Menu

Why did mathematics fade in India?

1.”भारत में गणित की चमक फीकी क्यों पड़ी” का परिचय (Introduction to Why did mathematics fade in India?)-

Why did mathematics fade in India?

आर्यभट्ट के देश भारत में गणित की चमक फीकी(Mathematics faded) पड़ने लगी है।भारत गणितज्ञों की भूमि रहा है लेकिन वर्तमान समय में विद्यार्थी गणित में अच्छे नंबर नहीं ला रहे हैं तथा असफल भी हो रहे हैं।अधिकतर विद्यार्थी गणित में कमजोर होने के कारण असफल हो जाते हैं।इसकी मूल वजह है गणित शिक्षा और गणित शिक्षकों का स्तर गिरता जा रहा है।भारत में पहले की तरह गणितज्ञ पैदा नहीं हो रहे हैं या बहुत कम पैदा हो रहे हैं।
भारत शून्य की खोज करने वाला देश है।प्रथम बार बिहार की जमीन से अध्ययन करके गणितज्ञ-भौतिकशास्त्री आचार्य आर्यभट्ट ने बताया कि चंद्रग्रहण और सूर्यग्रहण कैसे होता है?आर्यभट्ट का जन्म दिसंबर 476 में हुआ था और मृत्यु दिसंबर 550 में हुई थी।उनका कार्यक्षेत्र कुसुमपुर था अर्थात् आज का पटना।पांचवी शताब्दी के इस गणितज्ञ को पूरी दुनिया याद करती है। बीजगणित की आधारशिला आर्यभट्ट ने रखी थी। इन्होंने आर्यभट्टीय व आर्य सिद्धांत और तंत्र नामक दो ग्रंथों की रचना की थी। इन्हीं के नाम पर भारत के प्रथम उपग्रह सेटेलाइट का नाम आर्यभट्ट रखा गया। स्थानीय मान प्रणाली आर्यभट्ट की ही देन है,इसी से आगे चलकर शून्य का जन्म हुआ।गिनती तो 1 से शुरू होकर 10 तक पहुंचेगी लेकिन एक कहां से शुरू होगा इसकी जरूरत को सबसे पहले आर्यभट्ट ने ही समझा और स्थानीय मान प्रणाली को प्रतिपादित किया।
वर्तमान दानापुर के पास ही प्राचीन कुसुमपुरा था, जहां खगोलशास्त्री आर्यभट्ट ने एक वेधशाला का निर्माण किया था। कुछ विद्वान यहां तक मानते हैं कि आर्यभट्ट का जन्म स्थान बिहार स्थित कुसुमपुरा ही है जबकि कुछ विद्वानों का कहना है कि उनका जन्म महाराष्ट्र में हुआ था और कुसुमपुरा या पटना पढ़ने आए आर्यभट्ट यहीं के होकर रह गए।पटना के पास तारेगना ही वह जगह है जिसे ग्रहण देखने के लिए सबसे उपयुक्त जगह माना जाता है।कहा जाता है कि आर्यभट्ट भी यहां ग्रहण के समय अध्ययन के लिए आया करते थे।
आपको यह जानकारी रोचक व ज्ञानवर्धक लगे तो अपने मित्रों के साथ इस गणित के आर्टिकल को शेयर करें ।यदि आप इस वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो वेबसाइट को फॉलो करें और ईमेल सब्सक्रिप्शन को भी फॉलो करें जिससे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन आपको मिल सके ।यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए ।आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं। इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

2.भारत में गणित की चमक फीकी क्यों पड़ी? (Why did mathematics fade in India?)-

देश में शिक्षकों की गुणवत्ता सुधारने की जरूरत है।भारत में गणित की चमक फीकी (Mathematics faded) पड़ने का कारण है शिक्षकों की गुणवत्ता में कमी होती जा रही है।आज शिक्षा को व्यवसाय मानकर गणित शिक्षा से धन कैसे कमाया जाए इस पर ज्यादा ध्यान दिया जा रहा है। गणित शिक्षकों की गुणवत्ता को सुधारने की तरफ ध्यान नहीं है।इसके लिए प्रशिक्षित और समर्पित शिक्षकों को आगे बढ़ाना पड़ेगा।धन तथा वेतन तो बायोप्रोडक्ट है परंतु शिक्षा को व्यवसाय मान लिया जाएगा तो उसकी गुणवत्ता में गिरावट तो आएगी ही।

Also Read This Article-Karimot came 2nd in mathematics competition in Nigeria

3.”भारत में गणित की चमक फीकी पड़ी “के सुधार का तरीका (Method of improving “Mathematics faded in India”)-

भारत में गणितज्ञों और गुणीजनों का आदर नहीं करने के कारण गणित की चमक फीकी(Mathematics faded) पड़ती जा रही है।इसलिए सक्षम संगठनों व सरकार को गणितज्ञों तथा गुणीजनों का आदर करना होगा।आज देश की प्रतिभाएं विदेशों में जाकर अपना व्यवसाय करना ज्यादा उचित समझते हैं तथा भारत में उनकी उपेक्षा की जाती है।इसलिए गणितज्ञों को सम्मानित करके प्रतिभा पलायन को रोकना पड़ेगा।

Also Read This Article-Two mathematicians solve a decade old mathematics puzzle

4.”भारत में गणित की चमक फीकी पड़ी” के अन्य कारण (Other reasons for “Mathematics faded in India”)-

गणित के विद्यार्थियों की स्कूलों और कॉलेजों में कमी होती जा रही है।ग्रामीण क्षेत्रों में हालत ओर भी खराब है।इसे गणित का डर कहें या फिर गणित विषय के प्रति रुचि का अभाव ,विद्यार्थी गणित विषय से कतराने लगे हैं।पिछले कुछ वर्षों से इंजीनियरिंग कालेजों का हाल खराब है।
इंजीनियरिंग कॉलेजों में विद्यार्थी नहीं मिल रहे हैं।कई निजी व सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेज बंद होने की हालत में पहुंच गए हैं।गणित संकाय अब छोटा संकाय बनता जा रहा है। कॉलेजों के एडमिशन से भी पता चल रहा है कि विद्यार्थियों की रुचि गणित विषय में कम होती जा रही है। गणित की चमक फीकी पड़ने का कारण यह है कि पिछले दशक में गणित के इंटेलिजेंट विद्यार्थियों ने कठिन समझे जाने वाले इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी की। प्रतिभा होने के बावजूद उन्हें नौकरी नहीं मिल पा रही है।यह सभी स्कूलों से निकले ब्रिलिएंट विद्यार्थी थे, जिन्हें देखकर वर्तमान में विद्यार्थी गणित से कतराने लगे हैं।आज के युवा ज्यादा व्यावहारिक हैं जिनका दृष्टिकोण है कि जब आसान विषय लेकर नौकरी मिल रही है तो फिर गणित लेकर जटिल पढ़ाई क्यों करें? जबकि दो दशक पहले गणित के विद्यार्थियों को नौकरी मिलने की शत-प्रतिशत संभावना रहती थी।ऐसी स्थिति में स्कूलों और कॉलेजों में विद्यार्थियों की संख्या कम होती जा रही है।इसलिए भारत में गणित की चमक फीकी पड़ी(Mathematics faded) है।

No. Social Media Url
1. Facebook click here
2. you tube click here
3. Twitter click here
4. Instagram click here
5. Linkedin click here
6. Facebook Page click here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *