Menu

Mathematician Kiran Sridhara Kedlaya

Contents hide

1.गणितज्ञ किरण श्रीधर केडलया (Mathematician Kiran Sridhara Kedlaya),किरण केडलया (Kiran Kedlaya):

  • गणितज्ञ किरण श्रीधर केडलया (Mathematician Kiran Sridhara Kedlaya) एक भारतीय अमेरिकी गणितज्ञ हैं।वह वर्तमान में गणित के प्रोफेसर हैं और केलिफोर्निया विश्वविद्यालय,सैन डियागो (University of California,San Diego) में गणित में स्टीफन ई वार्सचाॅस्की चेयर (Stefan E. Warschawski) है।
  • आपको यह जानकारी रोचक व ज्ञानवर्धक लगे तो अपने मित्रों के साथ इस गणित के आर्टिकल को शेयर करें।यदि आप इस वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो वेबसाइट को फॉलो करें और ईमेल सब्सक्रिप्शन को भी फॉलो करें।जिससे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन आपको मिल सके । यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए । आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं।इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

Also Read This Article:Mathematician Varahamihira

(1.)गणितज्ञ किरण श्रीधर केडलया का संक्षिप्त परिचय (Brief introduction to mathematician Kiran Sridhar Kedlaya):

  • किरण केडलया का जन्म:जून 1974 (उम्र 47 वर्ष लगभग)
  • राष्ट्रीयता:अमेरिकी
  • शिक्षा:उन्होंने एमआईटी पीएचडी 2000 में,एमए 1997 प्रिन्सटन (Princenton) से,बीए 1996 हार्वर्ड (Harvard) से की है।
  • सम्मान (Award):2012 में अमेरिकन मैथेमेटिकल सोसायटी (American Mathematical Society) का फेलो चुना गया।
  • वैज्ञानिक करियर क्षेत्र:गणित संस्थान यूसीएसडी (Mathematics Institutions UCSD)
  • डाॅक्टेरल सलाहकार (Doctoral Fellow):ऐस जोहान डी जोंग (Aise Johan de Jong)
  • डाॅक्टेरल छात्र (Doctoral Student):जेनिफर बालकृष्णन (Jennifer Balakrishnan)
  • वेबसाइट:kskedlaya.org

Also Read This Article:Mathematician Sridharacharya

(2.)किरण केडलया की जीवनी (Biography of Kiran Kedlaya):

  • किरण केडलया का जन्म एक तुलु ब्राह्मण परिवार में हुआ था।16 वर्ष की उम्र में केडलया ने अन्तर्राष्ट्रीय गणित ओलम्पियाड में स्वर्ण पदक जीता और बाद में एक रजत और एक अन्य स्वर्ण पदक जीता।हार्वर्ड में स्नातक छात्र के रूप के रूप में वह 1993,1994 और 1995 में तीन बार पुटनम (Putnam Fellow) फेलो रहे।हार्वर्ड क्रिमसन (The Harvard Crimson) के 1996 के एक लेख ने उन्हें “संयुक्त राज्य अमेरिका में गणित में सर्वश्रेष्ठ काॅलेज छात्र (College-age Student)” के रूप में वर्णित किया।
  • केडलया 1995 में मोर्गन पुरस्कार (Morgan Prize) के उपविजेता रहे,एक पेपर के लिए जिसमें उन्होंने n क्रम के एक सीमित समूह के सबसे गुणन-मुक्त उपसमुच्चय के आकार पर लास्जलो बाबई और वेरा सोस के परिणामों में काफी सुधार किया (For a paper in which he substantially improved on results of Laszlo Babai and Vera Sos on the size of the largest product-free subset of a finite group of order n.)।उन्होंने 2010 में गणितज्ञों की अन्तर्राष्ट्रीय कांग्रेस में “संख्या सिद्धान्त (Number Theory)” विषय पर एक आमन्त्रित भाषण दिया था।2012 में वह अमेरिकन मैथेमेटिकल सोसायटी के फेलो बन गए।वह 2011 में गेम शो खतरे (Game Show Jeopardy) में एक प्रतियोगी थे जिसमें एक एपिसोड जीता।

(3.)किरण केडलया का चयनित कार्य (Selected Works of Kiran Kedlaya):

  • पी-एडिक डिफरेंशियल इक्वेशन,कैम्ब्रिज स्टडीज इन एडवांस मैथेमेटिक्स,बैंड 125,कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी प्रेस 2010 (p-adic Diffential Equations, Cambridge studies in Advanced Mathematics, Band 125, Cambridge University press 2010)।डेविड सेंविट (David Savitt),दिनेश ठाकुर (Dinesh Thakur),मैट बेकर (Matt Baker),ब्रायन काॅनराड (Brian Conrad),समित दासगुप्ता (Samit Dasgupta),जेरेमी टीटेलबाम (Jeremy Teitelbaum) के साथ।
  • पी-एडिक ज्योमेट्री,लेक्चर फ्राॅम द 2007 एरिजोना विंटर स्कूल,अमेरिकन मैथेमेटिकल सोसायटी 2008 (p-adic Geometry Lectures from the 2007 Arizona winter school, American Mathematical society 2008.)।
    ब्योर्न पूनन (Bjorn poonen),रवि वकील (Ravi Vakil) विलियम लोवेल पुटनम गणितीय प्रतियोगिता 1985-2000 (The William Lowell Putnam Mathematical Competition 1985-2000):समस्याएं, समाधान और कमेटी,मैथेमेटिक्स एसोसिएशन ऑफ अमेरिका,2021

(4.)निष्कर्ष (Conclusion of Mathematician Kiran Sridhara Kedlaya):

  • भारत में ऐसी बहुत सी गणितीय प्रतिभाएँ है जो विकसित देशों में बस गई हैं।उनकी प्रतिभा का लाभ बेशक विकसित देश उठाते हैं।परन्तु उनमें से कई प्रतिभाएँ अपने मूल देश को बिल्कुल नहीं भूलती हैं विशेषकर भारत देश के मामले में।क्योंकि हमारे शास्त्रों में कहा गया है कि
  • “अयं निज:परो वेति गणना लघुचेतसाम्।
    उदारचरितानां तु वसुधैव कुटुम्बकम्।।
    अर्थात् यह मेरा है,वह तेरा है ऐसे विचार तुच्छ या निम्न कोटि के व्यक्ति करते हैं।अच्छे आचरण वाले व्यक्तियों के लिए सारा संसार ही कुटुम्ब अर्थात् परिवार है।
  • भारत देश में वसुधैव कुटुम्बकम की भावना रखी जाती है अर्थात् यह पूरा विश्व ही परिवार है।भारत से जानेवाली प्रतिभाएँ अन्य देश के नीति नियमों का पालन करके सदाचरण का पालन करती है।वहाँ किसी दंगा-फसाद में लिप्त न होकर उस देश की समृद्धि में अपना योगदान करती है।भारत की इसी नीति के कारण प्रतिभाएँ अन्य देशों की नागरिकता लेने के बावजूद भी कई प्रतिभाएँ तो दिल से भारत से जुड़ी रहती है तथा यदा-कदा यहाँ पर आकर अपने उद्गार भी प्रकट करती है।लेकिन प्रतिभा पलायन एक विचारणीय प्रश्न है,इस पर सरकार तथा अन्य सक्षम लोगों को चिन्तन-मनन करना चाहिए।
    भारतवर्ष के बारे में मैक्समूलर ने महारानी विक्टोरिया को 1858 में अपने पत्र में निम्न उद्गार व्यक्त किया है:
  • If I were to look over the whole world to find out the country most richly endowed with all the wealth, power and beauty that nature can bestow,I should point to India.
    If I were asked under what sky the human mind has most fully developed some of its choicest gifts,has most deeply pondered on the greatest problems of life and has found solutions of some of them, which well deserve the attention even of those who have studied Plato and Kant, I should point to India.
  • And if I were asked myself from what literature we have in Europe,we who are nurtured almost on the thoughts of the Greeks and Romans and of the Semetic race, the Jewish, may draw that caricature which is most wanted our inner life more perfect, more universal, is fact, more truly human, a life not for this life only, but a transfigured and eternal life,again I should point to India.
  • (यदि हम संपूर्ण विश्व की खोज करें;ऐसे देश का पता लगाने के लिए जिसे प्रकृति ने सर्वसंपन्न,शक्तिशाली और सुंदर बनाया है तो मैं भारतवर्ष की ओर संकेत करूंगा।
  • यदि मुझसे पूछा जाए कि किस देश में मानव-मस्तिक ने अपने मुख्यतम गुणों का विकास किया,जीवन की सबसे महत्वपूर्ण समस्या पर सबसे अधिक गहराई के साथ सोच विचाय किया और उनमें से कुछ ऐसे समाधान ढूंढ निकालें जिनकी ओर उन्हें भी ध्यान देना चाहिए जिन्होंने प्लेटो और कांट का अध्ययन किया है तो मैं भारतवर्ष की ओर संकेत करूंगा।
    और यदि मैं अपने आपसे पूछूँ कि किस साहित्य का आश्रय लेकर हम यूरोपीय यह जो कि बहुत कुछ केवल एक यूनानियों,रोमनों और एक सेमेटिक जाति के यानी यहूदियों के विचार के साथ-साथ पले हैं न केवल आध्यात्मिक,जीवन को अधिकाधिक विकसित,अत्यंत व्यापक उच्चतम मानवीय बना सकेंगे
    -जो जीवन इस लोक से ही संबंद्ध न हो अपितु शाश्वत और दिव्य हो,तो मैं भारतवर्ष की ओर ही संकेत करूंगा।)
  • उपर्युक्त विवरण में गणितज्ञ किरण श्रीधर केडलया (Mathematician Kiran Sridhara Kedlaya),किरण केडलया (Kiran Kedlaya), के बारे में बताया गया है।

2.गणितज्ञ किरण श्रीधर केडलया (Mathematician Kiran Sridhara Kedlaya),किरण केडलया (Kiran Kedlaya), के सम्बन्ध में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न:

प्रश्न:1.क्या सभी गणितज्ञ प्रतिभाशाली होते हैं? (Are all mathematicians geniuses?),क्या गणित करने के लिए जीनियस होना जरूरी है? (Does one have to be a genius to do mathematics?): 

उत्तर:जवाब एक जोरदार नहीं (emphatic NO) है।गणित में अच्छा और उपयोगी योगदान देने के लिए,किसी को कड़ी मेहनत करने,अपने क्षेत्र को अच्छी तरह से सीखने, अन्य क्षेत्रों और उपकरणों को सीखने,प्रश्न पूछने,अन्य गणितज्ञों से बात करने और “बड़ी तस्वीर” के बारे में सोचने की आवश्यकता है।

प्रश्न:2.क्या आप गणित में पीएचडी कर सकते हैं? (Can you get a PhD in mathematics?):

उत्तर:डिग्री।गणित में डॉक्टरेट एक ऐसी डिग्री है जो उच्च स्तर की छात्रवृत्ति और अपने क्षेत्र में मूल योगदान करने की क्षमता दोनों को प्रमाणित करती है।छात्रों को कई उन्नत पाठ्यक्रम (advanced courses) लेने चाहिए, कुछ योग्यता परीक्षा उत्तीर्ण करनी चाहिए और मूल शोध युक्त (containing original research) एक शोध प्रबंध (dissertation) लिखना चाहिए।

प्रश्न:3.क्या गणित एक अच्छी डिग्री है? (Is maths a good degree?):

उत्तर:यदि आप एक प्रतिभाशाली गणितज्ञ हैं,तो गणित की डिग्री एक अच्छा विकल्प हो सकता है।  तथ्य यह है कि प्रश्नों का एक सही उत्तर है,इसका मतलब है कि उच्च अंक प्राप्त करना संभव है, अधिकांश पाठ्यक्रम अवसर प्रदान करते हैं जब आप उन क्षेत्रों में विशेषज्ञता प्राप्त करते हैं जो आपकी सबसे अधिक रुचि रखते हैं और आपके कौशल (skills) कई करियर (careers) में उपयोगी होंगे।

प्रश्न:4.क्या गणितज्ञ मांग में हैं? (Are mathematicians in demand?):

उत्तर:गणितज्ञों (mathematicians) और सांख्यिकीविदों (statisticians) का कुल रोजगार 2019 से 2029 तक 33 प्रतिशत बढ़ने का अनुमान है,जो सभी व्यवसायों के औसत से बहुत तेज है।गणितज्ञों का रोजगार 2019 से 2029 तक 3 प्रतिशत बढ़ने का अनुमान है,जो सभी व्यवसायों के औसत के बराबर है।

प्रश्न:5.क्या गणितज्ञ बनना आसान है? (Is it easy to become a mathematician?):

उत्तर:गणित में कुछ बहुत आसान अवधारणाएँ होती हैं और कुछ बहुत कठिन होती हैं।जबकि स्व-अध्ययन और ऑनलाइन ट्यूटोरियल मददगार होते हैं,आप अकेले गणितज्ञ नहीं बन सकते।  साथियों का एक समान विचारधारा वाला समूह खोजें,जिसके साथ आप एक पेशेवर गणित ट्यूटर के साथ अध्ययन कर सकते हैं या एक-एक करके अध्ययन कर सकते हैं।

प्रश्न:6.क्या गणित एक अच्छा करियर है? (Is math a good career?):

उत्तर:गणित की डिग्री से कुछ बहुत ही सफल करियर (Successful Careers) बन सकते हैं,लेकिन यह बहुत काम का होगा और इसके लिए आपको स्नातक या अन्य उन्नत डिग्री प्राप्त करने की आवश्यकता हो सकती है।उदाहरण के लिए, यदि आप इंजीनियरिंग में मास्टर या डॉक्टरेट करने के लिए जाना चाहते हैं, तो गणित में पढ़ाई करना एक अच्छी शुरुआत हो सकती है।

उपर्युक्त प्रश्नों के उत्तर द्वारा गणितज्ञ किरण श्रीधर केडलया (Mathematician Kiran Sridhara Kedlaya),किरण केडलया (Kiran Kedlaya) के बारे में ओर अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

Mathematician Kiran Sridhara Kedlaya

गणितज्ञ किरण श्रीधर केडलया
(Mathematician Kiran Sridhara Kedlaya)

Mathematician Kiran Sridhara Kedlaya

गणितज्ञ किरण श्रीधर केडलया (Mathematician Kiran Sridhara Kedlaya) एक भारतीय अमेरिकी गणितज्ञ हैं।
वह वर्तमान में गणित के प्रोफेसर हैं और केलिफोर्निया विश्वविद्यालय,सैन डियागो (University of California,San Diego) में

No.Social MediaUrl
1.Facebookclick here
2.you tubeclick here
3.Instagramclick here
4.Linkedinclick here
5.Facebook Pageclick here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *