Menu

What is Truth and his Meaning in hindi

1.सत्य और उसका अर्थ क्या है? का परिचय (Introduction to What is Truth and his Meaning?),सत्य का आधार क्या है? (What is the Basis of Truth?):

  • सत्य और उसका अर्थ क्या है? (What is Truth and his Meaning in hindi),सत्य का आधार क्या है? (What is the Basis of Truth?):जो बात जैसी देखी,सुनी अथवा की हो अथवा जैसी वह मन में हो उसको उसी प्रकार वाणी द्वारा प्रकट करना सत्य बोलना कहलाता है। मनुष्य को न सिर्फ सत्य बोलना ही चाहिए बल्कि सत्य ही मन में विचार मन में लाना चाहिए और सत्य ही काम करना चाहिए।
  • आपको यह जानकारी रोचक व ज्ञानवर्धक लगे तो अपने मित्रों के साथ इस Video को शेयर करें। यदि आप इस वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो वेबसाइट को फॉलो करें और ईमेल सब्सक्रिप्शन को भी फॉलो करें जिससे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन आपको मिल सके।यदि वीडियो पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए।आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं। इस वीडियो को पूरा देखें।


via https://youtu.be/_XfRonHoKHg

2.सत्य और उसका अर्थ क्या है? (What is Truth and his Meaning in hindi),सत्य का आधार क्या है? (What is the Basis of Truth?):

  • सर्वथा सत्य का व्यवहार करने से ही मनुष्य की स्वयं की उन्नति होती है और परमार्थ में सच्ची सफलता मिल सकती है।जो मनुष्य अपने सब कार्यों में सत्य को धारण करता है,वह क्रियासिद्ध और वाचासिद्ध हो जाता है।अर्थात् जो कार्य वह करता है,उसमें निष्फलता कभी होती ही नहीं और जो बात वह कहता है,वह पूरी हो जाती है।
  • सत्य वास्तव में भगवान् का स्वरूप है।इसलिए जिसके हृदय में सत्य का वास है,उसके हृदय में भगवान् का वास है।किसी कवि ने कहा है किः
    सांच बरोबर तप नहीं,झूठ बरोबर पाप।
    जाके हिरदय सांच है,ताके हिरदय आप।।
  • अर्थात् सत्य के समान ओर कोई तप नहीं और झूठ के बराबर कोई पाप नहीं।जिसके हृदय में सत्य का वास है,उसके हृदय में भगवान का वास है।इसलिए सत्य का आचरण करने में मनुष्य को पीछे न हटना चाहिए।उपनिषद में भी कहा हैः
    नहि सत्यात्परो धर्मो नानृतात्पातकं परम्।
    नहि सत्यात्परो ज्ञानं तस्मात्सत्यं समाचरेत्।।
  • अर्थात् सत्य से श्रेष्ठ अन्य कोई धर्म नहीं है और झूठ के बराबर अन्य कोई पातक नहीं है।इसी प्रकार सत्य से श्रेष्ठ ओर कोई ज्ञान नहीं है।इसलिए सत्य का ही आचरण करना चाहिए।
  • प्रायः संसार में ऐसा देखा जाता है कि सत्य का आचरण करनेवालों को कष्ट उठाना पड़ता है और मिथ्याचारी,पाखंडी,धूर्त लोग सुख से जीवन व्यतीत करते हैं।परन्तु जो विचारशील मनुष्य हैं वे जानते हैं कि सत्य से प्रथम तो चाहे कष्ट हो परन्तु अन्त में अक्षय सुख की प्राप्ति होती है।और मिथ्या आचरण से पहले सुख होता है और अन्त में उसकी दुर्गति होती है।वास्तव में सच्चा सुख वही है जो परिणाम में हितकारक हो।कृष्ण भगवान् ने गीता में तीन प्रकार के सुखों की व्याख्या करते हुए कहा है किः
    यत्तदग्रे विषमिव परिणामेअमृतोपमम्।
    तत्सुखं सात्विकं प्रोक्तमात्मबुद्धिप्रसादम्।।
  • अर्थात् जो पहले तो विष की तरह कटु और दुःखदायक मालूम होता है परन्तु पीछे अमृत के तुल्य मधुर और हितकारक होता है,वही सच्चा सात्विक सुख है।ऐसा सुख आत्मा और बुद्धि की प्रसन्नता से उत्पन्न होता है।
  • आत्मा और बुद्धि की प्रसन्नता का उपाय क्या है? क्या मिथ्या आचरण से कभी आत्मा और बुद्धि प्रसन्न हो सकती है।सब जानते हैं कि पापी आदमी की बुद्धि ठिकाने नहीं रहती है।उसका पाप ही उसको खाता रहता है।पहले तो वह समझता है कि मैं मिथ्या आचरण करके खूब सुखी हूं पर उसके उसी सुख के अन्दर ऐसा गुप्त विष छिपा हुआ है जो किसी दिन उसका सर्वनाश कर देगा।उस समय उसे स्वर्ग-नरक कहीं भी ठिकाना न लगेगा।इसलिए मिथ्या आचरण छोड़कर मनुष्य को सदैव सत्य का ही बर्ताव करना चाहिए।इसी से मन और बुद्धि को सच्ची प्रसन्नता प्राप्त होती है और ऐसा सच्चा सुख प्राप्त होता है जिसका कभी नाश नहीं होता।
  • सत्य से ही यह सारा संसार चल रहा है।यदि सत्य एक क्षण के लिए भी अपना कार्य बन्द कर दे तो प्रलय हो जाय।यदि एक मनुष्य कुछ मिथ्या आचरण करता है तो दूसरा तुरन्त ही सत्य आचरण करके इस सृष्टि की रक्षा करता है।यह मनुष्य की बात नहीं है बल्कि संसार की अन्य भौतिक शक्तियां भी सत्य से चल रही हैं।
  • जो लोग सत्य का आचरण नहीं करते हैं,उनकी पूजा,जप,तप सब व्यर्थ है।जैसे ऊसर भूमि में बीज बोने से कोई फल नहीं होता है।आजकल प्रायः हमारे देश में देखा जाता है कि पाखंडी लोग सब प्रकार से मिथ्या व्यवहार करके लोगों का गला काटकर अपने सुखभोग के सामान जमा करते हैं परन्तु ऊपर-ऊपर से अपना ऐसा भेष बनाते हैं कि जैसे ये कोई बड़े भारी साधु और भगवान के भक्त हो।स्नान-संध्या,जप,तप सब धर्म के कार्य नियमित रूप से करते हैं पर न्यायालय में जाकर झूठी गवाही देते हैं।ऐसे लोगों का सब धर्म-कर्म व्यर्थ है।लोग उनको अच्छी दृष्टि से नहीं देखते।भले आदमियों में उनका आदर कभी नहीं होता।ऐसे धूर्त और पाखंडी लोगों से सदैव बचना चाहिए।
  • ये लोग ऊपर से सत्य का आचरण रखकर भीतर से मिथ्या व्यवहार करते हैं।जो सीधे-सादे मनुष्य होते हैं,जिनको नीति का ज्ञान नहीं है,वे इनकी ‘पालिसी’ में आ जाते हैं।जिसमें मिथ्या की पालिस की होती है उसी को पालिसी कहते हैं।पालिसी को सदैव अपने जलते हुए सत्य को जला डालो।
  • वस्तुतः सत्य की ही विजय होती है,मिथ्या की नहीं।सत्य के ही मार्ग से भगवान मिलेगा।सब प्रकार के कल्याण का ज्ञान सत्य से ही होगा।हमारे पूर्वज ऋषि-मुनियों ने सत्य का ही मार्ग स्वीकार किया था और उनमें यह शक्ति हो गई थी कि जिसके लिए वे जो बात कह देते थे,उसके लिए वही हो जाता था।चाहे जिसको शाप दे देते,चाहे जिसको वरदान दे देते।यह सत्य-साधना का ही फल था।वे अन्यथा वाणी का उपयोग कभी नहीं करते थे,न कोई अन्यथा बात मन में लाते थे और न कोई अन्यथा कार्य करते थे।वास्तव में मनुष्य का धर्माधर्म सत्य पर ही निर्भर है।एक सत्य का बर्ताव कर लिया,इसी में सब आ गया।फिर कोई उसको अलग धर्म करने की जरूरत ही नहीं रह जाती।
  • उपर्युक्त आर्टिकल में सत्य और उसका अर्थ क्या है? (What is Truth and his Meaning in hindi),सत्य का आधार क्या है? (What is the Basis of Truth?) के बारे में बताया गया है।
No. Social Media Url
1. Facebook click here
2. you tube click here
3. Instagram click here
4. Linkedin click here
5. Facebook Page click here
6. Twitter click here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *