Menu

185 crores won from mathematics formula

Contents hide
1 1.गणित के फॉर्मूले और लॉटरी सिस्टम की खामी से जीते 185 करोड़ रुपये(185 crores won from mathematics formula and due to deficiency lottery system)-

1.गणित के फॉर्मूले और लॉटरी सिस्टम की खामी से जीते 185 करोड़ रुपये(185 crores won from mathematics formula and due to deficiency lottery system)-

185 crores won from mathematics formula

185 crores won from mathematics formula

गणित के फार्मूला से 185 करोड़ जीते (185 crores won due to deficiency of mathematics formula )। गणित विषय में आपकी रुचि है तो गणित विषय से आप किसी न किसी प्रकार तथा कहीं न कहीं फायदा उठा सकते हैं।इस आर्टिकल में ऐसे ही एक दंपति का परिचय करा रहे हैं जिन्होंने गणित के फार्मूले से 185 करोड रुपए कमाए। 185 करोड रुपए कमाने के लिए उन्होंने कोई धोखाधड़ी नहीं की बल्कि लॉटरी विभाग की कमजोरी पकड़ कर अपनी गणितीय प्रतिभा का इस्तेमाल किया।उन्होंने पता लगाया की लॉटरी की लिमिट 35 करोड़ रखी गई थी यानि 35 करोड रुपए तक 6अंक नहीं मिलते हैं तो 3,4,5 अंक मिलने वालों में 35 करोड की राशि बराबर बांट दी जाती थी।इन दंपति का परिचय है जेरी सेलबी और उनकी पत्नी मार्ज।185 करोड़ जीतने के बाद अचानक वे सुर्खियों में आ गए और अमेरिका में हड़कंप मच गया।लोग सोचने लगे कि क्या ऐसा भी संभव है?जेरी सेलबी और उनकी पत्नी ने ऐसा करके दिखाया।उन्होंने खुद ही लाॅटरी नहींं जीती बल्कि गणित के फार्मूले के आधार पर अपने रिश्तेदारों को भी जीत दिलवायी।इस उदाहरण से हमें सीख मिलती है कि यदि आपमें गणितीय प्रतिभा है तो उसको अपने तक ही सीमित रखेंगे और काम नहीं लेंगे तो आपकी गणितीय प्रतिभा छुपी हुई अर्थात् सुप्त रह जाएगी।गणितीय प्रतिभा को जागृत करना,सक्रिय करना और उसका उपयोग करना हमारे पर निर्भर है।81 साल के जेरी सेलबी ने अपनी गणितीय प्रतिभा का उपयोग नहीं किया तब तक उनकी प्रतिभा सुप्त ही थी परन्तु ज्योही उन्होंने लाॅटरी में गणितीय प्रतिभा को इस्तेमाल करने का निश्चय किया तो उसका परिणाम भी सामने आ गया।उन्होंने न केवल खुद लॉटरी से रुपए जीते बल्कि अपने बहुत से रिश्तेदारों को भी जिताया।

आश्चर्य की बात तो यह है कि उनके इस गणितीय फाॅर्मूले की भनक लाॅटरी विभाग को नहीं लगने दी और लगातार कई वर्षों तक लाॅटरी जीतते रहे। आपमें यदि गणितीय प्रतिभा है तो उसको पहचान कर सक्रिय करें जिससे आप उसका लाभ उठा सकें।यदि आपमें गणितीय प्रतिभा है तो कहीं ना कहीं,कभी न कभी तथा किसी भी व्यवसाय में उपयोग करके उसका लाभ उठा सकते हैं।

Also Read This Article-Sibahle zwane,who solves maths faster than a calculator
बहुत से विद्यार्थी गणित की डिग्री हासिल कर लेते हैं और सोचते हैं कि हमने इतने अच्छे विषय से गणित की डिग्री हासिल की है इसके बावजूद बेरोजगार हैं या हमें कोई हमारे लायक जाॅब नहीं मिल रहा है। यदि यही सोचते रहेंगे तब तो हवन कराते हाथ जलने वाली कहावत सही सिद्ध हो जाएगी। परन्तु यदि गणित का व्यावहारिक व क्रियात्मक उपयोग करेंगे तो कोई कारण नहीं कि गणित विषय से आप निराश व हताश होंगे।आपको एक न एक दिन अच्छा व शुभ परिणाम अवश्य मिलेगा।लगातार अर्थात् सतत व नियमित रूप से गणित की प्रतिभा को निखारने तथा चमकाने में लगे रहेंगे तो गणित विषय ऐसा विषय है जिसकी मांग लगातार बढ़ती जा रही है और भविष्य भी गणित के लिए उज्जवल ही रहेगा।तकनीकी का कितना ही प्रसार हो जाए परंतु तकनीकी विकास के लिए भी इंजीनियरों की जरूरत है।इंजीनियर बिना गणित के तैयार नहीं हो सकते है। तकनीकी ज्ञान की कोडिंग में भी गणित के ज्ञान की आवश्यकता है। इस प्रकार यदि आप गणित में माहिर हो जाते हैं तो अपने व्यवसाय में भी अपनी गणितीय प्रतिभा का इस्तेमाल कर सकते हैं।गणित का हर क्षेत्र में,हर जगह तथा हर समय स्काॅप रहनेवाला है।
यदि आप बिना प्रयास किए, हताश होकर गणित विषय को छोड़ देंगे तब तो गणित आपसे यह तो कहेगी नहीं कि आप मेरा उपयोग कीजिए,मुझे काम में लीजिए,मैं आपकी मदद करूंगी।आप को प्यास लग रही है तो पानी के पास आपको ही जाना पड़ेगा और अपनी प्यास बुझानी पड़ेगी।पानी आकर आपसे यह नहीं कहेगा कि लो मैं आ गया,आप अपनी प्यास बुझा लीजिए। गणित की प्रतिभा को सक्रिय करने, गणित का ज्ञान प्राप्त करने की प्यास आपमें होगी तो उससे फायदा उठा सकते हैं।
आपको यह जानकारी रोचक व ज्ञानवर्धक लगे तो अपने मित्रों के साथ इस गणित के आर्टिकल को शेयर करें ।यदि आप इस वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो वेबसाइट को फॉलो करें और ईमेल सब्सक्रिप्शन को भी फॉलो करें जिससे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन आपको मिल सके ।यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए ।आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं। इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

2.गणित के फॉर्मूले और लॉटरी सिस्टम की खामी से जीते 185 करोड़ रुपये, अब हॉलीवुड बनाएगा फिल्म(185 crores won due to math formula and lottery system drawback, now Hollywood will make a film)-

5 Feb 2019

185 crores won from mathematics formula

185 crores won from mathematics formula

जेरी सेलबी और उनकी पत्नी मार्ज

अमेरिका के मिशिगन में रहने वाले एक सेवानिवृत दंपती ने नौ सालों के दौरान करीब 185 करोड़ रुपये लॉटरी से जीते। इतनी बड़ी रकम उन्होंने किसी हेराफेरी से नहीं, बल्कि गणित के फॉर्मूला और लॉटरी सिस्टम की एक छोटी सी खामी के कारण जीती। हाल में एक टीवी शो में सेलबी दंपती ने अपने जीवन की इस दिलचस्प कहानी का खुलासा किया। इससे प्रभावित होकर हॉलीवुड के फिल्ममेकर्स उनकी जिंदगी पर फिल्म बनाने जा रहे हैं।
81 साल के जेरी सेलबी और उनकी पत्नी मार्ज लॉटरी खेलने से पहले इवार्ट शहर में एक दुकान चलाते थे। 60 साल के हो जाने के बाद उन्होंने वह दुकान बेच दी और सेवानिवृत्त हो गए। साल 2003 में जब जेरी अपने पुराने दुकान में कुछ खरीदने के लिए लौटे तो उन्हें वहां विंडफॉल लॉटरी का एक ब्रोशर मिला।
जेरी के मुताबिक, कॉलेज के समय वे गणित में काफी अच्छे थे। ऐसे में लॉटरी का ब्रोशर पढ़कर उन्हें इसमें दिलचस्पी हुई। जेरी को यकीन हो गया कि वह इस लॉटरी से पक्के तौर पर बड़ा फायदा कमा सकते हैं। वह भी आसान गणित से।
इसके बाद ही उन्होंने पत्नी के साथ लॉटरी खरीदने और खेलने का निर्णय लिया। लॉटरी में जीत और पहले दो साल की कमाई से उन्होंने एक इनवेस्टमेंट कंपनी भी खोल ली।
Also Read This Article-AKS Education Award Given to  Khangelani Sibiya

3.दूसरों को भी लॉटरी जीतने में की मदद(Help others win the lottery)-

इसमें वे रिश्तेदारों और दोस्तों का पैसा लगाकर उन्हें भी लॉटरी जिताते थे। इसी बीच, लॉटरी में बिक्री की कमी के कारण विंडफॉल लॉटरी की दुकान बंद हो गई। इसके बाद 2012 तक उन्होंने मैसाच्यूसेट्स जाकर लॉटरी खेली। इन पैसों से उन्होंने 6 बच्चों, 14 नातियों और 10 परनातियों का खर्च उठाया।

4.लॉटरी में जीत का फॉर्मूला निकाला(Winning formula in lottery)-

जेरी ने बताया कि लॉटरी जीतना आसान इसलिए था, क्योंकि इसमें 35 करोड़ रुपये की लिमिट रखी गई थी। यानी अगर लॉटरी की वैल्यू 35 करोड़ रुपये पहुंचने तक किसी के सभी छह नंबर ड्रॉ के नंबरों से मैच नहीं हुए, तो यह रकम उन लोगों के बीच बांटी जाती है, जिनके पांच, चार या तीन नंबर भी ड्रॉ से मैच हो जाते हैं।
इस लॉटरी में जेरी ने पहली बार ढाई लाख रुपये के टिकट खरीदे। गणित का इस्तेमाल कर उन्होंने ढाई लाख रुपये ज्यादा कमाए। फिर 9 सालों तक वे लगातार मुनाफे में रहे।

No. Social Media Url
1. Facebook click here
2. you tube click here
3. Twitter click here
4. Instagram click here
5. Linkedin click here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *