Menu

Charles Mbena 6Year Mathematics Genius

1.चार्ल्स मैथियास एमबीना 6 वर्षीय मैथमेटिक्स जीनियस (Charles Mbena 6Year Mathematics Genius),चार्ल्स एमबीना: 6 वर्षीय लड़के की स्व-शिक्षा के लिए गणितीय प्रतिभा के रूप में प्रशंसा की गई (Charles Mbena: Self-taught 6-year-old boy praised as Mathematics Genius)-

  • चार्ल्स मैथियास एमबीना 6 वर्षीय मैथमेटिक्स जीनियस (Charles Mbena 6Year Mathematics Genius) से मिलिए।
    चार्ल्स एमबीना (Charles Mbena): 6-वर्षीय लड़के ने गणित प्रतिभा के रूप में प्रशंसा प्राप्त की।
    एक यूट्यूब वीडियो में,छह वर्षीय चार्ल्स एमबीना ने खुलासा किया कि वह हमेशा संख्याओं के साथ प्यार करता रहा है और किसी ने उसे सिखाया नहीं है।
  • चार भाई-बहनों के परिवार में पैदा हुए अंतिम चार्ल्स एमबीना ने कहा कि उनके बड़े भाई-बहन कभी-कभी गणित की मदद के लिए उनके पास आते हैं।
  • यह पूछे जाने पर कि क्या वह राष्ट्रपति जॉन मैगुफुली को बताएंगे कि क्या वह उनसे प्रथम बार मिले, उन्होंने कहा कि उनके मन में कुछ नहीं था।
  • चार्ल्स मैथियास एमबीना (Charles Mathias Mbena) एक युवा गणित प्रतिभा है जो तंजानिया के मोरोगोरो के दूरस्थ भागों में से एक से आता है।
  • 6 वर्षीय तंजानिया के लड़के ने गणित की प्रतिभा के रूप में प्रशंसा प्राप्त की, कोई भी उसे नहीं सिखाता है
    6 साल की उम्र में एक गणित प्रतिभा के रूप में ऑनलाइन प्रशंसा की गई है।
  • एमबीना उस समय सुर्खियों में आईं जब उनके शिक्षक ने गणित के सवालों का जवाब देते हुए उनका एक वीडियो आसानी से साझा किया, यहां तक ​​कि वह जो अपनी उम्र के हिसाब से बहुत एडवांस्ड लग रहा था।
  • चार भाई-बहनों के परिवार में पैदा हुए अंतिम चार्ल्स एमबीना व्यक्ति निंगवा प्राइमरी स्कूल में एक किंडरगार्टन छात्र है, जो केवल दो महीने से स्कूल में है।
  • लड़का लकड़ी से जहाज, तिपहिया, बस प्रतिकृतियां बनाता है, फोटो लोगों को बात करते हुए मिलता है।
    वह भविष्य में गणित के शिक्षक बनने की ओर देखता है क्योंकि वह यह बता सकता है कि, उस निविदा उम्र में भी, संख्यात्मक ज्ञान उसका आधार है।
  • एक YouTube वीडियो में, Mbena ने खुलासा किया कि उसकी संख्यात्मक कौशल को उसने स्वयं सीखा है, जो कि उसकी शिक्षक सोफिया ने भी उसे नहीं सिखाया।
  • “तो, अगर कोई आपको नहीं सिखाता है तो आप कैसे गिनती करना जानते हैं?”YouTuber से पूछा।
  • उन्होंने कहा, “मैं अपनी उंगलियों की मदद से गिनती करता हूं।मुझे पता है कि मेरे पास 10 उंगलियां और 10 पैर की उंगलियां हैं, जो मेरे आसपास 20 का पहला आंकड़ा है।”
  • वह समझाने के लिए आगे बढ़े कि परिवार में सबसे छोटे होने के बावजूद, उनके बड़े भाई-बहन कभी-कभी गणित के सवालों की मदद के लिए उनके पास आते हैं।
  • साक्षात्कार में उत्साह का क्षण था जब एमबीना से पूछा गया था कि अगर वह उनसे एक मुलाकात करते हैं तो वह राष्ट्रपति को क्या बताएंगे।
  • “मैं बस उसे बधाई दूंगा,” उन्होंने कहा।
  • “अभिवादन के अलावा, आप उससे और क्या अनुरोध करेंगे?”साक्षात्कारकर्ता को ठेस पहुंचाई।
    किस्मत उस युवक पर मुस्कुराती है जिसने जूता फेंक दिया और उसे ट्रोट्रो की तरह चित्रित किया,एडिडास उससे मिलना चाहता है।
  • “मुझे नहीं पता कि मैं उसे और क्या बताऊंगा,” युवक ने कहा।
  • आपको यह जानकारी रोचक व ज्ञानवर्धक लगे तो अपने मित्रों के साथ इस गणित के आर्टिकल को शेयर करें।यदि आप इस वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो वेबसाइट को फॉलो करें और ईमेल सब्सक्रिप्शन को भी फॉलो करें।जिससे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन आपको मिल सके ।यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए ।आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं।इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

Also Read This Article-12-yr Egyptian Girl Teach Mathematics

2.चार्ल्स मैथियास एमबीना 6 वर्षीय मैथमेटिक्स जीनियस का निष्कर्ष (Conclusion of Charles Mbena 6Year Mathematics Genius),6 साल के लड़के को स्वयं पढ़ाया जाता है,जो गणित का जीनियस है (Meet self-taught 6-year-old boy who is a mathematics genius)-

  • चार्ल्स मैथियास एमबीना 6 वर्षीय मैथमेटिक्स जीनियस (Charles Mbena 6Year Mathematics Genius) से मिलिए जिसको संख्याओं से बेहद प्यार है।वह अंकों से खेलता रहता है।
  • उसकी सबसे बड़ी विशेषता है कि वह संख्याओं और अंकों का प्रयोग करना स्वयं सीखता है।संख्याओं और अंकों से विभिन्न आकृतियां बनाना उसने अपने भाई-बहनों और शिक्षकों ने नहीं सीखा बल्कि स्वयं सीखा है।
  • स्वयं प्रेरणा से,अंतर्ज्ञान से सीखने के उदाहरण बहुत दुर्लभ मिलते हैं,पर मिलते अवश्य हैं।
  • चार्ल्स मैथियास एमबीना के उदाहरण से यह सिद्ध होता है कि मनुष्य पूर्व जन्मों के कर्म-संस्कार लेकर जन्म लेता है। उन्हीं पूर्व जन्म के कर्म और संस्कारों के कारण व्यक्ति किसी भी क्षेत्र में आगे बढ़ सकता है।भारतीय धर्म-शास्त्रों में बहुत पहले से ही वर्णित है कि मनुष्य पूर्व जन्मों के कर्म-संस्कार लेकर जन्म लेता है।
  • चार्ल्स मैथियास एमबीना ने गणित में सीखने तथा उसके बेहद लगाव के कारण उसका वीडियो यूट्यूब पर वायरल हो गया है।
  • उसका वीडियो वायरल होने के कारण वह सुर्खियों में आ गया तथा सोशल मीडिया में चारों तरफ उसकी प्रशंसा की जा रही है।
  • चार्ल्स मैथियास एमबीना मात्र 6 वर्ष का छात्र है।इस छात्र से यह सीखा जा सकता है कि प्रत्येक छात्र-छात्राएं अपने अंदर छिपी हुई प्रतिभा को स्वयं कोशिश करके उभार सकता है।
  • छात्र-छात्राओं को किसी शिक्षक का मार्गदर्शन मिल जाता है तो सोने पर सुहागा का कार्य हो जाता है।अर्थात् उसकी प्रतिभा तीव्र गति से विकसित होती है।
  • यह उदाहरण उन छात्र-छात्राओं के लिए विशेषतौर से है जो अपनी स्थिति के लिए सुख-सुविधाओं,शिक्षकों तथा अन्य किसी का सहयोग न मिलने का रोना रोते हैं।
  • कठिनाइयों तथा विपत्तियों में मनुष्य की प्रतिभा अच्छी तरह विकसित होती है,निखरती है।यदि पेड़-पौधों के सामने आंधी-तूफान, झंझावात नहीं आएं तो वे जमीन में मजबूती से खड़े होने की स्थिति प्राप्त नहीं कर सकते हैं।
    गणित को कठिन विषय समझने वालों को चार्ल्स मैथियास एमबीना से सीख लेनी चाहिए।
  • प्रत्येक छात्र-छात्राओं को अपनी प्रतिभा को पहचानकर उसमें अपने कैरियर को आगे बढ़ाना चाहिए।यह आवश्यक नहीं है कि प्रत्येक छात्र-छात्रा में गणितीय प्रतिभा हो। परन्तु जो भी,जिस भी क्षेत्र में प्रतिभा के लक्षण दिखाई दें उसमें आगे बढ़ते जाना चाहिए।
  • यदि कोई भी व्यक्ति,छात्र-छात्रा इस प्रतीक्षा में रहेंगे कि कोई आकर उसकी मदद करेंगे तभी भी वे आगे बढ़ सकेंगे।इस प्रकार की मानसिकता से वे अंत तक प्रतीक्षा ही करते रहेंगे और उनकी प्रतिभा छिपी हुई रह जाएगी।
  • लोग जनमानस किसी भी व्यक्ति की मदद करने तथा उसके साथ तब जुड़ते हैं जब वह अकेला कठिनाइयों से संघर्ष करके कुछ मुकाम हासिल कर लेता है।
  • शिक्षार्थी के लिए शिक्षा प्राप्त करना एक साधना है,एक तपस्या है, इसमें भौतिक सुख-सुविधाओं को छोड़ना पड़ता है। सुख और शिक्षा में से एक ही प्राप्त हो सकता है।नीति का वचन है कि शिक्षार्थी के लिए सुख नहीं और सुखार्थी के लिए शिक्षा नहीं।
    शिक्षा में सफलता अर्जित करने के लिए पुरुषार्थ करना चाहिए।अपनी बौद्धिक क्षमता को बढ़ाना चाहिए और सूझबूझ से काम लेना चाहिए।अवरोध पैदा करने वाली त्रुटियों को सुधारना चाहिए।सफलता का द्वार तभी खुल सकता है।
  • वस्तुतः हम यह गलती कर बैठते हैं कि हमारा ध्यान लक्ष्य की ओर होता है परंतु लक्ष्य को साधने की कार्यप्रणाली पर ध्यान नहीं देते हैं।यदि सारा ध्यान कर्म,साधन प्रणाली पर रखें,उसकी पूर्ति के प्रलोभन में बिल्कुल न फंसे तो चमत्कारिक सफलता अर्जित हो सकती है।गीता का मूल उपदेश यही है कि हमें निरंतर कर्म में लगे रहना चाहिए,फल की इच्छा,उसके पीछे अंधा होना पतन की ओर ले जाता है।
  • उपर्युक्त विवरण में चार्ल्स मैथियास एमबीना 6 वर्षीय मैथमेटिक्स जीनियस (Charles Mbena 6Year Mathematics Genius),चार्ल्स एमबीना: 6 वर्षीय लड़के की स्व-शिक्षा के लिए गणितीय प्रतिभा के रूप में प्रशंसा की गई (Charles Mbena: Self-taught 6-year-old boy praised as Mathematics Genius) के बारे में बताया गया है।

Also Read This Article-Anish Singh wins Medals in Mathematics

No. Social Media Url
1. Facebook click here
2. you tube click here
3. Instagram click here
4. Linkedin click here
5. Facebook Page click here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *