Menu

Meet JEE-Main 2021 Topper Kavya Chopra

1.जेईई-मेन 2021 टाॅपर काव्या चोपड़ा से मिलिए (Meet JEE-Main 2021 Topper Kavya Chopra)-

  • जेईई-मेन 2021 टाॅपर काव्या चोपड़ा से मिलिए (Meet JEE-Main 2021 Topper Kavya Chopra) जो इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा में परफेक्ट 300 स्कोर करने वाली पहली महिला है।
  • काव्या शुरू से ही मेहनती स्टूडेंट रही है।उसका लक्ष्य आईआईटी-दिल्ली या आईआईटी-बॉम्बे में सीट हथियाना और कंप्यूटर साइंस लेना है।काव्या के अनुसार, “उसे गणित से प्यार है और कंप्यूटर विज्ञान गणित का अनुप्रयोग है और आर्थिक रूप से स्थिर करियर भी है।”
  • IIT JEE Mains March Result: दिल्ली की कविता चोपड़ा ने इंजीनियरिंग संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई) परीक्षा में 300 में से 300 अंक पाने वाली पहली महिला उम्मीदवार बनकर इतिहास रच दिया है।उसने अपने फरवरी के प्रयास में 99.9 प्रतिशत अंक हासिल किए थे लेकिन स्कोर से संतुष्ट नहीं थी।इसलिए,उसने मार्च में फिर से जेईई मेन्स के लिए उपस्थित होने का फैसला किया।वह अब IIT प्रवेश परीक्षा – JEE एडवांस्ड 2021 को क्रैक करने की तैयारी कर रहा है।विशेष रूप से, नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) ने अपनी आधिकारिक NTA वेबसाइट – jeemain.nta.nic.in पर संयुक्त प्रवेश परीक्षा (JEE) मेन्स का परिणाम घोषित किया था।  ।
  • उसने फरवरी के सत्र में 99.9 प्रतिशत अंक प्राप्त करने के बाद मार्च में दूसरी जेईई मेन्स के लिए प्रयास करने का फैसला किया, उसने कहा, “मैं इससे संतुष्ट नहीं थी और मुझे पता था कि मैं बेहतर कर सकती हूं”।
  • जेईई मेन में 300 में से 300 प्राप्त करने वाली पहली महिला बनने की अपनी उपलब्धि पर,काव्या ने कहा कि उन्हें शुरू से ही समान अवसर मिले हैं क्योंकि उन्होंने अपने माता-पिता को उनके और उनके भाई के खिलाफ भेदभाव न करने के लिए धन्यवाद दिया।उसने अपने निजीकरण को भी स्वीकार किया और कहा कि वह अन्य लड़कियों द्वारा सामना किए गए संघर्षों से अच्छी तरह परिचित है।
  • “मेरे माता-पिता ने हमेशा मेरे और मेरे भाई के साथ समान व्यवहार किया।मुझे कभी भी अपने लिंग के आधार पर व्यक्तिगत रूप से भेदभाव नहीं किया गया था लेकिन मुझे पता है कि भारत में बहुत सी लड़कियों को विशेषाधिकार प्राप्त नहीं हैं।भले ही मेरे साथ कभी भी भेदभाव नहीं किया गया है, लेकिन मुझे इस बात की जानकारी है कि दूसरी लड़कियां क्या करती हैं।काव्या के अनुसार “मैं शायद अब अपने उपलब्धि की गंभीरता को नहीं समझ पाऊंगी,लेकिन मैं आभारी हूं।
  • आईआईटी जेईई मेन्स मार्च का रिजल्ट:नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) ने 24 मार्च को JEE मेन मार्च परीक्षा आयोजित करने के छह दिन बाद संयुक्त प्रवेश परीक्षा (JEE) मेन्स का मार्च परिणाम घोषित किया था।छात्र अपना परिणाम देख सकते हैं और आधिकारिक एनटीए वेबसाइट – jeemain.nta.nic.in से स्कोरकार्ड डाउनलोड कर सकते हैं।जेईई मेन परिणाम को डाउनलोड करने के लिए, उम्मीदवारों को आधिकारिक वेबसाइट पर लॉग इन करना होगा और अपना लॉगिन क्रेडेंशियल भरना होगा।नेशनल टेस्टिंग एजेंसी ने घोषणा की कि जेईई मेन्स के मार्च सेशन में कुल 13 उम्मीदवारों ने परफेक्ट 100 स्कोर किया।
  • आपको यह जानकारी रोचक व ज्ञानवर्धक लगे तो अपने मित्रों के साथ इस गणित के आर्टिकल को शेयर करें।यदि आप इस वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो वेबसाइट को फॉलो करें और ईमेल सब्सक्रिप्शन को भी फॉलो करें।जिससे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन आपको मिल सके ।यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए ।आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं।इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

Also Read This Article-Meet JEE Main Topper Suyash Kapil

2.मिलिए काव्या चोपड़ा से जिसने JEE-Mains 2021 में 300 में से 300 अंक हासिल किए (Meet Kavya Chopra who secured 300 out of 300 marks in JEE-Mains 2021),जेईई-मेन 2021 टाॅपर काव्या चोपड़ा से मिलिए (Meet JEE-Main 2021 Topper Kavya Chopra)-

  • जेईई-मेन 2021 टाॅपर काव्या चोपड़ा से मिलिए (Meet JEE-Main 2021 Topper Kavya Chopra) जिसने फीमेल कैंडीडेट्स में टॉप किया है।उसने 300 में से 300 अंक हासिल करके इतिहास रच दिया है।
  • हजारों वर्षो की गुलामी के बाद जब भारत स्वतंत्र हुआ तो संवैधानिक रूप से नारी को समानता का अवसर मिला। इसके परिणामस्वरूप नारी ने स्वतंत्रता तथा समानता का भरपूर उपयोग करते हुए हर क्षेत्र में अपना सिक्का जमाया।
  • परिवार केवल पुरुष वर्ग से ही नहीं बना,वह स्त्री-पुरुष दोनों से बना है।पुरुष को हर क्षेत्र में स्त्री की आवश्यकता अनुभव हुई है।हमारा व्यक्तिगत और राष्ट्रीय भविष्य इस बात पर टिका है कि भावी संतान सुयोग्य हो।माता के संस्कार बालक पर पड़ जाते हैं यह एक निर्विवाद सत्य है।इसलिए जिन्हें भी अपना घर और संतान को सुखद और सुन्दर बनाना हो तो नारी को ज्ञानवान,अनुभवी और कुशलतापूर्वक बनाना होगा।
  • बिना नारी को शिक्षित और स्वावलंबी किए घरों में स्वर्गीय वातावरण की कल्पना असंभव है।वह भले ही परिवार के उत्तरदायित्वों से बंधी हो,उसे सबसे पहले जीवनोपयोगी प्रशिक्षण प्राप्त करना ही होगा।
  • परिवार में धन कमाने के अतिरिक्त बाकी सारी जिम्मेदारियां नारी की होती है।वह कब तक दूसरे के अधीन रहकर जिएगी।गुलामी की जिंदगी और इतना बड़ा कर्तव्यों का दायरा सौंपा गया है तो इसके लिए पुरुष-वर्ग को श्रेष्ठ योग्यताएं और उचित अधिकार भी देना होगा।केवल भौतिक संपदाएं और सुख-सुविधाएं नारी के जीवन को सुखी और सुव्यवस्थित नहीं बना सकती।
    शिक्षा के अभाव में नारी अपंग रहेगी।क्योंकि बौद्धिक विकास के अभाव में नारी न तो ठीक प्रकार से बच्चों का लालन-पालन कर पाती है और न पति को प्रसन्न रख सकती है।
  • काव्या चोपड़ा ने खुद स्वीकार किया है कि उसके माता पिता ने पुत्र और पुत्री में कोई भेदभाव नहीं किया है।हमे समान रूप से शिक्षा उपलब्ध कराई है।
  • इस प्रकार समाज में धीरे-धीरे लोगों की मानसिकता में परिवर्तन आ रहा है।समझदार लोग अब अपनी बच्चियों को भी शिक्षा दे रहे हैं और उन्हें घर से बाहर काम करने के लिए जाने देने के प्रतिबन्ध उठा रहे हैं।महिलाओं का उत्साह और रुझान भी इसी दिशा में है।
  • प्रगतिशील विचारधारा का अर्थ यही है।स्वतंत्रता और समानता के सम्मान और औचित्य का व्यापक समर्थन हो रहा है।इससे नारी के ऊपर लदे हुए सामन्ती बंधनों को काटने में सहायता दी है।इन अनेक कारणों के मिल जाने से नारी की स्वतंत्रता का नया युग आरंभ हुआ है।
  • नारी को सामाजिक पराधीनता के अवांछनीय बंधनों से मुक्ति पाते देखकर सर्वत्र प्रसन्नता और संतोष होना चाहिए।
    परंतु इस स्वतंत्रता का दुरुपयोग भी हुआ है।आज आधुनिकता एवं स्वतन्त्रता के नाम पर नारी की देह, विज्ञापनों की वस्तु बनकर रह गई है।सिनेमा के विज्ञापनों से लेकर कैलेंडर,साबुन,शैंपू,दंतमंजन,जूते-चप्पल तक में नारी की देह ही प्रदर्शित की जाती है।बाजार की हर वस्तु का ठेका मानो नारी के देह-प्रदर्शन ने ले लिया है।
  • सर्वाधिक आश्चर्य मिश्रित दुख इस बात का है कि इस संदेश को देने वाली नारीयां होती है जो इस कार्य की सफलता को अपनी प्रतिभा की कसौटी मान बैठी है।
  • हमें इस सिचुएशन को बदलना होगा और काव्या चोपड़ा जैसी प्रतिभाओं को सम्मानित करके वास्तविक प्रतिभा और छद्म प्रतिभा के फर्क को समझना होगा।
  • उपर्युक्त विवरण में जेईई-मेन 2021 टाॅपर काव्या चोपड़ा से मिलिए (Meet JEE-Main 2021 Topper Kavya Chopra) के बारे में बताया गया है।

3.क्या जेईई मेन्स 2021 कठिन होगा? (Will JEE Mains 2021 be tough?)-

  • जेईई-मेन्स 2021 मार्च 17 स्लॉट 1 समाप्त हो गया है और पहली प्रतिक्रियाएं अब उपलब्ध हैं।पेपर के लिए उपस्थित होने वाले छात्रों ने कहा है कि पेपर कुल मिलाकर मध्यम से कठिन है।तीनों वर्गों (भौतिकी, रसायन विज्ञान और गणित) में कुछ प्रश्न भ्रामक थे।
  • प्रश्न-पत्र की कठिनता आपकी तैयारी के स्तर से निर्धारित होती है।जेईई में कठिनाई स्तर के बारे में आश्चर्यजनक उम्मीदवारों का इतिहास है, जैसे, “अप्रत्याशित अपेक्षा करें”।जो भी प्रश्न स्तर होंगे,आपको अपनी तरफ से मानसिक रूप से तैयार होना चाहिए।JEE 2021, 2020 की तुलना में कठिन या आसान हो सकता है।
  • खैर, कुछ अच्छी रणनीति का पालन करने पर जेईई मेन्स में 100 अंक प्राप्त करना कठिन नहीं है।100 अंक एक ऐसी चीज है जो लोगों को असाधारण तैयारी होने पर मिलती है।

4.जेईई-मेन्स 2021 के लिए कट ऑफ क्या है? (What is the cut off for JEE Mains 2021?)-

  • जेईई मेन कट ऑफ 2021: एनटीए सभी सत्र की परीक्षा पूरी होने के बाद जेईई मेन 2021 कट ऑफ जारी करेगा।श्रेणीवार अपेक्षित और योग्य अंकों की जाँच करें।
  • जेईई मेन 2021 कट ऑफ (अपेक्षित) (JEE Main 2021 Cut off (Expected))
  • NTA द्वारा श्रेणी JEE मेन कटऑफ स्कोर (प्रतिशत) (Category JEE Main Cutoff Score (Percentile) by NTA)
    GEN-EWS 70-75
    Other Backward Classes (OBC-NCL) 60- 70
    Scheduled Caste (SC) 45 – 50
    Scheduled Tribe (ST) 35 – 40

5.क्या जेईई मेन्स 2021 स्थगित किया जाएगा? (Will JEE Mains 2021 be postponed?)-

  • जनवरी 2021 में संयुक्त प्रवेश परीक्षा (मेन्स) में कोविड-19 (COVID-19) में देरी हुई है। जनवरी,2021 की परीक्षा को फरवरी,2021 में शिफ्ट कर दिया गया है।यदि देश भर में कोविद -19 की स्थिति खराब हो जाती है,तो भी जेईई-मेन स्थगित होने की कोई सम्भावना नहीं है। एनटीए अर्थात् नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी) ने स्पष्ट कर दिया है।
    जनवरी तथा फरवरी,2021 सेशन की परीक्षा हो चुकी है तथा अप्रैल सेशन के एडमिट कार्ड जारी किए जाने की तैयारी हो रही हैं तथा परीक्षा होनेवाली है।
  • नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) के अधिकारियों ने कहा कि वे शेड्यूल के साथ अप्रैल तथा मई सेशन में परीक्षा आयोजित करना चाहते हैं।

6.क्या रसायन विज्ञान जेईई 2021 से हटा दिया गया है? (Is chemistry removed from JEE 2021?)-

  • नहीं, जहां यह नहीं लिखा है कि जी 2021 पाठ्यक्रम से रसायन शास्त्र को हटा दिया गया है।जबकि यह कहा जाता है कि देश में बीटेक और बीई पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए रसायन शास्त्र अनिवार्य नहीं है।लेकिन वर्तमान में भौतिकी रसायन और गणित का एक संयोजन इंजीनियरिंग स्ट्रीम में होना चाहिए।

7. जेईई-मेन के कुल अंक (Total Marks of JEE MAINS)-

  • JEE Main 2021 परीक्षा पैटर्न – हाइलाइट्स (JEE Main 2021 Exam Pattern – Highlights)
    विवरणिका (Particulars) बी-टेक/बीई (BTech/BE)
  • प्रश्नों की संख्या (Number of questions)-90
    जेईई-मेन कुल अंक (JEE Main Total Marks)-300 marks
  • प्रश्न-पत्र की भाषा (Language of paper)-हिंदी, अंग्रेजी और गुजराती के अलावा असमिया, बंगाली, कन्नड़, मलयालम, मराठी, ओडिया, पंजाबी, तमिल, तेलुगु, उर्दू (Assamese, Bengali, Kannada, Malayalam, Marathi, Odia, Punjabi, Tamil, Telugu, Urdu in addition to Hindi, English and Gujarati)
  • उपर्युक्त प्रश्नों के उत्तर तथा विवरण के द्वारा जेईई-मेन 2021 टाॅपर काव्या चोपड़ा से मिलिए (Meet JEE-Main 2021 Topper Kavya Chopra) के बारे में जान सकते हैं।

Also Read This Article-6 Boys Got 100 Scored in JEE-Main 2021

No. Social Media Url
1. Facebook click here
2. you tube click here
3. Instagram click here
4. Linkedin click here
5. Facebook Page click here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *