Menu

Top 7 Tips to Prepare for Mathematics

Contents hide
1 1.गणित की तैयारी करने की टाॅप 7 टिप्स (Top 7 Tips to Prepare for Mathematics)-
1.2 3.स्टडी शेड्यूल बनाएं (Create study schedule)-

1.गणित की तैयारी करने की टाॅप 7 टिप्स (Top 7 Tips to Prepare for Mathematics)-

  • गणित की तैयारी करने की टाॅप 7 टिप्स (Top 7 Tips to Prepare for Mathematics) के आधार पर आप बोर्ड परीक्षाओं,बीएससी,एमएससी या प्रतियोगिता परीक्षाएं जैसे जेईई-मेन,जेईई-एडवांस,गेट,एनडीए,सीडीएस व अन्य प्रतियोगिता परीक्षा में गणित की बेहतरीन तैयारी कर सकते हैं।
  • ये टॉप 7 टिप्स सभी प्रकार की परीक्षाओं में समान रूप से उपयोगी है।
    बोर्ड परीक्षाएं,बीएससी व जेईई-मेन की परीक्षाएं फरवरी या फरवरी के बाद प्रारंभ हो जाती है।इसलिए परीक्षा के पूर्व आप इन टिप्स पर अमल करेंगे तो ये टिप्स आपके लिए फायदेमंद होगी।
  • जेईई-मेन की तैयारी छात्र-छात्राएं बहुत लगन व परिश्रम के साथ करते हैं।जेईई-मेन व जेईई-एडवांस के आधार पर आईआईटी जैसी प्रतिष्ठित संस्थाओं में चयन होता है।
  • जेईई-मेन को इस वर्ष से 4 सेशन में एनटीए द्वारा आयोजित करने का कैलेंडर जारी कर दिया है ।
  • इसी प्रकार एनडीए की परीक्षा का आयोजन हर वर्ष में दो बार आयोजित होता है।इसके द्वारा 3 साल की कड़ी ट्रेनिंग के लिए योग्य उम्मीदवारों की भर्ती की जाती है।
  • यह एक बहुत प्रतिष्ठित पद होता है जहां अच्छी सैलरी के साथ-साथ भत्ते,पेंशन,बीमा और अन्य लाभ प्रदान कराया जाता है।
  • इसलिए इस आर्टिकल में हम सामान्य रूप से सभी प्रकार की परीक्षाओं के लिए अपनाई जाने वाली टॉप 7 टिप्स का वर्णन करेंगे।
  • गणित की तैयारी करने की टाॅप 7 टिप्स (Top 7 Tips to Prepare for Mathematics) आपके गणित के अंकों को बढ़ाने में मददगार साबित होंगी।
  • आपको यह जानकारी रोचक व ज्ञानवर्धक लगे तो अपने मित्रों के साथ इस गणित के आर्टिकल को शेयर करें।यदि आप इस वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो वेबसाइट को फॉलो करें और ईमेल सब्सक्रिप्शन को भी फॉलो करें।जिससे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन आपको मिल सके ।यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए ।आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं।इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

Also Read This Article-9 Best tips to teach mathematics

2.गणित विषय के सिलेबस को समझें और समय का ध्यान रखें (Understand syllabus of Mathematics and take care of time)-

  • परीक्षा की तैयारी करने से पूर्व उसके लिए स्ट्रेटजी तैयार करें।स्ट्रेटजी तैयार करने हेतु परीक्षा के सिलेबस को समझें। अर्थात् गणित का प्रश्न पत्र ऑब्जेक्टिव टाइप का है या डेस्क्रिप्टिव टाइप का है।
  • यदि ऑब्जेक्टिव टाइप प्रश्न पत्र है तो यह देखने की जरूरत है कि उसमें नकारात्मक परीक्षण है या नहीं है।यदि नकारात्मक परीक्षण है तो सभी प्रश्नों को अटेंम्प्ट करने से बचें।जिन प्रश्नों के उत्तर आप निश्चित रूप से जानते हैं उन्हें ही अटेंम्प्ट करें।क्योंकि अनुमान के आधार पर सवाल का उत्तर देने तथा उत्तर गलत होने से आपके अंक काटे जाएंगे।
  • यदि डेस्क्रेप्टिव टाइप प्रश्नपत्र है तो अधिक से अधिक सवालों को हल करने का अभ्यास करें।
  • प्रश्न-पत्र व सिलेबस को समझने के साथ आपको समय सीमा का भी ध्यान रखना चाहिए।अक्सर प्रश्न-पत्र को हल करने के लिए गणित में समय का अभाव रहता है।इसलिए कम समय में सवालों को हल करने के लिए पूर्वाभ्यास करना आवश्यक है।
  • यदि किसी भी सवाल को हल करने में अधिक समय लगता है तो उस सवाल को छोड़कर अगले सवाल को हल करने की कोशिश करनी चाहिए।इस तरह आप समय पर प्रश्न-पत्र हल कर पाएंगे।

3.स्टडी शेड्यूल बनाएं (Create study schedule)-

  • गणित विषय में कई सेक्शन होते हैं जैसे प्रोबेबिलिटी,त्रिकोणमिति,सांख्यिकी,अनुक्रम इत्यादि।
  • हर छात्र-छात्रा का अलग-अलग सेक्शन पर कमांड होता है। इसलिए आपका जिस सेक्शन पर कमांड है उसकी सूची अलग तथा जिस सेक्शन पर कमांड नहीं है उसकी सूची अलग से तैयार करें।
  • जिन सेक्शन पर कमांड है उनको कम समय देकर अच्छी तैयारी कर सकते हैं जिस सेक्शन पर कमांड कम है उस सेक्शन को अधिक समय देकर तैयार करें।
  • यदि आपकी बेसिक जानकारी स्पष्ट है तो आपको तैयारी करने में ज्यादा समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा परंतु यदि आप की बेसिक कॉन्सेप्ट क्लियर नहीं है तो 10वीं,11वीं और 12वीं गणित की पुस्तकों से अपनी बेसिक कांसेप्ट क्लीयर कर लेना चाहिए।
  • परीक्षा में पहले उन सवालों को हल करें जिन्हें आप आसानी से हल कर सकते हैं।इसके बाद कठिन सवालों को हल करने की ओर बढ़े।

4.गत वर्ष के प्रश्न-पत्र हल करें (Solve Question papers of previous year)-

  • किसी भी प्रकार की परीक्षा हो चाहे बोर्ड परीक्षा हो,बीएससी या प्रतियोगिता परीक्षा हो हर प्रकार की परीक्षा में गत वर्षों के प्रश्न-पत्रों को सॉल्व करने से बहुत सहायता मिलती है।
  • गत वर्षों के प्रश्न-पत्रों को हल करने से आपको यह पता चल जाएगा कि परीक्षा में पूछे जाने वाले प्रश्नों के कठिनाई लेवल क्या है तथा प्रश्न किस पैटर्न से पूछे जाते हैं?
  • गत वर्ष के प्रश्न-पत्रों को हल करने से दूसरा फायदा यह होगा कि आपकी प्रश्न-पत्र को हल करने की स्पीड में वृद्धि होगी।
  • कठिनाई लेवल को ध्यान में रखते हुए परीक्षा की तैयारी की रणनीति बनाएं।
    गणित की तैयारी करने की टाॅप 7 टिप्स (Top 7 Tips to Prepare for Mathematics) में यह तीसरी टिप्स है।

5.गणित के फार्मूले याद करें (Memorize Mathematics formulas)-

  • ऊपर आपको बताया गया है कि गणित विषय के प्रश्न-पत्र को हल करने में समय का बहुत महत्त्व है।इसलिए परीक्षा के लिए टाइम मैनेजमेंट का विशेष ध्यान रखना आवश्यक है।
  • गणित फाॅर्मूलों पर आधारित विषय है।इसलिए यदि आपको फाॅर्मूले कंठस्थ याद हैं तो किसी भी सवाल को हल करने में अधिक समय व्यर्थ नहीं होगा।
    गणित पर संभावनाओं का असर नहीं होता है।यदि आपको फाॅर्मूले याद है तो आपके प्रश्नों को सॉल्व करने की स्पीड भी बढ़ जाएगी।
  • हालांकि किसी भी कठिन सवाल को हल करने पर या किसी भी कठिन समस्या को हल करने पर हमें आनंद की प्राप्ति होती है।परंतु परीक्षा के समय ऐसा करने से कई प्रकार की समस्याएं पैदा हो जाती है।
  • गणित विषय में ज्यादा से ज्यादा समय आसान और मध्यम वर्ग के प्रश्नों पर लगाना चाहिए।
  • किसी भी टाॅपिक को छोड़ना नहीं चाहिए।
  • किसी भी परीक्षा में 30 से 40% प्रश्न या प्रश्न-पत्र के सवाल केवल फाॅर्मूलों के आधार पर हल किए जा सकते हैं।

6.माॅक टेस्ट (Mock test)-

  • किसी भी परीक्षा में पिछले वर्षों के कई सवालों की पुनरावृत्ति होती है।इसलिए लगातार अभ्यास करते रहने से जल्दी ही इस तरह के सवालों पर कमांड हो जाता है। जिससे सवालों को हल करने में ज्यादा कठिनाई नहीं होती है।
  • संख्याओं के गुणन,वर्ग,वर्गमूल,घन जैसी मूल गणनाओं को याद करने का प्रयास करें।यह भी आपके समय की बचत करने में मदद करेगा।
  • सवालों की गुणवत्ता पर ध्यान देने की आवश्यकता है।
  • माॅक टेस्ट हल करते समय नियमों का पालन करें।ताकि यह एक आदत के रूप में विकसित हो सके जिससे परीक्षा के दिन किसी भी चुनौती का सामना सहज रूप से कर सकें।

7.परीक्षा के वक्त प्रश्नों का चयन सही से करें (Choose the questions correctly during the exam)-

  • अक्सर छात्र-छात्राओं का ज्यादातर समय यह विचार करने में ही निकल जाता है कि प्रश्नों का चयन किस प्रकार करें?
  • यदि नकारात्मक मार्किंग है तो सभी सवालों के उत्तर न दें क्योंकि यदि वे गलत हो जाते हैं तो आप प्राप्त अंकों को भी खो देते हैं।
  • लेकिन यह कैसे तय किया जाए कि कौन-से प्रश्नों को हल किया जाए और किस प्रकार के सवालों को अस्वीकार किया जाए?इसका सीधा सा उत्तर है कि जिन टाॅपिक्स की तैयारी आपने नहीं की है,उनको छोड़ दिया जाए।ऐसे टाॅपिक्स को परीक्षा के अन्तिम समय तैयार न करें।
  • मानवीय प्रकृति होती है कि हम सवालों का अनुमान के आधार पर या इधर-उधर देखकर हल करने की कोशिश करते हैं।
  • केवल उन सवालों को हल करें जिनके उत्तर आपको निश्चित पता है।बाउंसर सवालों को हल करने से बचें।

8.गणित की बेसिक महत्त्वपूर्ण है (Basic math is important)-

  • हर परीक्षा में गणित महत्त्वपूर्ण होता है। इसमें सभी टाॅपिक्स की अच्छी तरह जानकारी होना आवश्यक है।
  • जैसे त्रिकोणमिति के लिए त्रिभुज,गुणनखण्डों के लिए पहाड़े (टेबिल),गुणा,भाग की जानकारी होना आवश्यक है। इसलिए प्रतिलोम त्रिकोणमितीय फलन,प्रतिलोम फलन, प्रोबेबिलिटी इत्यादि की बेसिक बातों की अच्छी तरह जानकारी प्राप्त कर लेना चाहिए। गणित में एक भी स्टेप गलत होने पर सारी मेहनत पर पानी फिर जाता है।
  • उपर्युक्त गणित की तैयारी करने की टाॅप 7 टिप्स (Top 7 Tips to Prepare for Mathematics) के आधार पर आप परीक्षा की बेहतरीन तैयारी कर सकते हैं।

9.गणित की तैयारी करने की टाॅप 7 टिप्स का निष्कर्ष (Conclusion of Top 7 Tips to Prepare for Mathematics)-

  • यदि आप परीक्षा में गणित की तैयारी अच्छे मार्क्स लाने के दृष्टिकोण से करते हैं तो आप इसे अभ्यास के द्वारा सरल बना सकते हैं।
  • परीक्षार्थियों को पहले से ही यह मानसिकता नहीं बना लेनी चाहिए कि गणित खंड कठिन होता है।आप जितना इसका अभ्यास करेंगे,उतना ही गणित विषय आपके लिए सरल होता जाएगा।
  • असफलता से न डरें बल्कि पूरी लगन और एकाग्रता के साथ परीक्षा की तैयारी शुरू कर देनी चाहिए।
  • उपर्युक्त विवरण में गणित की तैयारी करने की टाॅप 7 टिप्स (Top 7 Tips to Prepare for Mathematics) के के अलावा नीचे ओर भी गणित की तैयारी करने की टिप्स भी बताई गई है, जिनके आधार पर आप गणित में अच्छी पकड़ बना सकते हैं।

10.मैथ्स में शानदार कैसे बने? (How to become brilliant in maths?)-

  • मैथ सक्सेस के 10 टिप्स
  • सभी होमवर्क करते हैं।एक विकल्प के रूप में होमवर्क के बारे में कभी मत सोचो।
  • क्लास मिस न करने के लिए लड़ो।
  • अपने अध्ययन के भागीदार बनने के लिए एक मित्र की तलाश करें।
  • शिक्षक के साथ अच्छे संबंध स्थापित करें।
  • विश्लेषण करें और हर गलती को समझें।
  • शीघ्र सहायता प्राप्त करें।
  • अपने सवालों को मन में मत रखो।
  • बुनियादी कौशल आवश्यक हैं।

11.गणित को आसानी से कैसे समझें? (How to understand mathematics easily?)-

  • यहाँ एक विशेषज्ञ की तरह मैथ्स से निपटने के लिए कुछ सुझाव दिए गए हैं!
    जितना हो सके उतना अभ्यास करें।गणित विषय हाथ से हल करने का विषय है।
  • उदाहरणों को हल करके शुरू करें।जटिल समस्याओं को हल करने से शुरू न करें।
  • अपने सभी संदेहों को दूर करें।
  • सभी फॉर्मूलों पर ध्यान दें।
  • व्युत्पत्ति (Derivation) को समझें।
  • मूल बातों को समझें।

12.स्व-अध्ययन में अकेले गणित का अध्ययन कैसे करें? (How to study mathematics alone in self-study?)-

  • स्टडी मैथ टू योर आउन स्टेप्स
  • पहले, यह निर्धारित करें कि आप कहाँ समाप्त होना चाहते हैं।
  • निर्धारित करें कि कहां से शुरू करें, जाहिर है।
  • अनावश्यक गहराई से बचने के लिए एक सिलेबस खोजें।
  • अपने संदर्भ, समाधान नियमावली, और “हल की समस्याएँ” पुस्तकों के प्रकार इकट्ठा करें।
  • डीप, कॉन्सेप्ट-बेस्ड लर्निंग को प्राथमिकता दें।
  • एक ही स्थान पर संसाधनों के लिंक लगाएं।

13.गणित में मास्टरी कैसे करें? (How to master mathematics?)-

  • मास्टर गणित के टॉप 6 ट्रिक्स जो आपको तथाकथित कठिन विषय की बेहतर
  • समझ बनाने में मदद करेंगे:
  • मास्टर योर बेसिक्स एंड कॉन्सेप्ट्स।
  • सेल्फ स्टडी करें।
  • कठिन अभ्यास करें।
  • टेबल्स के साथ रहो।
  • तेज़ और आसान गणना करने के लिए ट्रिक्स के साथ फेमिलियर बनें।
  • वास्तविक दुनिया की समस्याओं के लिए गणित लागू करें।

14.मैथ्स कक्षा 9 के आइसीएसई में अच्छे अंक कैसे प्राप्त करें? (How to score good marks in maths class 9 ICSE?)-

  • एक महीने पहले से तैयारी शुरू करें।आपके पास 30 दिन हैं।उन 30 दिनों के अनुसार एक कार्यक्रम की योजना बनाएं।जैसे कहते हैं, प्रति दिन प्रति विषय एक अध्याय का अध्ययन करें (प्रतिदिन 3 विषयों का अध्ययन अधिक नहीं) और प्रतिदिन गणित का अभ्यास करें।

15.आईआईटी जेईई के लिए गणित में मास्टरी कैसे करें? (How to master maths for IIT JEE?)-

  • “मास्टर” जेईई की तैयारी में गणित के लिए गलत शब्द है। आप फिजिक्स और केमिस्ट्री में महारत हासिल कर सकते हैं लेकिन निश्चित रूप से मैथ्स नहीं।गणित जेईई में सबसे अप्रत्याशित विषय है क्योंकि इसमें भौतिकी और रसायन विज्ञान की तरह अवधारणाएं और मूल बातें शामिल नहीं हैं। यह जानने के लिए और ट्रिक,स्पीड और आत्मविश्वास को लागू करने की आवश्यकता है।
  • यहां कुछ युक्तियां दी गई हैं जो गणित के लिए अपनी जेईई की तैयारी के दौरान,आशा है कि ये मददगार होंगी:
  • अभ्यास, अभ्यास और अभ्यास: प्रत्येक विषय से अपने मॉड्यूल/पैकेज से यथासंभव अधिक से अधिक प्रश्न करें। इससे पहले कि आप उन्हें अभ्यास करना शुरू करें, संख्या और प्रश्नों की कठिनाई के बारे में कभी न सोचें।अंतत: आपका उद्देश्य विषय में महारत हासिल करना है और यदि आपको प्रश्न की गुणवत्ता और मात्रा से डर लगता है, तो ऐसा कभी नहीं होगा।
  • सभी महत्वपूर्ण प्रश्नों को चिह्नित करें: ऐसे प्रश्न होंगे जो आप एक बार में हल नहीं कर पाएंगे या आपको उन्हें हल करने में बहुत समय लग सकता है।इस तरह के सवालों में एक नया विचार या एक नई ट्रिक शामिल है और आपको संशोधन के लिए इन सभी प्रश्नों को चिह्नित करना होगा। मैथ्स कम स्पष्ट विषय है और किसी समस्या को हल करने के कई तरीके हैं।आपको हमेशा सर्वोत्तम संभव विधि का उपयोग करना चाहिए जिसमें कम से कम समय शामिल हो और आप केवल तभी नए दृष्टिकोणों के बारे में सोच सकें जब आप संशोधित करते हैं और दिल से सभी महत्वपूर्ण प्रश्नों को सीखते हैं।
  • सभी सूत्र जानें: यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण कदम है,जिस पर कई छात्रों को रटना सीखने के कारण इसमें शामिल होने से चूक जाते हैं (विशेष रूप से कोर्डिनेट ज्यामिति)।ऐसे छात्र हैं जो कहते हैं कि मुझे फॉर्मूले सीखने की ज़रूरत नहीं है, मैं उन्हें पेपर में लाऊंगा।ऐसा मत सोचो कागज में, आपके पास फॉर्मूला बैठने और प्राप्त करने का समय नहीं है या तो आप प्रश्न हल कर सकते हैं या आप फॉर्मूला प्राप्त कर सकते हैं।
  • समयबद्ध अभ्यास करें: मैथ्स का पेपर केवल समस्या हल करने की क्षमता और सटीकता के बारे में नहीं है, बल्कि गति भी है।20-25 प्रश्नों का एक गुच्छा चुनें और 1 घंटे के भीतर उन्हें हल करने का प्रयास करें।प्रश्न नए होने की आवश्यकता नहीं है-वे आपकी परीक्षा श्रृंखला और मॉड्यूल से महत्वपूर्ण प्रश्न हो सकते हैं (बल्कि उन्हें होना चाहिए)।विचार यह है कि आप समय के दबाव में प्रश्नों को हल करें।तनावमुक्त मन बहुत आसानी से उत्तर तक पहुँच सकता है, लेकिन दबाव में मन नहीं।प्रारंभ में जब आप इसके साथ शुरू करते हैं, तो आप उन प्रश्नों को भी हल करने में सक्षम नहीं होते हैं जो आपने पहले ही समय की कमी के तहत किए हैं।लेकिन बार-बार अभ्यास के साथ, आप निश्चित रूप से सुधार करेंगे।
  • किसी भी विषय को न छोड़े: कई छात्रों को कुछ विषयों जैसे कि प्रायिकता या PnC का फ़ोबिया होता है।इसलिए वे इन विषयों को छोड़ देते हैं।ऐसे विषयों को छोड़ने से मदद नहीं मिलेगी।आपको अपने मन में उस गतिरोध को दूर करना होगा और इन विषयों के मूल प्रश्नों से शुरुआत करनी होगी।कई अन्य लोग कोर्डिनेट ज्यामिति से बचते हैं।इस विषय को छोड़ना वस्तुतः आत्मघाती है।पूरे गणित के सिलेबस में कोऑर्डिनेट ज्योमेट्री सबसे आसान विषय है, एक बार जब आप सभी फॉर्मूले और कुछ मात्रा में अभ्यास कर लेते हैं।आपको बस बार-बार फॉर्मूला लागू करना होगा और आपको जवाब मिल जाएगा- सबसे कम विचार मंथन यहां शामिल है।
  • आत्मविश्वास न खोएं: गणित निस्संदेह तीनों में से सबसे कठिन विषय है।यह आमतौर पर आपके अधिकतम समय का उपभोग करता है और आपको न्यूनतम आउटपुट देता है।कई बार, छात्र समय की कमी या विचारों की कमी के कारण परीक्षा में सभी प्रश्नों का प्रयास करने में सक्षम नहीं होते हैं।इसलिए यह है कि परीक्षा में प्रश्नों को हल न कर पाना ठीक है।आपको बस आशा और विश्वास नहीं खोना है।एक बार जब आप समाधान प्राप्त करते हैं, तो आपको प्रत्येक प्रश्न को दिल से बैठना और अभ्यास करना होगा जब तक कि वे स्पष्ट नहीं हो जाते हैं और अगली बार जब आपको ऐसा प्रश्न मिलता है, तो आप प्राप्त कर पाएंगे।
  • उपर्युक्त विवरण में गणित की तैयारी करने की टाॅप 7 टिप्स (Top 7 Tips to Prepare for Mathematics) के अलावा भी गणित विषय की तैयारी करने की टिप्स बताई गई हैं।

Also Read This Article-7 best tips for teachers to improve mathematics

No.Social MediaUrl
1.Facebookclick here
2.you tubeclick here
3.Instagramclick here
4.Linkedinclick here
5.Facebook Pageclick here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *