Menu

How to get best marks in mathematics?

Contents hide
1 1.गणित में सर्वश्रेष्ठ अंक कैसे प्राप्त करें (How to get best marks in mathematics?):
1.2 (2.)गणित में सर्वश्रेष्ठ अंक प्राप्त करने में सशक्त शारीरिक की स्थिति का प्रभाव (Effect of strong physical condition to get best marks in Mathematics):

1.गणित में सर्वश्रेष्ठ अंक कैसे प्राप्त करें (How to get best marks in mathematics?):

  • गणित में सर्वश्रेष्ठ अंक प्राप्त करने (get best marks in mathematics) के लिए हमारी शारीरिक स्थिति तथा मानसिक दोनों स्थितियों का प्रभाव पड़ता है।मानसिक स्थिति को मजबूत करके गणित में अच्छे अंक प्राप्त करने (get best marks in mathematics) के बारे में हम कई आर्टिकल पोस्ट कर चुके हैं।इस आर्टिकल में शारीरिक स्थिति को ठीक बनाकर गणित में सर्वश्रेष्ठ अंक प्राप्त करने (get best marks in mathematics) के तरीके बताए गए हैं। एक शोध में बताया गया है कि रीढ़ की हड्डी को सीधी रखकर तथा सीधा बैठकर गणित में सर्वश्रेष्ठ अंक प्राप्त किए (get best marks in mathematics) जा सकते हैं।
  • शारीरिक तथा मानसिक स्थिति में से मानसिक स्थिति का ज्यादा प्रभाव पड़ता है।इसलिए हम शारीरिक स्थिति को सुदृढ़ करके ही गणित में अच्छे अंक प्राप्त नहीं कर सकते हैं।अगर ऐसा होता तो सभी पहलवानों को गणित में अच्छे अंक प्राप्त होते।हम इस पोस्ट में शारीरिक स्थिति को सुदृढ़ करने के उपाय बता रहे हैं ,इसके साथ ही विद्यार्थियों को अपनी मानसिक स्थिति को सुदृढ़ करना चाहिए।
  • आपको यह जानकारी रोचक व ज्ञानवर्धक लगे तो अपने मित्रों के साथ इस गणित के आर्टिकल को शेयर करें ।यदि आप इस वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो वेबसाइट को फॉलो करें और ईमेल सब्सक्रिप्शन को भी फॉलो करें जिससे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन आपको मिल सके ।यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए ।आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं। इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

(1.)योगासन प्राणायाम करके”गणित में सर्वश्रेष्ठ प्राप्त करें”( “Get best marks in Mathematics” by doing Yogasan Pranayama):

  • विद्यार्थियों को योगासन-प्राणायाम का नियमित रूप से अभ्यास करना चाहिए।योगासन के आठ अंग हैं- यम ,नियम ,आसन ,प्राणायाम ,प्रत्याहार ,ध्यान ,धारणा , समाधि।यम के अंतर्गत अहिंसा ,सत्य ,अस्तेय ,ब्रह्मचर्य अपरिग्रह शामिल हैं जबकि नियम में शौच ,संतोष ,तप,स्वाध्याय ,परमात्मा की भक्ति शामिल है। इस प्रकार योगासन में शारीरिक तथा मानसिक स्थिति दोनों को शामिल किया गया है।
  • आसन व प्राणायाम करने से मस्तिष्क पहले से अधिक सक्रिय हो जाता है जिससे गणित की कठिन समस्याओं को हम आसानी से हल कर पाते हैं।इसलिए नियमित रूप से प्रात:काल जल्दी उठकर शौच आदि से निवृत्त होकर रोजाना कम से कम आधे घंटे आसन व प्राणायाम करना चाहिए।आसन व प्राणायाम का नियमित रूप से अभ्यास करने पर मस्तिक और शरीर सुदृढ़ बनता है ,जिससे गणित की समस्याओं को शीघ्र हल करने में मदद मिलती है।महर्षि पतंजलि ने इस रहस्य को समझा था तथा सर्वसाधारण के हित के लिए योगासन का रहस्य तथा उससे होने वाले लाभ बताए थे।

Also Read This Article-What are smart ways to learn mathematics?

(2.)गणित में सर्वश्रेष्ठ अंक प्राप्त करने में सशक्त शारीरिक की स्थिति का प्रभाव (Effect of strong physical condition to get best marks in Mathematics):

  • शिक्षा अर्थात् गणित शिक्षा बालक की सुप्त शक्तियों का जागरण है।स्वस्थ मस्तिष्क तथा सशक्त मस्तिष्क में ही गणित की कठिन समस्याओं को हल करने की क्षमता होती है ।परंतु स्वस्थ तथा सशक्त मस्तिष्क का विकास स्वस्थ शरीर के बिना संभव नहीं है।उत्तम आसन तथा प्राणायाम बनाए रखने वाला शरीर ही उत्तम स्वास्थ्य प्राप्त कर सकता है।
  • बहुत से विद्यार्थियों को गणित विषय से डर लगता है तथा वे गणित से दूर भागते हैं। लेकिन उनकी आकांक्षा यह भी होती है कि वे गणित में सर्वश्रेष्ठ अंक प्राप्त करें (Get best marks in mathematics)।नियमित रूप से योगासन-प्राणायाम करके सर्वोत्तम अंक प्राप्त कर सकते हैं। इसके लिए योगासन-प्राणायाम की निरंतर व दीर्घ अभ्यास करने की आवश्यकता होती है।
  • कई विद्यार्थी पाच-दस दिन में ही इसके परिणाम प्राप्त करना चाहते हैं।परंतु योगासन -प्राणायाम से दीर्घकाल में परिणाम दृष्टिगोचर होता है।इसलिए बालकों को शुरू से ही योगासन-प्राणायाम का अभ्यास कराना चाहिए।
  • योगासन-प्राणायाम करने के कई फायदे हैं।इससे शरीर स्वस्थ रहता है , मस्तिष्क सशक्त व सुदृढ़ बनता है। निरंतर मस्तिष्क विकसित होता जाता है। इसलिए संतुलित रूप से योगासन-प्राणायाम का अभ्यास करने वाले विद्यार्थी पढ़ने में अव्वल रहते हैं।
    भारतीय ऋषियों की यह परंपरा रही है कि दैनिक जीवन में उसकी उपयोगिता को व्यावहारिक रूप से परख करके ही वे जनसाधारण को चरित्र में अपनाने पर बल देते हैं। योगासन-प्राणायाम को भी महर्षि पतंजलि ने व्यावहारिक रूप से परख करके ही जनसाधारण को अपनाने पर बल दिया है।
  • इसलिए यदि विद्यार्थी गणित में सर्वश्रेष्ठ अंक प्राप्त करना ( get best marks in Mathematics) चाहते हैं तो योगासन-प्राणायाम को उन्हें अपने जीवन का अंग बनाना चाहिए।यह है सर्वोत्तम विधि,गणित में सर्वश्रेष्ठ अंक प्राप्त करने की (get best marks in Mathematics)।

Also Read This Article-How to Overcome Mathematics Phobia in Students

(3.)गणित में सर्वश्रेष्ठ अंक कैसे प्राप्त करें? (How to get best marks in mathematics?):

  • Maths में नंबर लाना चाहते हैं, तो यह तरीका अपनाएं
    आपको अगर गणित से डर लगता है तो आप सिर्फ अपने बैठने के तरीके में बदलाव कर इसका लाभ ले सकते हैं।
    आपको अगर गणित से डर लगता है तो आप सिर्फ अपने बैठने के तरीके में बदलाव कर इसका लाभ ले सकते हैं। एक नए शोध के बाद छात्रों को यह सलाह दी गई है। जर्नल न्यूरो रेगुलेशन में प्रकाशित शोध में बताया गया है कि 50 फीसदी से ज्यादा प्रतिभागियों ने गणित की परीक्षा में सीधा बैठकर अच्छा अंक हासिल किया, जबकि झुककर बैठने वाले छात्र-छात्राएं ज्यादा सवाल हल नहीं कर पाए।
  • अमरीका में सैन फ्रांसिस्को स्टेट यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर और शोधकर्ता एरिक पेपर ने बताया, गणित से डरने वाले लोगों को बैठने के तरीके से बड़ा फायदा मिल सकता है। अध्ययन में कॉलेज के 125 छात्रों को शामिल कर यह देखा गया कि वे गणित में कैसा प्रदर्शन करते हैं। इस दौरान उन्हें परीक्षा के दौरान उनकी घबराहट का स्तर लिखने को कहा गया।
  • शोधकर्ताओं ने पाया कि सीधी अवस्था में बैठे 56 फीसदी छात्रों को गणित का प्रश्नपत्र हल करना आसान लगा। विश्वविद्यालय के सह प्राध्यापक रिचर्ड हार्वे ने कहा कि झुककर बैठने से दिमाग में पुरानी और बुरी यादें ताजा हो जाती हैं।
  • पेपर ने कहा, झुककर बैठने से उनकी सक्रियता कम हो जाती है और उनका दिमाग सही से काम नहीं कर पाता है और व्यक्ति कुछ भी स्पष्ट रूप से नहीं सोच पाता है। एथलीट, गायक और सार्वजनिक वक्ताओं को परीक्षा में सीधे बैठने की आदत के कारण उनका प्रदर्शन सुधरा।
  • उपर्युक्त टिप्स के द्वारा गणित में सर्वश्रेष्ठ अंक कैसे प्राप्त करें (How to get best marks in mathematics?) के बारे में बताया गया है।

2.गणित में सर्वश्रेष्ठ अंक कैसे प्राप्त करें (How to get best marks in mathematics?) के सम्बन्ध में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न:

प्रश्न:1.आप गणित में 100 अंक कैसे प्राप्त करते हैं? (How do you get 100 marks in maths?):

उत्तर:गणित में 100/100 अंक प्राप्त करने के लिए,आप पहले उन प्रश्नों को समाप्त करने की रणनीति बनाते हैं जिन्हें आप जानते हैं और फिर अपरिचित प्रश्नों पर आगे बढ़ते हैं।रिवाइज,रिवाइज और रिवाइज करें: एक बार जब आप नोट्स लिख लें,तो एक गहरी सांस लें और उसे अच्छी तरह से रिवाइज करें।
गणित में बार-बार अभ्यास करने पर गणित की जटिल समस्याएं भी सरल लगने लगती है।इसलिए एक बार गणित की थ्योरी को समझ कर उनकी प्रैक्टिकल समस्याओं को हल करके नोट्स तैयार कर लें।फिर उनकी बार-बार पुनरावृत्ति कर लें।

प्रश्न:2.मैं एक दिन में गणित में पूरे अंक कैसे प्राप्त कर सकता हूँ? (How can I get full marks in maths in one day?):

उत्तर:परीक्षा से एक रात पहले गणित की परीक्षा की तैयारी के लिए टिप्स
शांत रहो (Remain Calm)।परीक्षण से एक दिन पहले,आपका दिमाग पैनिक मोड में चला जाता है।
अध्ययन के लिए एक अच्छा शांत स्थान खोजें (Find a Nice Quiet Spot to Study)।शांत स्थान पर अध्ययन करने से एकाग्रता बढ़ती है।
अपनी सामग्री इकट्ठा करो (Gather Your Materials)।अर्थात् आपने जो नोट्स बनाए हैं उनको एक जगह एकत्रित कर ले।
कुछ भी नया सीखने की कोशिश न करें (Don’t Try to Learn Anything New)।परीक्षा के समय नया टाॅपिक सीखने से आप तनावग्रस्त हो सकते हैं जिसके कारण आप अपनी शुरु से तैयार किए गए कन्टेन्ट को याद नहीं रख पाओगे क्योंकि तनावग्रस्त दिमाग में हम भूल जाते हैं।
अभ्यास करें (Practice)।
सूत्रों को याद रखने के लिए फ्लैश कार्ड का प्रयोग करें (Use Flash Cards to Remember Formulas)।
समीक्षा करें (Review)।आप जो कुछ याद करते है,सवाल हल करते हैं तथा नोट्स तैयार करते हैं उनका परीक्षण भी करते रहना चाहिए।जिससे टाॅपिक में भी जो भी कमजोरी महसूस हो उसे ठीक से तैयार कर लें।
एक अच्छी रात की नींद लो (Get a Good Night’s Sleep)।
एक दिन में गणित में पूरे अंक तभी प्राप्त किए जा सकते हैं जबकि आपने पूरे सत्र में गम्भीरता से अधययन किया है।एक दिन में पूर्व में अभ्यास किए गए सवालों की पुनरावृत्ति की जा सकती है,पुनरावृत्ति भी सलेक्टिव की जा सकती है।

प्रश्न:3.क्या 10वीं बोर्ड में किसी को 100% मिला है? (Has anyone got 100% in 10th boards?):

उत्तर:हरिणी,रितेश अग्रवाल,देवांश,आर्यन भट,सिद्धांत चंद्र, जसराज सिंह-सीबीएसई 10वीं रिजल्ट 2020 में 99% और उससे अधिक अंक हासिल करने वाले छात्रों की सूची में से कुछ ही नाम हैं।शिरिजा लिटिल फ्लावर स्कूल की छात्रा है,नई दिल्ली।उसने हिंदी,अंग्रेजी,गणित और विज्ञान में पूर्ण 100 अंक हासिल किए हैं।
प्रश्न:4.क्या 10वीं का गणित आसान है? (Is class 10 maths easy?):
उत्तर:हालाँकि,गणित उतना कठिन नहीं है जितना लगता है।यदि आप कुछ सरल,आसानी से पालन किए जाने वाले सुझावों (easy-to-follow tips) और सुझावों (suggestions) का पालन करते हैं,तो आप सीबीएसई कक्षा 10 गणित की परीक्षा में सफल होंगे।अपने पाठ्यक्रम (syllabus) पाठ्यक्रम संरचना (course structure) और इकाई-वार वेटेज (unit-wise weightage) को अच्छी तरह से पढ़ना बहुत महत्वपूर्ण है।
गणित ही क्या कोई भी विषय सरल नहीं है यदि आप नियमित रूप से अध्ययन नहीं करते हैं।नियमित रूप से अध्ययन,कठोर परिश्रम तथा गणित के प्रति जुनून से ही गणित को सरल बनाया जा सकता है।

प्रश्न:5.क्या सीबीएसई ने 10वीं के टॉपर को दिया कोई इनाम? (Did CBSE give any prize to class 10 topper?):

उत्तर:टॉपर पुरस्कार:
₹50,000 से 1,00,000- नकद पुरस्कार।1 लैपटॉप/अन्य अध्ययन उपकरण।सरकारी/निजी संस्थान द्वारा छात्रवृत्ति। सीबीएसई और सरकार द्वारा उपलब्धि प्रमाण पत्र।
प्रश्न:6.कक्षा 10 के गणित का सबसे कठिन अध्याय कौन सा है? (Which is the toughest chapter in class 10 maths?):
उत्तर:एक अध्याय जो अधिकांश छात्रों को गणित में कठिन लगता है,वह है त्रिकोणमिति।
प्रश्न:7.क्या 10वीं 9वीं से आसान है? (Is 10th easier than 9th?):
हाँ,कक्षा 10वीं कक्षा 9वीं की तुलना में बहुत आसान है। यहां तक ​​कि आप केवल सिलेबस को अच्छी तरह से पुनरावृत्ति करके परीक्षा में टॉप कर सकते हैं।9वीं कक्षा तथा 10वीं कक्षा में सिलेबस का लेवल लगभग समान है।परन्तु 9वीं कक्षा 10वीं कक्षा से इसलिए कठिन लगती है क्योंकि 8वीं कक्षा से 9वीं कक्षा के कोर्स का लेवल उच्च लेवल का है।9वीं की ठीक से तैयारी करने तथा 9वीं व 10वीं के कोर्स के लेवल में ज्यादा अन्तर न होने के कारण 10वीं कक्षा 9वीं से सरल लगती है।

प्रश्न:8.कक्षा 9 के गणित का सबसे कठिन अध्याय कौन सा है? (Which is the toughest chapter in class 9 maths?):

उत्तर:कुछ छात्रों को ज्यामिति कठिन लगती है जबकि अन्य को पृष्ठीय क्षेत्रफल और आयतन,रचना या सांख्यिकी लग सकती है।लेकिन,सामान्य तौर पर,अधिकतम छात्र ज्यामिति को सबसे कठिन विषय मानते हैं।साथ ही,ज्योमेट्री सेक्शन के तहत त्रिभुज नौवीं कक्षा के गणित का सबसे नापसंद अध्याय है।
ज्यामिति कठिन अवश्य है परन्तु अभ्यास से हम इसे सरल बना सकते हैं।गणित की शिक्षा प्राप्त करना एक प्रकार से साधना है।

प्रश्न:9.क्या कक्षा 9 आसान है? (Is Class 9 easy?):

उत्तर:सीबीएसई कक्षा 9वीं की तैयारी निश्चित रूप से आसान नहीं है।सफल होने और अच्छे अंक प्राप्त करने के लिए आपको कड़ी मेहनत करनी होगी।पढ़ाई के अलावा आपको यह भी सुनिश्चित करना चाहिए कि आप स्वस्थ रहें; उचित आहार बनाए रखें और अच्छी नींद लें।कक्षा 9 सीबीएसई के लिए ये अध्ययन युक्तियाँ आपको अच्छे अंक प्राप्त करने में मदद करने के लिए रणनीति हैं जिनका आप लक्ष्य बना रहे हैं।

प्रश्न:10.क्या कक्षा 9 के अंक मायने रखते हैं? (Do Class 9 marks matter?):

उत्तर:नहीं,9वीं कक्षा के अंक आपके ग्रेड को प्रभावित नहीं करते हैं।

प्रश्न11.क्या मैं 9वीं कक्षा में कूद सकता हूँ? (Can I jump 9 class?):

उत्तर:10वीं कक्षा में सीधे प्रवेश लें।कक्षा 9वीं में अधिकांश बोर्ड में देखें बोर्ड के तहत पंजीकरण प्रमाण पत्र जारी किया जाता है।इसलिए नियमित स्कूली शिक्षा के लिए 9वीं कक्षा कूदना संभव नहीं है।

प्रश्न:12.क्या कोई छात्र कक्षा 9 में फेल हो सकता है? (Can a student fail in Class 9?):

उत्तर:“नौवीं कक्षा में असफल होने वाले छात्रों का उच्च प्रतिशत आठवीं कक्षा तक केवी (KV) (केन्द्रीय विद्यालय) द्वारा पालन की जाने वाली ‘नो डिटेंशन पॉलिसी (no detention policy’ followed)’ के कारण है।उन्हें आठवीं कक्षा तक किसी छात्र को फेल करने की अनुमति नहीं है।

उपर्युक्त प्रश्नों के उत्तर द्वारा गणित में सर्वश्रेष्ठ अंक कैसे प्राप्त करें (How to get best marks in mathematics?) के बारे में ओर अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

No.Social MediaUrl
1.Facebookclick here
2.you tubeclick here
3.Twitterclick here
4.Instagramclick here
5.Linkedinclick here
6.Facebook Pageclick here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *