Menu

What are Qualities of math researcher?

1.गणित शोधकर्ता की योग्यता क्या है की भूमिका(Introduction to What are Qualities of math researcher)-

किसी भी क्षेत्र में चाहे गणित शोधकर्ता (math researcher)बनना हो या अन्य विषय में शोधकर्ता बनना हो उसके लिए गणित से दोस्ती करना आवश्यक है। गणित शोधकर्ता(math researcher) बनने के लिए किसी भी विद्यार्थी में एक विशेष प्रकार की तार्किक, चिंतन व मनन करने की शक्ति का होना आवश्यक है। गणित एक ऐसा विषय है जिसकी भाषा सार्वभौमिक होती है यानि सभी देशों में समान प्रतीकों तथा विषयवस्तु का प्रयोग होता है।यह एकमात्र ऐसा विषय है जिसमें शाश्वत भाषा का प्रयोग होता है।इस आर्टिकल में बताया गया है कि गणित शोधकर्ता(math researcher) में किन-किन गुणों की आवश्यकता होती है?

आपको यह जानकारी रोचक व ज्ञानवर्धक लगे तो अपने मित्रों के साथ इस गणित के आर्टिकल को शेयर करें ।यदि आप इस वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो वेबसाइट को फॉलो करें और ईमेल सब्सक्रिप्शन को भी फॉलो करें जिससे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन आपको मिल सके ।यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए ।आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं। इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

Also Read This Article-How to make mathematics question papers?

2.गणित शोधकर्ता के लिए विशिष्ट चिंतन शक्ति की आवश्यकता (Specific thinking power required for mathematics researcher)-

गणित शोधकर्ता (math researcher) द्वारा रिसर्च में एक नए विषय पर अपनी प्रामाणिक थ्योरी प्रस्तुत करनी होती है।नए विषय पर अपनी प्रामाणिक थ्योरी प्रस्तुत करने के लिए नए विषय पर सामग्री किसी पुस्तक,शिक्षक तथा सोशल मीडिया से प्राप्त करके प्रस्तुत की नहीं जा सकती है बल्कि अपनी प्रतिभा,मनन व चिंतन शक्ति का प्रयोग करना होता है।पुस्तकों, शिक्षकों तथा सोशल मीडिया से रिसर्च की आउट लाईन तथा बेसिक बातें तो जानी जा सकती है परंतु नई सामग्री वैज्ञानिक, तार्किक तथा व्यावहारिक हो इसके लिए स्वयं की विशिष्ट चिन्तन शक्ति का प्रयोग करने की आवश्यकता होती है।गणित शोधकर्ता (math researcher)में अन्य विषयों से अलग प्रकार के बैकग्राउंड की आवश्यकता होती है।जो व्यक्ति शुरू से ही अपने गणितीय तार्किक व चिंतन शक्ति का प्रयोग करता है ,आगे जाकर वही अच्छा गणित शोधकर्ता(math researcher) बन सकता है।

3.गणित शोधकर्ता के लिए गणित से मित्रता जरूरी (Mathematics researcher requires friendship with mathematics)-

गणित शोधकर्ता (math researcher) बनने के लिए गणित से मित्रता का अर्थ है कि हमेशा गणित के विषय में चिंतन,मनन करना।हमेशा गणित के संपर्क में रहना। गणित को व्यवहारिक व सामान्य व्यक्ति का अंग बनाने के बारे में विचार व चिंतन करते रहना। गणित शोधकर्ता के लिए यह सबसे आवश्यक व महत्वपूर्ण बात है कि वह गणित विषय से मित्रता कर ले। मित्रता का अर्थ होता है कि वह हमेशा उसके साथ रहता है, उसके बारे में विचार करता रहता है।गणित विषय के बारे में इस प्रकार सोचते रहने से वह एक अच्छा गणित शोधकर्ता (math researcher) बन जाता है।

Also Read This Article-What Are the Expectations from a Mathematics Teacher?

4.गणित शोधकर्ता गणित का महत्त्व समझे (Mathematics researchers understand the importance of mathematics)-

गणित एक ऐसा विषय है जो सर्वोच्च न्यायाधीश होता है, जिसके फैसले पर कोई अपील नहीं होती है।इसलिए गणित का जीवन में बहुत महत्व है।यदि हम एक अच्छी दुनिया का निर्माण करना चाहते हैं तो हमें गणित की शिक्षा को गुणवत्तापूर्ण तरीके लेनी व देनी होगी। इसके लिए हमें गणित शोधकर्ता(math researcher) की आवश्यकता है साथ ही जब तक जीवन व जगत में गणित के महत्त्व को ठीक प्रकार से नहीं समझेंगे तब तक गणित शोधकर्ता एक अच्छा गणित शोधकर्ता साबित नहीं हो सकता है।

5.गणित शोधकर्ता की वर्तमान स्थिति (Current status of mathematics researcher)-

भारत विश्व की दूसरी सबसे अधिक आबादी वाला देश है परंतु गणित तथा गणित शोधकर्ता(math researcher) के रूप में भारत का योगदान बहुत कम है।गणित तथा गणित शोधकर्ता के रूप में भारत का योगदान कम होने का मुख्य कारण है कम्पाटमेंटलाइजेशन आफ एजुकेशन।भारत में गणित को कई भागों में बांट दिया गया है जैसे अप्लाइड मैथ,स्टेटिक्स, अप्लाइड स्टैटिक्स आदि जिसके कारण विद्यार्थी सिर्फ गणित के जिस पहलू या टाॅपिक को पढ़ता है उसे उस पहलू या टॉपिक का ज्ञान होता है।

एक अच्छा गणित शोधकर्ता(math researcher) बनने के लिए गणित के सभी अंगों के अर्थात हर टॉपिक की जानकारी बहुत जरूरी है। इसके साथ ही यहां सीखने की प्रक्रिया भी अलग तरह की है। गणित के जो टाॅपिक कठिन होते हैं या कह लीजिए लगते हैं, उन्हें समझने के बजाय रट लेते हैं।इसका इसका अर्थ यह नहीं है कि भारतीयों में टैलेंट नहीं है।निश्चित रूप से भारत में कई युवाओं ने अपनी प्रतिभा गणित में दिखाई है तथा यह साबित किया है कि भारत में प्रतिभा की कमी नहीं है। कमी है तो प्रतिभा को पहचान करके उसे निखारने की।

गणित शोधकर्ता(math researcher) कोई विद्यार्थी तभी बन सकता है जबकि उसकी गणितीय प्रतिभा को पहचान कर उसको प्रशिक्षित किया जाए।युवाओं में जो गणितीय प्रतिभा है उसको प्रशिक्षित करने में यह ध्यान रखा जाए कि जो टाॅपिक उनको कठिन लगते हैं,उस टाॅपिक को रटने के बजाय उन्हें समझाया जाय और फिर याद करने पर बल दिया जाए। इन बातों का पालन करने पर एक अच्छा गणित शोधकर्ता (math researcher)बना जा सकता है.

No. Social Media Url
1. Facebook click here
2. you tube click here
3. Twitter click here
4. Instagram click here
5. Linkedin click here
6. Facebook Page click here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *