Menu

IITian Ankit Prasad and Rahul Prasad

1.आईआईटियन अंकित प्रसाद व राहुल प्रसाद की सफलता की कहानी का परिचय (Introduction to IITian Ankit Prasad and Rahul Prasad)-

  • जमशेदपुर के दो भाइयों आईआईटियन अंकित प्रसाद व राहुल प्रसाद की सफलता की कहानी (IITian Ankit Prasad and Rahul Prasad) बहुत संघर्षमय तथा प्रेरणास्पद है।
  • आज उन्होंने 500 करोड़ की सॉफ्टवेयर कंपनी खड़ी करके फोर्ब्स की रैंकिंग में जगह बनाई है।
  • बाबल एआई (Bobble AI) के संस्थापक अंकित प्रसाद के अनुसार फेसबुक के फाउंडर मार्क जुकरबर्ग और स्टीव जॉब्स उनके आदर्श हैं।जिस प्रकार मार्क ज़ुकरबर्ग और स्टीव जॉब्स ने बीच में पढ़ाई छोड़ कर अपना मुकाम बनाया, उसी तरह अंकित प्रसाद ने आईआईटी की पढ़ाई बीच में छोड़कर सॉफ्टवेयर कंपनी बनाई और सफलता अर्जित की।
  • आज उनके द्वारा बनाई गई सॉफ्टवेयर कंपनी गूगल और माइक्रोसॉफ्ट जैसी ग्लोबल कंपनियों को टक्कर दे रही है।
    30 वर्षीय अंकित प्रसाद और 32 वर्षीय राहुल प्रसाद की जोड़ी ने सर्वप्रथम 2005 में वेब डिजाइन का कार्य प्रारंभ किया।बाद में 2012 में ‘टच टैलेंट’ नामक साॅफ्टवेयर कम्पनी विकसित की। परन्तु दोनों ही आशा के अनुरूप नहीं चली।
  • पश्चात् 2016 में उन्होंने ‘बाबल एआई (Bobble AI) ‘ (Artificial Intelligence) नामक कंपनी बनाई।इस कम्पनी के तहत उन्होंने ‘बाबल इंडिक की-बोर्ड लांच किया।यह की-बोर्ड 37 भारतीय भाषाओं के साथ दुनिया की 120 भाषाओं को सपोर्ट करता है।इसकी रैटिंग 4.7 है और इसका प्रयोग लगभग 5 करोड लोग कर रहे हैं।
  • स्मार्टफोन के लिए ‘बाबल एआई’ द्वारा बनाए गए की-बोर्ड के प्रदर्शन से उत्साहित होकर फ्लिपकार्ट के संस्थापक सचिन बंसल व बिन्नी बंसल, मेक माय टिप के संस्थापक दीपक कालरा सहित सैफ पार्टनर्स और शाओमी जैसे निवेशकों ने इसमें करोड़ों रुपए निवेश किए हैं।
  • बाबल एआई ने फोर्ब्स व बिजनेस वर्ल्ड की रैंकिंग में भी जगह बनाई है।
    उद्यमिता में उल्लेखनीय योगदान के लिए अंकित प्रसाद को दुनिया की प्रसिद्ध बिजनेस पत्रिका फोर्ब्स ने 30 अंडर 30 एशिया की सूची में शामिल किया है। बिजनेस वर्ल्ड मैगजीन की 40 अंडर 40 सूची में भी इन्हें जगह मिल चुकी है।
  • ‘बाबल एआई’ का व्यवसाय भारत के अलावा श्रीलंका, इंडोनेशिया सहित एशिया के कई देशों में फैल चुका है।’बाबल एआई’ के साथ अलग-अलग क्षेत्रों की कई बड़ी कंपनियां भी जुड़ चुकी है।इनमें कैडबरी (Cadbury),हैपीडेंट (HappyDent),टिंडर (Tinder),रीबॉक (Ribac), एडिडास (Adidas),ओरियो(Oreo) और किंगफिशर (Kingfisher) जैसे कुछ बड़े और प्रमुख ब्रांड है।
  • आपको यह जानकारी रोचक व ज्ञानवर्धक लगे तो अपने मित्रों के साथ इस गणित के आर्टिकल को शेयर करें।यदि आप इस वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो वेबसाइट को फॉलो करें और ईमेल सब्सक्रिप्शन को भी फॉलो करें।जिससे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन आपको मिल सके ।यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए ।आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं।इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

Also Read This Article-Math required for DU Computer Science

2.आईआईटियन अंकित प्रसाद व राहुल प्रसाद ने साफ्टवेयर कंपनी बनाई (IITian Ankit Prasad and Rahul Prasad formed software company),आईआईटियन अंकित प्रसाद व राहुल प्रसाद की सफलता की कहानी (IITian Ankit Prasad and Rahul Prasad)-

  • अंकित प्रसाद ने जो जाॅब क्रिएटर बनने के लिए आईआईटी की पढ़ाई छोड़ दी।पढ़ाई करते समय ही उन्होंने ‘टच टैलेंट’ का कार्य प्रारंभ कर दिया था।पढ़ाई छोटे समय तक करीब 100 देशों के 10 लाख से ज्यादा आर्टिस्ट ‘टच टैलेंट’ से जुड़ चुके थे।इसलिए उन्होंने आईआईटी की पढ़ाई छोड़ दी।
  • गुरुग्राम स्थित टेक स्टार्टअप फर्म ‘बाबल एआई’ आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को शामिल करके संचार को अधिक व्यक्तिगत,स्पष्ट और बुद्धिमान बनाने का प्रयास कर रही है।
  • दोनों भाई अंकित प्रसाद और राहुल जमशेदपुर (झारखंड) सिंहभूम जिले के रहने वाले हैं।
  • एनआईटी जमशेदपुर के भूविज्ञान (Geology) प्रोफेसर रंजीत प्रसाद के दोनों पुत्रों अंकित प्रसाद तथा राहुल प्रसाद की प्रारंभिक शिक्षा चाईबासा के सरस्वती विद्या मंदिर में हुई। दोनों ने आदित्यपुर (जमशेदपुर) स्थित डीएवी से 12वीं कक्षा उत्तीर्ण की।दोनों भाइयों को बचपन से ही कंप्यूटर से बेहद लगाव था।
  • अंकित को 6 वर्ष की आयु से ही कोडिंग में रुचि थी। कंप्यूटर और सॉफ्टवेयर में विशेष रूचि के कारण दोनों ने सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में कैरियर बनाने का विचार किया।
  • बारहवीं कक्षा के बाद अंकित ने 2008 में आईआईटी दिल्ली में मैथमेटिक्स एंड कंप्यूटिंग की पढ़ाई प्रारंभ की लेकिन 2011 के अंत में उसने पढ़ाई छोड़ दी।
  • राहुल ने मणिपाल यूनिवर्सिटी से कंप्यूटर साइंस में डिग्री हासिल की।2008 से 2014 के बीच राहुल ने कई बहुराष्ट्रीय कंपनियों में अपनी सेवाएं दी।
  • 2016 में अंकित ने जब ‘बाबल एआई’ कंपनी बनाई तो राहुल प्रसाद भी पूरी तरह से इससे जुड़ गए।इसका मुख्यालय नोएडा में है।
  • 18 साल की उम्र से ही अंकित ने अपने गृहनगर जमशेदपुर में व्यवसाय प्रारंभ किया।कंप्यूटर का उपयोग करना पूरे हाई स्कूल और कॉलेज में उसका सबसे फेवरेट कार्य रहा है।इस कार्य का उसने जूनून का रूप ले लिया। और अंतत एक स्टार्टअप के रूप में अपना कैरियर बनाया।
  • आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की फीचर्स जैसे स्पीच-टू-टेक्सट (speech-to-text),नेक्सट-वर्ड प्रेडिक्शन,ट्रांसलिट्रेशन,स्वाइप टाइपिंग और अन्य समान फीचर्स लैंग्वेज बैरियर के माध्यम से किए जाने के उनके प्रयास निस्संदेह मोबाइल और इंटरनेट की उपयोगिता बढ़ा रहे हैं।
  • वह खाली समय में आध्यात्मिक और राजनीतिक जागरूकता का विस्तार करने के साथ-साथ उद्यमियों और स्टार्टअप संस्थापकों की सहायता करता है।
  • उपर्युक्त विवरण में आईआईटियन अंकित प्रसाद व राहुल प्रसाद की सफलता की कहानी (IITian Ankit Prasad and Rahul Prasad) के बारे में बताया गया है।

Also Read This Article-Is BCA a good course after 12th

No.Social MediaUrl
1.Facebookclick here
2.you tubeclick here
3.Instagramclick here
4.Linkedinclick here
5.Facebook Pageclick here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *