Menu

Upper St. Clair Mathematics Teacher Receives National Honors

Upper St. Clair Mathematics Teacher Receives National Honors

1.अपर सेंट क्लेयर मैथ शिक्षक राष्ट्रीय सम्मान प्राप्त करता है का परिचय(Introduction to Upper St. Clair Mathematics Teacher Receives National Honors)- 

Upper St. Clair Mathematics Teacher Receives National Honors

Upper St. Clair Mathematics Teacher Receives National Honors

इस आर्टिकल में बताया गया है कि श्री स्टीव मिलर को गणित व विज्ञान में उल्लेखनीय योगदान के लिए राष्ट्रपति पदक से सम्मानित किया गया है। राष्ट्रीय या अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर इस प्रकार के पदक मिलने के पीछे इनका वर्षों का गणित के लिए समर्पण रहा है। समर्पण से विनम्रता आती है। भारतीय धर्मशास्त्रों में कहा गया है कि ‘विद्या ददाति विनयम विनयाद अर्थात् विद्या से विनम्रता आती है। ऐसी विद्या किसी काम की नहीं है जिससे मनुष्य में अहंकार पैदा हो और श्रेष्ठता की भावना आती हो। अहंकार सर्वनाश का कारण होता है और उसका आगे विकास करने का मार्ग अवरुद्ध हो जाता है। वह विद्या चाहे गणित शिक्षा हो अर्थात् भौतिक शिक्षा हो या आध्यात्मिक शिक्षा (विद्या हो) यदि मनुष्य में समर्पण, विनम्रता की भावना समाप्त होती हो और अहंकार आता हो तो वह वास्तव में विद्या नहीं अविद्या है।
इतिहास में ऐसे कई प्रमाण है जो केवल विद्या ग्रहण करके विद्वान हो गए तथा उस विद्या का दुरुपयोग करके जनता को प्रताड़ित करने में किया। जैसे रावण विद्वान तो था परन्तु ज्ञानी नहीं था अर्थात् विद्या को सैद्धान्तिक रूप से ही ग्रहण किया परन्तु अपने आचरण में नहीं उतारा। उसका परिणाम हुआ कि उसने अपने कुल का सर्वनाश कराया। विद्या अथवा कोरी विद्या ग्रहण करने का अन्त बुरा होता है और उसका दुष्परिणाम भी भुगतना होता है।
इन पुरस्कारों में यदि विशिष्ट योगदान के साथ चारित्रिक गुणों का भी ध्यान रखा जाए तो पुरस्कार देने और लेने वाले दोनों का सम्मान बढ़ता है। वरना आज के युग में विद्वान तो मिल जाएंगे परन्तु ज्ञानी व्यक्ति का मिलना असम्भव नहीं तो कठिन अवश्य है। आज की शिक्षा में चारित्रिक गुणों के विकास की तरफ बिल्कुल ही ध्यान नहीं दिया जाता है। न तो पाठ्यक्रम में स्थान है और न ही इस तरह का वातावरण है। हालांकि इसका मतलब यह नहीं है कि चारित्रिक गुणों से सम्पन्न मनुष्यों का बिल्कुल अभाव हो गया है। चरित्रवान और चरित्रहीन मनुष्य दोनों ही इस संसार में मिल जाएंगे। संसार में बिल्कुल अच्छाई और बिल्कुल बुराई हो ही नहीं सकती है। ये एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। कम या अधिक हो सकती है परन्तु दोनों में से किसी एक को बिल्कुल समाप्त नहीं किया जा सकता है।
पुरस्कारों को देने में यदि विशिष्ट योगदान के साथ-साथ उसके चरित्र का भी ध्यान रखा जाए तो अति उत्तम है।
आज के युग में विद्वान तो मिल जाएंगें और पुरस्कृत करने वाले भी मिल जाएंगे परन्तु चरित्रवान मनुष्य को पुरस्कृत करने में ही इस प्रकार के प्रतिष्ठित पुरस्कारों की सार्थकता है। ऐसा भी देखने में आता है कि बहुत से लोग अपने पद व प्रभाव का इस्तेमाल करके अपने चहेते और सम्बन्धियों को पुरस्कार दिलवा देते हैं और वास्तविक हकदार व्यक्ति गुमनामी के अंधेरे में पड़े हुए मिलते हैं। यदि वास्तविक व्यक्ति को पुरस्कृत किया जाए तो ऐसे व्यक्ति गणित की बेहतरी व विकास के लिए और अधिक तन, मन से समर्पित होकर कार्य करेंगे। अनेक इस प्रकार के लोग हैं उनको भी गणित शिक्षा में बेहतर करने की प्रेरणा मिलेगी।
यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए ।आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं। इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें। 

2अपर सेंट क्लेयर मैथ शिक्षक राष्ट्रीय सम्मान प्राप्त करता है(Upper St. Clair Mathematics Teacher Receives National Honors)-

स्टीव मिलर ने उत्कृष्टता के लिए राष्ट्रपति पुरस्कार जीता है।
17 अक्टूबर, 2019
अपर सेंट क्लेयर मैथ शिक्षक राष्ट्रीय सम्मान प्राप्त करता है
UPPER ST। CLAIR, PA – अपर सेंट क्लेयर हाई स्कूल के गणित शिक्षक और पाठ्यक्रम के नेता स्टीव मिलर को गणित और विज्ञान शिक्षण में उत्कृष्टता के लिए राष्ट्रपति पुरस्कार मिला है। वह पेंसिल्वेनिया में सिर्फ चार शिक्षकों में से एक है – और पूरे देश में 215 – सम्मान अर्जित करने के लिए।
1983 में स्थापित, यह पुरस्कार 12 वीं कक्षा के गणित और विज्ञान शिक्षकों को अमेरिकी सरकार से प्राप्त होने वाला सर्वोच्च सम्मान पुरस्कार बालवाड़ी है। मिलर 2017 में पुरस्कार के लिए एक फाइनलिस्ट थे।
मिलर ने एक जिला विज्ञप्ति में कहा, “राष्ट्रपति पुरस्कार उन शिक्षकों को मान्यता देता है, जिन्होंने अपने छात्रों की बेहतरी के लिए लगातार अपने प्रतिबिंब और अपने शिल्प में सुधार के लिए समर्पित किया है।” “इस समूह में शामिल होना विनम्र और प्रेरक दोनों है। अतीत के पुरस्कार विजेताओं द्वारा निर्धारित मानक तक जीना एक बड़ी जिम्मेदारी है।”
पुरस्कार के लिए नामांकित व्यक्ति एक कठोर आवेदन प्रक्रिया पूरी करते हैं, जिसके लिए उन्हें सामग्री ज्ञान और सीखने वालों और शिक्षण परिवेशों की एक विस्तृत श्रृंखला के अनुकूल होने की क्षमता का प्रदर्शन करना पड़ता है। वैज्ञानिकों, गणितज्ञों, शिक्षा शोधकर्ताओं, स्कूल और जिला प्रशासकों और शिक्षकों के एक पैनल ने राज्य और राष्ट्रीय स्तरों पर आवेदनों की समीक्षा की।
अंतिम चयन के लिए नॉमिनी की सिफारिशों को व्हाइट हाउस ऑफ़ साइंस एंड टेक्नोलॉजी पॉलिसी को भेज दिया जाता है। शिक्षकों को कक्षा में उनके भेद के आधार पर चुना जाता है और STEM शिक्षा में सुधार के लिए समर्पण।
राष्ट्रपति पुरस्कार विजेताओं को संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति द्वारा हस्ताक्षरित एक प्रमाण पत्र प्राप्त होता है, जो वॉशिंगटन डी.सी. की यात्रा, मान्यता कार्यक्रमों और व्यावसायिक विकास के अवसरों की एक श्रृंखला में भाग लेने के लिए, और राष्ट्रीय विज्ञान फाउंडेशन से $ 10,000 का पुरस्कार प्राप्त करता है।
हाई स्कूल के प्रिंसिपल टिमोथी वैगनर ने कहा, “श्री मिलर शिक्षा के भविष्य को स्पष्टता के साथ देखते हैं, विकास की मानसिकता का विकास करते हैं, और रुझान के बारे में अधिक जानने की इच्छा रखते हैं।” “सर्वोत्तम प्रथाओं में एक प्राधिकरण,” श्री मिलर कभी नहीं छोड़ता है जो छात्रों के लिए सबसे अच्छा है क्योंकि वह शिक्षण और सीखने के बारे में सोचने के नए तरीकों की पड़ताल करता है। “

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *