Menu

Mathematician Alan Mathison Turing

Contents hide
2 (7.)एलन मैथिसन ट्यूरिंग का योगदान (Alan Mathison Turing’s Contribution)-

1.गणितज्ञ एलन मैथिसन ट्यूरिंग (Mathematician Alan Mathison Turing),गणितज्ञ एलन ट्यूरिंग (Mathematician Alan Turing)-

  • गणितज्ञ एलन मैथिसन ट्यूरिंग (Mathematician Alan Mathison Turing) की जीवनी बहुत ही प्रेरणादायक है परन्तु उनकी मृत्यु बहुत ही हृदय विदारक है।
  • यह देखा जाता है कि प्रतिभावानों को उनके जीते-जी उतना आदर और सम्मान नहीं मिलता जितना मरने के बाद।गणितज्ञ एलन मैथिसन ट्यूरिंग (Mathematician Alan Mathison Turing) के साथ भी ऐसा ही हुआ है।वे जिन्दा थे तब उनके काम से लोग बहुत कम परिचित थे परन्तु मरने के बाद उनके कार्यों का व्यापक गुणगान होने लगा।इसका सबसे बड़ा कारण है उनकी महत्ता का पता तभी लगता है जब वह नहीं रहता। लोगों को उसका अभाव खटकता है। कोई व्यक्ति बिना किसी प्रचार या विज्ञापन के कार्य करता रहता है तो लोगों का ध्यान उसकी तरफ बहुत कम जाता है। लेकिन जब वह मर जाता है तो लोगों को लाभ पहुंचता है,वे लोग उसके लिए रोते हैं।तब दूसरे लोगों को उसकी प्रतिभा का पता लगता है और वे उसका गुणगान करने लगते हैं। मानों लोग ऐसा करके उसके प्रति किए गए व्यवहार के लिए प्रायश्चित करते हैं।
  • वस्तुत:यदि जीवित रहते हुए उनको को वो सम्मान दिया जाता जिसके वे हकदार थे तो ब्रिटेन को उनकी प्रतिभा का लाभ ओर मिल सकता था।
  • आपको यह जानकारी रोचक व ज्ञानवर्धक लगे तो अपने मित्रों के साथ इस गणित के आर्टिकल को शेयर करें।यदि आप इस वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो वेबसाइट को फॉलो करें और ईमेल सब्सक्रिप्शन को भी फॉलो करें।जिससे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन आपको मिल सके ।यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए ।आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं।इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

Also read this article-Mathematician Felix Klein

(1.)गणितज्ञ एलन मैथिसन ट्यूरिंग की प्रारम्भिक जीवनी (Early biography of Mathematician Alan Mathison Turing)-

  • एलन मैथिसन ट्यूरिंग का जन्म 23 जून,1912 को मेडा वेली (Maida Vale) लन्दन (इंग्लैंड) में हुआ था।उनके पिता जूलियस मैथिसन ट्यूरिंग चतरपुर (मद्रास) ब्रिटिश राज में भारतीय सिविल सेवा (आईसीएस) में कार्यरत थे।उनकी मां एथेल सारा ट्यूरिंग मद्रास रेलवे के मुख्य अभियंता एडवर्ड वालर स्टोनी की बेटी थी।
  • ट्यूरिंग के माता-पिता ने छह साल की उम्र में,20 चार्ल्स रोड़,सेंट लियोनार्ड्स-आॅन-सी में स्थित स्कूल में उनका दाखिला करवाया।प्रध्यानाध्यापिका ने उनकी प्रतिभा को जल्दी ही पहचान लिया।
  • जनवरी, 1922 और 1926 के बीच एलन ट्यूरिंग की शिक्षा हेजेलहर्स्ट प्रिपेटरी स्कूल में हुई जो ससेक्स (अब ईस्ट ससेक्स) के फ्रैंट गांव में एक स्वतन्त्र स्कूल है।1926 में 13 साल की उम्र में वह शेरबोर्न स्कूल,एक बोर्डिंग स्वतन्त्र स्कूल जो डोरसेट के शेरबोर्न शहर के बाजार में चला गया, में चले गए।ब्रिटेन में 1926 के स्ट्राइक के साथ उनकी शुरुआत हुई परन्तु वे साउथथेम्प्टन से शेरबोर्न तक 60 मील (97 किमी) तक अपनी साइकिल से स्कूल पहुंच गए।
  • 1928 में 16 वर्ष की आयु में ट्यूरिंग को अल्बर्ट आइंस्टीन के काम का सामना करना पड़ा लेकिन उन्होंने न केवल उसे समझाया बल्कि आइंस्टीन के न्यूटन के गति के नियमों के एक पाठ से सवाल करने में कामयाब रहे।
  • शेरबोर्न के बाद ट्यूरिंग ने 1931 से 1934 तक कैम्ब्रिज के किंग्स काॅलेज में स्नातक की पढ़ाई की जहां उन्हें गणित में प्रथम श्रेणी के सम्मान से सम्मानित किया गया।
  • 1935 में 22 वर्ष की आयु में उन्हें एक शोध प्रबन्ध के बल पर किंग्स काॅलेज का फेलो चुना गया जिसमें उन्होंने केन्द्रीय सीमा प्रमेय को साबित किया।

(2.)क्रिस्टोफर मोरकॉम (Christopher Morcom)-

  • शेरबोर्न में, ट्यूरिंग ने साथी शिष्य क्रिस्टोफर कोलन मोरकॉम (13 जुलाई,1911-13 फरवरी 1930) के साथ एक महत्वपूर्ण मित्रता का गठन किया,जिसे ट्यूरिंग के “पहले प्यार” के रूप में वर्णित किया गया है।उनके संबंधों ने ट्यूरिंग के भविष्य के प्रयासों में प्रेरणा प्रदान की,लेकिन मोरकॉम का जीवन छोटा था,फरवरी 1930 में, गोजातीय तपेदिक की जटिलताओं से, कुछ साल पहले संक्रमित गाय का दूध पीने के बाद अनुबंधित किया गया था,से उसकी मृत्यु हो गई।
  • इस घटना के कारण ट्यूरिंग को बहुत दुख हुआ।उन्होंने अपने दुःख का सामना करते हुए विज्ञान और गणित के विषयों पर काम किया,जो उन्होंने मोरकॉम के साथ साझा किया था।मोरकॉम की मां को लिखे पत्र में,फ्रांसिस इसोबेल मोरकॉम (नी स्वान), ट्यूरिंग ने लिखा है:
  • मुझे यकीन है कि मुझे कहीं भी एक और साथी इतना शानदार और अभी तक आकर्षक और असंयमित नहीं मिला।मैंने अपने काम में, और एस्ट्रोनॉमी (जिससे उसने मुझे मिलवाया) जैसी चीजों में अपनी रुचि के बारे में विचार किया और मुझे लगता है कि उसे मेरे बारे में कुछ ऐसा ही लगा … मुझे पता है कि मुझे उतनी ही ऊर्जा लगानी चाहिए  यदि वह मेरे काम में उतनी दिलचस्पी नहीं रखती, जितना कि वह जीवित है,क्योंकि वह वही है जो मुझे करना चाहती है।
  • मॉरकॉम की मां के साथ ट्यूरिंग का संबंध मॉरकोम की मृत्यु के लंबे समय बाद जारी रहा,ट्यूरिंग को उपहार भेजने के साथ और उन्हें पत्र भेजना,आमतौर पर मोरकॉम के जन्मदिन पर।मोरकॉम की मृत्यु की तीसरी वर्षगांठ (13 फरवरी 1933) से एक दिन पहले,उन्होंने श्रीमती मोरकॉम को लिखा:
  • मुझे उम्मीद है कि जब आप इस तक पहुंचेंगे तो आप क्रिस के बारे में सोचेंगे।मैं भी करूंगा, और यह पत्र सिर्फ आपको यह बताने के लिए है कि मैं कल क्रिस और आप के बारे में सोचूंगा।मुझे यकीन है कि वह अब भी उतने ही खुश हैं जितना कि जब वह यहां थे।आपका स्नेही एलन ट्यूरिंग।
  • कुछ लोगों ने अनुमान लगाया है कि मॉरकॉम की मौत ट्यूरिंग की नास्तिकता और भौतिकवाद का कारण थी।जाहिर है,अपने जीवन में इस बिंदु पर वह अभी भी एक आत्मा,शरीर से स्वतंत्र और जीवित मृत्यु के रूप में ऐसी अवधारणाओं में विश्वास करता था।बाद के पत्र में, मोरकॉम की मां को भी लिखा, ट्यूरिंग ने लिखा:
  • व्यक्तिगत रूप से, मेरा मानना ​​है कि आत्मा वास्तव में पदार्थ के साथ शाश्वत रूप से जुड़ा हुआ है,लेकिन निश्चित रूप से एक ही तरह के शरीर से नहीं … जैसा कि आत्मा और शरीर के बीच वास्तविक संबंध के संबंध में मेरा मानना ​​है कि शरीर एक ‘आत्मा’ को धारण कर सकता है,जबकि शरीर  जीवित है और जागृत दोनों मजबूती से जुड़े हुए हैं।  जब शरीर सो रहा होता है तो मैं अनुमान नहीं लगा सकता कि क्या होता है, लेकिन जब शरीर मर जाता है, तो शरीर का ‘तंत्र’, आत्मा को पकड़कर चला जाता है और आत्मा को नया शरीर जल्दी या बाद में, शायद तुरंत मिल जाता है।

(3.)भारत में भी प्रसिद्धि मिली (Also got fame in India)-

  • एलन ट्यूरिंग को अमेरिका,ब्रिटेन के अलावा भारत में भी प्रसिद्धि मिली।एलन ट्यूरिंग को बेहद शर्मिला और मजाकिया गणितज्ञ माना जाता था। साइंस मैगजीन नेचर ने उन्हें ‘मानव,मशीन और मिलिट्री फील्ड का बेस्ट माइन्ड’ करार दिया है।
  • एलन ट्यूरिंग छोटी उम्र में ही इस संसार से विदा हो गए।मगर इस छोटी सी उम्र में भी उन्होंने ऐसा काम किया है कि जिसकी वजह से उन्हें आज भी याद किया जाता है।एलन ट्यूरिंग ने माॅडर्न कम्प्यूटर की नींव रखी।इसके अलावा आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के लिए स्टेण्डर्ड तय किए और द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान जर्मनी की पनडुब्बियों का कोड तोड़कर लाखों लोगों की जान बचाई थी।
  • द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान एलन ट्यूरिंग ने जर्मन पनडुब्बी के सीक्रेट कोड को भी डिकोड कर डाला था और यह किसी महान् काम से कम नहीं था।
  • दुनिया कुछ साल पहले तक जानती ही नहीं थी कि अटलांटिक महासागर में तैनात जर्मन पनडुब्बी का सीक्रेट मैसेज डिकोड करने वाले एलन ट्यूरिंग ही थे।गणितज्ञ कोपलैंड,एलेन ट्यूरिंग पर कई पुस्तकें लिख चुके हैं।
  • एलेन ट्यूरिंग ही वह पहले व्यक्ति थे जिन्होंने मशीन का ऐसा आर्टिफिशियल ब्रेन डवलप किया था जो बिल्कुल किसी इन्सान की तरह ही रिएक्शन दे सकता था।
  • यह कितने दु:ख की बात है कि एलेन ट्यूरिंग के काम और नाम को दुनिया ने उसकी मृत्यु के बाद पहचाना है।
  • 1936 में एलन ट्यूरिंग ने यूनिवर्सल ट्यूरिंग मशीन (Universal Turing Machine) बनाने के लिए एक पेपर पब्लिश किया था।आज के कम्प्यूटर की तरह एलन ट्यूरिंग उस जमाने में ऐसी मशीन बनाने की कोशिश में लगे थे जिसमें एक बार आंकड़े फीड किए जाने के बाद कई तरह के काम किए जा सकें।

(4.)गणितज्ञ एलन मैथिसन ट्यूरिंग की मृत्यु (Death of Mathematician Alan Mathison Turing)-

  • एलन मैथिसन ट्यूरिंग की एक कानून ने जान ले ली।उस समय ब्रिटेन में समलैंगिकता गैर-कानूनी था। वहां के लोग इसे पाप समझते थे। बताया जाता है कि वे एक समलैंगिक थे और अपने पार्टनर के साथ सैक्स के आरोप में उन्होंने आत्महत्या कर ली थी।
  • ब्रिटेन के कानून ने सन् 1952 में गणितज्ञ एलन मैथिसन ट्यूरिंग (Mathematician Alan Mathison Turing) को अश्लीलता का दोषी करार दिया था। यहां तक कि उन्हें दवा देकर नपुंसक तक बनाए जाने की सजा सुनाई गई थी।उनकी मौत काफी विवादित रही है।यह भी अनुमान लगाया जाता है कि ब्रिटेन के इस कानून ने उनको आत्महत्या के लिए प्रेरित किया।

(5.)अब एलन मैथिसन ट्यूरिंग को ब्रिटेन ने सम्मानित किया (Britain now awarded to Alan Mathison Turing)-

  • आज भले इतने वर्षों बाद एलेन ट्यूरिंग की फोटो पाउंड पर छापी हो और बैंक ऑफ इंग्लैड उन्हें सम्मानित कर रहा हो लेकिन कुछ वर्षों पूर्व तक उनके साथ गलत व्यवहार होता था।गणितज्ञ एलन मैथिसन ट्यूरिंग (Mathematician Alan Mathison Turing) ने सायनाइड की गोली खाकर जीवन लीला समाप्त कर ली थी।
  • बैंक ऑफ इंग्लैड (Bank of England) ने पिछले दिनों 50 पाउंड (50 pound) का एक नया नोट जारी किया है।इस नोट पर महान् ब्रिटिश गणितज्ञ एलन मैथिसन ट्यूरिंग (Mathematician Alan Mathison Turing) की फोटो छपी है।
  • एलन ट्यूरिंग ही वो ब्रिटिश वैज्ञानिक हैं जिनकी कोडिंग की वजह से ब्रिटेन को द्वितीय विश्व युद्ध में जीत हासिल हुई थी।
  • ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री गाॅर्डन ब्राउन ने 2009 में यह स्वीकार किया था कि एलेन ट्यूरिंग के साथ बहुत बुरा बर्ताव किया गया है।
  • एलन ट्यूरिंग एक गणितज्ञ ही नहीं थे बल्कि कम्प्यूटर वैज्ञानिक,तर्कशास्त्री,क्रिप्टोकरंसी,दार्शनिक और सैद्धान्तिक जीवविज्ञानी भी थे।

( 6.)गणितज्ञ एलन मैथिसन ट्यूरिंग का सम्मान (Mathematician Alan Mathison Turing Honored)-

  • एलन ट्यूरिंग को 1946 में ऑर्डर ऑफ द ब्रिटिश एम्पायर का अधिकारी नियुक्त किया गया था। उन्हें 1951 में राॅयल सोसायटी (FRS) का फेलो चुना गया।
  • एलन ट्यूरिंग को मैनेचेस्टर शहर में विभिन्न तरीकों से सम्मानित किया गया है जहां उन्होंने अपने जीवन के अन्त में काम किया।
    1994 में A6010 रोड़ (मैनेचेस्टर सिटी इंटरमीडिएट रिंग रोड़) के हिस्से को “एलन ट्यूरिंग रोड़ वे” नाम दिया गया था।इस सड़क को ले जाने वाले एक पुल को चौड़ा किया गया था और इसका नामकरण एलन ट्यूरिंग ब्रिज है।
  • 1999 में टाइम पत्रिका को एलेन ट्यूरिंग को 20वीं सदी के 100 महत्त्वपूर्ण लोगों में से एक के रूप में नामित किया गया और कहा,”तथ्य यह है कि हर कोई जो एक की बोर्ड पर टैप करता है,एक स्प्रैडशीट या एक वर्ड-प्रोसेसिंग प्रोग्राम खोल रहा है,समय के अवतार पर काम कर रहा है ट्यूरिंग मशीन।

(7.)एलन मैथिसन ट्यूरिंग का योगदान (Alan Mathison Turing’s Contribution)-

  • 1936 में, ट्यूरिंग ने अपने पेपर को “ऑन कंप्यूटेबल नंबर्स, ए एप्लीकेशन विद द एंत्सीड्यूंगस्पेलब्लेम” प्रकाशित किया।यह प्रोसीडिंग्स ऑफ लंदन मैथमेटिकल सोसाइटी जर्नल में दो भागों में प्रकाशित हुआ, पहला 30 नवंबर को और दूसरा 23 दिसंबर को।इस पत्र में, ट्यूरिंग ने कर्ट गोडेल के 1931 के परिणामों को सबूत और गणना की सीमाओं पर सुधार दिया, जो कि टॉड मशीनों के रूप में जाना जाने वाला औपचारिक और सरल काल्पनिक उपकरणों के साथ गोडेल की सार्वभौमिक अंकगणितीय-आधारित औपचारिक भाषा की जगह ले लिया।1928 में जर्मन गणितज्ञ डेविड हिल्बर्ट द्वारा द एन्सेचिडुंगस्प्रोब्लेम (निर्णय समस्या) को मूल रूप से प्रस्तुत किया गया था। ट्यूरिंग ने साबित किया कि उनकी “सार्वभौमिक कंप्यूटिंग मशीन” किसी भी बोधगम्य गणितीय गणना का प्रदर्शन करने में सक्षम होगी यदि यह एक एल्गोरिथम के रूप में प्रतिनिधित्व योग्य है।  वह यह साबित करने के लिए चला गया कि पहले निर्णय लेने की समस्या का कोई समाधान नहीं था,यह दिखाते हुए कि ट्यूरिंग मशीनों के लिए हॉल्टिंग की समस्या अनिर्दिष्ट है: यह एल्गोरिदमिक रूप से तय करना संभव नहीं है कि क्या ट्यूरिंग मशीन कभी भी रुक जाएगी।इस पत्र को “आसानी से इतिहास का सबसे प्रभावशाली गणित का पेपर” कहा गया है।हालाँकि ट्यूरिंग का प्रमाण अलोंजो चर्च द्वारा उनके लैम्ब्डा कैलकुलस का उपयोग करने के बराबर प्रमाण के तुरंत बाद प्रकाशित किया गया था,ट्यूरिंग का दृष्टिकोण चर्च की तुलना में काफी अधिक सुलभ और सहज है।इसमें एक ‘यूनिवर्सल मशीन’ (जिसे अब यूनिवर्सल ट्यूरिंग मशीन के रूप में जाना जाता है) की एक धारणा भी शामिल है, इस विचार के साथ कि ऐसी मशीन किसी अन्य संगणना मशीन के कार्यों को निष्पादित कर सकती है (जैसा कि वास्तव में चर्च की लैम्ब्डा कलन कर सकती है)।चर्च-ट्यूरिंग थीसिस के अनुसार, ट्यूरिंग मशीन और लैम्ब्डा कलन गणना योग्य कुछ भी गणना करने में सक्षम हैं।जॉन वॉन न्यूमैन ने स्वीकार किया कि आधुनिक कंप्यूटर की केंद्रीय अवधारणा ट्यूरिंग के पेपर के कारण थी।आज तक, ट्यूरिंग मशीनें गणना के सिद्धांत में अध्ययन का एक केंद्रीय उद्देश्य हैं।
  • सितंबर 1936 से जुलाई 1938 तक, ट्यूरिंग ने अपना अधिकांश समय प्रिंस यूनिवर्सिटी,में प्रिंस एल्टन प्रोक्टर विजिटिंग फेलो के रूप में चर्च के तहत अध्ययन करते हुए बिताया।अपने विशुद्ध गणितीय कार्य के अलावा, उन्होंने क्रिप्टोलॉजी का अध्ययन किया और इलेक्ट्रो-मैकेनिकल बाइनरी गुणक के चार चार चरणों में से एक का निर्माण भी किया।जून 1938 में,उन्होंने प्रिंसटन में गणित विभाग से पीएचडी की उपाधि प्राप्त की;ट्यूरिंग मशीनों को तथाकथित oracles के साथ संवर्धित किया जाता है, जिससे ट्यूरिंग मशीनों द्वारा हल नहीं की जा सकने वाली समस्याओं के अध्ययन की अनुमति मिलती है।जॉन वॉन न्यूमैन उन्हें अपने पोस्टडॉक्टरल सहायक के रूप में नियुक्त करना चाहते थे, लेकिन वे यूनाइटेड किंगडम वापस चले गए।
  • उपर्युक्त विवरण में गणितज्ञ एलन मैथिसन ट्यूरिंग (Mathematician Alan Mathison Turing),गणितज्ञ एलन ट्यूरिंग (Mathematician Alan Turing) के बारे में बताया गया है।

Also Read This Article-Mathematician Donald Ervin Knuth

2.गणितज्ञ एलन मैथिसन ट्यूरिंग (Mathematician Alan Mathison Turing) के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न-

प्रश्न:1.गणितज्ञ के रूप में एलन ट्यूरिंग ने क्या किया? (What did Alan Turing do as a Mathematician?)

उत्तर-एलन ट्यूरिंग एक गणितज्ञ, क्रिप्टोग्राफर और कंप्यूटर विज्ञान के एक अग्रणी थे।आज, ट्यूरिंग को द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान Bletchley Park में उनके काम के लिए जाना जा सकता है, और जर्मन एनिग्ज कोड (Enigma Code) को तोड़ने में उनका हिस्सा है।
आविष्कार: यूनिवर्सल ट्यूरिंग मशीन

प्रश्न:2.एलन ट्यूरिंग किस लिए प्रसिद्ध है? (What is Alan Turing famous for?)

उत्तर-ट्यूरिंग का सबसे उल्लेखनीय काम आज कंप्यूटर वैज्ञानिक के रूप में है।1936 में, उन्होंने यूनिवर्सल ट्यूरिंग मशीन के लिए विचार विकसित किया, जो पहले कंप्यूटर का आधार था।और उन्होंने 1950 में कृत्रिम बुद्धिमत्ता (Artificial Intelligence) के लिए एक परीक्षण विकसित किया, जिसका आज भी उपयोग किया जाता है।लेकिन उन्होंने भौतिकी का भी अध्ययन किया, विशेष रूप से एक युवा के रूप में ।
पेशे: गणितज्ञ, कंप्यूटर वैज्ञानिक
आविष्कार: यूनिवर्सल ट्यूरिंग मशीन

प्रश्न:3.क्या एलन ट्यूरिंग ने पहले कंप्यूटर का आविष्कार किया था? (Did Alan Turing invent the first computer?)

उत्तर-एपेल, प्रिंसटन कंप्यूटर विज्ञान विभाग।”ट्यूरिंग ने कंप्यूटर विज्ञान और कंप्यूटर के विचार का आविष्कार किया, और जॉन वॉन न्यूमैन ने पहला संग्रहीत प्रोग्राम कंप्यूटर बनाया।”  प्रिंसटन में ट्यूरिंग का एक लिंगरिंग ट्रेस (lingering trace of Turing) है।

प्रश्न:4.एलन ट्यूरिंग को किसने प्रेरित किया? (Who inspired Alan Turing?)

उत्तर-इसके बाद एलन का काम क्वांटम भौतिकी और उन्नत गणित के इर्द-गिर्द घूमता रहा,जो क्रिस्टोफर से काफी प्रेरित था।उन्होंने मानव और मशीन आउटपुट की तुलना के लिए एक ‘नकल के खेल’ के विचार सहित एक दार्शनिक पत्र प्रकाशित किया,जिसे अब ट्यूरिंग टेस्ट कहा जाता है।

प्रश्न:5.एलन ट्यूरिंग फिल्म (Alan Turing Movie)

द इमिटेशन गेम 2014 की ऐतिहासिक ड्रामा फिल्म है, जो मोर्टेन टाइल्डम (Morten Tyldum) द्वारा निर्देशित और ग्राहम मूर (Graham Moore) द्वारा लिखित है,जो 1983 की जीवनी एलन ट्यूरिंग पर आधारित है।

प्रश्न:6.एलन ट्यूरिंग कंप्यूटर (Alan Turing Computer)

उत्तर-एलन ट्यूरिंग कंप्यूटर
एलन ट्यूरिंग एक ब्रिटिश वैज्ञानिक और कंप्यूटर विज्ञान में अग्रणी थे।द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान, उन्होंने एक मशीन विकसित की जिसने जर्मन एनिग्मा कोड (German Enigma Code) को तोड़ने में मदद की।उन्होंने आधुनिक कंप्यूटिंग के लिए भी आधार तैयार किया और कृत्रिम बुद्धिमत्ता के बारे में सिद्ध किया ।
मृत्यु का कारण: आत्महत्या
जन्म: 23 जून,1912

प्रश्न:7.एलन ट्यूरिंग जीवनी (Alan Turing Biography)

उत्तर-एलन ट्यूरिंग, पूर्ण एलन मैथिसन ट्यूरिंग में, (जन्म 23 जून, 1912, लंदन, इंग्लैंड-मृत्यु-7 जून, 1954,विल्म्सलो, चेशायर), ब्रिटिश गणितज्ञ और तर्कशास्त्री, जिन्होंने गणित, क्रिप्टानालिसिस, तर्कशास्त्र, दर्शनशास्त्र और गणितीय जीवविज्ञान में प्रमुख योगदान दिया।गणितीय जीव विज्ञान और नए क्षेत्रों में भी बाद में कंप्यूटर विज्ञान का नाम दिया गया।

प्रश्न:8.एलन ने क्या किया? (What Did Alan Turing Do?)

उत्तर-एलन ट्यूरिंग एक अंग्रेजी गणितज्ञ और सैद्धांतिक कंप्यूटर विज्ञान और कृत्रिम बुद्धि के अग्रणी थे।द्वितीय विश्व युद्ध (WW2) के दौरान, उन्होंने जर्मन एनिग्मा कोड को तोड़ने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, जिससे नाजी जर्मनी पर मित्र देशों की जीत हुई।

प्रश्न:9.एलन ट्यूरिंग एनिग्मा मशीन (Alan Turing Enigma Machine)

उत्तर-कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी के गणितज्ञ और तर्कशास्त्री एलन ट्यूरिंग ने मूल सोच के बारे में बहुत कुछ बताया, जिसके कारण क्रिप्टोकरंसीटल बॉम्बे का डिजाइन तैयार किया गया था।
बॉम्बे एक विद्युत-यांत्रिक उपकरण है, जिसका इस्तेमाल ब्रिटिश क्रिप्टोकरंसीज द्वारा जर्मन एनिग्मा-मशीन-एन्क्रिप्टेड को समझने में मदद के लिए किया जाता है।एलन ट्यूरिंग ने अनुमान लगाया कि कितने बॉम्बे हैं।

  • उपर्युक्त प्रश्नों के उत्तर द्वारा गणितज्ञ एलन मैथिसन ट्यूरिंग (Mathematician Alan Mathison Turing),गणितज्ञ एलन ट्यूरिंग (Mathematician Alan Turing) के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।
No.Social MediaUrl
1.Facebookclick here
2.you tubeclick here
3.Instagramclick here
4.Linkedinclick here
5.Facebook Pageclick here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *