखन और संचार को मत भूलना) और आपके पास एक इंजीनियरिंग शिक्षा के लिए नींव है।

6.इंजीनियरिंग पाठ्यक्रमों के लिए रसायन विज्ञान अनिवार्य नहीं है (Chemistry not mandatory for engineering courses)-

  • एआईसीटीई ने शुक्रवार को कहा कि भौतिकी, रसायन विज्ञान और गणित इंजीनियरिंग पाठ्यक्रमों में महत्वपूर्ण विषय बने रहेंगे और राज्य सरकार या संस्थानों के लिए इन पाठ्यक्रमों की पेशकश करना अनिवार्य नहीं है।

7.गणित और भौतिकी इंजीनियरिंग के लिए नहीं होना चाहिए (Maths and physics not must for engineering)-

  • नियामक ने उच्च शिक्षा संस्थानों को उन छात्रों को स्वीकार करने की अनुमति दी है जिन्होंने स्कूल में फिजिक्स और गणित की पढ़ाई नहीं की है, जैसे टेक्सटाइल इंजीनियरिंग और बायोटेक्नोलॉजी।उपरोक्त बदलाव, एआईसीटीई के अध्यक्ष अनिल सहस्रबुद्धे ने शुक्रवार को कहा, राज्य सरकारों और इंजीनियरिंग स्कूलों के लिए बाध्यकारी नहीं है।

8.AICTE फुल फॉर्म (AICTE full form)-

  • ऑल इंडिया काउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन (The All Indian Council For Technical Education) (AICTE)
  • उपर्युक्त विवरण तथा प्रश्नों के उत्तर द्वारा इंजीनियरिंग में प्रवेश के लिए 12वीं में मैथमेटिक्स फिजिक्स और केमिस्ट्री अनिवार्य नहीं (PCM Not Compulsory for Engineering),भौतिकी रसायन विज्ञान और गणित इंजीनियरिंग में प्रवेश के लिए अनिवार्य नहीं है (Physics Chemistry and Maths not Mandatory for Admissions in Engineering) के बारे में जानकारी दी गई है।

Also Read This Article-Students of NIT Srinagar will be able to complete their studies from IIT Delhi

No.Social MediaUrl
1.Facebookclick here
2.you tubeclick here
3.Instagramclick here
4.Linkedinclick here
5.Facebook Pageclick here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *