Menu

STEM program to overcome fear of math

1.गणित का भय दूर करने के लिए स्टेम प्रोग्राम,गणित व विज्ञान का भय दूर करने के लिए स्टेम प्रोग्राम (STEM program to overcome fear of math,STEM program to overcome fear of mathematics and science)-

गणित का भय  दूर करने के लिए स्टेम प्रोग्राम,गणित व विज्ञान का भय दूर करने के लिए स्टेम प्रोग्राम (STEM program to overcome fear of math,STEM program to overcome fear of mathematics and science) का आयोजन किया जा रहा है।यह स्टेम प्रोग्राम रविवार शाम चार बजे से एक घंटे के लिए 30 सप्ताह तक यूट्यूब पर प्रसारित किया जाएगा।
बालकों में गणित और विज्ञान के प्रति भय इस कदर समाया हुआ है कि बालक इन विषयों से दूर भागता है।जबकि दैनिक जीवन व तकनीकी में गणित की मांग बढ़ती जा रही है। इसलिए आधुनिक युग में यदि तकनीकी के क्षेत्र में आपको आगे बढ़ना है तथा कैरियर बनाना है तो गणित का ज्ञान भी होना आवश्यक है।
इसलिए गणित से डरने की नहीं बल्कि इसको सीखने व सामना करने की आवश्यकता है।आज हर तकनीकी के क्षेत्र में कोडिंग का प्रयोग किया जाता है।ओर कोडिंग का प्रयोग सही ढंग से तभी किया जा सकता है जबकि आपको गणित का ज्ञान हो।
सरकार ने गणित व विज्ञान के महत्त्व को समझते हुए यूट्यूब पर प्रसारण करने का तरीका अपनाकर छात्रों में गणित को सीखने के लिए जागरुकता पैदा करेगी।
गणित का भय दूर करने के लिए स्टेम प्रोग्राम (STEM program to overcome fear of math) को छात्र यदि निर्धारित समय पर अर्थात् चार बजे रविवार को नहीं देख पाता है तो वह बाद में कभी भी उस रिकार्डिंग को यूट्यूब पर देख सकता है।
गणित का भय दूर करने के लिए स्टेम प्रोग्राम (STEM program to overcome fear of math) छात्रों के लिए मददगार साबित होगा ऐसी आशा की जा सकती है। परन्तु इसके लिए माता-पिता, अभिभावकों व छात्रों को जागरूक रहना होगा। इसलिए इस प्रोग्राम का जितना लाभ उठाया जा सकता है उतना उठाने की कोशिश करनी चाहिए।
लोकडाॅउन के कारण छात्रों की पढ़ाई बुरी तरह प्रभावित हुई है।इस पीरियड में छात्र पढ़ाई से एकदम कट गए हैं।वे स्वयं अपनी इच्छा से पढ़ते हैं तो ठीक है अन्यथा उनका समय व्यर्थ ही नष्ट हो रहा है।
ऐसी स्थिति में छात्रों को पढ़ाई से वंचित होना न पड़े इसके लिए गणित का भय दूर करने के लिए स्टेम प्रोग्राम (STEM program to overcome fear of math) एक वरदान साबित हो सकता है।
कोरोनावायरस के कारण फैली महामारी के कारण अभी यह कहा नहीं जा सकता है कि यह लोकडाॅउन कब तक चलेगा? ऐसी स्थिति में आनलाईन शिक्षा के द्वारा हम बच्चों को शिक्षा से जोड़े रख सकते हैं।
इस प्रोग्राम की खासियत यह है कि आप इसमें अपने सवालों के जवाब भी तत्काल पा सकते हैं अर्थात् अपने डाउट्स क्लीयर कर सकते हैं।
गणित का भय दूर करने के लिए स्टेम प्रोग्राम कक्षा 6 से कक्षा 12 तक के बच्चों के लिए रखा गया है।
इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य गणित व विज्ञान के प्रति समझ को बढ़ावा देना है तथा बच्चों में गणित फोबिया को दूर करना है।
आज हर घर में चाहे निर्धन से निर्धन परिवार हो, उसमें भी मोबाईल फोन मिल जाता है।साथ ही अधिकांश छात्र-छात्राएं यूट्यूब वीडियो देखना पसन्द करते हैं। इसलिए वे इस आनलाईन कार्यक्रम का भरपूर फायदा उठा सकते हैं।
घर बैठे छात्र-छात्राओं को गणित व विज्ञान की शिक्षा उपलब्ध होने से हर छात्र-छात्राएं इसका लाभ उठा सकते हैं।
हम छात्र-छात्राओं के लिए इसी प्रकार के उपयोगी आर्टिकल ढूंढ-ढूंढकर प्रस्तुत करते हैं।अब यह आप पर निर्भर है कि आप इससे फायदा उठाते हैं या नहीं।हम तो आपसे यही अपील करते हैं कि ऐसे कार्यक्रम का भरपूर फायदा उठाएं।अन्य लोगों को भी प्रेरित करें जिससे वे भी फायदा उठाएं।
आपको यह जानकारी रोचक व ज्ञानवर्धक लगे तो अपने मित्रों के साथ इस गणित के आर्टिकल को शेयर करें ।यदि आप इस वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो वेबसाइट को फॉलो करें और ईमेल सब्सक्रिप्शन को भी फॉलो करें जिससे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन आपको मिल सके ।यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए ।आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं। इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

Also Read This Article:-Satyam kumar and Tulsi Avatar Tathagat

2.गणित का भय दूर करने के लिए स्टेम प्रोग्राम,गणित व विज्ञान का भय दूर करने के लिए स्टेम प्रोग्राम (STEM program to overcome fear of math,STEM program to overcome fear of mathematics and science)-

Fri, 28 Aug 2020
छात्र-छात्राओं में खासकर गणित व विज्ञान का भय दूर करने के उद्देश्य से स्टेम कार्यक्रम चलाए जाने की व्यवस्था की गई है।छात्र-छात्राओं को यू-ट्यूब चैनल पर अच्छी जानकारियां मिल सकेंगी। हर रविवार शाम चार बजे से एक घंटे तक चलने वाले प्रोग्राम का प्रसारण 30 सप्ताह तक जारी रहेगा। जिसका नाम भी 30-30 स्टेम रखा गया है। इसके लिए राज्य परियोजना निदेशक व महानिदेशक स्कूल शिक्षा ने पत्र भेज कर दिशा निर्देश जारी किए हैं।
निदेशक द्वारा बताया गया है कि सीबीएसई बोर्ड के साथ सेंटर फॉर क्रिएटिव लर्निंग, आईआईटी गांधीनगर और आईआईएसईआर पुणे ने मिलकर यह प्रोग्राम शुरू किया है।हर रविवार को आने वाले कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य गणित और विज्ञान विषय के सैद्धान्तिक समझ को बढ़ावा देना है। कहा गया है कि मानव विकास संसाधन मंत्री ने इस प्रोग्राम के लिए ट्वीट कर लांच किया है।कक्षा छह से 12 तक के छात्र-छात्राओं के अलावा शिक्षक व अभिभावकों के लिए यह महत्वपूर्ण बताया गया है।शिक्षकों और बच्चों को लाइव प्रोग्राम के दौरान प्रश्न पूछने और उत्तर देने की व्यवस्था भी रहेगी।सीबीएसई भी इसमें शामिल है। जो निर्धारित समय में नहीं देख पाएंगे वह बाद में भी रिकार्डिंग यू-ट्यूब पर देखा जा सकता है।घर बैठे छात्र-छात्राओं को शिक्षा देने के लिए शासन की ओर से बेहतर से बेहतर व्यवस्था देने का प्रयास किया जा रहा है।

3.गणित फोबिया का डर (Fear of math phobia)-

संख्या के डर को एरिथोफोबिया कहा जाता है। यह भय कुछ हद तक असामान्य है कि इसमें सभी संख्याओं के सामान्यीकृत भय और विशिष्ट संख्याओं के भय सहित विशिष्ट फ़ोबिया की एक विस्तृत विविधता शामिल है।1 इसे कभी-कभी न्यूमेरोफोबिया भी कहा जाता है।इसे चिंता विकार के रूप में वर्गीकृत किया गया है।

4.गणित फोबिया अनुसंधान (Math phobia research)-

गणित फोबिया, जो कई छात्रों द्वारा प्रदर्शित किया जाता है, गणित में सफल नहीं होने का लगातार, अतार्किक, गहन भय है।
गणित फोबिया दूर करने के लिए गणित के कौशल सिखाने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले तरीके प्रभावित कर सकते हैं कि क्या छात्र सफल महसूस करता है और गणितीय आत्मविश्वास विकसित करता है।

5.विद्यालयों में गणित फोबिया पर काबू पाना (overcoming mathematics phobia in schools)-

(1.)मिथकों को दूर करें।सुनिश्चित करें कि आपके छात्रों ने गणित के बारे में जो भी गलत सुना हो सकता है उस गलत बयान पर विश्वास न करें।
(2.)गणित को एक खेल में बदल दें।बच्चों को खेल से प्यार है, और खेल में कुछ कठिन मोड़ देना चिंता को कम करने का एक शानदार तरीका है।
(3.)एक नियमित आधार पर अभ्यास करें।
(4.)समस्याएँ शुरू होने पर सहायता प्राप्त करें।
(5.)एक सकारात्मक दृष्टिकोण प्रदर्शित करें।

6.प्राथमिक विद्यालयों में स्टेम शिक्षा का महत्व (Importance of stem education in elementary schools)-

प्रारंभिक ग्रेड में शिक्षण स्टेम शिक्षकों और छात्रों के लिए कल के मूवर्स और शेकर्स बनने के लिए द्वार खोलता है। विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग और गणित में एक मजबूत नींव रखने वाले छोटे बच्चे हमारे देश की वैश्विक प्रतिस्पर्धा और आर्थिक स्थिरता में एक अभिन्न भूमिका निभाएंगे।

7.छात्रों को गणित से डर क्यों लगता है (why students fear mathematics)-

गणित का यह डर करियर के विकल्पों को लेकर है। छात्र-छात्राएं सोचते हैं कि यदि वे गणित में अच्छे नहीं होंगे तो उनके करियर के विकल्प सीमित हो जाएंगे।जो लोग गणित के तथ्यों की समयबद्ध परीक्षा को पूरा करने के लिए संघर्ष करते हैं,वे अक्सर भय का अनुभव करते हैं।
गणित ट्रोमा के कई स्रोत हैं।कुछ ऐसे स्रोत हैं जो माता-पिता व शिक्षकों को सीधे प्रभावित करते हैं। पुराने विचारों के अनुसार गणित में अच्छा होने का मतलब है कि गणित में गति और सटीकता हो।इस प्रकार की विचारधारा छात्र-छात्राओं की कार्यशील स्मृति को कम कर देता है।
छात्र-छात्राएं यदि गणित में असफल होते हैं तो उन्हें डांटने की बजाय उनके द्वारा किए गए परिश्रम की सराहना करनी चाहिए।उन्हें आगे अच्छा करने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए।
हम कई बार जाने अनजाने में छात्र-छात्राओं को गणित ट्रोमा से ग्रसित कर देते हैं।
हम इस प्रकार की टिप्पणियां करते हैं कि लगता है कि आप गणित में खराब है।इससे बालक हतोत्साहित होता है।
इस आर्टिकल में प्रश्नों द्वारा उनके उत्तर दिए गए हैं जिनकी सहायता से हम गणित में होने वाली कठिनाईयों से परिचित होकर उनको दूर करने का प्रयास कर सकते हैं।
लगता है कि आप गणित में खराब है (Think You are Bad at Mathematics) तो इससे घबराने के बजाय इसका समाधान ढूंढने की आवश्यकता है।यह सच है कि आज हर निजी व सरकारी क्षेत्र में गणित की आवश्यकता अनुभव की जाती है।परन्तु इसका मतलब यह नहीं है कि आपके लिए करियर के सभी दरवाजे बन्द हो जाते हैं।
बहुत से महान् व्यक्ति जो गणित में फिसड्डी थे लेकिन उन्होंने अन्य क्षेत्र में अपना करियर तलाश किया और उसमें वे सफल रहे।

8.कैसे गणित फोबिया को दूर करें? (How to overcome math phobia)-

गणित फोबिया और बोर्ड परीक्षा के तनाव से छुटकारा पाने में मदद करने के लिए यहां छह सुझाव दिए गए हैं:
(1.)फोबिया को स्वीकार करें।मैथ्स फोबिया से छुटकारा पाने का पहला कदम यह स्वीकार करना है कि आपके पास यह है।
(2.)श्वास अभ्यास का प्रयास करें। नियमित रूप से रोजाना प्रातःकाल योगासन-प्राणायाम करें।
(3.)गणित का रोजाना अभ्यास करें।
(4.)गणित को वास्तविक जीवन में लागू करें।
(5.)सवाल पूछो।
(6.)सहपाठियों की मदद लें।

Also Read This Article:-Kurt Godel and Limits of Mathematics

No. Social Media Url
1. Facebook click here
2. you tube click here
3. Twitter click here
4. Instagram click here
5. Linkedin click here
6. Facebook Page click here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *