Menu

solving linear equation [Method of elimination (By substitution)]

विलोपन विधि (प्रतिस्थापन द्वारा ) [Method of elimination (By substitution)]
Contents hide

युगपत`समीकरणों का बीजीय हल (Algebraic method of solving simultaneous linear equation)युगपत समीकरण दो चरों वाले रैखिक समीकरण वाला निकाय होता है। दोनों चरों के वह मान जो दोनों समीकरण निकाय को सन्तुष्ट करता है युगपत समीकरण का अद्वितीय हल कहलाता है। दो चरों के समीकरण निकाय को हल करने की निम्नलिखित तीन विधियां हैं –

(i)विलोपन विधि (प्रतिस्थापन द्वारा )[Method of elimination (By substitution)]
(ii)विलोपन विधि (किसी एक चर के गुणांकों को समान करके)[Method of elimination (By equating the co-efficient)]
(iii)वज्र गुणन विधि (व्यापक विधि )[Method of cross multiplication(General Method)]

(i)[Solving Linear Equation Method of elimination (By substitution)]

इस विधि में युगपत समीकरण निकाय के एक समीकरण से एक चर का मान दूसरे समीकरण में रखकर ,दूसरे समीकरण को एक चर में परिवर्तित कर लेते हैं। इस प्रकार एक चर के रूप में समीकरण परिवर्तित होने पर उस चर का मान ज्ञात कर लेते हैं। एक चर का मान ज्ञात होने पर उस चर का मान समीकरण निकाय के किसी समीकरण में रखकर दूसरे चर का मान ज्ञात कर लेते हैं। निम्नलिखित प्रश्न के हल से यह विधि स्पष्ट हो जाएगी। 

solving linear equation [Method of elimination (By substitution)]
solving linear equation [Method of elimination (By substitution)]

 

   

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *