Menu

Focus on JEE Main 22 Preparation Goals

Contents hide

1.जेईई-मेन 2022 की तैयारी लक्ष्य केन्द्रित करें (Focus on JEE Main 22 Preparation Goals), जेईई-मेन 2022 परीक्षा हेतु लक्ष्य केन्द्रित अध्ययन करें (Do a Target-centric Study for JEE-Main 2022 Exam):

  • जेईई-मेन 2022 की तैयारी लक्ष्य केन्द्रित करें (Focus on JEE Main 22 Preparation Goals) जो कि सफलता के लिए सबसे अधिक आवश्यक है।लक्ष्य विहीन परीक्षा की तैयारी उस बावली चिड़िया की तरह है जो जंगल में इधर-उधर भटकती रहती है।इसलिए कहा गया है कि बावली चिड़ी और मोकलो रामो (विस्तृत जंगल)।
  • वैसे तो कैंडिडेट को शुरू से अपने अध्ययन के प्रति लापरवाह नहीं होना चाहिए।प्रारंभिक अवस्था में ही अपने लक्ष्य को तय कर लेना चाहिए।आठवीं क्लास तक यदि बालक-बालिकाओं की गतिविधियों पर गौर करें तो उनकी प्रतिभा को पहचाना जा सकता है।जिस क्षेत्र में प्रतिभा हो उस क्षेत्र में ही अपना लक्ष्य तय कर लेना चाहिए।
  • जैसे किसी बालक की भजन में रूचि हो,किसी बालक की खेलने में रुचि होती है तो कोई बालक गणित में प्रखर होता है।बालक जिस क्षेत्र में बार-बार रुचि प्रकट करें तथा उसको करने के लिए बार-बार आग्रह करें ऐसी स्थिति में यह समझना चाहिए कि उसकी नैसर्गिक प्रतिभा इस क्षेत्र में है। जैसे किसी बालक की गणित में रुचि हो तो उसके माता-पिता को कुछ सवाल लेकर जांच परख करनी चाहिए।शिक्षकों,मित्रों से संपर्क करके उसकी गणितीय प्रतिभा के बारे में जानकारी प्राप्त करनी चाहिए।उसे गणित के सवालों व समस्याओं को हल करने में प्रोत्साहित करना चाहिए।उसके मार्ग में आने वाली कठिनाइयों का समाधान करना चाहिए। गणित में रुचि तथा उसका आईआईटी या इंजीनियरिंग करने में रुझान हो तो उसे उसके लक्ष्य को साधने में सहायता करनी चाहिए।
  • केवल रुचि के बल पर ही लक्ष्य केंद्रित नहीं करना चाहिए बल्कि उसकी योग्यता भी देख लेना चाहिए। योग्यता और रुचि के आधार पर लक्ष्य तय करना चाहिए।इसके अलावा भी कई फैक्टर हैं,लक्ष्य तय करने के लिए।जैसे लक्ष्य की मार्केट में डिमांड है या नहीं,लक्ष्य के लिए आवश्यक धन तथा साधन भी है या नहीं।हालांकि यह गौण चीजें हैं परंतु माता-पिता व बालक को इन पर विचार अवश्य करना चाहिए।
  • कई छात्र-छात्राएं एक-दूसरे को देखा-देखी जेईई-मेन की परीक्षाओं में बैठ जाते हैं।उसके लिए आवश्यक कठिन परिश्रम,रणनीति व योजना के बिना वे असफल हो जाते हैं।
  • आपको यह जानकारी रोचक व ज्ञानवर्धक लगे तो अपने मित्रों के साथ इस गणित के आर्टिकल को शेयर करें।यदि आप इस वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो वेबसाइट को फॉलो करें और ईमेल सब्सक्रिप्शन को भी फॉलो करें।जिससे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन आपको मिल सके । यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए । आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं।इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

Also Read This Article:3 Tips for Preparation of GATE Exam

2.जेईई मेन के लिए विचारणीय बातें (Things to Consider for JEE-Main):

  • लक्ष्य के बारे में यह अवश्य जान लें कि उसके लिए आपमें आवश्यक योग्यता है या नहीं।आपका दिल और दिमाग पूरी तरह से जेईई-मेन की तैयारी के लिए तैयार है या नहीं।क्योंकि आधे-अधूरे मन से सफलता प्राप्त नहीं की जा सकती है।यही कारण है कि अधिकांश छात्र-छात्राएं जेईई-मेन में सफल होने से वंचित रह जाते हैं।
  • जेईईमेन के लिए आपमें जुनून (Passion) होना चाहिए।यानी उठते-बैठते,सोते-जागते,चलते-फिरते आपको केवल जेईई-मेन ही नजर आना चाहिए। एक ही संकल्प और कोई विकल्प नहीं।
  • बिना लक्ष्य तय किए जेईई-मेन की परीक्षा देना,अंधेरे में तीर चलाने के समान है जो कहीं भी लग सकता है।दरअसल अधिकांश कैंडिडेट्स जेईई-मेन की प्रसिद्धि,चकाचौंध,उससे मिलने वाले धन व शोहरत इत्यादि को देखकर परीक्षा देते हैं।इसे एक उदाहरण से समझें।जैसे जेईई-मेन परीक्षा की तैयारी हेतु कुछ पुस्तकों (एक ही लेखक की) की पैकेजिंग बढ़िया कीमती कागज में थी,कुछ पुस्तकों की पैकेजिंग बढ़िया कागज में थी तथा कुछ पुस्तकों की पैकेजिंग साधरण कागज में थी।जब जेईई-मेन में भाग लेने वाले छात्र-छात्राओं का एक समूह पुस्तकें खरीदने गया तो उन सबने कीमती कागज वाली पैकिंग की पुस्तकें ही खरीदी। जेईई-मेन के लिए पुस्तक एक ही थी।इससे पता चलता है कि छात्र-छात्राओं में उत्तीर्ण करने पर उससे मिलनेवाली नौकरी,वेतन और समाज में उसकी प्रतिष्ठा पर केंद्रित थी।जो बाह्य आवरण को देखते हैं उनकी नजर में उपर्युक्त बातों का ही महत्त्व है।जबकि पुस्तक हमारी जीवन शैली,हमारे जीवन का उद्देश्य का द्योतक है।
  • हमेशा यह ध्यान रखना चाहिए कि कहीं हम हमारे जीवन के असली उद्देश्य को भूलकर उसके बजाय पद,प्रतिष्ठा तथा वेतन का चुनाव तो नहीं कर लेते हैं।आगे भविष्य में जाकर हमें इनका नुकसान उठाना पड़ता है जिसकी भरपाई नहीं हो सकती है।

3.जेईईमेन की तैयारी के लिए दृढ़ निश्चय आवश्यक (Firm Determination Required for JEE-Main):

  • जेईई-मेन में सफलता में हमारी कमजोरियां बाधक होती है।ये कमजोरियां छोटी-छोटी होती है परंतु इनका असर बहुत घातक होता है।उदाहरण के लिए जैसे किसी विद्यार्थी में आलस्य रुपी विकार विद्यमान है।आलस्य के कारण वह पढ़ाई में ढिलाई करता है।दृढ़ निश्चय में यह छेद कर देता है।जैसे आपने किसी दिन किसी टॉपिक को पूर्ण करने का संकल्प किया।ऐसी स्थिति में हमारे मन में कुछ समय बाद में विकल्प आता है कि आधा टॉपिक तो तैयार कर लिया है बाकी आधा टाॅपिक कल तैयार कर लूँगा।अब मैं थोड़ा आराम कर लेता हूं।
  • इस प्रकार छात्र-छात्राओं की कमजोरियां उसके दृढ़ निश्चय अथवा संकल्पशक्ति को कमजोर करते रहते हैं।छात्र-छात्राएं सावधान,सचेत रहें तो समय रहते इन कमजोरियों को दूर किया जा सकता है।फिर आप चाहे जितना बड़ा संकल्प लेते हों उसको पूरा करने पर ही दम लेते हैं।
  • दरअसल दृढ़ इच्छाशक्ति,अनुशासन,प्रेरणा,तीव्र इच्छा,लगन (Passion),कष्टों को सहन करने की शक्ति,अटूट धैर्य जैसे गुणों से सशक्त होती है जबकि आलस्य,निद्रा,क्रोध, शोक,मोह जैसे विकार हमारी दृढ़ इच्छाशक्ति को कमजोर कर देते हैं।

Also Read This Article:Argument and Power for Success in JEE

4.सकारात्मक सोच (Positive Thinking):

  • जेईई-मेन में एक बार असफल होने वाला कैंडिडेट जब यह सोच लेता है कि वह अब सफल नहीं हो सकता है तो उसके अंदर अंधकार या नकारात्मकता घर कर लेती है।नकारात्मकता उसकी जो ऊर्जा है उसका क्षय करती रहती है। लेकिन सकारात्मक सोच वाला कैंडिडेट अपनी पहली असफलता के सही कारणों और कमजोरियों को ढूंढ कर उनको दूर करता है। वह फिर से दुगने उत्साह से उसकी तैयारी करने की मन में ठान लेता है।जब निराशा के बजाय आशावादी होते हैं तभी हमें हमारी कमजोरियां दिखाई देती है।कमजोरियां का मालूम पड़ने पर ही हम उनको दूर कर सकते हैं।
  • उपर्युक्त आर्टिकल में जेईई-मेन 2022 की तैयारी लक्ष्य केन्द्रित करें (Focus on JEE Main 22 Preparation Goals), जेईई-मेन 2022 परीक्षा हेतु लक्ष्य केन्द्रित अध्ययन करें (Do a Target-centric Study for JEE-Main 2022 Exam) के बारे में बताया गया है।

5.कैंडिडेट का इंटरव्यू (हास्य-व्यंग्य) (Interview of Candidate) (Humour-Satire):

  • एक कैंडिडेट को प्रतियोगिता परीक्षा में उत्तीर्ण होने पर उसे इंटरव्यू के लिए बुलाया गया।
  • इंटरव्यूअर (कैंडिडेट से):कहां तक एजुकेशन प्राप्त की है?
  • कैंडिडेट (इंटरव्यूअर से):गणित में डबल एमएससी किया हुआ हूँ।
  • इंटरव्यूअर (कैंडिडेट से):एमएससी में कितने प्रतिशत मार्क्स प्राप्त किए हैं?
  • कैंडिडेट (इंटरव्यूअर से):प्रथम बार 75% तथा दूसरी बार 80% मार्क्स प्राप्त किए है।
  • इंटरव्यूअर (कैंडिडेट से):अच्छा एमएससी का फुलफॉर्म बताओ।
  • कैंडिडेट (इंटरव्यूअर से):मैंने डबल एमएससी गणित में की है GK में नही।

6.जेईई-मेन 2022 की तैयारी लक्ष्य केन्द्रित करें (Focus on JEE Main 22 Preparation Goals), जेईई-मेन 2022 परीक्षा हेतु लक्ष्य केन्द्रित अध्ययन करें (Do a Target-centric Study for JEE-Main 2022 Exam) से सम्बन्धित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न:

प्रश्न:1.लक्ष्य प्राप्त करने में कौन-कौन सी रुकावटें आती हैं? (What are Obstacles in Achieving The Goal?):

उत्तर:हर कैंडिडेट में अलग-अलग तरह की कमजोरियां होती है।ये कमजोरियां ही उसके सामने कठिनाई के रूप में प्रस्तुत होती है।जैसे किसी कैंडिडेट को जेईई मेन का पेपर समझ में नहीं आता है।यह कठिनाई तब आती है जब कैंडिडेट मॉडल पेपर,मॉक टेस्ट का अभ्यास नहीं करते हैं।इसी प्रकार किसी कैंडिडेट के सामने समय की कमी संबंधी कठिनाई आती है।यह भी कैंडिडेट पहले प्रश्न-पत्र को समय पर करने का अभ्यास नहीं करता है तब इस तरह की कठिनाई आती है।परीक्षा में हड़बड़ाहट,धैर्य की कमी,आत्मविश्वास की कमी इत्यादि कठिनाइयों का सामना कैंडिडेट करते हैं।जो कैंडिडेट पूर्व में ही लगन,मेहनत तथा प्रश्न-पत्रों का अभ्यास करते हैं।वे इस प्रकार की कठिनाई का सामना नहीं करते हैं।

प्रश्न:2.लक्ष्य को कितने लोग तय कर पाते हैं? (How Many Candidates Can Set the Goal?):

उत्तर:जेईईमेन की तैयारी में लाखों प्रत्याशी शामिल होते हैं।50-60 लाख प्रत्याशियों में से 6-7 लाख प्रत्याशी परीक्षा में शामिल होते हैं।इन 6-7 लाख प्रत्याशियों में से पचास हजार ही ठीक तरह से तैयारी कर पाते हैं।इन पचास हजार में से पांच हजार ही परीक्षा में सफल हो पाते हैं बाकी तो रास्ते में आने वाली कठिनाइयों के कारण भटक जाते हैं। जो कठिनाइयों का डटकर मुकाबला कर पाते हैं वे ही सफल होते हैं।इन पांच हजार में से 1000 ही ज्ञान और सत्य को प्राप्त कर पाते हैं।बाकी तो जेईई-मेन उनके लिए प्रोफेशन (व्यवसाय) बनकर रह जाता है।

प्रश्न:3.लक्ष्य को प्राप्त करने में किन गुणों की आवश्यकता होती है? (What Qualities are Required to Achieve the Goal?):

उत्तर:कैंडिडेट में दृढ़ संकल्प शक्ति,विवेक,धैर्य,साहस,विषय पर मजबूत पकड़,आत्मविश्वास,सकारात्मक सोच,व्यावहारिक योजना,लक्ष्य प्राप्ति की तीव्र उत्कंठा,लगन,कठिन परिश्रम,सटीक रणनीति इत्यादि गुणों की आवश्यकता होती है।

उपर्युक्त प्रश्नों के उत्तर द्वारा जेईई-मेन 2022 की तैयारी लक्ष्य केन्द्रित करें (Focus on JEE Main 22 Preparation Goals), जेईई-मेन 2022 परीक्षा हेतु लक्ष्य केन्द्रित अध्ययन करें (Do a Target-centric Study for JEE-Main 2022 Exam) के बारे में ओर अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

Focus on JEE Main 22 Preparation Goals

जेईई-मेन 2022 की तैयारी लक्ष्य केन्द्रित करें
(Focus on JEE Main 22 Preparation Goals)

Focus on JEE Main 22 Preparation Goals

जेईई-मेन 2022 की तैयारी लक्ष्य केन्द्रित करें (Focus on JEE Main 22 Preparation Goals)
जो कि सफलता के लिए सबसे अधिक आवश्यक है।लक्ष्य विहीन परीक्षा
की तैयारी उस बावली चिड़िया की तरह है जो जंगल में इधर-उधर भटकती रहती है।

No.Social MediaUrl
1.Facebookclick here
2.you tubeclick here
3.Instagramclick here
4.Linkedinclick here
5.Facebook Pageclick here
6.Twitterclick here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *