Menu

What are 6 reasons to fear board exam?

Contents hide
1 1.बोर्ड परीक्षा से डरने के 6 कारण क्या हैं? ( What are 6 reasons to fear board exam?):
1.2 (2.)बोर्ड की उत्तर पुस्तिका जांचने वाला परीक्षक कैसा होगा? (How will the examiner check the answer sheet of the board?):

1.बोर्ड परीक्षा से डरने के 6 कारण क्या हैं? ( What are 6 reasons to fear board exam?):

  • बोर्ड परीक्षा में डरने के छह कारण (6 reasons to fear board exam) है जो हमारी जानकारी में हैं। ऐसे अन्य कारण भी हो सकते हैं जिनके कारण विद्यार्थी बोर्ड परीक्षा से डरते हैं।हमने हमारे अनुभव के आधार पर छ: ऐसे कारण जाने हैं जिनकी वजह से परीक्षार्थी डरते हैं।परीक्षार्थियों की जानकारी के लिए उन कारणों का उल्लेख कर रहे हैं और बोर्ड परीक्षा में डरने के 6 कारणों (6 reasons to fear board exam) का समाधान भी साथ में उल्लेख करेंगे।
  • अक्सर बोर्ड परीक्षा का नाम लेते ही विद्यार्थियों के दिल और दिमाग में चिंता और तनाव के भाव आ जाते हैं।वस्तुतः परीक्षा हर विद्यार्थी के शैक्षिक जीवन का एक हिस्सा है ,जिससे प्रत्येक विद्यार्थी को गुजरना पड़ता है। बोर्ड परीक्षा विद्यार्थी के भविष्य और केरियर को तय करने में एक महत्वपूर्ण पड़ाव है।लेकिन बोर्ड परीक्षा के भय से हर विद्यार्थी की परीक्षा की तैयारी प्रभावित होती है।इसलिए बोर्ड परीक्षा के भय से मुक्त होकर निश्चिंत भाव से परीक्षा में एपीयर होना चाहिए।
  • यदि देखा जाए तो बोर्ड परीक्षा भी उन सभी परीक्षाओं की तरह है जो आपने अभी तक परीक्षाएं दी है।उन परीक्षाओं में भी प्रश्नों का उत्तर लिखना होता है और बोर्ड परीक्षा में भी प्रश्नों का उत्तर लिखना होता है।तो डर है तो मात्र बोर्ड परीक्षा के नाम का है।यह डर विद्यार्थियों में माता-पिता ,अभिभावकों तथा शिक्षकों द्वारा ही पैदा किया जाता है और उनके द्वारा यह दबाव बनाया जाता है कि बोर्ड परीक्षा में बहुत अच्छा परिणाम तथा अंक अर्जित करना है अन्यथा तुम्हारा भविष्य खराब हो जाएगा ,चौपट हो जाएगा। यही एक मौका है जिसमें तुमने यदि अच्छा प्रदर्शन किया तो सब कुछ अच्छा हो जाएगा । हालांकि माता-पिता ,अभिभावकों और शिक्षकों का समझाने का यह तरीका उचित न हो परंतु यह बात काफी हद तक सही है कि बोर्ड परीक्षा में अच्छे अंक नहीं आएंगे तो अच्छे कॉलेज और अच्छे कोर्स में प्रवेश लेना मुश्किल हो जाता है।
  • माता-पिता को इस बात की चिंता का मुख्य कारण है कि उन्हें अपनी कड़ी मेहनत की कमाई का बहुत बड़ा हिस्सा बच्चों की शिक्षा पर खर्च करना पड़ता है।इसलिए गत वर्षों की सारी मेहनत का फल आपके बोर्ड परीक्षा के परिणाम पर निर्भर है।इस आर्टिकल में बोर्ड परीक्षा से डरने के 6 कारणों ( 6 reasons to fear board exam) का उल्लेख कर रहे हैं तथा साथ में उनका समाधान का उल्लेख भी है ,जिनको अपनाने पर आप बोर्ड परीक्षा के भय से मुक्त हो सकते हैं।
  • आपको यह जानकारी रोचक व ज्ञानवर्धक लगे तो अपने मित्रों के साथ इस गणित के आर्टिकल को शेयर करें ।यदि आप इस वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो वेबसाइट को फॉलो करें और ईमेल सब्सक्रिप्शन को भी फॉलो करें जिससे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन आपको मिल सके ।यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए ।आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं। इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

Also Read This Article-Why are the different levels of math in private and govt?

(1.)बोर्ड परीक्षा से डरने के 6 कारणों में प्रथम कारण है कि कैसा प्रश्न पत्र आएगा ( The first reason in 6 reasons to fear board exam is that the question paper will come ):

  • यदि गत वर्ष गणित का प्रश्न पत्र कठिन आ गया हो या अन्य किसी विषय का प्रश्न-पत्र कठिन आ गया हो तो बहुत से विद्यार्थी इसी बात से डरते रहते हैं कि इस वर्ष बोर्ड परीक्षा का प्रश्न-पत्र कैसा आएगा अर्थात् ऐसा ही मुश्किल पेपर आ गया तो क्या होगा? वैसे भी आम धारणा यही होती है कि बोर्ड की परीक्षा को एक कठिन या जटिल परीक्षा ही समझा जाता है।
  • यदि विद्यार्थी सत्रारंभ से ही बोर्ड की तैयारी नियमित रूप से करें और सैंपल पेपर्स को हल करें तो काफी हद तक बोर्ड परीक्षा में डरने से बच सकते हैं क्योंकि सैंपल पेपर्स को हल करने पर एक तरह का आत्मविश्वास पैदा हो जाता है।

(2.)बोर्ड की उत्तर पुस्तिका जांचने वाला परीक्षक कैसा होगा? (How will the examiner check the answer sheet of the board?):

  • बोर्ड से पूर्व उत्तर-पुस्तिकाओं को स्कूल के अध्यापक द्वारा ही जांच की जाती है।परंतु बोर्ड परीक्षा की उत्तर पुस्तिकाओं को जांचने के लिए अन्य परीक्षक के पास भेजी जाती हैं जिनका विद्यार्थियों को न तो पता होता है और न ही उसे विद्यार्थी जानते हैं।
    वस्तुतः बोर्ड द्वारा उत्तर पुस्तिकाओं को जांचने हेतु स्पष्ट निर्देश दिए हुए होते हैं और वे साॅफ्ट काॅर्नर रखते हुए ही जांच करते हैं।
  • यदि आपने अपने आंसर में ऐसे कीवर्ड का उल्लेख किया है जो प्रश्न के उत्तर के लिए उचित है तो आपको कुछ न कुछ अंक अवश्य दिए जाते हैं इसलिए डरने की कोई जरूरत नहीं है।यदि फिर भी आपकी अपेक्षा के अनुसार अंक प्राप्त नहीं हुए हैं तो आप परिणाम आने के बाद अपनी उत्तर पुस्तिका की जांच पुनः करवा सकते हैं।यह है कारण नंबर दो बोर्ड परीक्षा से डरने के 6 कारणों ( 6 reasons to fear board exam) में। बोर्ड द्वारा नियुक्त परीक्षक द्वारा यदि अधिक शक्ति से आपकी उत्तर पुस्तिका जांच की गई है या आपके अंक काट लिए गए हैं या आपकी हैंडराइटिंग की वजह से आपके अंक काट लिए जाते हैं तो आप अपनी उत्तर पुस्तिका की जांच पुनः करवा सकते हैं।

(3.)क्या जो मैंने पढ़ा है उसी में से प्रश्न पूछे जाएंगे ?(Will the questions be asked from what I read?):

  • बोर्ड परीक्षा से डरने के 6 कारण ( 6 reasons to fear board exam) में अगला कारण है कि विद्यार्थी के मन में यह डर बैठा रहता है कि क्या मैंने पढ़ा है उसी में से प्रश्न पूछे जाएंगे? हर विद्यार्थी निर्धारित सिलेबस के अनुसार तैयारी करता है ,लेकिन उसके मन में यह भय भी रहता है कि सिलेबस के बाहर से प्रश्न या सवाल तो नहीं आ जाएगा ।कई बार प्रश्नपत्र में सिलेबस से बाहर प्रश्न या सवाल आ जाते हैं परन्तु विद्यार्थियों को अपने-अपने सिलेबस के अनुसार ही तैयारी करनी चाहिए।यदि सिलेबस से बाहर प्रश्न आ गया हो तो उसकी जानकारी परीक्षक को दे देनी चाहिए।ऐसी स्थिति में बोर्ड एक्स्ट्रा अंक हर विद्यार्थी को देने के आदेश भी दे देता है।

(4.)क्या मैंने महत्वपूर्ण प्रश्न या सवाल की तैयारी कर ली है?(Have I prepared an important question or question?):

  • परीक्षा से पहले पढ़ाए गए विशाल पाठ्यक्रम को पढ़ते समय या परीक्षा की तैयारी करते समय सबसे बड़ी चिंता का विषय यही होता है कि “क्या सभी इंर्पोटेंट टॉपिक पढ़ लिए हैं?” कहीं कोई टॉपिक या महत्वपूर्ण प्रश्न अथवा सवाल छूट तो नहीं गया है।
  • यह स्थिति तभी पैदा होती है जबकि विद्यार्थी परीक्षा के समय तैयारी प्रारंभ करते हैं।जो विद्यार्थी सत्रारंभ से तैयारी करते हैं , पूर्ण सिलेबस की तैयारी कर लेते हैं और सिलेबस की पुनरावृत्ति कर लेते हैं , उनको इस तरह की समस्या का सामना नहीं करना पड़ता है।इसलिए सत्रारंभ से ही अपनी तैयारी प्रारंभ करें और पूर्ण सिलेबस की तैयारी करें। सिलेक्टेड तैयारी नहीं करें और सिलेबस की पुनरावृत्ति करें।सैंपल पेपर्स का अभ्यास करें।

Also Read This Article-How to Prepare for an Exam in a Week?

(5.)परीक्षा के दिन सब कुछ याद तो रहेगा (Everything will be remembered on exam day):

  • बोर्ड परीक्षा से डरने के 6 कारणों ( 6 reasons to fear board exam) में कारण नंबर पांच है कि परीक्षा के दिन सब कुछ याद तो रहेगा न। कुछ विद्यार्थियों को इस बात की अत्यधिक चिंता रहती है कि आज जो कुछ भी पढ़ रहे हैं या आज तक उसने जो कुछ पढ़ा है, वह परीक्षा तक याद रहेगा या नहीं।वे यह सोच कर भयभीत हो जाते हैं कि यदि परीक्षा में उत्तर लिखते समय अगर पढ़ी हुई चीजों को भूल गए तो क्या होगा ?इस तरह की बेबुनियाद बातों से अपने मन में डर पैदा करने से कोई फायदा नहीं है। यदि पिछली परीक्षाओं का अनुभव आपके पास है, तो उसके आधार पर यह सोचना चाहिए कि उन परीक्षाओं की तरह ही यह परीक्षा भी है। इसलिए डरने का कोई कारण नहीं है। सब कुछ सामान्य है और अच्छा ही होगा।

(6.)एग्जाम के दिन मेरी तबीयत तो ठीक रहेगी न (My health will be fine on exam day):

  • दिन-रात मेहनत करने ,परीक्षा का डर ,तनाव ,चिंता के कारण स्वास्थ्य के प्रति विद्यार्थियों के मन में चिंता बनी रहती है कि “यदि परीक्षा के दिन या उससे पहले तबीयत खराब हो गई तो परीक्षा कैसे दे पाएंगे?” बोर्ड परीक्षा से भय के 6 कारणों ( 6 reasons to fear board exam) में यह अंतिम कारण है।
  • प्रत्येक विद्यार्थी के लिए बोर्ड परीक्षा महत्त्वपूर्ण है परंतु इसका मतलब यह नहीं है कि आप रात-रातभर जागकर तैयारी करें।यदि आप स्वस्थ रहेंगे तो ही ठीक से परीक्षा दे पाएंगे।याद रखें स्वस्थ मस्तिष्क ,स्वस्थ शरीर में ही निवास करता है।इसलिए नियमित रूप से पर्याप्त नींद लें। हमेशा निर्धारित समय पर सोएं और सुबह जल्दी उठें। परीक्षा के दिनों में अत्यधिक मानसिक परिश्रम करने से आपका स्वास्थ्य खराब हो सकता है। इसलिए शरीर को पर्याप्त विश्राम देने की आवश्यकता है।
  • इस प्रकार आप बोर्ड परीक्षा से भय के 6 कारणों ( 6 reasons to fear board exam) से छुटकारा पा सकते हैं।हमने इस आर्टिकल में बोर्ड परीक्षा से भय के 6 कारणों ( 6 reasons to fear board exam) का उल्लेख करने के साथ-साथ उनसे कैसे छुटकारा पाएं ,यह भी बताया है।यदि आप इन बातों पर अमल करेंगे तो आप बोर्ड परीक्षा से भय के 6 कारणों (6 reasons to fear board exam) से छुटकारा पा सकते हैं।
  • हालांकि ये कारण वास्तविक रूप से हर विद्यार्थी को फेस करने पड़ते हैं।परीक्षा के बोझ, बड़ों के सुझावों और सेल्फ एक्सपेक्टेशन से दबे छात्रों के मन में बोर्ड परीक्षा के प्रति डर पैदा करते हैं।
  • आखिर समझने वाली बात यह है कि बोर्ड परीक्षा से डरने के 6 कारण ( 6 reasons to fear board exam)आपको आगे बढ़ने नहीं देंगे।आपका प्रदर्शन सिर्फ आपकी मेहनत व निष्ठा पर ही निर्भर करता है जिससे आपको अपने क्षेत्र में जीत हासिल होगी।इसलिए अपनी मेहनत और तैयारी पर भरोसा रखते हुए अच्छे से अच्छा परीक्षा प्रश्न-पत्र का हल लिखें अर्थात् अपना 100% देते हुए लिखें। परिणाम अवश्य ही अच्छा होगा।हमेशा सकारात्मक सोच रखें और नकारात्मकता को अपने मस्तिष्क में न आने दें।
    शुभकामनाएं !
  • उपर्युक्त विवरण में बोर्ड परीक्षा से डरने के 6 कारण क्या हैं? ( What are 6 reasons to fear board exam?) के बारे में बताया गया है ।

2.बोर्ड परीक्षा से डरने के 6 कारण क्या हैं? ( What are 6 reasons to fear board exam?) के सम्बन्ध में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न:

प्रश्न:1.बोर्ड परीक्षा से छात्र क्यों डरते हैं? (Why are students afraid of board exams?):

उत्तर:बोर्ड परीक्षा छात्रों और अभिभावकों दोनों के लिए तनावपूर्ण होती है।छात्रों का कहना है कि अलग-अलग कारणों से परीक्षा के दौरान ध्यान केंद्रित करना मुश्किल होता है।इसके अलावा,बढ़ा हुआ तनाव उनके अध्ययन और प्रदर्शन को प्रभावित कर सकता है।इसलिए छात्रों को सलाह दी जाती है कि वे अधिक दबाव न लें और अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करें।

प्रश्न:2.परीक्षा के डर का क्या कारण है? (What causes exam fear?):

उत्तर:खराब परीक्षण इतिहास: यदि आपने पहले परीक्षणों में खराब प्रदर्शन किया है या तो इसलिए कि आपने पर्याप्त अध्ययन नहीं किया है या आप इतने चिंतित थे,तो आपको उत्तर याद नहीं आ रहे थे, इससे हर बार और भी अधिक चिंता और नकारात्मक रवैया पैदा हो सकता है।इससे आपकों एक और परीक्षा देनी पड़ सकती है।

प्रश्न:3.मैं बोर्ड परीक्षा के अपने डर को कैसे दूर कर सकता हूँ? (How can I overcome my fear of board exam?):

उत्तर:एक शीघ्र पुनरावृत्ति की योजना बनाएं।
एक उत्पादक समय सारिणी (Productive Timetable) की योजना बनाएं।
प्रत्येक दिन और प्रत्येक सप्ताह के लिए योजना बनाएं।
दैनिक अध्ययन में अधिक विषयों को शामिल करने पर विचार करें।
नोट्स तैयार करें।
अपने दोस्तों को शामिल करें और उनसे बात करें।
पिछले वर्षों के प्रश्न पत्रों के हल का अभ्यास करें।
संतुलित भोजन करें।

प्रश्न:4.मैं पढ़ाई के दौरान अपनी चिंता को कैसे कम कर सकता हूँ? (How can I reduce my anxiety while studying?):

उत्तर:चिंता को प्रबंधित करने के लिए त्वरित सुझाव
एक गहरी सांस लें और कहें ‘मैं यह कर सकता हूं’
परिवार,दोस्तों या स्वास्थ्य पेशेवर से बात करें।
इससे पहले कि आपको उनकी आवश्यकता हो,विश्राम अभ्यासों का अभ्यास करें।
कार्य पर ध्यान केंद्रित करें,न कि दूसरे क्या सोच रहे होंगे।
याद रखें कि आपने अतीत में अच्छा प्रदर्शन किया है।

प्रश्न:5.मैं बिना डरे पढ़ाई कैसे कर सकता हूं? (How can I study without fear?):

उत्तर:अध्ययन के अवरोधों को कैसे दूर करें:
बात करना अच्छा है।
अपने लिए लक्ष्य निर्धारित करें।
सकारात्मक पुष्टि के साथ आत्म-संदेह (स्वयं पर संदेह अर्थात् स्वयं की क्षमता पर संदेह) से छुटकारा पाएं।
याद रखें कि सफलता की कुंजी निरंतरता है।
अध्ययन के दौरान आपके पास मौजूद किसी भी तंत्रिका ऊर्जा को खर्च करने के लिए अभ्यास कार्य का प्रयोग करें।
लिखें कि आप विभिन्न विषयों और परीक्षाओं के बारे में कैसा महसूस करते हैं।

प्रश्न:6.पढ़ाई के दौरान मुझे चिंता क्यों होती है? (Why do I get anxiety when studying?):

उत्तर:इसका मतलब है कि आप अध्ययन या परीक्षा पर गहराई से ध्यान केंद्रित कर रहे हैं और आप अतीत की नकारात्मकताओं को अपने ऊपर हावी नहीं होने दे रहे हैं और न ही आप भविष्य के बारे में सोच रहे हैं “क्या होगा अगर।”ये चिंता पैदा करते हैं और आपको सीखने के लिए आपके प्राकृतिक उपहार से दूर कर देते हैं और एक परीक्षण के दौरान आपने जो सीखा है उसे अच्छी तरह से लागू करने की आपकी क्षमता को कम करते हैं।

प्रश्न:7.छात्र चिंता क्या है? (What is student anxiety?):

उत्तर:चिंता विकार वाले छात्रों को: कक्षा में ध्यान केंद्रित करने या कक्षा का काम पूरा करने में परेशानी हो सकती है।आत्म-जागरूक (Self-conscious) महसूस करें और कुछ स्थितियों से बचें।शारीरिक लक्षण हैं,जैसे कि दौड़ता हुआ दिल,तेज़ साँस लेना,मांसपेशियों में तनाव,पसीने से तर हथेलियाँ,पेट में दर्द और कांपते हाथ या पैर।

प्रश्न:8.कक्षा में चिंता कैसी दिखती है? (What does anxiety look like in the classroom?):

उत्तर:चिंतित छात्र रोने या नखरे करके अपने डर को व्यक्त कर सकते हैं और उनके लिए शांत होना बहुत मुश्किल हो सकता है।कुछ छात्र दूसरों से निरंतर अनुमोदन या आश्वासन प्राप्त कर सकते हैं।  छात्र सिरदर्द,पेट दर्द,दिल की धड़कन तेज होना या सांस लेने में कठिनाई जैसे शारीरिक लक्षणों को महसूस करने का वर्णन कर सकते हैं।

प्रश्न:9.क्या शिक्षक बता सकते हैं कि क्या किसी छात्र को चिंता है? (What does anxiety look like in the classroom?):

उत्तर:यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि एक शिक्षक के रूप में आपकी भूमिका चिंता के साथ एक छात्र का निदान करने की नहीं है,बल्कि चिंता या अन्य मुद्दों के संकेतों को देखने के लिए है,एक शिक्षक के रूप में आप उचित सहायता प्रदान कर सकते हैं और फिर माता-पिता को उचित सहायता प्रदान कर सकते हैं। 

प्रश्न:10.क्य मुझे अपने शिक्षक को बताना चाहिए कि मुझे चिंता है?(Can teachers tell if a student has anxiety?),क्या मुझे अपने शिक्षक को अपनी चिंता के बारे में बताना चाहिए? (Should I tell my teacher I have anxiety?):

उत्तर:हाँ।मैं उनसे मिलूंगा या उन्हें ईमेल करूंगा और उन्हें समझाऊंगा।यह कक्षाओं को आसान बना देगा और यदि आपके पास प्रस्तुतियाँ हैं तो आप उनके साथ इस पर चर्चा करने में सक्षम हो सकते हैं और असाइनमेंट को इस तरह से करने में सक्षम हो सकते हैं जिससे आपकी चिंता दूर न हो। 

प्रश्न:11.मैं खुद को पढ़ाई के लिए कैसे प्रेरित कर सकता हूं? (How can I motivate myself to study?):

उत्तर:अध्ययन प्रेरणा उत्पन्न करने के 7 तरीके
प्रेरणा के साथ अपने प्रतिरोध और कठिन
भावनाओं को स्वीकार करें।
भाग मत जाना।
समय-समय पर विलंब करने के लिए स्वयं को दोष न दें।
अपनी अध्ययन शैली को बेहतर ढंग से समझने की कोशिश करें।
अपनी क्षमताओं पर सवाल न करें।
अपने आप को शुरू करने की कल्पना करें।

उपर्युक्त प्रश्नों के उत्तर द्वारा बोर्ड परीक्षा से डरने के 6 कारण क्या हैं? ( What are 6 reasons to fear board exam?) के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

No.Social MediaUrl
1.Facebookclick here
2.you tubeclick here
3.Twitterclick here
4.Instagramclick here
5.Linkedinclick here
6.Facebook Pageclick here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *