Menu

Mathematics genius Neena Gupta

1.गणित प्रतिभा नीना गुप्ता का परिचय (Introduction to Mathematics genius Neena Gupta)-

गणित प्रतिभा नीना गुप्ता (Mathematics genius Neena Gupta) द्वारा सजातीय बीजीय समस्या को हल करने के बारे में बताएंगे। गणित प्रतिभा नीना गुप्ता (Mathematics genius Neena Gupta) ने ZCP अर्थात् जारिस्की कैंसेलेशन समस्या का समाधान करके विश्व के गणितज्ञों को हैरत में डाल दिया।
जारिस्की कैंसेलेशन समस्या (Zariski Cancellation Problem) को सर्वप्रथम जारिस्की ने 1949 में पेरिस कोलाक्वेम (Paris Colloquium) में उठाया था।ZCP,तीन चरों से संबंधित समस्या है।ये तीन चर,बहुपद रिंग में प्रयुक्त किए जाते हैं।यह समस्या,रशेल विरोधाभास की तरह ही कठिन समस्या है।
इस गणितीय समस्या अर्थात् ZCP का समाधान करने के लिए बहुत से गणितज्ञों ने माथापच्ची की परन्तु उन्हें सफलता नहीं मिली।
गणित प्रतिभा नीना गुप्ता (Mathematics genius Neena Gupta) कोलकाता में भारतीय सांख्यिकी संस्थान (ISI) के परिसर में स्कूल छात्रा थी।इस संस्थान में वह शुद्ध गणित में शोध कर रही थी।जब उसने ZCP (Zariski Cancellation Problem) के बारे में सुना तो उसने इस समस्या को हल करने का निश्चय किया।
गणित प्रतिभा नीना गुप्ता (Mathematics genius Neena Gupta) ने बहुत ही कठिन प्रयासों के बाद ZCP समस्या का समाधान किया।ZCP के साथ ही गणितज्ञ मकर-लिमानोव के क्षेत्र में एक महत्त्वपूर्ण प्रश्न का समाधान भी दिया।
प्रोफेसर आसानुमा ने गणित प्रतिभा नीना गुप्ता को चेताया भी कि समस्या बहुत जटिल है। लेकिन उसने ZCP का समाधान करके ही दम लिया।उसने इस कार्य से दुनियाभर से प्रशंसा हासिल की।साथ ही कई अवार्ड भी हासिल किए।
गणित प्रतिभा नीना गुप्ता (Mathematics genius Neena Gupta) की तुलना मानव कम्प्यूटर शकुन्तला देवी से की जाती है। गणित प्रतिभा नीना गुप्ता (Mathematics genius Neena Gupta) ने अपनी इस सफलता पर कहा कि भगवान ने सभी को बिना किसी भेदभाव के कुछ न कुछ विशेष दक्षता से लैस किया है।
यह बात ठीक भी है कि हर व्यक्ति में कुछ न कुछ प्रतिभा होती हैं। जिनमें अति विशिष्ट प्रतिभा होती है, उन्हें ज्यादा कुछ मार्गदर्शन की आवश्यकता नहीं होती है।ऐसी प्रतिभाएं अपना मार्ग खुद तय कर लेती है। उन्हीं में गणित प्रतिभा नीना गुप्ता (Mathematics genius Neena Gupta) शामिल है।
लेकिन कुछ में प्रतिभा तो होती है परन्तु उनकी प्रतिभा को पहचानकर उसे निखारने और उभारने पर ही वे आगे बढ़ती है।यदि इस प्रकार की प्रतिभाओं को अवसर प्रदान न किया जाए या उनकी प्रतिभा की पहचान न की जाए अथवा उनकी प्रतिभा को निखारने का प्रयास न किया जाए तो इस प्रकार की प्रतिभाएं कठिनाइयों में दम तोड़ देती है। अर्थात् उनकी प्रतिभा सुप्त ही रह जाती है। संसार उनके कार्यों से लाभान्वित नहीं हो पाता है।
ऐसी बहुत सी प्रतिभाएं है जिनकी अवहेलना करने,उन पर ध्यान न देने या उचित सुविधा प्रदान न करने पर या तो वे गुमनामी के अंधेरे में पड़ी रहती है या विक्षिप्त हो जाती है।
उदाहरणार्थ बिहार के बेहतरीन गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह के बीमार होने पर उन्हीं उचित चिकित्सा उपलब्ध नहीं कराई गई।वे कई वर्षो तक बीमारी से जूझते रहे। परन्तु न तो सक्षम संगठनों व सरकारों ने उनकी कोई खोज खबर नहीं ली।कई वर्षो की बीमारी के बाद वे परलोक सिधार गए।यह हमारे सिस्टम की नाकामी और हमारे लिए एक कलंक की बात है जो हम इस तरह की प्रतिभाओं के साथ सौतेला व्यवहार करते हैं।
गणित प्रतिभा नीना गुप्ता (Mathematics genius Neena Gupta) ने ZCP का समाधान करके भारत का गौरव बढ़ाया है।
आपको यह जानकारी रोचक व ज्ञानवर्धक लगे तो अपने मित्रों के साथ इस गणित के आर्टिकल को शेयर करें ।यदि आप इस वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो वेबसाइट को फॉलो करें और ईमेल सब्सक्रिप्शन को भी फॉलो करें जिससे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन आपको मिल सके ।यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए ।आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं। इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

Also Read This Article:-10 Biggest Math Breakthroughs of 2019

2.गणित प्रतिभा नीना गुप्ता (Mathematics genius Neena Gupta)-
Mar 7, 2017

Mar 7, 2017
एक स्कूल की छात्रा के रूप में, नीना गुप्ता कोलकाता में भारतीय सांख्यिकी संस्थान (ISI) के परिसर में बिना किसी धारणा के उच्च दीवारों से गुज़रेगी कि एक दिन वह प्रतिष्ठित संस्थान में शुद्ध गणित में अत्याधुनिक शोध कर रही होंगी। कुछ साल पहले, गणितज्ञ ने कुछ ऐसा किया जो लगभग 70 वर्षों में किसी ने प्रबंधित नहीं किया – उसने ज़ारिस्की कैंसेलेशन समस्या (जेडसीपी)[ Zariski Cancellation Problem (ZCP)] को हल किया, जो कि विशेषज्ञता के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण है, सजातीय बीजीय ज्यामिति। इंडियन नेशनल साइंस एकेडमी ने उन्हें युवा वैज्ञानिकों के लिए पदक प्रदान करते हुए,इसे हाल के वर्षों में बीजगणितीय ज्यामिति में कहीं भी किए गए सर्वश्रेष्ठ कार्यों में से एक कहा।

आईएसआई के सहायक प्रोफेसर कहते हैं, “तीन-अंतरिक्ष ( three-space) के लिए जेडसीपी (ZCP) पर अपने प्रारंभिक समाधान को प्रकाशित करने के बाद, मैंने अपने क्षेत्र में अलग-अलग दिखने वाली अवधारणाओं के बीच गहरे संबंधों की खोज जारी रखी।” गुप्ता कहते हैं, “इसने न केवल जेडसीपी के लिए मेरे शुरुआती समाधान में, बल्कि गणितज्ञ मकर-लिमानोव के क्षेत्र में एक अन्य महत्वपूर्ण प्रश्न का समाधान भी दिया।”
तो, समाधान कैसे आया? गुप्ता कहते हैं, ” अपने पीएचडी दिनों के दौरान, मैंने क्राफ्ट के एक सर्वेक्षण लेख को पढ़ा, जिसमें ZCP सहित आठ खुली समस्याओं पर चर्चा की गई है, ” जिसने अपने डॉक्टर की पढ़ाई आईआईआई में की थी। 2011 में, प्रोफेसर आसानुमा, जो अपने क्षेत्र के अग्रणी थे, को संस्थान का दौरा करने के लिए निर्धारित किया गया था। अपने एक पेपर में, उन्होंने ZCP के लिए एक संभावित जवाबी कार्रवाई का उल्लेख किया था। “आसनुमा के उदाहरण का उपयोग करते हुए और मकर-लिमानोव द्वारा विकसित हाल के औजारों को शामिल करने के बारे में मुझे कुछ विचार थे, जो मैंने प्रोफेसर आसानुमा के साथ साझा किए थे। उन्होंने मुझे चेतावनी दी कि समस्या बहुत कठिन थी। ” 2012 में, जब वह टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च (TIFR) में अपना पोस्टडॉक्टरल शोध कर रही थीं, गुप्ता ने समस्या पर दोबारा गौर किया। “मैंने ISI में पर्यवेक्षक प्रोफेसर अमर्त्य दत्ता और प्रोफेसर एसएम भटवडेकर (जो TIFR से सेवानिवृत्त हुए थे) को अपने प्रारंभिक समाधान का एक प्रारूप भेजा था। उन्होंने स्वतंत्र रूप से पुष्टि की कि समाधान सही था। ” करतब ने दुनिया भर से गुप्ता की प्रशंसा हासिल की। INSA पुरस्कार के अलावा, TIFR एलुमनाई एसोसिएशन के उद्घाटन Cowsik पुरस्कार, और 2014 में रामानुजन पुरस्कार,उसके समाधान के लिए चीन में एक अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन भी किया गया था।
गुप्ता का उपयोग ‘मानव कंप्यूटर ‘शकुंतला देवी के साथ तुलना करने के लिए किया जाता है, भले ही वे विभिन्न गणितीय क्षेत्रों से संबंधित हों। लेकिन महिलाएं अपने चुने हुए क्षेत्र में दुर्लभ हैं, और उन्हें संदेह है कि यह सब पर्यावरण के लिए नीचे आता है। “भगवान ने बिना किसी भेदभाव के हम सभी को कुछ क्षमताओं से लैस किया है। इसलिए तार्किक रूप से कोई समस्या नहीं होनी चाहिए। लेकिन किसी कारण से, महिला को समस्याओं का सामना करना पड़ता है। लेकिन अगर आपके पास एक परिवार है जो आपके साथ रास्ते में प्रत्येक कदम पर चलता है, तो कुछ भी असंभव नहीं है … गणित की क्षमता अविश्वसनीय है। मैंने सिर्फ इतना महसूस किया कि एक जीवनकाल पर्याप्त नहीं है। ”
गणित। मैं हमेशा इसके साथ रहना पसंद करता हूं।
महिलाओं की स्थिति मैं नीचे देखती हूं
मैडम क्यूरी और एमी नोथेर, मेरे पसंदीदा विषयों में से एक, सराहनीय बीजगणित की माँ।
मेरा मानना ​​है
असफलताएँ सफलता की ओर ले जाती हैं और सफलता कभी स्थिर नहीं होती।
गणित प्रतिभा नीना गुप्ता (Mathematics genius Neena Gupta) से संबंधित आर्टिकल कैसा लगा?

Also Read This Article:-Secret of success of Mathematics Guru RK Srivastava

No. Social Media Url
1. Facebook click here
2. you tube click here
3. Twitter click here
4. Instagram click here
5. Linkedin click here
6. Facebook Page click here

No Responses

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *