Menu

2 IIT Bombay friends created Wise App

Contents hide
1 1.दो आईआईटी बॉम्बे दोस्तों ने वाइज ऐप बनाया (2 IIT Bombay friends created Wise App),कश्मीर से मुबीन मसुदी और लखनऊ से बिलाल आबिदी से मिलिए (Meet Mubeen Masudi from Kashmir and Bilal Abidi from Lucknow)-

1.दो आईआईटी बॉम्बे दोस्तों ने वाइज ऐप बनाया (2 IIT Bombay friends created Wise App),कश्मीर से मुबीन मसुदी और लखनऊ से बिलाल आबिदी से मिलिए (Meet Mubeen Masudi from Kashmir and Bilal Abidi from Lucknow)-

  • दो आईआईटी बॉम्बे दोस्तों ने वाइज ऐप बनाया (2 IIT Bombay friends created Wise App),कश्मीर से मुबीन मसुदी और लखनऊ से बिलाल आबिदी से मिलिए (Meet Mubeen Masudi from Kashmir and Bilal Abidi from Lucknow) जिन्होंने हजारों बच्चों और शिक्षकों को जोड़कर कीर्तिमान स्थापित किया।
  • दुनिया भर में भारत को युवाओं का देश कहा जाता है।देश के युवाओं के कारण भारत विश्व में निरंतर आगे बढ़ रहा है। किसी भी क्षेत्र में चाहे वह क्षेत्र गणित, साइंस, शिक्षा, चिकित्सा का हो हर कहीं भारत के युवा शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं‌।
  • भारत के ये युवा इनोवेशन से लेकर एजुकेशन तक कुछ नया और हटकर करके भारत की छवि को उज्जवल कर रहे हैं और भारत का नाम दुनिया में रोशन कर रहे हैं।
  • इस वर्ष लोकडाउन के बावजूद इनोवेशन से लेकर एजुकेशन तक हर फील्ड में युवाओं ने परचम लहराया है। कोई बच्चों का भविष्य बना रहा है, कोई पढ़ाई के लिए ऐप डवलप कर रहा है तो कोई साइंस में नाम रोशन कर रहा है। इस आर्टिकल में हम ऐसे 2 युवाओं का परिचय करा रहे हैं। इन दो आईआईटी बॉम्बे दोस्तों ने वाइज ऐप बनाया (2 IIT Bombay friends created Wise App)।कश्मीर से मुबीन मसुदी और लखनऊ से बिलाल आबिदी से मिलिए (Meet Mubeen Masudi from Kashmir and Bilal Abidi from Lucknow)।
  • इस वाइज ऐप की मदद से स्टूडेंट्स 2G स्पीड पर बिना किसी दिक्कत के ऑनलाइन क्लासेज ले रहे हैं।इस ऐप की खासियत यह है कि इसकी मदद से पढ़ाई होने के साथ-साथ बच्चों को वास्तविक क्लासरूम का भी एहसास होता है‌।इस ऐप को IIT-Bombay में पढ़ने वाले दो दोस्तों ने बनाया है और इसका नाम रखा है वाइज ऐप।
  • दरअसल जहां चाह होती है वहां राह भी मिल जाती है।यदि कोई व्यक्ति कुछ करना ही नहीं चाहे तो ऐसे व्यक्ति को सामने मुश्किलें ही दिखाई देती है,उसका समाधान नहीं दिखाई देता है।
  • जो व्यक्ति समाधान का हिस्सा बनना चाहता है,वह अपनी प्रतिभा के बल पर येन-केन प्रकारेण उसका समाधान ढूंढ ही लेता है।
  • किसी समस्या का समाधान करने के लिए प्रतिभा के साथ-साथ अध्यवसाय, कड़ी मेहनत,लगन व धैर्य की आवश्यकता होती है।
  • किसी भी छात्र-छात्रा अथवा व्यक्ति की प्रतिभा की असली पहचान तभी होती है जबकि वह किसी समस्या का समाधान इस प्रकार से करता है कि आम छात्र-छात्रा की वास्तविक व वर्तमान समस्याओं का समाधान होता है।
  • आईआईटी बॉम्बे के इन दोनों दोस्तों मुबीन मसुदी और बिलाल आबिदी ने लोकडाउन के इस दौर में छात्र-छात्राओं को पढ़ने में आने वाली समस्या को समझा और फिर उसका समाधान वाइज ऐप बना कर दिया।
  • इस वाइज ऐप से बहुत से शिक्षक तथा छात्र-छात्राएं लाभ उठा रहे हैं।इस ऐप की तत्काल ही इतनी प्रसिद्धि हुई कि शिक्षा मंत्री ने इसको उपयोगी तथा छात्र-छात्राओं के लिए यूनिक बताया है।
    कोरोनावायरस के कारण छात्र-छात्राओं को ऑनलाइन कक्षाएं लेने के लिए मजबूर कर दिया।परंतु जम्मू-कश्मीर के लिए ओर भी मुसीबत खड़ी कर दी।
  • ऐसे वक्त में इन युवाओं ने कश्मीर के युवाओं तथा देश-दुनिया के अन्य युवाओं की समस्या का समाधान करके देश-दुनिया के सामने एक मिसाल कायम कर दी है।
  • यह वाइज ऐप धीमी इंटरनेट गति मेंं भी बहुत अच्छी तरह से कार्य करता है।ग्रामीण क्षेत्रों, पहाड़ी इलाकों तथा जम्मू-कश्मीर जैसे राज्यों में धीमी इंटरनेट गति के कारण छात्र-छात्राएं शिक्षा से दूर होते जा रहे हैं।
  • हालांकि टेलीकॉम कंपनियां 4G इंटरनेट देने का दावा करती है परंतु ग्रामीण क्षेत्रों, पहाड़ी इलाकों में 2G इंटरनेट स्पीड से ज्यादा स्पीड प्राप्त नहीं होती है।
  • जम्मू कश्मीर के मुबीन मसुदी और लखनऊ के बिलाल आबिदी से युवाओं व छात्र-छात्राओं को यह सीख लेनी चाहिए कि यदि व्यक्ति में जुनून हो तो दुनिया में आप किसी भी क्षेत्र में कुछ नया,हटकर व अच्छा किया जा सकता है जिससे आम व्यक्ति की लाइफ सुविधाजनक हो सकती है।
  • मुबीन मसुदी ने जम्मू-कश्मीर और बिलाल आबिदी ने उत्तरप्रदेश के साथ-साथ देश का नाम रोशन किया।अपनी काबिलियत, मेहनत और अपने दृढ़ संकल्प से एक नया मुकाम हासिल करने वाले मुबीन मसुदी और बिलाल आबिदी आज उन सभी के लिए एक मिसाल बन गए है,जो कमजोरी के आगे हार मान लेते है।अपने जूनून और जिद के साथ मुबीन मसुदी और बिलाल आबिदी ने बड़ी कामयाबी हासिल की।
  • जरूरतमंद बच्चों तक शिक्षा पहुंचाने की अपनी इस पहल में मुबीन मसुदी और बिलाल आबिदी ने जम्मू-कश्मीर के गरीब बच्चों तक पहुंचाया। इतना ही नहीं अपने जोश और जज्बे की बदौलत मुबीन मसुदी और बिलाल आबिदी हजारों बच्चों का भविष्य बना रहे हैं।उनके इस काम से प्रभावित होकर अधिकारी, शिक्षक आदि पेशों के हजारों स्वयंसेवक भी उनसे जुड़कर इसमें मदद कर रहे हैं।
  • घाटी में लंबे समय से इंटरनेट कनेक्टिविटी की दिक्कतों के बावजूद इस वाईज ऐप को बनाने में उन्होंने काफी मेहनत की।लगातार इंटरनेट आउटेज और स्लो नेटवर्क स्पीड की वजह से कई बार परेशानी भी हुई।लेकिन मेहनत और लगन के दम पर उन्होंने इस सफलता को हासिल किया।दरअसल कुछ कर गुजरने का जज्बा हो तो कुछ भी नामुमकिन नहीं होता है।
  • आपको यह जानकारी रोचक व ज्ञानवर्धक लगे तो अपने मित्रों के साथ इस गणित के आर्टिकल को शेयर करें।यदि आप इस वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो वेबसाइट को फॉलो करें और ईमेल सब्सक्रिप्शन को भी फॉलो करें।जिससे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन आपको मिल सके ।यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए ।आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं।इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

Also Read This Article-Son of Farmer cracked JEE Advanced2020

2.IIT-B छात्रों का मोबाइल ऐप 2G कनेक्टिविटी पर वीडियो शिक्षण की अनुमति देता है (IIT-B students mobile app allows video teaching on 2G connectivity),दो आईआईटी बॉम्बे दोस्तों ने वाइज ऐप बनाया (2 IIT Bombay friends created Wise App)-

  • अगस्त 2020 में लॉन्च किया गया, यह ऐप सेंट्रज के 74 वर्षों,74 श्रृंखला अभियान पर भी प्रदर्शित हुआ और अब 3,000 शिक्षकों द्वारा उपयोग किया जाता है।
  • चूंकि COVID-19 महामारी ने स्कूलों को ऑनलाइन कक्षाओं को स्थानांतरित करने के लिए मजबूर किया, दो भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान-बॉम्बे (IIT-B) छात्रों द्वारा विकसित एक ऐप जम्मू-कश्मीर के बच्चों को वीडियो सबक सिखाने में मदद कर रहा है,इसके बावजूद राज्यों के नेटवर्क की कनेक्टिविटी 2G तक सीमित है।
  • ‘समझदार ऐप’,एक 2 जी अनुकूल वीडियो इंटरफ़ेस ऑनलाइन क्लास एप्लीकेशन है,जिसे IIT-B के छात्रों द्वारा विकसित किया गया है – लखनऊ से बिलाल आबिदी (Bilal Abid) और कश्मीर से मुबीन मसुदी (Mubeen Masudi)।शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने भी उनकी सराहना की, जिन्होंने ट्विटर पोस्ट में दोनों के ऐप को “बेहद उपयोगकर्ता के अनुकूल,पूरी तरह से स्वतंत्र और बिना विज्ञापन के” बताया।
  • अगस्त 2020 में लॉन्च किए गए इस ऐप को Centre के 74 साल,74 सीरीज़ कैंपेन में भी दिखाया गया है और अब इसका इस्तेमाल 3,000 शिक्षक करते हैं।
  • शेष भारत की तरह, UTs में शैक्षिक संस्थानों को COVID-19 के कारण ऑनलाइन स्थानांतरित करने के लिए मजबूर किया गया था और तकनीक-प्रेमी एक तरफ, शिक्षकों ने धीमी इंटरनेट गति (2G बैंडविड्थ) के अवरोध का भी सामना किया, जिसने मुख्यधारा के विकल्पों के उपयोग की अनुमति नहीं दी थी जैसे कि ज़ूम।
  • मसुदी ने बताया कि पेपर से उन्हें एहसास हुआ कि शिक्षण “केवल लाइव कक्षाओं से अधिक था”और जबकि सभी को लाइव कक्षाओं और ऑनलाइन एक्सेस पर ठीक किया गया था,”अन्य महत्वपूर्ण पहलुओं जैसे कि असाइनमेंट, परीक्षण, सामग्री-साझाकरण,और संदेह को दूर करने के लिए एक पीछे की सीट ले ली।

3.WISE APP विकसित किया: कश्मीर से मुबीन मसुदी और लखनऊ से बिलाल आबिदी से मिले जो IIT बॉम्बे से पास आउट हुए (Developed a WISE APP:Meet Mubeen Masudi from Kashmir and Bilal Abidi from Lucknow who is passed out from IIT Bombay),दो IIT बॉम्बे दोस्तों ने छात्रों और शिक्षकों के लिए वाइज ऐप बनाया (Two IIT Bombay friends created Wise App for students and Teachers)-

  • कश्मीर के मुबीन मसुदी (Mubeen Masudi) और लखनऊ के बिलाल आबिदी (Bilal Abid) से मिलें ,जो आईआईटी बॉम्बे से पास आउट हैं, ने जम्मू-कश्मीर के छात्रों के लिए एक ‘WISE APP’ विकसित किया, जो राज्य में धीमी इंटरनेट गति को हरा देगा।दो आईआईटी बॉम्बे दोस्तों ने जम्मू और कश्मीर के छात्रों के लिए ‘वाइज ऐप ’बनाया,जो धीमे इंटरनेट के कारण ऑनलाइन क्लास से दूर हो रहे हैं,2जी इंटरनेट से बिना रुकावट के पढ़ने वाले छात्र।
  • मिलिए कश्मीर के मुबीन मसुदी से और लखनऊ के बिलाल आबिदी,जो आईआईटी बॉम्बे से पास आउट हैं,ने जम्मू-कश्मीर के छात्रों के लिए राज्य में धीमी इंटरनेट स्पीड को खत्म करने के लिए एक खास ऐप बनाया है।
  • शिक्षकों के लिए डिज़ाइन किए गए इस ऐप में,शिक्षक ब्लैक बोर्ड की तरह स्क्रीन का उपयोग कर सकते हैं, आमने-सामने की कक्षाओं की तरह,इसमें उपस्थिति,असाइनमेंट और चर्चा की विशेषताएं भी हैं।
  • जम्मू-कश्मीर के डोडा से शोपियां और कुपवाड़ा तक, लगभग 76 बच्चे प्रतिदिन ऑनलाइन कक्षाओं के माध्यम से अध्ययन करते हैं।श्रीनगर से आए राशिद और उनके छात्रों ने एक लागत प्रबंधन लेखांकन पाठ्यक्रम के साथ अपनी सुबह की शुरुआत की।जम्मू और कश्मीर के ये बच्चे ‘वाइज ऐप ’नामक एक मोबाइल एप्लिकेशन के माध्यम से अपनी ऑनलाइन कक्षाएं जारी रख रहे हैं।
  • ऑनलाइन कक्षाएं भी 2 जी गति में आयोजित की जाएंगी
    आईआईटी बॉम्बे में पढ़ने वाले दो दोस्तों ने इस ऐप को विकसित किया है।कश्मीर के मुबीन मसुदी और लखनऊ के बिलाल आबिदी द्वारा किए गए इस ऐप की मदद से,छात्र बिना किसी समस्या के 2 जी की गति से ऑनलाइन कक्षाओं में भाग लेने में सक्षम हैं।इस ऐप की मदद से, बच्चों को अध्ययन को आसान बनाने के साथ-साथ वास्तविक कक्षा का पता चलता है।

(1.)केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने ट्वीट कर की तारीफ (Union Education Minister praised by tweeting)-

  • इस संबंध में, शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने ट्वीट किया था कि आईआईटी बॉम्बे से स्नातक दो छात्रों ने 2 जी सेवा पर ऑनलाइन सीखने के लिए एक ऐप विकसित किया है जो बिल्कुल मुफ्त और बिना विज्ञापन के चलता है। इस ऐप के लॉन्च के एक महीने बाद, लगभग 3000 शिक्षक, जिनमें से अधिकांश जम्मू और कश्मीर से हैं, ने इसे हजारों छात्रों के लिए सुलभ बनाया है।

(2.)ऑनलाइन कक्षाओं ने 2 जी इंटरनेट के साथ चुनौती दी (Online classes challenged with 2G internet)-

  • मसुदी कहते हैं कि जैसे ही लॉकडाउन हुआ,सभी शैक्षणिक संस्थानों को ऑनलाइन मोड में जाने के लिए मजबूर किया गया।ऐसी स्थिति में,सभी शिक्षक और मैं इस वजह से एक कठिन काम कर रहे थे।2 जी इंटरनेट बैंडविड्थ के साथ कश्मीर में ऑनलाइन कक्षाएं भी एक चुनौती बन गईं। प्रारंभ में,मसुदी और आबिदी ने ज़ूम ऐप पर वीडियो के बजाय व्हाइटबोर्ड का उपयोग करके 2 जी नेटवर्क के माध्यम से अध्ययन करना शुरू किया।हालांकि, उन्होंने जल्द ही महसूस किया कि शिक्षण केवल फिजिकल कक्षाओं,ऑनलाइन और ऑफलाइन तक ही सीमित नहीं था।

(3.)छात्रों की उपस्थिति पर नज़र रखी जाएगी (Attendance of students will be monitored)-

  • लखनऊ यूनिवर्सिटी कॉलेज के वाइस प्रिंसिपल सी.एस. पॉल ने कहा कि इस ऐप की खास बात यह है कि यह खुद छात्रों की उपस्थिति पर नज़र रखता है और इस बात की जानकारी देता है कि कितने बच्चे ऑनलाइन क्लास में भाग ले रहे हैं।अन्य एप्स की तुलना में वाइज एप क्लास खत्म होने के बाद यह भी बताया गया है कि किस स्टूडेंट ने कितने समय तक क्लास अटेंड किया है।

(4.)इसका उद्देश्य प्रौद्योगिकी के माध्यम से शिक्षकों को सशक्त बनाना है (Its objective is to empower teachers through technology)-

  • ऑनलाइन कक्षाओं में समस्याओं के कारण,कई छात्र मार्च से पढ़ाई से दूर हो रहे थे।ऐसी स्थिति में,मसुदी ने महसूस किया कि सीखने के लिए गुणवत्ता के साथ निरंतरता भी आवश्यक है।मसूरी और आबिदी का उद्देश्य प्रौद्योगिकी के साथ शिक्षकों को सशक्त बनाकर इसे लोकतांत्रिक बनाना है।उन्हें उम्मीद है कि उनके द्वारा बनाया गया यह ऐप देश के सभी कोनों में पहुंचेगा,जहां कनेक्टिविटी और धीमी इंटरनेट स्पीड एक समस्या है।
  • उपर्युक्त आर्टिकल में दो आईआईटी बॉम्बे दोस्तों ने वाइज ऐप बनाया (2 IIT Bombay friends created Wise App),कश्मीर से मुबीन मसुदी और लखनऊ से बिलाल आबिदी से मिलिए (Meet Mubeen Masudi from Kashmir and Bilal Abidi from Lucknow) के बारे में बताया गया है।

Also Read This Article-Anoop Dubolia got admission in IIT

No. Social Media Url
1. Facebook click here
2. you tube click here
3. Instagram click here
4. Linkedin click here
5. Facebook Page click here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *