Menu

Why follow word limit in board exam?

1.बोर्ड परीक्षा में शब्द सीमा का पालन करना क्यों जरूरी है?(Why follow word limit in board exam?)-

बोर्ड परीक्षा में शब्द सीमा का पालन करने (to follow word limit in board exam) के पीछे कुछ खास वजह है। सबसे प्रमुख कारण तो यह है कि विद्यार्थी किसी सवाल का उत्तर बिल्कुल सटीक व टू द प्वाइंट लिखें अर्थात् उत्तर में इधर-उधर की बातें न लिखें जिनका प्रश्न के उत्तर से कोई संबंध ही नहीं है ।कई विद्यार्थी यह समझते हैं कि ज्यादा लंबा व विस्तृत उत्तर लिखने से अच्छे अंक प्राप्त होते हैं।ऐसी मानसिकता के कारण वे इस तरह की कहानियां व इधर-उधर की बातें लिख देते हैं जिनका प्रश्न के उत्तर से कोई संबंध ही नहीं होता है।

हर विद्यार्थी को प्रश्न के उत्तर के लिए जो शब्द सीमा है ,उससे अधिक कुछ भी नहीं लिखना चाहिए।परीक्षक विद्यार्थी की उत्तर पुस्तिका में ऐसे कीवर्ड का पता लगाना चाहता है जिनका संबंध प्रश्न के उत्तर से है।जैसे यदि बोर्ड परीक्षा में शब्द सीमा का पालन (to follow word limit in board exam)100 शब्दों की दी गई है तो 100 शब्दों तक ही अपना उत्तर लिखना चाहिए।इसका अर्थ यह नहीं है कि बोर्ड परीक्षा में शब्द सीमा का पालन (to follow word limit in board exam) शब्दों को गिनकर करें।आप सौ शब्दों से एक-दो लाईन ऊपर नीचे भी लिख सकते हैं लेकिन एक-दो लाईन ऊपर लिखी हैं उनका संबंध प्रश्न से संबंधित ही होना चाहिए।यदि 100 शब्दों के ऊपर एक-दो लाईन लिखी हैं,उसका संबंध प्रश्न से है ही नहीं तो आपको कोई फायदा होने वाला नहीं है ।अपने ज्ञान का प्रदर्शन करने के लिए प्रश्न से संबंधित दो-तीन लाइन ऊपर लिख सकते हैं जिससे परीक्षक पर अच्छा प्रभाव पड़े।यदि आपने एक-दो लाइन अधिक लिखी है और उसमें कोई महत्त्वपूर्ण जानकारी नहीं है बल्कि बेकार की चीजें लिखी है जो पूछे गए प्रश्न के अनुसार उचित नहीं है तो इन एक्स्ट्रा शब्दों से आपके अंक भी काटे जा सकते हैं।

बोर्ड परीक्षा में शब्द सीमा का पालन करना ( to follow word limit in board exam) इसलिए भी आवश्यक है कि हो सकता है कि महत्त्वपूर्ण जानकारी उस शब्द सीमा में ही दी जा सकती हो । बहुत से विद्यार्थियों की उत्तर पुस्तिकाओं को जांच करते समय परीक्षक हमेशा महत्त्वपूर्ण व प्रमुख शब्दों की तलाश करते हैं जिसके आधार पर आपको अंक दिए जा सके। इसलिए बड़े-बड़े उत्तर लिखने से आपका समय ही बर्बाद होगा तथा परीक्षक पर इसका प्रभाव अच्छा नहीं पड़ता है ,साथ ही आपके अंक भी काटे जा सकते हैं।

विशेष सूचना (SPECIAL INFORMATION)-

दिल्ली हिंसा: CBSE ने जारी की 10वीं 12वीं की नई परीक्षा डेट, यहां चेक करें एग्जाम शेड्यूल
CBSE New Exam Dates released 2020: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने राजधानी दिल्ली के उत्तरी-पूर्व जिले में हुई हिंसा के कारण स्थगित की गई 10वीं और 12वीं कक्षा के लिए नई परीक्षा तिथि घोषित कर दी है. CBSE की 10वीं कक्षा की परीक्षाएं 21 मार्च 2020 से शुरू होकर 30 मार्च 2020 तक चलेगी, वहीं कक्षा 12वीं की परीक्षाएं 31 मार्च 2020 से शुरू होकर 14 अप्रैल 2020 तक चलेंगी. वे सभी छात्र/छात्राएं जो दिल्ली हिंसा के कारण परीक्षाएं नहीं दे पाए थे वे परीक्षा का नया शेड्यूल बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर चेक कर सकते हैं.
केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने उन सभी स्कूलों, जिनके छात्र दिल्ली हिंसा के कारण परीक्षा नहीं दे सके थे, को यह निर्देश दिए थे कि वे ऐसे बच्चों की लिस्ट व रिकॉर्ड तैयार करें जिनकी परीक्षाएं हिंसा की वजह से छूट गई हैं. 
विदित हो कि केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हिंसा की वजह से तनावग्रस्त इलाकों में स्थित केंद्रों पर 10वीं और 12वीं कक्षा की 26 फरवरी, 27 फरवरी, 28 फरवरी और 29 फरवरी की परीक्षाएं स्थगित कर दी थी. अब सीबीएसई ने इन परीक्षाओं के लिए दिनांक 9 मार्च 2020 को नया परीक्षा शेड्यूल जारी कर दिया है. हालांकि पहले से निर्धारित शेड्यूल पर 2 मार्च 2020 से परीक्षाएं आयोजित कराई गई हैं.
नए एग्जाम शेड्यूल के अनुसार सीबीएसई 12वीं का फिजिक्स का पेपर 31 मार्च 2020 को, अंग्रेजी इलेक्टिव व कोर का पेपर 1 अप्रैल 2020 को, रसायन विज्ञान विषय का पेपर 4 अप्रैल 2020 को, संस्कृत इलेक्टिव विषय का 7 अप्रैल को, इतिहास का पेपर 9 अप्रैल 2020 को आयोजित किया जाएगा. जबकि अकाउंटेंसी का पेपर 11 अप्रैल 2020 को और पॉलिटिकल साइंस का पेपर 14 अप्रैल 2020 को होगा.
वहीं नए कार्यक्रम के अनुसार सीबीएसई 10वीं कक्षा का इंग्लिश पेपर 21 मार्च 2020 को, साइंस का पेपर 24 मार्च को और संस्कृत व हिन्दी का पेपर क्रमशः 27 मार्च को और 30 मार्च 2020 को होगा.

आपको यह जानकारी रोचक व ज्ञानवर्धक लगे तो अपने मित्रों के साथ इस गणित के आर्टिकल को शेयर करें ।यदि आप इस वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो वेबसाइट को फॉलो करें और ईमेल सब्सक्रिप्शन को भी फॉलो करें जिससे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन आपको मिल सके ।यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए ।आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं। इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

Also Read This Article-Tension during the exam,then remove the mind stress 

2.बोर्ड एग्जाम में शब्द सीमा का पालन करना ,आपके ज्ञान को प्रदर्शित करता है (to follow word limit in board exam ,demonstrate your knowledge)-

जो विद्यार्थी बोर्ड एग्जाम में शब्द सीमा का पालन करता (to follow word limit in board exam) है उससे उसकी ज्ञान की गहराई का पता चलता है और परीक्षक ऐसे विद्यार्थी से प्रभावित भी होता है।बोर्ड एग्जाम में शब्द सीमा का पालन करने का यह भी फायदा होता है कि आपका समय बचता है क्योंकि हर एक्स्ट्रा लाइन लिखने में समय अधिक लगता है।बोर्ड परीक्षा में समय का अभाव रहता है तो उसके पीछे प्रमुख वजह यही है कि आप प्रश्न के उत्तर बोर्ड एग्जाम में शब्द सीमा का पालन करने का प्रयास नहीं करते हैं और लम्बे-चौड़े उत्तर लिख देते हैं।
यदि बोर्ड एग्जाम में आपको अंक अर्जित करने हैं तो आपको बोर्ड एग्जाम में शब्द सीमा का पालन (to follow word limit in board exam) अवश्य ही करना चाहिए।विद्यार्थी को पूछे गए प्रश्न के उत्तर में सभी पक्षों को शामिल करना चाहिए।

Also Read This Article-How will Math Be Marked in CBSE 2020
बोर्ड एग्जाम में शब्द सीमा ऐसे ही तय नहीं कर दी जाती है बल्कि बोर्ड एग्जाम में तय शब्द सीमा का पहले व्यावहारिक रूप से परीक्षण किया जाता है और बोर्ड एग्जाम को तैयार करने वाले अध्यापक भली-भांति संतुष्ट होते हैं तभी उनकी अनुशंसा पर शब्द सीमा तय की जाती है।
यदि आने वाली बोर्ड परीक्षा में विद्यार्थी अच्छे अंक प्राप्त करना चाहते हैं और बेहतरीन परिणाम की अपेक्षा रखते हैं तो लिखते समय शब्द सीमा का ख्याल अवश्य रखें।बोर्ड एग्जाम में शब्द सीमा का पालन करने (to follow word limit in board exam) की उपर्युक्त खास वजह है जिनकी वजह से आपको शब्द सीमा का अवश्य पालन करना चाहिए।

No. Social Media Url
1. Facebook click here
2. you tube click here
3. Twitter click here
4. Instagram click here
5. Linkedin click here
6. Facebook Page click here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *