Menu

Maintaining Interest in Mathematics

Contents hide
2 2.गणित में रुचि बनाए रखना (Maintaining Interest in Mathematics),गणित में रुचि को जगाना और बनाए रखना (Arousing and Maintaining Interest in Mathematics) के सम्बन्ध में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न:

1.गणित में रुचि बनाए रखना (Maintaining Interest in Mathematics),गणित में रुचि को जगाना और बनाए रखना (Arousing and Maintaining Interest in Mathematics):

  • गणित में रुचि बनाए रखना (Maintaining Interest in Mathematics) अथवा गणित में रुचि जागृत करने के लिए कुछ युक्तियां है।इन उपायों तथा युक्तियों का पालन किया जाए किया जाए तो छात्र-छात्राओं की रुचि,लगन तथा जिज्ञासा में वृद्धि की जा सकती है।
  • वस्तुतः छात्र-छात्राओं की जिस कार्य में रुचि,जिज्ञासा और लगन होती है उसी कार्य को वे अधिक से अधिक करने का प्रयास करते हैं।जैसे किसी विद्यार्थी की खेलने में रुचि है तो वह खेल खेलने में आनन्द का अनुभव करेगा।अपने मित्रों से भी खेलों के बारे में चर्चा करने में रुचि लेगा।कोई समाचार हो या टीवी पर कोई कार्यक्रम होगा तो उसको देखेगा।इस प्रकार छात्र-छात्राओं को अपने रुचि वाले कार्य को करते रहने में अपने आपको व्यस्त रखने का प्रयास करेगा।
  • सफल गणित शिक्षक उसे कहा जा सकता है जो छात्र-छात्राओं की गणित में रुचि,जिज्ञासा को जागृत कर सके।इसलिए गणित शिक्षक का यह महत्वपूर्ण दायित्त्व है कि विद्यार्थियों में रुचि का सृजन (Creation) करें और उसको बनाए रखें।
  • गणित में छात्र-छात्राओं की रूचि के लिए कुछ युक्तियां है जैसे गणित में रचनात्मक कार्य,गणित में नवीनता,गणित की दैनिक जीवन में उपयोगिता,गणित का जाॅब प्राप्त करने में महत्त्व इत्यादि के द्वारा छात्र-छात्राओं की रुचि को बनाए रखा जा सकता है।
    आधुनिक शिक्षा अधिकांश छात्र-छात्राओं के लिए जॉब केंद्रित हो गई है।जाॅब प्राप्त करने में गणित की महत्त्वपूर्ण भूमिका होती है चाहे सरकारी जॉब प्राप्त किया जाए या प्राइवेट जॉब।
  • जॉब में महत्वपूर्ण भूमिका होते हुए भी छात्र-छात्राओं को गणित विषय आकर्षक नहीं लगता है।उसका कारण यह है कि छात्र-छात्राओं को गणित विषय समझने में कठिनाई महसूस होती है तथा बहुत से अध्यापक गणित को उथले मन से पढ़ाते हैं।दूसरा कारण यह है कि गणित अमूर्त (Abstract) विषय है तथा इसमें मनोरंजक सामग्री बहुत कम उपलब्ध होती है।शिक्षक भी पाठ्यक्रम को पूरा कराने के कारण मनोरंजन सामग्री को शामिल नहीं करते हैं।
  • आपको यह जानकारी रोचक व ज्ञानवर्धक लगे तो अपने मित्रों के साथ इस गणित के आर्टिकल को शेयर करें।यदि आप इस वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो वेबसाइट को फॉलो करें और ईमेल सब्सक्रिप्शन को भी फॉलो करें।जिससे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन आपको मिल सके । यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए । आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं।इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

Also Read This Article:Laboratory of Mathematics

(1.)प्रोत्साहन व प्रेरणा का योगदान (Contribution of Encouragement and Motivation):

  • छात्र-छात्राओं को पढ़ाते समय उनके स्तर के अनुसार गणित के चुनौतीपूर्ण सवालों को प्रस्तुत किया जाना चाहिए।जब छात्र-छात्राएं उन सवालों को हल करें तो उन्हें प्रोत्साहित करना चाहिए। प्रोत्साहन के लिए पुरस्कार,प्रशंसा,सम्मानित करना जैसे उपाय हो सकते हैं।परंतु इनके द्वारा प्रोत्साहित करने पर यह ध्यान रखना चाहिए कि छात्र-छात्राओं में गलत प्रवृत्ति विकसित न हो जाए।
  • इस प्रकार छात्र-छात्राएं गणितीय समस्याओं का समाधान ढूंढ लेता है और उसे प्रोत्साहन मिलता है तो विद्यार्थी ओर विशिष्ट समस्याओं को हल करने के बारे में सोचता है।जैसे-जैसे छात्र-छात्राएँ अधिकाधिक परिपक्वता प्राप्त करता है तो वह अपनी विधियों,तकनीकों से संतोष प्राप्त करता है। धीरे-धीरे उसमें सृजन शक्ति (Creativity) के विकास का मार्ग खुलता है।
    इसके अलावा महान गणितज्ञों की विशिष्ट घटनाओं का उल्लेख करने से उन्हें प्रेरणा मिलती है। छात्र-छात्राएं भी महान गणितज्ञों की तरह गणित में विशिष्ट योगदान देने के बारे में सोचता है।

(2.)पहेलियों तथा गणितीय खेल (Puzzles and Mathematical Games):

  • छात्र-छात्राओं को कुछ गणितीय पहेलियों को हल करने के लिए दी जानी चाहिए।इसमें सबसे बड़ी बाधा यह है कि छात्र-छात्राएं पाठ्यक्रम को पढ़ना चाहते हैं।परन्तु पाठ्यक्रम को पढ़ाते समय ही बीच-बीच में कुछ पहेलियों को शामिल किया जा सकता है।जब शिक्षक व छात्र-छात्राओं के मध्य आपस में संवाद होता है तो ऐसे कई बार मौके आते हैं जिनके द्वारा छात्र-छात्राओं में पहेलियां,गणितीय खेल हल करने के लिए दिए जा सकते हैं।इसलिए शिक्षक में इस बात का हुनर होना चाहिए कि पाठ्यक्रम को पढ़ाते समय किस समय तथा कितनी मात्रा में गणितीय खेल,प्रतियोगिताओं,पहेलियों (Puzzles),जादुई वर्ग (Magic Square),विशिष्ट सूत्र आधारित समस्याएँ (Typical Problems Based on Formulas),हर्षोन्मादी जानकारियां (Ecstatic Knowhows),अद्भुत जीवन घटनाएं (Anecdotes) आदि को शामिल किया जा सकता है।

Also Read This Article:Mathematics Club

(3.)गणित एक कैरियर के रूप में (Mathematics as a career):

  • आधुनिक युग में छात्र-छात्राएं उस विषय को अधिक पसंद करते हैं जिसकी कैरियर में महत्वपूर्ण भूमिका होती है।इसलिए छात्र-छात्राओं को यह बताया जाना चाहिए कि गणित का महत्त्व प्रत्येक प्रकार के जाॅब प्राप्त करने में है।आज व्यापार और उद्योग (Trade and Industry) में गणित में प्रशिक्षित व्यक्तियों की मांग (Demand),आपूर्ति (Supply) की अपेक्षा बढ़ती जा रही है।
  • कोई व्यवसाय की डिग्री इंजीनियरिंग,बीटेक,बीई,एमटेक,डिप्लोमा इत्यादि पूरी होने से पूर्व उनकी कैरियर में डिमांड हो जाती है।मैथमेटिकल स्टेटिस्टिक्स,हाई स्पीड कंप्यूटिंग,डाटा प्रोसेसिंग,कोडिंग,प्रोग्रामिंग,ऑपरेशन रिसर्च जैसे क्षेत्रों में गणित की डिग्री को वरीयता दी जाती है। इसलिए इन तथ्यों से विद्यार्थियों को परिचित कराते रहना चाहिए।केरियर मैगजीन (Career Magazines) विद्यार्थियों को उपलब्ध कराना चाहिए।विद्यालय में केरियर मास्टर (Career Master) के माध्यम से विद्यार्थियों को गणित के व्यावहारिक महत्त्व और उपयोगिता की जानकारी दी जानी चाहिए।इससे विद्यार्थियों में स्वाभाविक रूप से गणित के प्रति आकर्षण बढ़ेगा।

(4.)अन्य व्यवसायों में गणित की भूमिका (The Role of Mathematics in other Businesses):

  • गणित शिक्षा का एक मुख्य लक्ष्य आत्मनिर्भर बनना बन चुका है।इसलिए विद्यार्थी अपने लिए किसी व्यवसाय को अवश्य चुनते हैं।माध्यमिक स्तर पर विद्यार्थी इस विषय में सोचने लगते हैं।यहां उनको विभिन्न व्यवसायों में गणित की उपयोगिता महसूस कराना आवश्यक है।
  • व्यापार गणित (Business Mathematics),मुद्रक गणित (Mathematics of Printers),विद्युत कर्मियों के लिए गणित (Mathematics of Electricians),कृषि के लिए गणित (Mathematics for Agriculture),व्यावसायिक गणित (Commercial Mathematics) आज काफी लोकप्रिय हैं।बैंक,इंजीनियरिंग,चिकित्सा,प्रशासन,रक्षा, पुलिस, एनडीए,अकाउंटेंट, पटवारी, क्लर्क सभी सेवाओं में में गणित के उपयोग को स्पष्ट किया जाना चाहिए।

(5.)गणित क्लब का गठन (Formation of Mathematics Club):

  • गणित कालांश में मनोरंजक सामग्री सीमित मात्रा में ही प्रयोग की जा सकती है क्योंकि पाठ्यक्रम को पूर्ण कराना मुख्य जिम्मेदारी होती है।बहुत से विद्यार्थी भी पाठ्यक्रम से अलग गणित की सामग्री को पढ़ना पसंद नहीं करते हैं।इसलिए मनोरंजन हेतु उपयुक्त मंच गणित क्लब है।विश्व के सभी देशों में जो विकसित है अवकाश के समय और मनोरंजन के लिए गणित क्लब का गठन किया हुआ है।अतः गणित को अधिक रुचिकर बनाने के लिए गणित क्लब का गठन किया जाना चाहिए।गणित क्लब में मनोरंजन के लिए खेल (Games),क्रीडा (Plays),पहेलियां (Puzzles),उपाख्यान (Anecdotes)जैसी क्रियाएं छात्र-छात्राओं को उपलब्ध करानी चाहिए।
  • सभी विद्यार्थी खेलों और क्रीडाओं को पसंद करते हैं।विशेष रूप से इन खेलों को माध्यमिक स्तर तक के विद्यार्थी पसंद करते हैं जिसमें रहस्य,कुतूहल और आश्चर्य के तत्त्व मौजूद हैं।गणितीय पहेलियां,कूट प्रश्नों और प्रतिस्पर्धाओं में ये सब बातें होती है।गणित क्लब में सदस्यता स्वेच्छिक होती है।इसलिए विद्यार्थी जो कि वास्तव में गणित में रुचि रखते हैं वही शामिल होते हैं।साथ ही गणित के बारे में वे कक्षा कार्य से भिन्न बातें जानना चाहते हैं।

(6.)गणित में प्रयोगशाला कार्य (Laboratory work in Mathematics):

  • शिक्षा संस्थाओं का वह कक्ष जिसे वैज्ञानिक प्रयोगों को करने के लिए उपकरणों (Equipments) से सज्जित एवं डिजाइन किया गया है प्रयोगशाला कहलाता है।विज्ञान विषयों की तरह प्रिज्म,गोलों, त्रिभुज,चतुर्भुज के मॉडल्स इत्यादि को प्रयोगशाला में उनसे संबंधित कार्य को प्रैक्टिकल करके समझाया जा सकता है।कुछ कार्य क्षेत्र कार्य से संबंधित हैं जैसे ऊंचाई और दूरी,क्षेत्रफल,छोटे-छोटे क्षेत्रों के मानचित्र (Mapping) बनाना आदि। प्रैक्टिकल कार्यों में अधिकतर छात्र-छात्राएं रुचि लेते हैं।इसमें कोई संदेह नहीं है कि गणित की समस्याएं प्रयोगशाला में प्रैक्टिकल कराकर रोचक तरीके से और स्पष्ट रूप से समझाया जा सकता है जिनको बौद्धिक क्रियाओं से समझाना और समझना आसान नहीं है।
  • उपर्युक्त आर्टिकल में गणित में रुचि बनाए रखना (Maintaining Interest in Mathematics),गणित में रुचि को जगाना और बनाए रखना (Arousing and Maintaining Interest in Mathematics) के बारे में बताया गया है।

2.गणित में रुचि बनाए रखना (Maintaining Interest in Mathematics),गणित में रुचि को जगाना और बनाए रखना (Arousing and Maintaining Interest in Mathematics) के सम्बन्ध में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न:

प्रश्न:1.गणित में रुचि कैसे पैदा करें? (How to create Interest in Mathematics?):

उत्तर:नीचे सूची में कुछ तरीके छात्रों को और अधिक सकारात्मक और आत्मविश्वास से चुनौतीपूर्ण गणित की समस्याओं के बारे में सोचना सीख सकते है।
समस्या को दिन-प्रतिदिन के शेड्यूल में शामिल करें:दैनिक गतिविधि में समस्या को हल करें।
गणित के खेल के माध्यम से चिंता को कम करें: गणित को मजेदार बनाएं।
गणित पर एक सकारात्मक स्पिन रखो (positive spin on math):

प्रश्न:2.आप गणित में छात्रों की रुचि कैसे प्राप्त करते हैं? (How do you get students interested in math?):

उत्तर:यहां आप शुरू करने के लिए 5 मजेदार विचार हैं!
अपने छात्रों को विकास की मानसिकता बनाना सिखाएं।
अपनी कक्षा में निर्देशित गणित की कोशिश करो। 
अपने छात्रों को आगे बढ़ना,सोचना और सहयोग करना।
मजेदार गणित खेल खेलें।
अपने छात्रों को शामिल करने के लिए प्रौद्योगिकी का उपयोग करें।

प्रश्न:3.छात्र गणित में रुचि क्यों खो देते हैं? (Why do students lose interest in mathematics?):

उत्तर:क्योंकि गणित एक अमूर्त विषय है,प्राथमिक छात्रों आसानी से इसमें रुचि खो देते हैं,विशेष रूप से कम प्राप्त छात्र (especially low-achieving students)।कुछ शोधकर्ताओं ने गणितीय ज्ञान का एक विशिष्ट सेट सीखने के लिए शैक्षिक खेल के अनुरूप विकसित किया है (उदाहरण के लिए दशमलव अंक खेल (Decimal Points game);मैकलेरन (McLaren))।

प्रश्न:4.मैं गणित को और अधिक आकर्षक कैसे बनाता हूं? (How do I make math more engaging?):

उत्तर:यहां अपने छात्रों के लिए आकर्षक,यादगार और मजेदार गणित सबक विकसित करने के लिए पांच सुझाव दिए गए हैं।
हाथों-हाथ अनुभव बनाएं।
अपने गणित सबक में विविधता लाएं।
पिछले गणित कक्षा की गणित का विस्तार।
मैथ पर्सनल बनाओ।
प्रश्नों को प्रोत्साहित करें।
गणित और मूवमेंट की जोड़ी के साथ जाओ (Pair Math and Movement with Go Noodle)।
यह गणित को साथ आनंद लेते हुए हल करो।
कौतुक के साथ दीर्घकालिक प्रगति देखें (See Long-Term Progress with Prodigy)।

प्रश्न:5.सबसे महत्वपूर्ण बात क्या है कि एक छात्र अपने गणित कक्षा में सीख सकते हैं? (What is the most important thing a student can learn in your mathematics class?):

उत्तर:समस्या समाधान। जब तक आप गणित सीखना शुरू करते हैं,तब से आप इसे नहीं सीखते हैं। लेकिन यह एक बुनियादी कौशल है कि प्रत्येक छात्र को सीखना चाहिए क्योंकि यह उन्हें विश्लेषणात्मक सोच विकसित करने में सक्षम बनाता है।जीवन में कुछ ऐसी स्थितियां हैं जो आपको विश्लेषणात्मक होने की अनुमति देती हैं और निर्णय लेते समय यह महत्वपूर्ण है।

प्रश्न:6.मैं गणित पढ़ाने में रुचि कैसे पैदा कर सकता हूं? (How can I create interest in teaching mathematics?):

उत्तर:शिक्षक क्या सिफारिश करते हैं
आत्मविश्वास का निर्माण करें।
पूछताछ को प्रोत्साहित करें और जिज्ञासा के लिए जगह बनाएं।
प्रक्रियात्मक समझ पर जोर दें।
गणित के साथ संलग्न करने के लिए छात्रों की ड्राइव को बढ़ाने वाली प्रामाणिक समस्याएं प्रदान करें।
गणित के बारे में सकारात्मक दृष्टिकोण साझा करें।

उपर्युक्त प्रश्नों के उत्तर द्वारा गणित में रुचि बनाए रखना (Maintaining Interest in Mathematics),गणित में रुचि को जगाना और बनाए रखना (Arousing and Maintaining Interest in Mathematics) के बारे में ओर अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

Maintaining Interest in Mathematics

गणित में रुचि बनाए रखना (Maintaining Interest in Mathematics)

Maintaining Interest in Mathematics

गणित में रुचि बनाए रखना (Maintaining Interest in Mathematics) अथवा गणित में रुचि जागृत करने के लिए कुछ युक्तियां है।इन उपायों तथा युक्तियों का पालन किया जाए किया जाए तो छात्र-छात्राओं की रुचि,लगन तथा जिज्ञासा में वृद्धि की जा सकती है।

No.Social MediaUrl
1.Facebookclick here
2.you tubeclick here
3.Instagramclick here
4.Linkedinclick here
5.Facebook Pageclick here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *