Menu

How will math be marked in CBSE 2020?

1.सीबीएसई 2020 में गणित की मार्किंग कैसी होगी?(How will math be marked in CBSE 2020?)-

सीबीएसई 2020 में गणित की मार्किंग को लेकर सीबीएसई बोर्ड के छात्र छात्राओं में उत्सुकता है।बहुत से छात्र-छात्राओं का विचार है कि सीबीएसई 2020 में गणित की मार्किंग बेसिक मैथ तथा स्टैंडर्ड मैथ में एक जैसी ही होगी केवल दोनों पेपर्स के डिफीकल्टी लेवल में ही अंतर है।परंतु बात ऐसी नहीं है बेसिक मैथ तथा स्टैंडर्ड मैथ के डिफीकल्टी लेवल में अंतर होने के साथ-साथ दोनों गणित के पेपर्स की मार्किंग में भी अंतर है।सीबीएसई 2020 में गणित की मार्किंग के लिए बेसिक मैथ तथा स्टैंडर्ड मैथ में अंकों का आवंटन इस प्रकार से किया गया है कि बेसिक मैथ का पेपर लेने वाले छात्र आसानी से उत्तीर्ण हो सके क्योंकि उन्हें आगे ऐच्छिक विषय के रूप में गणित नहीं लेनी है जबकि स्टैंडर्ड मैथ में अंकों का आंवटन इस प्रकार से किया गया है ताकि उनकी गणित की क्षमता का मूल्यांकन किया जा सके,ऐसा इसलिए किया गया है क्योंकि उन्हें आगे ऐच्छिक विषय के रूप में गणित विषय लेना है।

Also Read This Article-Tension during the exam,then remove the mind stress 
इस आर्टिकल में चैप्टर वाईज सीबीएसई 2020 में गणित की मार्किंग के लिए बेसिक मैथ व स्टैण्डर्ड मैथ में क्या पैटर्न रखा गया है, इसको स्पष्ट किया गया है।सीबीएसई बोर्ड, 2020 की परीक्षा देते समय सबसे अधिक उत्सुकता गणित की मार्किंग को लेकर ही बनी हुई है।जिन छात्र-छात्राओं को सीबीएसई 2020 गणित की मार्किंग की जानकारी है तो यह आर्टिकल ऐसे छात्र-छात्राओं के लिए नहीं है।यह आर्टिकल उन छात्र-छात्राओं को ध्यान में रखकर लिखा गया है जिनको सीबीएसई 2020 में गणित की मार्किंग की जानकारी नहीं है तथा परीक्षा देते समय गणित की मार्किंग को जानने की उत्सुकता बनी हुई है।

सीबीएसई 2020 गणित की मार्किंग को लेकर सबसे अधिक उत्सुकता बनने के कुछ कारण हैं।पहला कारण तो यह है कि सीबीएसई 2020 में गणित के दो पेपर किए गए थे पहला बेसिक मैथ तथा दूसरा स्टैंडर्ड मैथ तथा दोनों पेपर्स के डिफिकल्टी लेवल में अंतर है।दूसरा कारण यह है कि पहली बार गणित में 20 नंबर का प्रैक्टिकल लेने की व्यवस्था की गई है।तीसरा कारण है कि दसवीं बोर्ड के बाद सीबीएसई में छात्र-छात्राएं अपने ऐच्छिक विषय का चुनाव करते हैं।गणित के दोनों पेपर के परिणाम के आधार पर बहुत से छात्र-छात्राएं ऐच्छिक विषय को चुनाव करने का निर्णय लेते हैं।

यदि यह कहा जाए कि छात्र-छात्राओं के लिए सीबीएसई 2020 में गणित की मार्किंग अहम पड़ाव साबित होगी तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी। सीबीएसई 2020 में गणित की मार्किंग अहम पड़ाव इसलिए है कि दसवीं के बाद ही छात्र-छात्राएं अपने प्रोफेशनल सब्जेक्ट का चयन करेंगे।आधुनिक युग में शिक्षा को प्रोफेशन से जोड़ दिया गया है।माता-पिता ,अभिभावक तथा छात्र-छात्राओं के संबंधियों की सबसे बड़ी चिंता इस बात को लेकर ही रहती है उनका बच्चा आगे जाकर क्या बनेगा अर्थात् कौनसा व्यवसाय चुनेगा।प्रोफेशन का निर्धारण दसवीं के रिजल्ट के बाद ही तय होगा इसलिए सीबीएसई 2020 में गणित की मार्किंग का महत्त्व है।

इस आर्टिकल में बताए गए अनुसार छात्रा-छात्राएं यह जान सकेंगे कि सीबीएसई 2020 में गणित की मार्किंग में किस-किस चैक्टर को कितना वेटेज दिया गया है तथा दोनों गणित के पेपर्स अर्थात बेसिक मैथ तथा स्टैंडर्ड मैथ में चैप्टर वाइज कितना-कितना वेटेज दिया गया है।सीबीएसई 2020 में गणित की मार्किंग के विवरण के आधार पर वे अपने विषय अर्थात् बेसिक मैथ व स्टैंडर्ड मैथ के पेपर की तैयारी को अंतिम अंजाम दे सकेंगे।

सीबीएसई 2020 में गणित की मार्किंग को जानकर यह तय कर पाएंगे कि किस चैप्टर को अधिक वेटेज देना है तथा किस चैप्टर को कम वेटेज देना है।वैसे हर चैप्टर कम अंक का हो या अधिक अंक का हो उसका महत्त्व तो होता ही है। परंतु जिस चैप्टर का वेटेज अधिक होता है उसकी तैयारी में अधिक समय इसलिए देना होता है जिससे गणित में अच्छा स्कोर प्राप्त कर सके।

सीबीएसई 2020 में गणित की मार्किंग के बारे में पूर्ण विवरण नीचे वर्णित है जिसे जानकर आप तय कर सकते हैं कि दोनों के वेटेज में कितना अंतर है ,साथ ही किस चैप्टर को कितना वेटेज दिया गया है।

आपको यह जानकारी रोचक व ज्ञानवर्धक लगे तो अपने मित्रों के साथ इस गणित के आर्टिकल को शेयर करें ।यदि आप इस वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो वेबसाइट को फॉलो करें और ईमेल सब्सक्रिप्शन को भी फॉलो करें जिससे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन आपको मिल सके ।यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए ।आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं। इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

Also Read This Article-How to Get Good Marks in Mathematics 

2.CBSE Board Exam 2020: जानें, कैसी होगी मैथ्स की मार्किंग (CBSE Board Exam 2020: Learn how will math be marked in CBSE 2020)-

सीबीएसई की 10वीं और 12वीं क्लास की परीक्षाएं शुरू हो चुकी हैं। 12 मार्च को 10वीं क्लास का मैथ्स का एग्जाम है। आज आपको बता रहे हैं कि सीबीएसई 2020 में गणित की मार्किंग स्कीम क्या होगी।

CBSE Board Exam 2020:सीबीएसई बोर्ड एग्जाम स्किल आधारित विषयों से शुरू होगा और फिर मुख्य विषयों की परीक्षा होगी। सभी विषयों में गणित एक ऐसा विषय है जो ज्यादातर छात्रों को परेशान करता है। इस साल खास बात यह है कि पहली बार 10वीं के छात्रों के लिए गणित के एक नहीं दो पेपर होंगे। ऐसे में यह जानना जरूरी है कि ये दो पेपर कैसे होंगी और उनकी सीबीएसई 2020 में गणित की मार्किंग स्कीम क्या होगी।

3.सीबीएसई 2020 में गणित की मार्किंग ,बेसिक और स्टैंडर्ड मैथ्स (Marking Math in CBSE 2020, Basic and Standard Math)-

गणित को एक मुश्किल विषय माना जाता है। ऐसे में कुछ छात्र जैसे-तैसे 10वीं तक मैथ्स तो रखते हैं लेकिन बाद की क्लास में वह मैथ्स नहीं रखना चाहते हैं। इस चीज को ध्यान में रखते हुए सीबीएसई की ओर से 2019 में घोषणा की गई थी कि 10वीं में मैथमेटिक्स के दो लेवल के पेपर होंगे। एक बेसिक लेवल का और दूसरा स्टैंडर्ड लेवल का पेपर होगा। जो छात्र 10वीं के बाद मैथ्स रखना चाहते हैं उनके लिए स्टैंडर्ड लेवल वाला पेपर होगा और जो छात्र मैथ्स नहीं रखना चाहते वे बेसिक लेवल वाला पेपर दे सकेंगे।

4.सीबीएसई 2020 में गणित की मार्किंग के लिए दोनों पेपर में क्या है फर्क?(What is the difference between the two papers for math marking in CBSE 2020?)-

आमतौर पर यह माना जाता है कि स्टैंडर्ड मैथमेटिक्स के मुकाबले बेसिक मैथमेटिक्स आसान होगी। लेकिन दोनों में सिर्फ इतना ही फर्क नहीं है। दोनों में वेटेज को लेकर भी फर्क है। बेसिक मैथमेटिक्स में 32 नंबर उन सवालों के लिए अलॉट किए हैं जिजनके लिए फैक्ट्स, टर्म्स, कॉन्सेप्ट और आंसर याद रखना पड़ता है। स्टैंडर्ड मैथमेटिक्स में ऐसे ही सवालों के लिए 20 मार्क्स अलॉट किए गए हैं। बेसिक मैथ्स में उन सवालों के लिए 28 नंबर अलॉट है जिसके जरिये किसी स्टूडेंट्स की कॉन्सेप्ट पर पकड़ को आंका जाता है और स्टैंडर्ड मैथमेटिक्स में उसके लिए 23 मार्क्स अलॉट हैं। फॉर्म्युले के आधार पर हल होने वाले सवाल के लिए बेसिक मैथमेटिक्स के पेपर में 12 मार्क्स जबकि स्टैंडर्ड मैथमेटिक्स के पेपर में 19 मार्क्स होंगे। कुछ ऐसे सवाल जिनमें सूचना का विश्लेषण और मूल्यांकन करके जवाब देना होगा बेसिक मैथ्स के पेपर में उनके लिए 8 मार्क्स जबकि स्टैंडर्ड मैथ्स के पेपर में 18 मार्क्स होंगे।

No. Social Media Url
1. Facebook click here
2. you tube click here
3. Twitter click here
4. Instagram click here
5. Linkedin click here
6. Facebook Page click here
No Responses

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *