Menu

Entrance Exam for Engineering Necessary

Contents hide
2 (1.)मुख्य बातें (HIGHLIGHTS):

1.इंजीनियरिंग के लिए प्रवेश परीक्षा जरूरी (Entrance Exam for Engineering Necessary),पास आउट की गुणवत्ता में सुधार के लिए इंजीनियरिंग की प्रवेश परीक्षा जरूरी (Entrance Exam for Engineering Necessary to Improve Quality of Pass Outs):

  • इंजीनियरिंग के लिए प्रवेश परीक्षा जरूरी (Entrance Exam for Engineering Necessary) था परन्तु कुछ वर्षों से कई राज्य में इंजीनियरिंग के लिए प्रवेश परीक्षा को समाप्त कर दिया है।इंजीनियरिंग कॉलेजों की संख्या बढ़ा दी गई ।12वीं उत्तीर्ण करने वाले छात्रों को सीधे इंजीनियरिंग में प्रवेश दिया जाने लगा।
  • परिणाम यह हुआ कि गुणवत्ता में ह्रास होने लगा।जो कैंडिडेट्स इंजीनियरिंग के लिए पात्र नहीं थे वे भी इंजीनियरिंग करने लगे।फलस्वरूप बड़ी संख्या में बीई/बीटेक करने वाले कैंडिडेट्स बेरोजगार हो गए।बीई/बीटेक की डिग्री होते हुई भी उन्हें जॉब नहीं मिल रहा था।
  • कारण स्पष्ट है बीई/बीटेक करने वालों के पास बीई/बीटेक की डिग्री तो थी परंतु उनमें आवश्यक स्किल का अभाव था।आज कोई भी बहुराष्ट्रीय कंपनियां इंजीनियरिंग में भर्ती के लिए डिग्री के साथ-साथ स्किल का परीक्षण भी करती है।
  • हालांकि इंजीनियरिंग का विस्तार करना जरूरी था।इसलिए विस्तार करने के लिए इंजीनियरिंग कॉलेजों की संख्या बढ़ाना आवश्यक था।परंतु इंजीनियरिंग का विस्तार करने के लिए गुणवत्ता से समझौता नहीं किया जाना चाहिए।
    इसलिए योग्य कैंडीडेट्स को ही इंजीनियरिंग का प्रोग्राम कराया जाना चाहिए।योग्य कैंडिडेट की स्क्रूटनी (छंटनी) करने के लिए ही इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा आयोजित की जाती है।
  • अभी हाल ही में अन्ना विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति ई बालगुरुसामी (Anna University former Vice-Chancellor E Balagurusamy) ने इंजीनियरिंग प्रवेश के लिए प्रवेश परीक्षा आयोजित करने की वकालत करते हुए कहा है कि इंजीनियरों की गुणवत्ता में सुधार की तत्काल आवश्यकता है।
  • तमिलनाडु में व्यावसायिक पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए आम प्रवेश परीक्षा 15 वर्ष पूर्व समाप्त कर दी गई थी।श्री ई बालगुरुसामी (E Balagurusamy) ने कहा कि प्रवेश परीक्षा में न्यूनतम स्तर के अंकों के साथ एक मजबूत प्रवेश प्रणाली,स्कूली शिक्षा को पुनर्व्यवस्थित करना,परीक्षा प्रणाली में सुधार करना और सरकारी स्कूलों की गुणवत्ता में सुधार करना इंजीनियरिंग शिक्षा की तेजी से बिगड़ती गुणवत्ता में सुधार के लिए आगे के कदम है।
    राज्य और राज्य के लाखों भावी इंजीनियरों के जीवन के बारे में उन्होंने मुख्यमंत्री एम के स्टालिन (Chief Minister MK Stalin) को पत्र लिखा।
  • उन्होंने सीएम से प्रवेश परीक्षा के महत्व पर पूरी तरह विचार करने और इंजीनियरिंग की गुणवत्ता में सुधार करने के साथ-साथ राज्य के भावी इंजीनियरों की दुर्दशा को सुधारने के लिए आवश्यक कदम उठाने का आग्रह किया।
    सीईटी (Common Entrance Test) (प्रवेश परीक्षा) को हटाने से अमीर और शहरी छात्रों के पक्ष में सामाजिक,आर्थिक और शैक्षिक पूर्वाग्रह को किसी भी तरह से ठीक नहीं किया गया है क्योंकि ऐसे कैंडिडेट्स गुणवत्तापूर्ण कोचिंग संस्थानों की मदद ले लेते हैं।
  • सीईटी (Common Entrance Test) अर्थात् कॉमन एंट्रेंस टेस्ट को हटाने से कॉलेजों में प्रवेश करने वाले छात्रों के खराब स्तर के कारण इंजीनियरिंग कालेजों का प्रदर्शन हर वर्ष गिरता जा रहा है।
  • वर्ष 2018 के परिणाम पर विचार करें:अन्ना यूनिवर्सिटी से सम्बद्ध 482 कॉलेजों की सेमेस्टर परीक्षा में करीब 75 कॉलेजों को सिंगल डिजिट पास मिला,50% से अधिक कॉलेज में 25% से कम पास,85% से अधिक कॉलेजों को 50 से कम पास,12 फ़ीसदी से कम कॉलेजों को 50 फीसदी से ज्यादा पास और छह कॉलेजों को जीरो पास मिला है।
    गरीब छात्रों को बिना प्रवेश परीक्षा इंजीनियरिंग में प्रवेश दिलाकर उनके भविष्य को ओर नुकसान पहुंचाएंगे।क्योंकि इंजीनियरिंग प्रोग्राम को वे सफलतापूर्वक पूरा नहीं कर सकते हैं।
  • प्रवेश परीक्षा इसीलिए आयोजित की जाती है कि छात्र में इंजीनियरिंग प्रोग्राम को पूरा करने के लिए आवश्यक ज्ञान और बुद्धि कौशल है या नहीं।
  • इंजीनियरिंग स्नातक की खराब गुणवत्ता के कई कारण हैं।
    पहला कारण तो यह है अयोग्य कैंडीडेट्स को भी प्रवेश देना,दूसरा कारण है कि काॅलेजों में योग्य प्राध्यापकों का अभाव,तीसरा कारण है कॉलेजों का प्रबंधन खराब होना और अंतिम कारण है कि इन कॉलेजों की गुणवत्ता नियंत्रण और निगरानी तंत्र का सरकार के पास सक्षम सिस्टम नहीं है।कॉलेजों की गुणवत्ता का समय-समय पर निरीक्षण करने के लिए सरकार के पास सक्षम सिस्टम होना चाहिए।बहुत से प्राइवेट कॉलेज उचित मानकों का पालन नहीं करते हैं तथा वे छात्रों को बेईमानी से परीक्षा में पास करवा देते हैं।
  • इच्छुक युवाओं के बीच समानता और पहुँच बढ़ाने के लिए शिक्षा का विस्तार करने का यह अर्थ नहीं है कि गुणवत्ता को ताक पर रख दिया जाए।क्योंकि आखिर में रोजगार पाने के लिए गुणवत्ता की ही जरूरत होती है।इन 15 वर्षों में जिन राज्यों में बिना प्रवेश परीक्षा इंजीनियरिंग में प्रवेश दिया गया है।ऐसे कैंडिडेट डिग्री पाने के बाद जॉब के लिए दर-दर भटक रहे हैं।
  • उपर्युक्त विवरण में इंजीनियरिंग के लिए प्रवेश परीक्षा जरूरी (Entrance Exam for Engineering Necessary),पास आउट की गुणवत्ता में सुधार के लिए इंजीनियरिंग की प्रवेश परीक्षा जरूरी (Entrance Exam for Engineering Necessary to Improve Quality of Pass Outs) के बारे में बताया गया है।
  • आपको यह जानकारी रोचक व ज्ञानवर्धक लगे तो अपने मित्रों के साथ इस गणित के आर्टिकल को शेयर करें।यदि आप इस वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो वेबसाइट को फॉलो करें और ईमेल सब्सक्रिप्शन को भी फॉलो करें।जिससे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन आपको मिल सके ।यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए ।आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं।इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

Also Read This Article:5 Best Tips for Success in Career

(1.)मुख्य बातें (HIGHLIGHTS):

  • (1.)उच्च शिक्षा तथा व्यावसायिक शिक्षा में विस्तार करने के साथ-साथ गुणवत्ता को तरजीह दी जानी चाहिए।
  • (2.) बहुराष्ट्रीय कंपनियां गुणवत्तापूर्ण इंजीनियरिंग कैंडिडेट्स का ही चयन करती है।
  • (3.)इंजीनियरिंग में गुणवत्ता की गिरावट के प्रमुख कारण हैं: बिना प्रवेश परीक्षा अयोग्य कैंडिडेट को प्रवेश देना,कॉलेजों की गुणवत्ता की निगरानी नहीं करना,काॅलेजों में योग्य प्राध्यापकों का अभाव।
  • (4.)इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षाओं में कैंडिडेट अपनी गाढ़ी कमाई की पूंजी खर्च करके भी जाॅब प्राप्त करने में असफल रहता है।
  • (5.)इंजीनियरिंग कॉलेज में प्रोग्राम को पूरा करने वाले कैंडिडेट्स में आवश्यक स्किल को डवलप नहीं करना।
  • (6.)रोजगार आखिर में गुणवत्तापूर्ण इंजीनियरिंग के आधार पर ही मिलता है।

Also Read This Article:UP Govt Announce free Coaching for JEE

2.इंजीनियरिंग के लिए प्रवेश परीक्षा जरूरी (Entrance Exam for Engineering Necessary),पास आउट की गुणवत्ता में सुधार के लिए इंजीनियरिंग की प्रवेश परीक्षा जरूरी (Entrance Exam for Engineering Necessary to Improve Quality of Pass Outs) के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न:

प्रश्न:1.इंजीनियरिंग के लिए सबसे अच्छी प्रवेश परीक्षा कौन सी है? (Which is the best entrance exam for engineering?):

उत्तर:2021 के लिए शीर्ष 4 इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा सूची
उत्तर:क्रमांक परीक्षा का नाम
जेईई मेन (JEE Main)
जेईई एडवांस्ड (JEE Advanced)
बिटसैट (BITSAT)
वीआईटीईईई (VITEEE)

प्रश्न:2.क्या इंजीनियरिंग के लिए एंट्रेंस एग्जाम देना जरूरी है? (Is it necessary to give entrance exam for engineering?):

उत्तर:छात्रों को अपनी आवश्यकताओं के आधार पर एक इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा को लक्षित करना चाहिए।यदि कोई छात्र आईआईटी (IITs),एनआईटी (NITs),आईआईआईटी (IIITs) और सरकार द्वारा वित्त पोषित तकनीकी संस्थानों (जीएफटीआई) [Government-Funded Technical Institutes (GFTIs)] जैसे सरकारी संस्थानों में प्रवेश सुरक्षित करना चाहता है,तो उसे जेईई मेन/जेईई एडवांस के लिए लक्ष्य बनाना चाहिए।

प्रश्न:3.इंजीनियरिंग के लिए कौन सी प्रवेश परीक्षा आवश्यक है? (What entrance exam is required for engineering?):

उत्तर:भारत में कई इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षाएं हैं: इंजीनियरिंग कृषि और मेडिकल कॉमन एंट्रेंस टेस्ट (Engineering Agricultural and Medical Common Entrance Test)।संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई) (Joint Entrance Examination (JEE)) केरल इंजीनियरिंग कृषि चिकित्सा (Kerala Engineering Agricultural Medical)।

प्रश्न:4.क्या प्रवेश परीक्षाएं वाकई जरूरी हैं? (Are entrance exams really necessary?):

उत्तर:प्रवेश परीक्षा मेडिकल इंजीनियरिंग और कई अन्य व्यावसायिक पाठ्यक्रमों जैसे सभी व्यावसायिक पाठ्यक्रमों (professional course) में प्रवेश के लिए होती है ताकि छात्रों की बुद्धि की जांच की जा सके और योग्य उम्मीदवारों द्वारा इन व्यावसायिक पाठ्यक्रमों (professional courses) में प्रवेश की जांच के लिए ये परीक्षाएं आयोजित की जाती हैं ताकि छात्रों की जांच की जा सके।

प्रश्न:5.सबसे आसान इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा कौन सी है? (Which is easiest engineering entrance exam?),भारत में शीर्ष कॉलेजों के लिए सबसे आसान इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा कौन सी है? (which is the easiest engineering entrance exam for top colleges in India?):

उत्तर:एसआरएमजेईई (SRMJEEE)।
बिटसैट (BITSAT)।
मेट (MET)।
COMEDK UGET।
एपी ईएएमसीईटी (AP EAMCET)।
केआईआईटीईई (KIITEE)।
एमएचटीसीईटी (MHTCET)।
डब्ल्यूबीजेईई (WBJEE)।

प्रश्न:6.क्या बिना जेईई के इंजीनियरिंग में प्रवेश मिल सकता है? (Can I get admission in engineering without JEE?):

उत्तर:टेक कॉलेज जेईई मेन काउंसलिंग में भाग नहीं लेते हैं और प्रवेश अपनी स्वयं की प्रवेश परीक्षा या राज्य स्तरीय प्रवेश परीक्षा के माध्यम से आयोजित करते हैं।सभी लोकप्रिय इंजीनियरिंग परीक्षाओं का कार्यक्रम घोषित कर दिया गया है और आप भारत में बी.टेक कॉलेजों को लक्षित कर सकते हैं जहां आप प्रवेश लेना चाहते हैं।

प्रश्न:7.क्या प्रवेश परीक्षा कठिन है? (Are entrance exams hard?):

उत्तर:प्रवेश परीक्षा की तैयारी में काफी मेहनत लगती है लेकिन कड़ी मेहनत के साथ-साथ कुछ टिप्स और ट्रिक्स जानने से आपकी तैयारी में ही फायदा हो सकता है।याद रखें, एक प्रवेश परीक्षा को पास करना कड़ी मेहनत के बारे में नहीं है बल्कि परीक्षा हॉल में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने के बारे में है।

प्रश्न:8.मैं बिना पढ़े प्रवेश परीक्षा कैसे पास कर सकता हूं? (How can I pass the entrance exam without studying?):

उत्तर:हाई स्कूल में गणित की कक्षाओं का विशिष्ट क्रम है:
बीजगणित (Algebra)
ज्यामिति (Geometry)।
बीजगणित 2/त्रिकोणमिति (Trigonometry)।
पूर्व-कलन (Pre-Calculus)।
कलन (Calculus)।

प्रश्न:9.आप गुपचुप तरीके से कैसे पढ़ाई करते हैं? (How do you study secretly?):

उत्तर:कुछ छात्र गणित को नापसंद करते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि यह नीरस (dull) है।वे संख्याओं और सूत्रों के बारे में उस तरह से उत्साहित नहीं होते जिस तरह से वे इतिहास (history),विज्ञान (science),भाषाओं (languages) या अन्य विषयों (other subjects) के बारे में उत्साहित होते हैं जिनसे व्यक्तिगत रूप से जुड़ना आसान होता है।वे गणित को अमूर्त (abstract) और अप्रासंगिक आंकड़ों (irrelevant figures) के रूप में देखते हैं जिन्हें समझना मुश्किल है।

प्रश्न:10.12वीं के बाद प्रवेश परीक्षा क्या है? (What are the entrance exams after 12?):

उत्तर:12वीं विज्ञान के बाद प्रतियोगी परीक्षा
MRNAT (मानव रचना)
जेईई मेन (JEE Main)।
जेईई एडवांस (JEE Advanced)।
नाटा (NATA)।
एनईईटी (NEET)।
एम्स (AIIMS)।
क्लैट (CLAT)
एआईएलईटी (AILET)।

प्रश्न:11.कौन सी इंजीनियरिंग सबसे आसान है? (Which engineering is most easy?):

उत्तर:सबसे आसान इंजीनियरिंग मेजर
पर्यावरणीय इंजीनियरिंग (Environmental Engineering)।पर्यावरण इंजीनियर उन मशीनों और संरचनाओं को विकसित करने पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं जिनसे पर्यावरण को कम से कम नुकसान होगा।
औद्योगिक इंजीनियरिंग (Industrial Engineering)।
वास्तुशिल्पीय इंजीनियरिंग (Architectural Engineering)।
उपर्युक्त प्रश्नों के उत्तर द्वारा इंजीनियरिंग के लिए प्रवेश परीक्षा जरूरी (Entrance Exam for Engineering Necessary),पास आउट की गुणवत्ता में सुधार के लिए इंजीनियरिंग की प्रवेश परीक्षा जरूरी (Entrance Exam for Engineering Necessary to Improve Quality of Pass Outs) के बारे में ओर अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

उपर्युक्त प्रश्नों के उत्तर द्वारा इंजीनियरिंग के लिए प्रवेश परीक्षा जरूरी (Entrance Exam for Engineering Necessary),पास आउट की गुणवत्ता में सुधार के लिए इंजीनियरिंग की प्रवेश परीक्षा जरूरी (Entrance Exam for Engineering Necessary to Improve Quality of Pass Outs) के बारे में ओर अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

No.Social MediaUrl
1.Facebookclick here
2.you tubeclick here
3.Instagramclick here
4.Linkedinclick here
5.Facebook Pageclick here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *