Menu

Indian mathematician found mysterious number

1.भारतीय गणितज्ञ ने रहस्यमयी संख्या ढूंढी का परिचय (Introduction to Indian mathematician found mysterious number)-

  • भारतीय गणितज्ञ ने रहस्यमयी संख्या ढूंढी ( Indian mathematician found mysterious number) ,वह पहेली आज तक नहीं सुलझ पायी है।विश्व में बहुत सी गणित की ऐसी अनसुलझी पहेलियां हैं जिनका समाधान नहीं हुआ है। परन्तु प्रतिवर्ष कुछ प्रतिभाशाली गणितज्ञ कोई न कोई गणित की पहेली को सुलझा देते हैं।
  • इस आर्टिकल में एक ऐसी ही अनसुलझी जादुई संख्या के बारे में बताया गया है जिसका पता भारतीय गणितज्ञ ने लगाया था।प्रारम्भ में उस संख्या को भारतीय तथा पाश्चात्य गणितज्ञों ने गम्भीरता से नहीं लिया। परन्तु जब वास्तव में उसकी गहराई से पता लगाया गया तो वह संख्या रहस्यमयी मालूम हुई।
  • भारतीय गणितज्ञ ने रहस्यमयी संख्या ढूंढी(Indian mathematician found mysterious number) ,वह संख्या है 6174 (छ: हजार एक सौ चौहत्तर)।इस जादुई संख्या का पता लगाने तथा इसका रहस्य जानने के लिए बहुत से गणितज्ञों ने माथापच्ची की है, परन्तु इस संख्या का रहस्य आज भी अनसुलझा है।
  • आपको यह जानकारी रोचक व ज्ञानवर्धक लगे तो अपने मित्रों के साथ इस गणित के आर्टिकल को शेयर करें ।यदि आप इस वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो वेबसाइट को फॉलो करें और ईमेल सब्सक्रिप्शन को भी फॉलो करें जिससे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन आपको मिल सके ।यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए ।आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं। इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

Also Read This Article:-Professor Sonajharia Minz appointed VC

2.भारतीय गणितज्ञ ने रहस्यमयी संख्या ढूंढी ( Indian mathematician found mysterious number)-

  • जिस भारतीय गणितज्ञ ने रहस्यमयी संख्या ढूंढी,उस गणितज्ञ का नाम है दत्तात्रेय रामचन्द्र कापरेकर। गणितज्ञ दत्तात्रेय रामचन्द्र कापरेकर ने मुम्बई विश्वविद्यालय से शिक्षा प्राप्त की थी। उन्हें स्कूल और कॉलेज में कठिन से कठिन सवालों को हल करने के लिए बुलाया जाता था।वे हमेशा कठिन से कठिन सवालों को हल करने में रुचि लेते थे तथा उन्हें हल कर देते थे। उन्हें जब पूछा गया कि वे कठिन से कठिन सवालों को हल कैसे कर देते हैं? उन्होंने जवाब दिया कि जिस प्रकार नशे में रहने के लिए शराबी, शराब पीता है और लगातार पीता रहता है।उसी प्रकार उनका संख्याओं से खेलना तथा संख्याओं से उसी प्रकार का सम्बन्ध है। उन्हें संख्याओं से सम्बन्धित समस्याओं को हल करने का जूनून है।

3.गणितज्ञ दत्तात्रेय रामचन्द्र कापरेकर द्वारा ढूंढी गई संख्या का रहस्य( The mystery of the number discovered by mathematician Dattatreya Ramchandra Kaprekar)-

  • संख्याओं से खेलते-खेलते गणितज्ञ दत्तात्रेय रामचन्द्र कापरेकर को एक बार पता चला कि 6174 एक जादुई संख्या है।इस भारतीय गणितज्ञ ने रहस्यमयी संख्या ढूंढी (Indian mathematician found mysterious number) ,इस संख्या 6174 का रहस्य निम्न प्रकार है-
  • आप चार अंकों की कोई भी संख्या ले लीजिए जिसके चारों अंक भिन्न-भिन्न हों अर्थात् अंकों की पुनरावृत्ति न हों।इन अंकों को पहले घटते हुए क्रम में लिखें, फिर उसके नीचे बढ़ते हुए क्रम में लिखें।ऊपर की संख्या में से नीचे की संख्या घटाएं।घटाने पर जो संख्या आए उसको पुनः अवरोही तथा आरोही क्रम में लिखकर घटाएं।घटाने के बाद शेष जो संख्या आए,उसको पुनः अवरोही तथा आरोही क्रम में लिखकर घटाएं।घटाने के बाद शेष जो संख्या आए उसको पुनः अवरोही तथा आरोही क्रम में लिखकर घटाएं।घटाने के बाद शेष जो संख्या आए उसको पुनः अवरोही तथा आरोही क्रम में लिखकर घटाएं।इस प्रकार इस क्रिया को बार-बार दोहराया जाएगा तो अन्त में संख्या 6174 प्राप्त होती है।6174 को भी ऊपर बताए तरीके से वापिस दोहराएंगे तो हमेशा परिणाम 6174 ही प्राप्त होता है।इसे कापरेकर कांटेस्ट भी कहा जाता है।
  • शुरू-शुरू में विदेशी तथा भारतीय गणितज्ञों ने इस जादुई संख्या को खारिज कर दिया था परन्तु बाद में उन्हें महसूस हुआ कि वाकई 6174 जादुई संख्या है।अब इसे एक चार अंकों की संख्या का उदाहरण लेकर समझते हैं।
  • उदाहरण-
  • 1.माना कि कोई चार अंकों की संख्या 8543 है।
    अवरोही क्रम में लिखने पर 8543
    आरोही क्रम में लिखने पर -3458
    ——————————————–
    घटाया 5085
    ——————————————–
  • 2.पुनः उपर्युक्त क्रिया दोहराने पर-
    अवरोही क्रम में लिखने पर 8550
    आरोही क्रम में लिखने पर -0558
    ——————————————–
    घटाया 7992
    ——————————————–
  • 3.पुनः उपर्युक्त क्रिया दोहराने पर-
    अवरोही क्रम में लिखने पर 9972
    आरोही क्रम में लिखने पर -2799
    ——————————————–
    घटाया 7173
    ——————————————–
  • 4.पुनः उपर्युक्त क्रिया दोहराने पर-
    अवरोही क्रम में लिखने पर 7731
    आरोही क्रम में लिखने पर -1377
    ——————————————–
    घटाया 5354
    ——————————————–
  • 5.पुनः उपर्युक्त क्रिया दोहराने पर-
    अवरोही क्रम में लिखने पर 8802
    आरोही क्रम में लिखने पर -2088
    ——————————————–
    घटाया 6714
    ——————————————–
  • 6.पुनः उपर्युक्त क्रिया दोहराने पर-
    अवरोही क्रम में लिखने पर 7641
    आरोही क्रम में लिखने पर -1467
    ——————————————–
    घटाया 6714
    ——————————————–
  • तो देखा आपने परिणाम में हमेशा संख्या 6714 प्राप्त होता है।इसे सर्वप्रथम भारतीय गणितज्ञ ने रहस्यमयी संख्या को ढूंढा ( Indian mathematician found mysterious number)।इस पहेली को अभी तक भी किसी गणितज्ञ ने नहीं सुलझाया है कि आखिर परिणाम में हमेशा यही संख्या 6714 क्यों प्राप्त होती है।
    आप किसी भी चार अंकों की संख्या जिसके चारों अंक अलग-अलग हों,के साथ यह क्रिया कर सकते हैं। परिणाम में हमेशा अन्तत: यह जादुई संख्या 6714 प्राप्त होती है।
  • उक्त तथ्य से एक बात तो स्पष्ट रूप से प्रमाणित होती है कि भारतीयों में प्रतिभा की कोई कमी नहीं है।यदि प्रारम्भ से ही भारतीय छात्र-छात्राओं की गणितीय प्रतिभा को पहचानकर उसे निखारा तथा उभारा जाए तो विश्व-स्तर पर वे प्रतिभाएं भारत को गौरवान्वित कर सकते हैं।
  • वर्तमान समय में कुछ भारतीय विश्व-स्तर पर गणित का नोबल पुरस्कार अर्थात् एबेल प्राइज व फील्ड्स मेडल प्राप्त कर लेते हैं। फिर बाद में वही ढाक के तीन पात अर्थात् बाद में भारत के कर्ता-धर्ता कुछ भी नहीं करते हैं और सो जाते हैं।उन प्रतिभाओं के आधार पर सीख लेकर आगे प्रतिभाओं को ढूंढने,तराशने का कोई प्रयास नहीं किया जाता है। इसलिए भारत को गणित के क्षेत्र में फिसड्डी समझा जाता है।यह हमारी राय नहीं है बल्कि एक अध्ययन में यह जाहिर हुआ है।
    यदि विश्व-स्तर पर भारत का गौरव बढ़ाने वाले गणितज्ञों से सीख ली जाए तो भारत के गांव,शहर,प्रांत में गणित की प्रतिभाएं छिपी हुई मिल जाएगी।
  • भारतीय गणितज्ञ ने रहस्यमयी संख्या ढूंढी,इस आर्टिकल को पोस्ट करने का हमारा यह भी एक मकसद है।

Also Read This Article:-Mathematician Sir Isaac Newton

No.Social MediaUrl
1.Facebookclick here
2.you tubeclick here
3.Twitterclick here
4.Instagramclick here
5.Linkedinclick here
6.Facebook Pageclick here

No Responses

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *