Menu

Mathematics in NDA and Aptitude Test in NTSE Troubled

Mathematics in NDA and Aptitude Test in NTSE Troubled

1.एनडीए में गणित तो एनटीएसई में एप्टीट्यूड टेस्ट ने किया परेशान का परिचय (Introduction to Mathematics in NDA and Aptitude Test in NTSE Troubled) – 

Mathematics in NDA and Aptitude Test in NTSE Troubled
Mathematics in NDA and Aptitude Test in NTSE Troubled
इस आर्टिकल में बताया गया है कि NDA में गणित के प्रश्न-पत्र का लेवल उच्च स्तर का था जिसे हल करने में अभ्यर्थियों को कठिनाई महसूस हुई। गणित के प्रश्न-पत्र को हल करने में कठिनाई महसूस होने के कुछ कारण हैं जिन्हें दूर कर दिया जाए तो हम गणित के प्रश्न-पत्र में कठिनाई महसूस नहीं करेंगे। प्रतियोगिता परीक्षाओं में गणित का जो सिलेबस दिया हुआ होता है उसकी यदि हम सिलेक्टेड तैयारी करते हैं तो गणित विषय के प्रश्न-पत्र को हल करने में कठिनाई होगी। प्रतियोगिता परीक्षाओं में प्रश्न-पत्र व्यापक व गहराई लिए हुए होते हैं। इन परीक्षाओं में सरल प्रश्नों को भी घुमा फिराकर पूछा जाता है जिससे अभ्यर्थी हल करने में कठिनाई महसूस करते हैं। गणित का जो सिलेबस है यदि हमारी तैयारी उससे उच्च स्तर की होगी तो कठिनाई महसूस नहीं होगी। जैसे हमें 50 किमी की दौड़ की प्रतियोगिता में हिस्सा लेना है तो हमारी तैयारी 75 से 100 किमी तक की होनी चाहिए तभी हम 50 किमी की दूरी को सफलतापूर्वक व आसानी से पार कर सकेंगे। जबकि अभ्यर्थी 50 किमी या इससे कम दूरी का अभ्यास करते हैं जिससे वे 50 किमी की दूरी की दौड़ में असफल हो जाते हैं। इसलिए जितना Syllabus दिया हुआ है उसके लेवल से दुगुनी तैयारी करके रखें। हर तरह से आनेवाले सवालों का बार-बार अभ्यास करें। आनलाईन माॅक टेस्ट से बार-बार अपना मूल्यांकन करते रहें। याद रखें कि प्रतियोगिता परीक्षाओं में सफलता का कोई Shortcut Method नहीं है। हम जो भी अभ्यास करते हैं उसे हमें दिशा मिलती है कि इस तरह के सवाल आ सकते हैं। परन्तु जो सवाल हम हल करते हैं जरूरी नहीं कि वे सवाल आएगें बल्कि वे सवाल नहीं आते हैं, हाँ उस तरह के सवाल आ सकते हैं। परन्तु जो सवाल हम हल करते हैं उससे हमारे अभ्यास करने की क्षमता बढ़ती है। अर्थात् उन सवालों को अभ्यास करने का अर्थ है कि हम हमारे अन्दर सवाल हल करने का कौशल विकसित कर रहे होते हैं। परीक्षा में आनेवाले सवाल हम अपने अनुभव के आधार पर हल करते हैं। हमारे अनुभव में विवेक, बुद्धि, कौशल, सूझबूझ इत्यादि गुणों का समावेश होता है। विवेक, बुद्धि, कौशल, सूझबूझ इत्यादिगुगुणों को जितना हम विकसित करते जाते हैं उतना ही प्रश्न-पत्र हमारे लिए सरल हो जाता है। अन्य विषयों की तुलना में हमें इन गुणों के अतिरिक्त चिंतन, तर्कशक्ति जैसे गुणों की गणित में अधिक आवश्यकता होती है। इसलिए बालकों की प्रारम्भ में ही प्रतिभा को पहचानकर उस प्रतिभा को विकसित करने का प्रयास करना चाहिए। ऐसा करने से हमें गणित विषय कठिन नहीं लगेगा और हम उसको आसानी से हल कर पाएंगे।
यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए ।आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं। इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें। 

2.एनडीए में गणित तो एनटीएसई में एप्टीट्यूड टेस्ट ने किया परेशान(Mathematics in NDA and Aptitude Test in NTSE Troubled)-

Publish Date:Mon, 18 Nov 2019
राजधानी रांची में रविवार को एनडीए व एनटीएसई की परीक्षा हुई।…
जागरण संवाददाता, रांची : राजधानी रांची में रविवार को एनडीए व एनटीएसई की परीक्षा हुई। दोनों परीक्षाओं में करीब 20 हजार विद्यार्थी जुटे थे। एनडीए की परीक्षा देकर निकले परीक्षार्थियों ने गणित को टफ बताया तो एनटीएसई में एप्टीट्यूड टेस्ट ने परेशान किया। गणित में कैलकुलस व स्टेटिक्स के सवालों को हल करने में अधिक समय लग रहे थे।
एनडीए की परीक्षा दो पालियों में हुई। प्रथम पाली में 300 अंकों की 120 प्रश्न गणित से तथा द्वितीय पाली में 200 अंकों की 100 प्रश्न अंग्रेजी तथा 400 अंकों के 200 प्रश्न सामान्य ज्ञान से प्रश्न थे। सभी में निगेटिव मार्किंग का प्रावधान था। अंग्रेजी में कंप्रीहेंसन, आइडमस एंड फ्रेज, एंटोनिम्स, स्पॉटिंग इरर, फिल इन द ब्लैंक्स से प्रश्न थे। वहीं एनटीएसई में प्रथम पाली में मेंटल एबिलिटी व द्वितीय पाली में स्कॉलेस्टिक एप्टीट्यूड टेस्ट की परीक्षा हुई। दो सही विकल्प से उलझे परीक्षार्थी
एनटीएसई के द्वितीय पत्र में प्रश्न संख्या-25 में परीक्षार्थी उलझ गए। इस प्रश्न के दो विकल्प 1 व 2 सही थे। परीक्षार्थियों ने कहा कि दोनों सही करते या एक यह समझ नहीं आ रहा था। प्रश्न था- एक तत्व का इलेक्ट्रोनिक विन्यास 2, 8,8,1 है। इस तत्व के बारे में कौन सा कथन सही नहीं है। इसके विकल्प थे-1. यह ग्रुप तीन में उपस्थित है। 2. इसकी संयोजकता एक ऋणात्मक है। 3. यह ग्रुप एक में उपस्थित है। 4. यह चौथा आवर्त में उपस्थित है। एनडीए में एक प्रश्न था-चंद्रयान-2 के लैंडर को कौन सा नाम दिया गया था।

3.खूंटी, दुमका व लोहरदगा में सभी उपस्थित-

एनटीएसई की परीक्षा में राज्य भर से 6906 में से 6420 परीक्षार्थी उपस्थित व 485 अनुपस्थित रहे। सबसे अधिक रांची में 1673 परीक्षार्थी थे जिसमें 1530 उपस्थित रहे तो वहीं सबसे कम दुमका में 13 में सभी उपस्थित रहे। इसी तरह लोहरदगा व खूंटी में भी उपस्थिति सौ फीसद रही। 

4.कड़ी जांच के बाद प्रवेश

एनडीए व एनटीएसई दोनों ही परीक्षाओं में परीक्षार्थियों को कड़ी जांच से गुजरना पड़ रहा था। प्रवेश द्वार पर मेटल डिटेक्टर से जांच हो रही थी। डीएवी कपिलदेव में एनडीए के परीक्षार्थियों को जूते-मौजे खुलवाए जा रहे थे। वहीं एनटीएसई में संत माग्र्रेट में भी कड़ी जांच हो रही थी।


No. Social Media Url
1. Facebook click here
2. you tube click here
3. Twitter click here
4. Instagram click here
5. Linkedin click here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *