Menu

CBSE Class 12 Evaluation Criteria 2021

Contents hide
2 2.सीबीएसई के फाॅर्मूले की मिली-जुली प्रतिक्रियाएं (Mixed reactions for CBSE formula):

1.सीबीएसई कक्षा 12 मूल्यांकन मानदंड 2021 (CBSE Class 12 Evaluation Criteria 2021 in hindi),सीबीएसई कक्षा 12 बोर्ड परीक्षा 2021 मूल्यांकन मानदंड घोषित (CBSE Class 12 Board Exam 2021 EVALUATION CRITERIA ANNOUNCED in hindi):

  • सीबीएसई कक्षा 12 मूल्यांकन मानदंड 2021 (CBSE Class 12 Evaluation Criteria 2021):कोरोनावायरस से फैली महामारी कोविड-19 की दूसरी लहर में संक्रमण की वृद्धि को देखते हुए सीबीएसई (Central Board of Secondary Education) और सीआईएससीई (काउंसिल फॉर इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट) (Council For Indian School Certificate) ने कक्षा 12वीं की परीक्षा को 1 जून,2021 को रद्द कर दिया था।
  • इसके पश्चात 12वीं के मूल्यांकन का क्राइटेरिया निर्धारित करने के लिए केंद्र सरकार ने 13 सदस्यीय कमेटी का गठन किया था।सुप्रीम कोर्ट में भी इस संबंध में एक याचिका दायर की गई थी।
  • गुरुवार 17 जून,2021 को केंद्र सरकार द्वारा 13 सदस्यीय कमेटी द्वारा मूल्यांकन का 30:30:40 फाॅर्मूला तय किया गया,उसे सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस एएम खानविलकर की अगुवाई वाली बेंच के सामने अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने पेश किया और सूचित किया कि 12वीं का रिजल्ट 30 जुलाई,2021 तक आ जाएगा।
  • अटॉर्नी जनरल ने बताया कि 10वीं कक्षा के 5 विषय में वे तीन विषय चुने जाएंगे जिनमें विद्यार्थी ने सबसे अधिक अंक अर्जित किए हैं।जैसे किसी स्टूडेंट ने 70 अंक अर्जित किए हैं तो 30 फ़ीसदी वेटेज के अनुसार दसवीं के आधार पर 21 अंक दिए जाएंगे।इसी प्रकार 11वीं में वार्षिक परीक्षा के सभी विषयों के रिजल्ट के आधार पर अंक दिए जाएंगे‌।ग्यारहवीं के अंकों को भी 30 फ़ीसदी वेटेज दिया जाएगा।12वीं कक्षा में यूनिट टेस्ट ,टर्म एग्जाम और प्री बोर्ड एग्जाम में आए नंबरों के अनुसार 40 फ़ीसदी वेटेज दिया जाएगा।10वीं,11वीं व 12वीं में केवल थ्योरी के अंकों को वेटेज दिया जाएगा।
  • जो विद्यार्थी उपयुक्त मूल्यांकन क्राइटेरिया से संतुष्ट नहीं होंगे उन्हें कोविड-19 महामारी की स्थिति सामान्य होने तथा एग्जाम हो सकने की स्थिति में एग्जाम देने का मौका दिया जाएगा।ऐसे विद्यार्थी एग्जाम में एपीयर हो सकते हैं लेकिन एग्जाम कोविड-19 की स्थिति नॉर्मल होने पर ही लिया जाएगा।
  • बारहवीं कक्षा के आंतरिक मूल्यांकन और प्रैक्टिकल के अंक स्कूलों द्वारा सीबीएसई बोर्ड के पोर्टल पर अपलोड किए जाएंगे।छात्र-छात्राओं द्वारा प्रैक्टिकल नहीं दिया गया है तो उनके प्रैक्टिकल स्कूलों द्वारा ऑनलाइन परीक्षा अथवा मौखिक आयोजित करके लिए जा सकेंगे।प्रेक्टिकल तथा आंतरिक मूल्यांकन के अंक सीबीएसई पोर्टल पर 28 जून,2021 तक स्कूलों द्वारा अपलोड किए जाएंगे।प्रैक्टिकल 100 मार्क्स का होगा।आन्तरिक मूल्यांकन और प्रैक्टिकल के वास्तविक अंक ही जोड़े जाएंगे।
  • गणित और विज्ञान जैसे विषयों के मूल्यांकन महत्त्वपूर्ण है क्योंकि गणित,भौतिक विज्ञान,रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान के आधार पर ही उच्च शिक्षा और एंट्रेंस टेस्ट निर्भर करते हैं।
    • सीबीएसई की 12वीं कक्षा में इस वर्ष लगभग 14.5 लाख विद्यार्थी भाग ले रहे हैं।
    • आपको ज्ञात हो कि सुप्रीम कोर्ट ने 3 जून,2021 को 2 सप्ताह के भीतर मूल्यांकन क्राइटेरिया प्रस्तुत करने को कहा था।कोर्ट ने कहा था कि देश भर के छात्र-छात्राएं भारत और विदेशों में उच्च शिक्षा के लिए कॉलेजों में प्रवेश लेने के लिए प्रतीक्षा कर रहे हैं।
      इस प्रकार सीबीएसई 12वीं बोर्ड परीक्षा का क्राइटेरिया निर्धारित (Criteria set for CBSE 12th Board Exam) किया गया है।
  • सीबीएसई का गठन (Formation of CBSE):
  • जब अंग्रेजी शासन था तब Board of High School and Intermediate Education Rajputana का गठन किया गया था।इसकी सीमा में अजमेर मेवाड़,मध्य भारत और ग्वालियर प्रांत के काफी स्कूल आते थे।
    स्वतंत्रता के बाद 1952 में Board of High School and Intermediate Education Rajputana का नाम बदलकर Central Board of Secondary Education कर दिया।इसकी सीमा में अधिकतर राज्य आ गए।
    वर्ष 1962 में इस बोर्ड का पुनर्गठन किया ताकि भारत की शिक्षा को नई दिशा मिल सके।इसके बाद बोर्ड परीक्षा की परम्परा शुरू हुई।इसका उद्देश्य था देश में मार्किंग सिस्टम के लिए यूनिफॉर्म स्टैण्डर्ड को स्थापित करना।
  • उपर्युक्त विवरण में सीबीएसई कक्षा 12 मूल्यांकन मानदंड 2021 (CBSE Class 12 Evaluation Criteria 2021) के बारे में बताया गया है।
  • आपको यह जानकारी रोचक व ज्ञानवर्धक लगे तो अपने मित्रों के साथ इस गणित के आर्टिकल को शेयर करें ।यदि आप इस वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो वेबसाइट को फॉलो करें और ईमेल सब्सक्रिप्शन को भी फॉलो करें जिससे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन आपको मिल सके ।यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए ।आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं।इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

Also Read This Article-Justification of Result of Annual Exam

2.सीबीएसई के फाॅर्मूले की मिली-जुली प्रतिक्रियाएं (Mixed reactions for CBSE formula):

  • कुछ विशेषज्ञों ने 12वीं के छात्रों के लिए सीबीएसई द्वारा निर्धारित मूल्यांकन क्राइटेरिया को निष्पक्ष और समय पर प्रस्तुत किया जानेवाला बताया है।पिछला वर्ष कोविड-19 महामारी संकट में व्यतीत हो गया, ऐसी स्थिति में दसवीं, ग्यारहवीं और बारहवीं कक्षा में प्रदर्शन पर विचार करने का निर्णय भी मूल्यांकन का निष्पक्ष और विश्वसनीय आधार है।सीबीएसई का यह निर्णय उचित ही है कि जो विद्यार्थी इस परिणाम से संतुष्ट नहीं होंगे वे भविष्य में कोविड-19 की नाॅर्मल स्थिति होने पर परीक्षा में शामिल हो सकते हैं।कुछ लोग बोर्ड परीक्षाओं में आए ठहराव का अंत देखकर प्रसन्न है।
  • वही कुछ विशेषज्ञों की प्रतिक्रिया क्राइटेरिया के विरुद्ध रही है।उनका कहना है कि समय के साथ बेहतर प्रदर्शन करने वाले छात्रों को इससे नुकसान होगा।कुछ का कहना है कि सीबीएसई द्वारा दसवीं कक्षा के लिए जारी किया गया मूल्यांकन फाॅर्मूला ज्यादा अच्छा था।इसी प्रकार कुछ का मानना है कि 10वीं और 12वीं के छात्र की मानसिकता में बड़ा अंतर है,अतः 10वीं के आधार पर अंक देना उचित नहीं है।दसवीं कक्षा के 3 बेहतर विषय के अंको को शामिल करने का कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है।
  • उपर्युक्त विवरण में सीबीएसई कक्षा 12 मूल्यांकन मानदंड 2021 (CBSE Class 12 Evaluation Criteria 2021) के बारे में विशेषज्ञों की प्रतिक्रियाओं का विवरण दिया गया है।

Also Read This Article-CBSE 12th Board Exam 2021 Cancelled

3.सीबीएसई बोर्ड के रिजल्ट फाॅर्मूले को सुप्रीम कोर्ट की मंजूरी (Supreme Court Approves CBSE Board Result Formula):

  • सुप्रीम कोर्ट ने सीबीएसई और आईसीएसई बोर्ड द्वारा 12वीं की परीक्षा रद्द किए जाने के खिलाफ दायर याचिकाओं को खारिज कर दिया।सुप्रीम कोर्ट ने छात्र-छात्राओं की तमाम दलीलों से असहमति व्यक्त की।
    दरअसल किसी भी मामले को लटकाने की यह परम्परा बन गई है कि कोर्ट में याचिका दायर कर दो।परन्तु सुप्रीम कोर्ट ने इस मंशा को भांप लिया तथा समय रहते उन सभी याचिकाओं को खारिज करके निपटारा कर दिया है।

4.सीबीएसई कक्षा 12 मूल्यांकन मानदंड 2021 का निष्कर्ष (Conclusion of CBSE Class 12 Evaluation Criteria 2021),सीबीएसई 12 वीं मूल्यांकन मानदंड 2021 परिणाम अंक उद्देश्य मूल्यांकन नीति (CBSE 12th Evaluation Criteria 2021 Result Marks Objective Assessment Policy in hindi):

  • 12वीं में मूल्यांकन का क्राइटेरिया कितना ही बढ़िया हो लेकिन सर्वमान्य नहीं हो सकता है।हर लोगों की सोच,विचार और धारणाएं अलग-अलग होती है। हमने भी बारहवीं कक्षा के मूल्यांकन क्राइटेरिया से संबंधित आर्टिकल पोस्ट किया था।
  • सीबीएसई कक्षा 12 मूल्यांकन मानदंड 2021 (CBSE Class 12 Evaluation Criteria 2021) के मूल्यांकन क्राइटेरिया का सबसे सकारात्मक पहलू यह है कि यह समय पर प्रस्तुत किया गया है।यदि 31 जुलाई,2021 तक परिणाम घोषित हो जाते हैं तो विद्यार्थी उच्च शिक्षा के लिए समय से कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में प्रवेश ले सकेंगे।
  • वैसे भी इस मूल्यांकन क्राइटेरिया का प्रवेश परीक्षाओं तथा उच्च शिक्षा के लिए इतना महत्त्व नहीं है।क्योंकि प्रवेश परीक्षाओं जैसे-जेईई (JEE),नीट (NEET),आईपीएम (IPM), सीलैट में तथा उच्च शिक्षा जैसे कॉलेजों व विश्वविद्यालयों में एंट्रेंस टेस्ट लिया जाता है।इसलिए 12वीं की अंक तालिका का इतना महत्त्व नहीं है।केवल प्रवेश के लिए यह फार्मल डाॅक्यूमेन्ट है।
  • यदि बारहवीं बोर्ड परीक्षा वस्तुनिष्ठ आधार पर होती तो इसका इतना ही महत्व है कि विद्यार्थी इसके आधार पर अपने कैरियर का निर्णय ले सकते हैं। परंतु केरियर का निर्णय लेने के बारे में कैरियर काउंसलर से भी मदद ली जा सकती है।कैरियर काउंसलर के रूप में छात्र स्वयं,छात्र के मित्र,छात्र के माता-पिता और छात्र के शिक्षक से परामर्श लिया जा सकता है।क्योंकि इनसे ज्यादा छात्र-छात्राओं को कोई नहीं जानता है।
  • इसका सबसे नकारात्मक पहलू यह है कि पिछले साल से महामारी का संकट कायम है।ऐसी स्थिति में ऑनलाइन शिक्षा एक बेहतर विकल्प है।कोविड-19 के संक्रमण की तीसरी लहर की संभावना भी बताई जा रही है।ऐसी स्थिति में यह नहीं कहा जा सकता है कि यह स्थिति कब तक बनी रह सकती है।अतः ऑनलाइन शिक्षा पर
    विचार करके इसे लागू किया जाना चाहिए था तथा इसमें आने वाली अड़चनों को दूर करना चाहिए।
  • ऑनलाइन शिक्षा के द्वारा कई स्तरों तथा विभिन्न आयामों में परीक्षा ली जा सकती है।हालांकि हमारा सिस्टम ऑनलाइन शिक्षा के लिए तैयार नहीं है परन्तु हर सिस्टम को लागू करने में समस्याएं, कठिनाइयां तो आती ही है।इससे बढ़िया मौका ऑनलाइन शिक्षा को‌ लागू करने का नहीं हो सकता है।संकल्पशक्ति और आज की आवश्यकता को देखते हुए ऑनलाइन शिक्षा में आनेवाली अड़चनों को दूर करना चाहिए और आगे बढ़ते रहना चाहिए।
  • उपर्युक्त विवरण में सीबीएसई कक्षा 12 मूल्यांकन मानदंड 2021 (CBSE Class 12 Evaluation Criteria 2021) की समीक्षा की गई है।

5.सीबीएसई कक्षा 12 मूल्यांकन मानदंड 2021 (CBSE Class 12 Evaluation Criteria 2021) के सम्बन्ध में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न:

प्रश्न:1.12वीं के छात्रों को कैसे मिलेगा अंक? (How will 12th students get marks?):

उत्तर:इसमें कहा गया है कि कुल अंक 12वीं की परीक्षा में स्कूल के पिछले प्रदर्शन पर आधारित होंगे।  लगभग 40% अंक 12वीं प्री-बोर्ड पर आधारित होंगे और 60% वेटेज कक्षा 11 और कक्षा 10 की अंतिम परीक्षा में छात्रों के प्रदर्शन को दिया जाएगा।

प्रश्न2.क्या सीबीएसई कक्षा 12 बोर्ड में 78% अच्छा स्कोर है? (Is 78% a good score in CBSE Class 12 boards?):

उत्तर:देखिए, मेरी राय में सीबीएसई कक्षा 12 बोर्ड में 78% अच्छा स्कोर है।लेकिन अगर आप आईआईटी,जेईई देना चाहते हैं तो उसके मार्क्स अधिक होने चाहिए।वास्तव में सब कुछ आपकी खुशी पर निर्भर करता है,यदि आप अपने स्कोर से खुश हैं तो यह अच्छा है,क्योंकि आप बेहतर जानते हैं कि आप कितने योग्य थे।

प्रश्न:3.सीबीएसई 2021 अंक कैसे देगा? (How will CBSE give marks 2021?):

उत्तर:सीबीएसई ने पहले ही कक्षा 10 की बोर्ड परीक्षा रद्द कर दी थी और वैकल्पिक अंकन नीति की घोषणा की थी।नीति के अनुसार, प्रत्येक विषय के लिए 20 अंक प्रत्येक वर्ष की तरह आंतरिक मूल्यांकन के लिए होंगे,80 अंकों की गणना पूरे वर्ष परीक्षा या परीक्षा में छात्रों के प्रदर्शन के आधार पर की जाएगी।इस प्रकार CBSE Class 12 Evaluation Criteria 2021 निर्धारित किया है।

प्रश्न:4.आप 12वीं बोर्ड परीक्षा का 100 प्रतिशत कैसे प्राप्त करते हैं? (How do you get 100 percent of 12 board exam?):

उत्तर:कक्षा 12 में 100% स्कोर करने के लिए फिंगर-टिप्स
अंत में, विशेषज्ञ सुझावों को संक्षेप में,कक्षा 12 की बोर्ड परीक्षा में 100% स्कोर करने के लिए ये सुनहरे सुझाव हैं।
पहले मूल बातें खत्म करें।
सीखी गई अवधारणाओं को नियमित रूप से संशोधित करें।
सभी प्रश्नों का अभ्यास करें।
अपनी गलतियों में सुधार करें।
अपने हल किए गए प्रश्नों का विश्लेषण करें।
मासिक टेस्ट,टर्म एग्जाम और प्री बोर्ड को गंभीरता और पूरी तैयारी के साथ देना चाहिए।

प्रश्न:5.सीबीएसई 12वीं 2021 में कितने छात्र उपस्थित हुए? (How many students appeared in CBSE 12th 2021?):

उत्तर:सीबीएसई कक्षा 12 की बोर्ड परीक्षा में बैठने के लिए 14.5 लाख से अधिक छात्रों ने पंजीकरण कराया था, जिनका मूल्यांकन विशेष मानदंड पर किया जा रहा है।

प्रश्न:6.क्या 2020 की बोर्ड परीक्षा होगी आसान? (Is 2020 board exam will be easy?):

उत्तर:केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) बोर्ड परीक्षा 2020 को छात्रों के लिए आसान बनाने के लिए पूरी तरह तैयार है।मूल्यांकन को छात्र अनुकूल बनाने के लिए सीबीएसई बोर्ड परीक्षा 2020 में अधिक आंतरिक विकल्प होंगे।

प्रश्न:7.मैं सीबीएसई कक्षा 12 में 95 से ऊपर कैसे स्कोर कर सकता हूं? (How can I score above 95 in CBSE Class 12?):

उत्तर:12वीं बोर्ड में 95 से ऊपर स्कोर करने के प्रभावी तरीके
एक उचित अनुसूची का पालन करें।
परीक्षा पैटर्न से परिचित हों।
एनसीईआरटी की किताब को ध्यान से पढ़ें।
महत्वपूर्ण इकाइयाँ।
पिछले वर्षों के प्रश्न पत्रों को हल करें।
सैंपल पेपर्स सॉल्व करें।
आराम की कला का अभ्यास करें।
परीक्षा से पहले कई बार रिवीजन करें।

प्रश्न:8.किन राज्यों की बोर्ड परीक्षाएं रद्द हैं? (Which states board exams are Cancelled?):

उत्तर:उत्तराखंड।उत्तराखंड के मुख्यमंत्री ने परामर्श के बाद छात्रों,शिक्षकों और अभिभावकों के स्वास्थ्य की रक्षा के लिए उत्तराखंड इंटरमीडिएट कक्षा 12 बोर्ड परीक्षा 2021 को रद्द करने की घोषणा की।
उत्तर प्रदेश।
राजस्थान ( Rajasthan)।
हरियाणा।
गोवा।
कर्नाटक।
महाराष्ट्र।
उड़ीसा।
तथा अन्य कई राज्यों की परीक्षाओं को रद्द कर दिया गया है।

प्रश्न:9.क्या बोर्ड परीक्षा 2021 कक्षा 12 के लिए रद्द कर दी गई है? (Are board exams Cancelled 2021 for Class 12?):

उत्तर:सीबीएसई कक्षा 12 की बोर्ड परीक्षा 2021 रद्द कर दी गई है।कक्षा 12 सीबीएसई बोर्ड परीक्षा रद्द करने का निर्णय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में एक बैठक के बाद लिया गया था।  सीबीएसई कक्षा 12 की बोर्ड परीक्षा 2021 को 1 जून,2021 को पीएम नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई बैठक के बाद रद्द कर दिया गया है।

प्रश्न:10.किन राज्यों में बोर्ड परीक्षा 2021 रद्द की जाती है? (In which states board exams are Cancelled 2021?):

उत्तर:राजस्थान आरबीएसई कक्षा 12
राजस्थान के स्कूल शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने ट्वीट किया, ”कोरोना की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए मंत्रिपरिषद ने बैठक में राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं को आज रद्द करने का फैसला लिया है.

प्रश्न:11.क्या पश्चिम बंगाल बोर्ड की परीक्षा रद्द हो गई है? (Is West Bengal Board exam Cancelled?):

उत्तर:पश्चिम बंगाल बोर्ड की 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा रद्द:ममता बनर्जी।पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार को घोषणा की कि सरकार ने देश में मौजूदा कोविड -19 स्थिति के कारण कक्षा 10 और 12 की परीक्षा रद्द करने का फैसला किया है।

प्रश्न:12.क्या कर्नाटक ने बोर्ड परीक्षा रद्द कर दी? (Did Karnataka cancel board exams?):

उत्तर:कर्नाटक राज्य बोर्ड परीक्षा 2021 रद्द कर दी गई है।चल रहे भ्रम पर बोलते हुए, शिक्षा मंत्री एस सुरेश कुमार ने आज घोषणा की कि दूसरी पीयूसी परीक्षा रद्द कर दी गई है।सुरेश कुमार ने आज लंबित कर्नाटक एसएसएलसी,पीयूसी परीक्षा 2021.04 के संबंध में निर्णय की घोषणा की।

प्रश्न:13.क्या होगा अगर हम बोर्ड परीक्षा में धोखा देते हैं? (What if we cheat in board exam?):

उत्तर:मानदंडों के अनुसार,एक उम्मीदवार को अनुचित साधनों का उपयोग करते हुए या उच्छृंखल आचरण में शामिल पाया जाता है या किसी परीक्षा के संबंध में अन्य उम्मीदवारों को परेशान करता है, उसे अनुचित साधन समिति के पास भेजा जाता है।समिति मामले पर विचार करने के बाद जैसा कि प्रशिक्षक या पर्यवेक्षक द्वारा इसे संदर्भित किया गया है, दण्ड दे सकती है।

प्रश्न:14.क्या बोर्ड परीक्षा आसान है? (Are board exams easy?):

उत्तर: यह आसान नहीं है,लेकिन किया जा सकता है,यदि आप वास्तव में इसे करना चाहते हैं।धैर्य रखें और कड़ी मेहनत करें।विवेक,धैर्य,साहस,कड़ी मेहनत,सतत अध्ययन,अभ्यास तथा जूनून के आधार आप इसे आसान बना सकते हैं।

प्रश्न:15.मुझे 12वीं कक्षा में कितने घंटे पढ़ना चाहिए? (How many hours should I study in Class 12?):

उत्तर:यदि आप वास्तव में बोर्ड परीक्षा में 90+ प्रतिशत स्कोर करना चाहते हैं,तो दिन में कम से कम 8 घंटे अध्ययन करें।क्योंकि इस तरह के प्रतिशत को हासिल करने के लिए यही एकमात्र तरीका है।अपने मुख्य विषयों के साथ अध्ययन के बराबर समय बांटें।कड़ी मेहनत के साथ-साथ पढ़ने के स्मार्ट तरीके तथा स्ट्रेटजी अपनाएं।

प्रश्न:16.क्या राज्य बोर्ड सीबीएसई से आसान है? (Is state board easier than CBSE?):

उत्तर:सीबीएसई का मतलब केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड है।सीबीएसई को राज्य बोर्डों की तुलना में कठिन माना जाता है,लेकिन यह अधिक छात्र-हितैषी और अध्ययन के लिए दिलचस्प है।  बोर्ड उन लोगों के लिए विशेष रूप से फायदेमंद है जो राज्य संस्थानों के बजाय कुछ राष्ट्रीयकृत संस्थानों में उच्च शिक्षा प्राप्त करना चाहते हैं।

प्रश्न:17.क्या बोर्ड प्री बोर्ड की तुलना में आसान हैं? (Are boards easier than pre boards?):

उत्तर:जबकि बोर्ड परीक्षा प्रश्न पत्रों की कठिनाई का अपना स्तर प्रस्तुत करती है, प्रयास हमेशा एक ही स्तर के प्री-बोर्ड परीक्षा पत्रों को रखने का होता है ताकि आपको अंतिम प्रश्नपत्रों के लिए तैयार किया जा सके।दूसरे, छात्र अक्सर पूछते हैं कि प्री-बोर्ड परीक्षा में उनके अंक इतने कम क्यों हैं। प्री-बोर्ड परीक्षा का उद्देश्य यह है कि आपको बोर्ड परीक्षा के लिए तैयार किया जाए।

प्रश्न:18.क्या टॉपर्स रात में पढ़ते हैं? (Do toppers study at night?):

उत्तर:“हमने लोगों को इस बारे में बात करते सुना है कि कैसे टॉपर्स दिन-रात पढ़ते हैं।जहां तक ​​टाॅपर्स का सवाल है,हमने अक्सर उन्हें कभी जल्दी उठते नहीं देखा और न ही उन्हें देर रात को पढ़ते हुए देखा।लेकिन हमें खुशी है कि वे उत्कृष्टता हासिल करने में कामयाब रहते हैं,”हमें उनके प्रदर्शन से संतोष हैं तथा यह उसके चेहरे पर गर्व की चमक को बढ़ा रही है।टाॅपर्स में कुछ खूबियां होती हैं जो सामान्य विद्यार्थियों से उसे अलग कर देती है।

प्रश्न:19.भारत में कौन सा बोर्ड सबसे कठिन है? (Which board is toughest in India?):

उत्तर:केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई)
केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) भारत में सबसे लोकप्रिय और सबसे कठिन बोर्ड है और सीबीएसई दुनिया में सबसे कठिन स्कूल बोर्ड है।  सीबीएसई भारत में सबसे लोकप्रिय और पसंदीदा बोर्ड है।सीबीएसई के भारत में 9000 से अधिक सीबीएसई संबद्ध स्कूल हैं।

प्रश्न:20.क्या मैं राज्य बोर्ड को सीबीएसई में बदल सकता हूँ? (Can I change state board to CBSE?):

उत्तर:हां,आप अपने बोर्ड को राज्य बोर्ड से सीबीएसई बोर्ड में बदल सकते हैं।ऐसा कोई नियम नहीं है जो कहता हो कि आप बदल नहीं सकते।  हालांकि,बोर्ड बदलने से पहले,आपको एक उपयुक्त स्कूल भी ढूंढ़ना होगा।
प्रश्न:21.प्री बोर्ड में अच्छा प्रतिशत क्या है? (What is a good percentage in pre boards?):
उत्तर:एक अच्छा प्री-बोर्ड स्कोर (75-90%) दर्शाता है कि आप चीजों को सही तरीके से कर रहे हैं।हालाँकि, यह वापस बैठने और अपनी प्रशंसा पर आराम करने का संकेत नहीं है!

प्रश्न:22.क्या है टॉपर्स का राज? (What is the secret of toppers?):

उत्तर:टॉपर्स एक सुसंगत,दैनिक अध्ययन दिनचर्या का पालन करते हैं।शिक्षक द्वारा कक्षा में एक पाठ्यक्रम की व्याख्या करने के बाद इस पर एक गृहकार्य करें।इससे आपको उन विषयों या चीजों को चुनने में मदद मिलेगी जो जटिल लगती हैं और फिर बाद में इसे सरल बनाने के लिए अपने शिक्षक से चर्चा करें।इस अभ्यास को करने से आपके सभी संदेह दूर हो जाएंगे।

प्रश्न:23.कौन सी बोर्ड परीक्षा सबसे कठिन है? (Which board exam is hardest?):

उत्तर:दुनिया में शीर्ष 12 सबसे कठिन परीक्षाएं
गाओकाओ।
आईआईटी जेईई (भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान संयुक्त प्रवेश परीक्षा)
यूपीएससी (संघ लोक सेवा आयोग)
मेन्सा।
जीआरई (स्नातक रिकॉर्ड परीक्षा)
सीएफए (चार्टर्ड वित्तीय विश्लेषक) परीक्षा।
ऑल सोल्स प्राइज फेलोशिप परीक्षा।
मास्टर सोमेलियर डिप्लोमा परीक्षा।

प्रश्न:24.आईसीएसई बेहतर है या सीबीएसई? (Is ICSE better or CBSE?):

उत्तर:आईसीएसई बोर्ड के सभी विषयों के विस्तृत अध्ययन के कारण आईसीएसई पाठ्यक्रम सीबीएसई की तुलना में कठिन है।लेकिन आईसीएसई पाठ्यक्रम अधिक व्यावहारिक ज्ञान प्रदान करता है और इसका उद्देश्य छात्रों में विश्लेषणात्मक कौशल का निर्माण करना है।टीओईएफएल परीक्षा में उपस्थित होने वाले छात्रों के लिए इस बोर्ड का एक फायदा है।

प्रश्न:25.भारत का सबसे आसान बोर्ड कौन सा है? (Which is the easiest Board of India?):

उत्तर:आईसीएसई की तुलना में सीबीएसई बोर्ड का पाठ्यक्रम बहुत आसान है।क्योंकि पाठ्यक्रम में अधिक कॉम्पैक्ट संरचना और कम विषय शामिल हैं।माध्यमिक विषय अनिवार्य नहीं हैं।

प्रश्न:26.क्या मैं अपना बोर्ड 10 में बदल सकता हूँ? (Can I change my board in 10?):

उत्तर:नहीं,बोर्ड बदलना संभव नहीं है.तो,आपको ICSE के साथ अपनी 10वीं जारी रखनी होगी या इसके अलावा आपको सीबीएसई से 9वीं कक्षा जारी रखने के लिए एक अंतराल बनाना होगा।चूंकि कक्षा 9वीं में पीएसए और सेमेस्टर परीक्षा होती है,जो कक्षा 10वीं में प्रवेश पाने के लिए उपस्थित होना आवश्यक है।

प्रश्न:27.क्या मैं 12वीं कक्षा में अपना बोर्ड बदल सकता हूँ? (What is the difference between state board and CBSE board?):

उत्तर:अभी सीबीएसई केवल उन छात्रों को कक्षा 12 की परीक्षा में बैठने की अनुमति देता है जिन्होंने खुद को कक्षा 11 में पंजीकृत किया था।इसलिए कक्षा 12 में समान पंजीकरण प्राप्त करना संभव नहीं है। इस प्रकार कक्षा 12 में बोर्ड बदलना संभव नहीं है।

प्रश्न:28.राज्य बोर्ड और सीबीएसई बोर्ड में क्या अंतर है? (What is the difference between state board and CBSE board?):

उत्तर:राज्य बोर्ड राज्य सरकार के तहत स्कूलों के लिए एक बोर्ड है।प्रत्येक राज्य का अपना शिक्षा बोर्ड होता है जो उस राज्य के स्कूलों के लिए शिक्षा और परीक्षाओं के स्तर को निर्धारित करता है।  सीबीएसई में, विज्ञान, गणित और आवेदन आधारित विषयों पर मुख्य ध्यान दिया जाता है।सीबीएसई अक्सर पाठ्यक्रम की समीक्षा और अद्यतन करता है।

प्रश्न:29.क्या प्री-बोर्ड अंक कक्षा 12 2021 के लिए मायने रखते हैं? (Does pre-board marks matter Class 12 2021?):

उत्तर:12 सदस्यीय सीबीएसई समिति द्वारा जारी सीबीएसई कक्षा 12 मूल्यांकन मानदंड 2021 के अनुसार,छात्रों का मूल्यांकन करने के लिए कक्षा 10 और 11 के अंतिम सीबीएसई परिणाम 2021 को 30 प्रतिशत और कक्षा 12 की प्री-बोर्ड परीक्षाओं को 40 प्रतिशत वेटेज दिया जाएगा।सीबीएसई कक्षा 12 बोर्ड परीक्षा 2021.

प्रश्न:30.क्या मैं आईसीएसई से सीबीएसई में बदल सकता हूं? (Can I change from ICSE to CBSE?):

उत्तर:हाँ,यह बहुत संभव है।कोई कठोर नियम नहीं है कि यदि कोई छात्र आईसीएसई बोर्ड में पढ़ रहा है तो आप उसे सीबीएसई से संबद्ध स्कूल में स्थानांतरित नहीं कर सकते।

प्रश्न:31.12वीं सीबीएसई के लिए पास मार्क क्या है? (What is the pass mark for 12th CBSE?):

उत्तर:बोर्ड परीक्षा 2021 के लिए सीबीएसई कक्षा 12 के लिए न्यूनतम उत्तीर्ण अंक इस प्रकार हैं।
सीबीएसई कक्षा 12 न्यूनतम उत्तीर्ण अंक (विषयवार)
विषय कोड 120 सब्जेक्ट फ्रेंच पास मार्क सैद्धांतिक के लिए-26
पास मार्क प्रैक्टिकल/प्रोजेक्ट के लिए/आईए-6 पास मार्क कुल (अधिकतम 100)33

प्रश्न:32.12वीं सीबीएसई प्रतिशत की गणना कैसे की जाती है? (How is 12th CBSE percentage calculated?):

उत्तर:सीबीएसई द्वारा प्रतिशत मानदंड “उस अतिरिक्त विषय के अंकों पर विचार किया जाता है जिसमें एक उच्च स्कोर करता है”।तो, आपके प्रतिशत की गणना अंग्रेजी (अनिवार्य),भौतिकी, रसायन विज्ञान,जीव विज्ञान और शारीरिक शिक्षा के अंकों को जोड़कर की जानी चाहिए।
उपर्युक्त प्रश्नों के उत्तर द्वारा CBSE Class 12 Evaluation Criteria 2021 के बारे में जान सकते हैं।

उपर्युक्त प्रश्नों के उत्तर द्वारा सीबीएसई कक्षा 12 मूल्यांकन मानदंड 2021 (CBSE Class 12 Evaluation Criteria 2021 in hindi),सीबीएसई कक्षा 12 बोर्ड परीक्षा 2021 मूल्यांकन मानदंड घोषित (CBSE Class 12 Board Exam 2021 EVALUATION CRITERIA ANNOUNCED in hindi) के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

No.Social MediaUrl
1.Facebookclick here
2.you tubeclick here
3.Instagramclick here
4.Linkedinclick here
5.Facebook Pageclick here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *