Menu

Mathematician Komaravolu Chandrasekhar

1.गणितज्ञ कोमारवोलु चंद्रशेखरन (Mathematician Komaravolu Chandrasekhar)-

  • गणितज्ञ कोमारवोलु चंद्रशेखरन (Mathematician Komaravolu Chandrasekhar) (21 नवंबर ,1920-13 अप्रैल 2017) ईटीएच ज्यूरिख में एक प्रोफेसर और स्कूल ऑफ मैथमैटिक्स, टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च (टीआईएफआर) के एक संस्थापक संकाय सदस्य थे।वह संख्या सिद्धांत और संकलनीयता में अपने काम के लिए जाने जाते हैं।
  • उन्हें पद्मश्री, शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार और रामानुजन पदक मिले और वे टीआईएफआर के मानद फैलो थे।वह 1971 से 1974 तक अंतर्राष्ट्रीय गणितीय संघ (IMU) के अध्यक्ष थे।

(1.)के एस चन्द्रशेखरन का संक्षिप्त परिचय (Brief introduction of KS Chandrasekaran)-

  • जन्म- 21 नवंबर 1920
  • बापटला, गुंटूर जिला, मद्रास प्रेसीडेंसी, ब्रिटिश भारत (अब आंध्र प्रदेश, भारत)
    निधन -13 अप्रैल 2017 (आयु 96 वर्ष) ज्यूरिक
    नागरिकता -भारतीय-स्विस
    मातृ संस्था-मद्रास विश्वविद्यालय
  • पहचान: प्रशासनिक बुद्धि, गणित, विश्लेषणात्मक संख्या सिद्धांत और गणितीय विश्लेषण
  • पुरस्कार-श्रीनिवास रामानुजन पदक (1966), पद्म श्री (1959), गणित विज्ञान के लिए शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार (1963)
    वैज्ञानिक कैरियर
    फ़ील्ड-संख्या सिद्धांत
  • संस्थान-टीआईएफआर, ईटीएच ज्यूरिख
    डॉक्टरल सलाहकार-के.आनंद राऊ
    डॉक्टरल छात्र-सी. एस शेषाद्री, एम.एस.नरसिम्हन

(2.)चन्द्रशेखर की जीवनी (Biography of Chandrashekhar)-

  • गणितज्ञ कोमारवोलु चंद्रशेखरन (Mathematician Komaravolu Chandrasekhar) का जन्म 21 नवंबर 1920 को आधुनिक आंध्र प्रदेश में मछलीपट्टनम में हुआ था।
  • चंद्रशेखर ने अपना हाई स्कूल आंध्र प्रदेश के गुंटूर के बापटला गाँव से पूरा किया।उन्होंने चेन्नई के प्रेसीडेंसी कॉलेज से गणित में एमए पूरा किया और 1942 में गणित विभाग,मद्रास विश्वविद्यालय से के.आनंदा राऊ की देखरेख में पीएचडी किया।
  • आपको यह जानकारी रोचक व ज्ञानवर्धक लगे तो अपने मित्रों के साथ इस गणित के आर्टिकल को शेयर करें।यदि आप इस वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो वेबसाइट को फॉलो करें और ईमेल सब्सक्रिप्शन को भी फॉलो करें।जिससे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन आपको मिल सके ।यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए ।आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं। इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

Also Read This Article-Mathematician Professor C R Rao

2.गणितज्ञ कोमारवोलु चंद्रशेखरन का योगदान (Contribution of Mathematician Komaravolu Chandrasekhar)-

  • जब गणितज्ञ कोमारवोलु चंद्रशेखरन (Mathematician Komaravolu Chandrasekhar) इंस्टीट्यूट फॉर एडवांस्ड स्टडी, प्रिंसटन, यूएसए के फैलो थे, होमी भाभा ने चंद्रशेखर को टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च (TIFR) के स्कूल ऑफ मैथमैटिक्स में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया।
  • चंद्रशेखरने दुनियाभर के गणितज्ञों, जैसे कि एल. श्वार्ज़ और सी. एल. साइगेल को टीआईएफआर का दौरा करने और व्याख्यान के पाठ्यक्रम देने के लिए मनाया।1965 में, गणितज्ञ कोमारवोलु चंद्रशेखरन (Mathematician Komaravolu Chandrasekhar) ने टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च को ETH ज्यूरिख में शामिल होने के लिए छोड़ दिया,जहां वे 1988 में सेवानिवृत्त हुए।
  • 2012 में वह अमेरिकन मैथमैटिकल सोसाइटी के फैलो बने।
  • चयनित कार्य
    सॉलोमन बोच्नर के साथ: फूरियर रूपांतरण।प्रिंसटन यूनिवर्सिटी प्रेस।1949
    एस मिनाक्षिसुंदरम के साथ: टिपीकल मीन्स (Typical means)।ऑक्सफोर्ड यूनिवरसिटी प्रेस।1952
    विश्लेषणात्मक संख्या सिद्धांत का परिचय।स्प्रिंगर।1968
    अंकगणितीय फलन।ग्रुन्धलेरेन डेर मैथिसिचेन विसेनशाफ्टेन।स्प्रिंगर।1970
    दीर्घवृत्तीय फलन।स्प्रिंगर।1985
    क्लासिकल फूरियर रूपांतरण।स्प्रिंगर-वर्लग।1989।
    सामयिक समूहों पर पाठ्यक्रम (Course on topological groups)।हिंदुस्तानी बुक एजेंसी।  2011।

3.गणितज्ञ कोमारवोलु चंद्रशेखरन का सारांश (Conclusion of Mathematician Komaravolu Chandrasekhar)-

  • गणितज्ञ कोमारवोलु चंद्रशेखरन (Mathematician Komaravolu Chandrasekhar) एक असाधारण प्रतिभाशाली व्यवस्थापक और प्रशासक थे।वह जर्नल ऑफ द इंडियन मैथमेटिक्स सोसाइटी के संपादक थे।
  • उन्होंने टीआईएफआर के गणित स्कूल को विश्वव्यापी मान्यता प्राप्त उत्कृष्टता के केंद्रों में शामिल करने के लिए कड़ी मेहनत की।
  • उन्होंने टीआईएफआर में रिसर्च विद्वानों की भर्ती और प्रशिक्षण की एक सफल विधि की स्थापना की थी।अभी भी वहां लगातार चल रहा है।
  • गणितज्ञ कोमारवोलु चंद्रशेखरन (Mathematician Komaravolu Chandrasekhar) ने टीआईएफआर की जांच करने और 2 महीने ओर उससे अधिक समयावधि के व्याख्यान के पाठ्यक्रम देने के लिए दुनिया के अग्रणी गणितज्ञों के साथ अपने संपर्कों का उपयोग किया था।
  • इनमें फील्ड्स पदक विजेता एल श्वार्टज और सी.एल.सीगल जैसे कुछ विद्वान शामिल थे।
  • मानव में क्रियाशीलता का दूसरा नाम ही प्रतिभा है।जिस अनुपात में मानव की क्षमताएं क्रियाशील होती है उसी अनुपात में उसे प्रतिभाशाली कहा जाता है।
    यद्यपि प्रत्येक मनुष्य में क्षमताएं और शक्तियां समान रूप से पाई जाती है परंतु इस समानता के बाद भी अधिकांश सुप्त अथवा निष्क्रिय अवस्था में होती है।
    निष्क्रिय को सक्रिय बनाना,सुप्त को जाग्रत करना ही वह प्रक्रिया है जिसे प्रतिभा जागरण का नाम दिया जाता है।
  • हरेक मनुष्य में तीन तरह की ताकते होती है।शारीरिक शक्ति, विचार कल्पना तथा भावनाओं की शक्ति नाम दिया जा सकता है।
  • अन्य शक्तियां और सामर्थ्य इन्हीं तीन शक्तियों तथा क्षमताओं के इर्द-गिर्द घूमती हैं।
  • शारीरिक शक्ति की बलिष्ठता,शरीर व प्राण की स्थिति पर निर्भर है।विचारों व कल्पनाओं की प्रखरता का आधार बुद्धि है।भावनाएं अर्थात् संवेदनाएं हमारे अन्दर स्थित पवित्रता पर टिकी हुई है।
  • सभी के जीवन में थोड़े-बहुत रूपों में इनकी झलक दिखाई देती है।सभी कुछ ना कुछ काम करते ,सोचते विचारते,कल्पना करते रहते हैं।
  • एक छोर मूढ़ता है इसमें समस्त सामर्थ्य सोई रहती है।बीच की स्थिति औसत मनुष्य की है।इसे अर्द्धजाग्रत स्थिति कहा जा सकता है।दूसरा छोर प्रतिभाशाली होना है।इस स्थिति में मानवीय क्षमताएं अपनी सम्पूर्ण क्रियाशीलता प्रकट करती है।
  • अपनी वर्तमान स्थिति से इस पूर्ण क्रियाशील स्थिति को पाना प्रतिभा का विकास है।शारीरिक क्षमता को विकसित करने वाले खिलाड़ी अथवा पहलवान बनते हैं।विचार शक्ति को विकसित करने वाले दार्शनिक,मनीषी, वैज्ञानिक गणितज्ञ बनते हैं।
  • इसी तरह कल्पना और भाव शक्ति को विकसित करने वाले कवि ,कलाकार, साहित्यकार बनते हैं।इनमें से प्रत्येक अपने-अपने क्षेत्र में प्रतिभाशाली होते हैं।
    हालांकि एक पक्ष की उन्नति होने का अर्थ यह नहीं है कि दूसरा पक्ष समाप्त हो जाता है।पहलवान या खिलाड़ी में शारीरिक शक्ति की प्रधानता रहती है पर सोचने, विचारने व कल्पना करने की क्षमताएं भी उसमें होती है अन्यथा दांव-पेच कैसे सीखा जा सकता है?
  • दार्शनिक,गणितज्ञ, वैज्ञानिक बुद्धि प्रधान होते हैं पर उनका शरीर भी सक्रिय रहता है।यही बात कलाकार व कवि पर लागू होती है।कहने का तात्पर्य यह है कि विकसित स्थिति में एक पक्ष प्रधान होता है तो दूसरा गौण होता है।
  • प्रतिभा शरीर ,बुद्धि एवं अन्त:करण तीनों की होती है, पर इसे न समझ पाने के कारण साधारणतया हम उसी को प्रतिभाशाली मानते हैं जिसमें बौद्धिक विकास काफी मात्रा में हुआ हो।यह मान्यता गलत तो नहीं है पर आंशिक रूप से सत्य है।बुद्धि का स्थान शरीर की अपेक्षा कहीं ऊंचा है इसलिए शरीर इसका अनुसरण करे तो कोई गैर नहीं किंतु शरीर के महत्त्व को नकारा नहीं जा सकता है।
  • सही मायने में प्रतिभाशाली बनने का मतलब है अपनी सारी क्षमताओं को जाग्रत करना।ऐसी स्थिति दयानंद ,विवेकानंद इत्यादि में देखी जा सकती है।गणितज्ञ कोमारवोलु चंद्रशेखरन (Mathematician Komaravolu Chandrasekhar) को भी इसी श्रेणी में रखा जा सकता है।
  • आज की स्थिति में मानव में अधिकांश जड़ता व मूर्खता की दशा में पड़े हुए हैं।उसकी सारी क्षमताएं सुप्त हैं।
  • गणितज्ञ कोमारवोलु चंद्रशेखरन (Mathematician Komaravolu Chandrasekhar) ने अपनी प्रतिभा को पहचाना और उसे जाग्रत किया जिसके कारण उन्होंने गणित के क्षेत्र में अमूल्य योगदान दिया।

4.गणितज्ञ कोमारवोलु चंद्रशेखरन की महत्त्वपूर्ण उपलब्धियां (Important achievements of Mathematician Komaravolu Chandrasekhar)-

  • अंतर्राष्ट्रीय गणितीय संघ (आईएमयू) की कार्यकारी समिति के सदस्य – (1955-1961)
    आईएमयू के सचिव -(1961-1966)
    आईएमयू के अध्यक्ष -(1971-1974)।
    वैज्ञानिक संघों की अंतर्राष्ट्रीय परिषद के उपाध्यक्ष -(1963-1966)
    महासचिव– (1966-1970)
    भारत सरकार के मंत्रीमंडल में वैज्ञानिक सलाहकार समिति के सदस्य –(1961-1966)
  • प्राप्त पुरस्कार-
    पद्मश्री पुरस्कार – वर्ष 1959
    शांति स्वरुप भटनागर पुरस्कार – वर्ष 1963
    रामानुजन पदक – वर्ष 1966

5.नरसिम्हन गणित (Narasimhan mathematics)-

  • मुदबई शेषचलू नरसिम्हन FRS (जन्म 7 जून 1932) एक भारतीय गणितज्ञ हैं।सी. एस. शेषाद्री के साथ, नरसिम्हन-शेषाद्री प्रमेय के प्रमाण के लिए उन्हें जाना जाता है, और दोनों को रॉयल सोसाइटी के अध्येता के रूप में चुना गया।वह विज्ञान के क्षेत्र में किंग फैसल अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त करने वाले एकमात्र भारतीय रहे हैं।

6.के. आनंद राऊ (K Ananda Rau)-

  • के. आनंद राऊ (21 सितंबर 1893 – 22 जनवरी 1966) एक प्रख्यात भारतीय गणितज्ञ और रामानुजन के समकालीन थे।हालांकि, रामानुजन के विपरीत,राऊ, रामानुजन के छह साल के जूनियर थे, लेकिन रामानुजन के विपरीत, वे बहुत पारंपरिक थे और उन्होंने रामानुजन के कौशल का पता चलने से पहले गणित में अपना कैरियर बनाने का फैसला किया था।

7.भारतीय गणितज्ञ (Indian Mathematician)-

  • भारतीय गणितज्ञों का कालक्रम सिंधु घाटी सभ्यता और वेदों से लेकर आधुनिक भारत तक फैला हुआ है।
  • भारतीय गणितज्ञों ने गणित में कई योगदान दिए हैं जिन्होंने आधुनिक युग में वैज्ञानिकों और गणितज्ञों को काफी प्रभावित किया है।अरबी-हिंदू अंक आज मुख्य रूप से और भविष्य में होने की संभावना है।
  • उपर्युक्त विवरण के आधार पर आप गणितज्ञ कोमारवोलु चंद्रशेखरन (Mathematician Komaravolu Chandrasekhar) के बारे में जान सकते हैं।

Also Read This Article-Mathematician Professor Raman Parimala

No. Social Media Url
1. Facebook click here
2. you tube click here
3. Instagram click here
4. Linkedin click here
5. Facebook Page click here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *