Menu

IG A Satish Ganesh Taught Mathematics to Children in School

1.आईजी ए सतीश गणेश ने स्कूल में जाकर बच्चों को पढ़ाया गणित, दिए सफलता के मंत्र का परिचय (Introduction to IG A Satish Ganesh Taught Mathematics to Children in School, Gave Success Spells):

  • आईजी ए सतीश गणेश ने स्कूल में जाकर बच्चों को पढ़ाया गणित (IG A Satish Ganesh Taught Mathematics to Children in School):आईजी ए सतीश गणेश ने बिना किसी को बताए औचक एक स्कूल में पहुंच गए,उस समय गणित का कालांश था। बाद में अध्यापक ने उन्हें पहचान लिया तथा आईजी ए सतीश गणेश ने बच्चों को गणित विषय पढ़ाया। थ्योरम से सम्बन्धित टिप्स दिए। क्या ही अच्छा हो कि हमारी सरकार के अधिकारी व कर्मचारी इसी तरह से चौकस होकर तथा समर्पित भाव से कार्य करें।
  • ज्यादातर होता ऐसा है कि नियमावली में जिलाधिकारी, उपजिलाधिकारी जैसे बड़े-बड़े अधिकारियों के लिए सरकार ने नियम बना रखे हुए हैं कि वे महीने में कुछ निश्चित दिन(रात्रि में) गाँव में निवास करें। परन्तु ज्यादातर अधिकारी इस नियम की अवहेलना करते हैं तथा बिना रात्रि गुजारे ही अपनी दैनिक डायरी में खानापूर्ति कर देते हैं। रात्रि में विश्राम करने का नियम इसलिए अच्छा है कि बड़े-बड़े अधिकारी/अफसर वहाँ महीने में एक-दो दिन गुजारेगें तो वहाँ के वास्तविक हालात का पता चल सकेगा। जैसे उक्त अधिकारी ए सतीश गणेश ने स्कूल में जाकर औचक निरीक्षण किया तो उन्हें बच्चों के गणित ज्ञान की जानकारी हुई।
  • हम कागजों में बिना वास्तविक जानकारी हुए बहुत से मामलों की रिपोर्ट दर्ज कर देते हैं जैसे स्कूल की स्थिति कैसी है?, गणित का अध्यापक है या नहीं, ग्रामीणों को किस प्रकार की समस्याओं का सामना करना पड़ता है? चूँकि हमारा सम्बन्ध गणित विषय से सम्बन्धित है इसलिए अन्य विषयों को इस आर्टिकल में वर्णन नहीं कर सकते हैं क्योंकि आर्टिकल लम्बा हो जाएगा।

Also Read This Article-Now Students of Hindi Medium will not have Trouble Reading Mathematics

  • आईजी ए सतीश गणेश ने कक्षा में गणित विषय की कक्षा लेकर बच्चों को थ्योरम से सम्बन्धित टिप्स बताए। इससे गणित शिक्षकों को यह सीख लेनी चाहिए कि बच्चे गणित से क्यों घबराते हैं और उसका समाधान किस प्रकार किया जा सकता है। इसलिए केवल व्यावसायिक दृष्टिकोण रखना पर्याप्त नहीं है। आजकल के बच्चों का ट्रेंड होता जा रहा है कि वे गणित को ऐच्छिक विषय के रूप में नहीं लेना चाहते हैं इसके लिए सबसे अधिक जिम्मेदार शिक्षक ही होता है क्योंकि अभिभावकों को गणित में कोई विशेष ज्ञान और मनोविज्ञान की जानकारी नहीं होती है जिससे वे बालकों की गणित सम्बन्धी समस्याओं का समाधान कर सकें। शिक्षक ही ऐसा व्यक्तित्व है जिसे गणित का ज्ञान होने के साथ-साथ मनोविज्ञान का ज्ञान होता है। इसलिए शिक्षकों को अपनी इस प्रतिभा का उपयोग बालकों में गणित शिक्षा के प्रति रुचि पैदा करने, जिज्ञासा बढ़ाने और गणित में आनेवाली समस्याओं को रुचिपूर्वक पढ़ाने में करना चाहिए। समर्पित भाव से पढ़ाने पर ऐसा कोई कारण नहीं रहेगा कि विद्यार्थी गणित में रुचि न लें। संसार की कोई भी ऐसी समस्या नहीं है जि का कोई समाधान न हो। समस्या के बारे में सोचने से बहाने मिलते हैं और समाधान के बारे में सोचने पर रास्ते मिलते हैं। अब यह तय करना हमारा काम है कि विद्यार्थियों की समस्या के लिए कोई न कोई बहाना बनाना है या विद्यार्थियों की गणित से सम्बन्धित समस्या का समाधान निकालना है।
  • संसार में ज्यादातर शिक्षक ही नहीं सभी की यह स्थिति है कि वे समस्या का हिस्सा बनते हैं और समस्या का निर्माण करते हैं। बहुत कम ऐसे शिक्षक होते हैं जो कि समाधान का हिस्सा बनते हैं, समाधान के बारे में सोचते हैं, समाधान करने की कोशिश करते हैं और समाधान निकालते भी हैं। हमारी सरकारी मशीनरी का सिस्टम इतना दुरुस्त और अच्छा हो जाए तो भारत के माथे गणित के क्षेत्र में फिसड्डी होने का तमगा लगा हुआ है वह दूर हो सकता है।
  • आवश्यकता है तो नेक दिल और ठीक दिशा में अपने दिमाग का इस्तेमाल करने की। श्री आनन्द कुमार ने सुपर 30 से आईआईटी के लिए नि:शुल्क कोचिंग खोलकर जितना अच्छा परिणाम दिया है यदि इसी प्रकार की विभूतियां आगे आकर गणित में प्रतिभाशाली विद्यार्थियों और प्रतिभाओं की खोज कर-करके उनकी प्रतिभा को निखारने, आगे बढ़ाने में करे तो एक दिन ऐसा आ सकता है कि अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर गणित व तकनीकी के क्षेत्र में भारत की धमक दिखाई दे।

Also Read This Article-Math Professor Explained to Students ‘Love Formula’,Student Made Video

  • आईजी ए सतीश गणेश का औचक परीक्षण स्तुत्य है और अन्य अधिकारी/अफसरों व कर्मचारियों को उनसे सीख लेकर सरकारी स्कूलों की दशा व गणित की दिशा व दशा में सुधार करने में अपना योगदान देना चाहिए। फिलहाल तो सरकारी स्कूलों की स्थिति बूचड़खाने जैसी है।
  • यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए ।आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं। इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

2.आईजी ए सतीश गणेश ने स्कूल में जाकर बच्चों को पढ़ाया गणित,दिए सफलता के मंत्र (IG A Satish Ganesh Taught Mathematics to Children in School, Gave Success Spells):

  • आगरा, 27 Aug 2019
  • आगरा रेंज के आईजी ए सतीश गणेश सोमवार को स्कूल टीचर की भूमिका में नजर आए। उन्होंने पुलिस मॉडर्न स्कूल में कक्षा 10 के छात्र-छात्राओं को गणित पढ़ाया। आईजी ने बड़े ही रोचक अंदाज में विद्यार्थियों को पाइथागोरस की प्रेमस समझाई।
  • आईजी ए सतीश गणेश बैगर किसी को बताए के स्कूल पहुंचे थे। वहां क्लासरूम में पीछे बैठ गए। टीचर ने उन्हें पहचान लिया। उसके बाद आईजी बच्चों से सवाल करने लगे। उनसे गणित के सवाल पूछे। इसके बाद खुद ही विद्यार्थियों को पढ़ाने लगे।
  • आईजी ए ने विद्यार्थियों को पाइथागोरस की प्रमेय पढ़ाई। बच्चों ने इसके बारे में सवाल किए। आईजी ने इसका महत्व बताया। यह भी समझाया कि इस प्रमेय से संबंधित सवालों को कैसे हल किया जाता है। आईजी ने करीब 35 मिनट की क्लास ली।
  • इस दौरान आईजी ने बच्चों को सफलता का मंत्र दिया। कहा कि जिंदगी में कामयाबी पाना है तो मन लगाकर पढ़ना पड़ेगा। कोई काम मुश्किल नहीं होता। जरूरी नहीं हर समय पढ़ाई करें। पढ़ाई के समय सिर्फ पढ़ाई करें। दिमाग में कुछ और नहीं चलना चाहिए।
  • उपर्युक्त आर्टिकल में आईजी ए सतीश गणेश ने स्कूल में जाकर बच्चों को पढ़ाया गणित, दिए सफलता के मंत्र (IG A Satish Ganesh Taught Mathematics to Children in School) के बारे में बताया गया है.

IG A Satish Ganesh Taught Mathematics to Children in School

आईजी ए सतीश गणेश ने स्कूल में जाकर बच्चों को पढ़ाया गणित
(IG A Satish Ganesh Taught Mathematics to Children in School)

IG A Satish Ganesh Taught Mathematics to Children in School

आईजी ए सतीश गणेश ने स्कूल में जाकर बच्चों को पढ़ाया गणित, दिए सफलता के मंत्र
(IG A Satish Ganesh Taught Mathematics to Children in School):
आईजी ए सतीश गणेश ने बिना किसी को बताए औचक एक स्कूल में पहुंच गए,उस समय गणित का कालांश था।

No.Social MediaUrl
1.Facebookclick here
2.you tubeclick here
3.Twitterclick here
4.Instagramclick here
5.Linkedinclick here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *