Menu

Top in mathematics by way of sitting

1.बैठने के तरीके से गणित में अव्वल का परिचय(Introduction to Top in mathematics by way of sitting)-

बैठने के तरीके से गणित में अव्वल (Top in mathematics by way of sitting) सुनकर शायद आपको आश्चर्य होगा।जिन छात्रों को गणित विषय कठिन लगता है तो इसको हल करने के लिए बैठने का तरीका जाने।एक रिसर्च में दावा किया गया है कि जिन छात्रों को गणित से डर लगता है और गणित में कम अंक प्राप्त करते हैं उन्हें अपने बैठने के तरीके में बदलाव करना चाहिए।हमारा विचार है कि केवल बैठने के तरीके से आप गणित में अच्छे अंक प्राप्त नहीं कर सकते हैं। हां यह अवश्य है कि हमारी शारीरिक स्थिति, शारीरिक व्यायाम तथा योगासन-प्राणायाम का फर्क पड़ता है।
गणित में अच्छे अंक लाने के लिए मानसिक और शारीरिक व्यायाम दोनों का फर्क पड़ता है ।परंतु शारीरिक से ज्यादा मानसिक स्थिति का फर्क पड़ता है।
आपको गणित में अच्छे अंक प्राप्त करने हैं तो ध्यान-योग का भी अभ्यास करना चाहिए।
योग के आठ अंग हैं- यम ,नियम ,आसन ,प्राणायाम ,प्रत्याहार ,ध्यान ,धारणा व समाधि।
यम के पांच अंग है- अहिंसा ,सत्य ,अस्तेय, ब्रह्मचर्य, अपरिग्रह तथा नियम के पांच अंग हैं- शौच, संतोष ,तप, स्वाध्याय ,परमात्मा की भक्ति।
तो योग का जितना हम पालन करते हैं उतना ही योग हमारे अध्ययन में सहायक होता है।
गणित में अच्छे अंक प्राप्त करने के लिए योगासन-प्राणायाम तथा मानसिक कसरत के बारे में हम कई आर्टिकल पोस्ट कर चुके हैं।इसलिए आपको मानसिक व्यायाम के बारे में जानने के लिए उन आर्टिकल का अध्ययन करना चाहिए।
इस आर्टिकल में एक रिसर्च का वर्णन किया गया है जिसमें बैठने के तरीके से गणित में अव्वल (Top in mathematics by way of sitting) हो सकते हैं।
आपको यह जानकारी रोचक व ज्ञानवर्धक लगे तो अपने मित्रों के साथ इस गणित के आर्टिकल को शेयर करें ।यदि आप इस वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो वेबसाइट को फॉलो करें और ईमेल सब्सक्रिप्शन को भी फॉलो करें जिससे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन आपको मिल सके ।यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए ।आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं। इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

Also Read This Article-7 ways to get whole numbers in maths

2.बैठने के तरीके से गणित में अव्वल (Top in mathematics by way of sitting)-

जनरल न्यूरो रेगुलेशन में प्रकाशित रिपोर्ट में बताया गया है कि 50% से अधिक छात्रों ने गणित की परीक्षा में सीधा बैठकर अच्छे अंक हासिल किए जबकि झुककर बैठने वाले छात्र ज्यादा सवाल हल नहीं कर पाए।
अमेरिका में सैन फ्रांसिस्को स्टेट यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर और शोधकर्ता एरिक पेपर ने बताया कि गणित से डरने वाले छात्रों को बैठने के तरीके से बड़ा फायदा मिल सकता है। अध्ययन में काॅलेज के 125 छात्रों को शामिल कर यह देखा गया कि वे गणित में कैसा प्रदर्शन करते हैं।छात्रों में बैठने के तरीके से गणित में अव्वल रहने की सलाह दी गई है अर्थात् सीधा बैठकर पढ़ने व पेपर हल करने की सलाह दी गई।
शोधकर्ताओं ने पाया कि सीधी अवस्था में बैठे 56% छात्रों को गणित का प्रश्नपत्र हल करना आसान लगा। विश्वविद्यालय के सह-प्राध्यापक रिचर्ड हार्वे ने कहा कि झुककर बैठने से दिमाग में पुरानी और बुरी यादें ताजा हो जाती हैं।
पेपर ने कहा कि झुककर बैठने से छात्रों की सक्रियता कम हो जाती है और उनका दिमाग सही से काम नहीं कर पाता है।साथ ही छात्र कुछ भी स्पष्ट रूप से नहीं सोच पाता है। एथलीट, गायक और सार्वजनिक वक्ताओं को परीक्षा में सीधे बैठने की आदत के कारण उनका प्रदर्शन सुधरा।

Also Read This Article-What is tips to solve mathematics
हालांकि उक्त रिसर्च में परीक्षा में सीधे बैठने के बारे में कहा गया है।परंतु हमारा अनुभव है कि छात्रों को हमेशा रीढ़ की हड्डी को सीधी रखकर ही पढ़ना चाहिए।झुककर या लेटकर नहीं पढ़ना चाहिए।ऐसा करने से धीरे-धीरे गणित में आपका प्रदर्शन सुधरेगा और आप बैठने के तरीके से गणित में अव्वल हो सकते हैं।
हालांकि आपको अपनी मानसिक स्थिति को भी सुधारना होगा।केवल बैठने के तरीके से ही गणित में अव्वल (Top in mathematics by way of sitting) हो जाए तो हर छात्र ऐसा करके गणित में अच्छे अंक प्राप्त कर सकता है।
परंतु हमें सकारात्मक सोच, दिमाग को सक्रिय रखने के उपाय भी करने होंगे तभी आप गणित में अव्वल हो सकते हैं।भारतीय संस्कृति में तो पुरातन काल से सीधे बैठने के लिए कहा गया है। फिर जो छात्र झुककर व लेटकर पढ़ते हैं वे यदि सीधे बैठकर पढ़ेंगे तो गणित में सुधार अवश्य होगा।बैठने के तरीके से गणित में अव्वल (Top in mathematics by way of sitting) आर्टिकल कैसा लगा अवगत कराएं।

No.Social MediaUrl
1.Facebookclick here
2.you tubeclick here
3.Twitterclick here
4.Instagramclick here
5.Linkedinclick here
6.Facebook Pageclick here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *