Menu

How do students use brain 100 percent?

1.विद्यार्थी मस्तिष्क का 100 प्रतिशत उपयोग कैसे करें? (How do students use brain 100 percent?)-

विद्यार्थी मस्तिष्क का 100 प्रतिशत उपयोग करें (students use brain 100 percent) ,इसके लिए कुछ खास बातों का ध्यान रखना आवश्यक है। विद्यार्थियों को गणित में बहुत ही जटिल सवालों का सामना करना पड़ता है।इसलिए यदि विद्यार्थी दिमाग का 100 प्रतिशत उपयोग करें (students use brain 100 percent) तो गणित विषय उनके लिए आसान हो जाएगा। इस आर्टिकल में कुछ खास टिप्स का जिक्र किया गया है जिनकी मदद से विद्यार्थी अपने दिमाग की क्षमता का 100% उपयोग कर सकते हैं और जीवन में सफलता अर्जित कर सकते है।इन टिप्स की सहायता से हर कार्य में सफलता अर्जित करना आसान हो जाएगा।
हर व्यक्ति को भगवान ने मस्तिष्क दिया है परंतु कुछ व्यक्ति जीवन में खूब सफलता प्राप्त कर लेते हैं और कुछ व्यक्ति जीवन में असफल होकर रह जाते हैं।इसी प्रकार स्कूल में भी कुछ विद्यार्थी बहुत अच्छे अंक अर्जित करते हैं जबकि कुछ विद्यार्थी पास होने में असमर्थ रहते हैं ।जो विद्यार्थी असफल होते हैं वे भगवान को दोष देते हैं कि भगवान ने उनको कम दिमाग दिया है।दरअसल कम या ज्यादा दिमाग वाला तथ्य तर्कहीन हैं।दिमाग की क्षमता इस बात पर निर्भर करती है कि विद्यार्थी अपने दिमाग का कितना और किस प्रकार उपयोग करते हैं।आज इस आर्टिकल में इस पर चर्चा की गई है कि विद्यार्थी मस्तिष्क का 100 प्रतिशत उपयोग कैसे करें?(How do students use brain 100 percent )
आपको यह जानकारी रोचक व ज्ञानवर्धक लगे तो अपने मित्रों के साथ इस गणित के आर्टिकल को शेयर करें ।यदि आप इस वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो वेबसाइट को फॉलो करें और ईमेल सब्सक्रिप्शन को भी फॉलो करें जिससे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन आपको मिल सके ।यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए ।आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं। इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

Also Read This Article-7 ways to Write Answers in Board Exam

2.विद्यार्थी मस्तिष्क का 100 प्रतिशत उपयोग करें की पहली टिप्स है ,हर काम में अपना 100% देने की सोच अपनाएं (The first tip is to students use brain 100 percent , think of giving your 100% in every task)-

हर विद्यार्थी जो परीक्षा को टाॅप करता है वह परीक्षा की तैयारी हेतु अपना 100% क्षमता का उपयोग करने की कोशिश करता है।टाॅप करने वाले विद्यार्थी यही सोच रखता है कि वह परीक्षा में बेस्ट परफाॅर्म करेगा।ऐसा विद्यार्थी अपनी इस सोच को वास्तविकता में परिवर्तित करने के लिए अपने मस्तिष्क को सही दिशा में संचालित करता है जिससे उसकी तैयारी बेहतर हो सके।
दूसरी ओर जो विद्यार्थी केवल परीक्षा में पास होने का मकसद रखते हैं, उनका मस्तिष्क उसी लय में काम करता है। अपनी ऐसी सोच के कारण ऐसे विद्यार्थी पर्याप्त तैयारी नहीं कर पाते हैं और अपने मस्तिष्क की पूरी क्षमता का उपयोग नहीं करते हैं।इसी कारण प्रश्न-पत्र थोड़ा सा भी मुश्किल आ जाता है तो वे उसे सही तरीके से अटेम्प्ट नहीं कर पाते और असफल हो जाते हैं।

3.मस्तिष्क को सही तरीके से नियंत्रित करें (Control the brain properly)-

हमारे मस्तिष्क की गति दोनों तरफ हो सकती है । ये दोनों तरफ की गति है-उत्थान और पतन की ओर। यदि हम मस्तिष्क का सही उपयोग न करें और उसे नियंत्रित नहीं करें तो हम पतन की ओर बढ़ते जाते हैं जबकि इसे सही दिशा में नियंत्रित करें और उसका उपयोग करें तो अच्छा परिणाम प्राप्त कर सकते हैं। इसलिए यदि आप हर कार्य को बेस्ट तरीके से करने का संकल्प लेते हैं तो दिमाग का sub-concious हिस्सा,आपकी कल्पना के अनुसार कार्य करता है।sub-concious माइंड आपकी कल्पना के अनुसार आपके जीवन के सभी महत्वपूर्ण निर्णय लेता है ।यदि विद्यार्थी अपने मस्तिष्क का 100 प्रतिशत उपयोग करें (students use their brain 100 percent) तो यह आपको बेस्ट परिणाम पाने में मदद करता है।

4.रुचिपूर्वक अध्ययन करें (Study favorably)-

यदि आप अध्ययन में बेस्ट परिणाम प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको अध्ययन रूचिपूर्वक करना चाहिए ।यदि आप रुचिपूर्वक अध्ययन करते हैं तो मस्तिष्क भी अध्ययन के प्रति अधिक कुशलता दिखाता है।इसके फलस्वरूप मस्तिष्क अपने सभी constructive हिस्सो में मजबूत कनेक्शन बनाता है और उनको निपुणता से चलाता है।आप रुचिपूर्वक अध्ययन को उसके बेस्ट परिणाम तक पहुंचाने के तरीके या steps की रचना करने में जुट जाते हैं तो विद्यार्थी मस्तिष्क का 100 प्रतिशत उपयोग करने (students use brain 100 percent) में सफल हो जाता है।

Also Read This Article-How to Prepare for an Exam in a Week?

5.मस्तिष्क को रचनात्मक कार्यों में व्यस्त रखें (Keep the brain busy with creative tasks)-

यदि किसी मशीन से कार्य करना बंद कर देते हैं तो उसकी क्षमता कम हो जाती है।ठीक उसी प्रकार यदि मस्तिष्क को रचनात्मक गतिविधियों में व्यस्त न रखा जाए तो उसका ज्यादातर हिस्सा कुशलता पूर्वक कार्य करना बंद कर देता है। इसलिए मस्तिष्क को अध्ययन के ऐसे कार्य में लगा देना चाहिए जिनमें बुद्धि को विकसित करने में मदद मिले। जैसे कोई क्रॉसवर्ड हल करना ,गणित की पहेलियां को हल करना ,गणित की जटिल समस्याओं को हल करना इत्यादि को हल करने पर मस्तिष्क का अधिकतम हिस्सा सक्रिय रहेगा और अध्ययन को कुशलता पूर्वक करना सीख जाएगा।

6.अध्ययन करने की क्षमता को बढ़ाएं (Increase study ability)-

आप जितना अधिक अध्ययन करते हैं मस्तिष्क अध्ययन के प्रति उतना ही response देता है।यदि प्रतिदिन 3 घंटे अध्ययन करते हैं तो मस्तिष्क हर रोज 3 घंटे प्रतिक्रिया करेगा।यदि आप अध्ययन करने की क्षमता को बढ़ाकर 5 घंटे कर देते हैं तो आपका मस्तिष्क भी अपनी कार्यक्षमता को बढ़ाते हुए अपनी निष्क्रिय हिस्से को सक्रिय कर देता है। यदि विद्यार्थी बेहतर तथा मनचाहा परिणाम प्राप्त करना चाहते हैं तो विद्यार्थी मस्तिष्क का उपयोग 100 प्रतिशत करें (students use brain 100 percent)।हर व्यक्ति की सफलता का राज मस्तिष्क से जुड़ा होता है ।आप अपने मस्तिष्क का अधिकतम उपयोग करें और परिणाम देखें। तो विद्यार्थीयों आप उपयुक्त तरीकों से मस्तिष्क का उपयोग 100 प्रतिशत करें (students use brain 100 percent)।

No. Social Media Url
1. Facebook click here
2. you tube click here
3. Twitter click here
4. Instagram click here
5. Linkedin click here
6. Facebook Page click here

No Responses

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *