Menu

Interesting Facts of Amazing Number 7

Contents hide

1.अद्भुत संख्या 7 के रोचक तथ्य (Interesting Facts of Amazing Number 7),गणित में मनोरंजक संख्या सात (Interesting Facts of 7 in Mathematics):

  • अद्भुत संख्या 7 के रोचक तथ्य (Interesting Facts of Amazing Number 7) बहुत से हैं।संख्या सात का व्यावहारिक तथा आध्यात्मिक महत्त्व है।संख्या सात को इसीलिए रहस्यमय संख्या माना जाता है तथा अनोखी है।सभी प्राचीन जातियों जैसे हिन्दू,ग्रीक,रोमन,हेब्रू तथा अन्य सभी का संख्या सात के अन्तर्निहित गुणों में बहुत विश्वास है।संख्या सात के भौतिक तथा आध्यात्मिक ऐसे तथ्य और बातें हैं जिनको जानकर हमारा मनोरंजन तो होता ही है साथ ही हमारे ज्ञान में भी वृद्धि होती है।इससे पूर्व हमने संख्या 3 व 4 तथा संख्या 9 के बारे में ज्ञानवर्द्धक व रोचक तथ्य प्रस्तुत किए थे।वस्तुतः कोई भी संख्या अपने आपमें न शुभ होती है और न अशुभ होती है।किसी व्यक्ति के लिए कोई अंक या संख्या शुभ हो सकती है तो वही अंक या संख्या दूसरे के लिए अशुभ हो सकती है।अब अंक सात का विवरण प्रस्तुत है:
  • आपको यह जानकारी रोचक व ज्ञानवर्धक लगे तो अपने मित्रों के साथ इस गणित के आर्टिकल को शेयर करें।यदि आप इस वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो वेबसाइट को फॉलो करें और ईमेल सब्सक्रिप्शन को भी फॉलो करें।जिससे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन आपको मिल सके । यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए । आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं।इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

Also Read This Article:Fun Facts about Numbers You Did not Realize

2.संख्या 7 के आश्चर्यजनक तथ्य (The Surprising Facts of Number 7):

  • मनुष्य का जीवन का आरम्भ ही 7 अंक से होता है जबकि शिशु का गर्भ में निर्माण होता है तो वे सात धातुएँ हैं:पित्त,रक्त,मांस,वसा,अस्थि,मज्जा और वीर्य (स्त्री के संबंध में शुक्र)।इस प्रकार शरीर को धारण करता है वह सप्त धातुओं से बना होता है।
  • इसी प्रकार सप्ताह के सात दिन (सोमवार (Monday),मंगलवार (Tuesday),बुधवार (Wednesday),बृहस्पतिवार (Thursday),शुक्रवार (Friday),शनिवार (Saturday),रविवार (Sunday) हैं।
  • सप्तऋषि मण्डल अर्थात् मरीचि,अत्रि,अंगिरा,पुलस्त्य,पुलह,क्रतु और वशिष्ठ (जो कि 7 तारों का समूह है)।
    सप्तपदी विवाह में सात पग चलना (दूल्हा और दुल्हन विवाह संस्कार के अवसर पर सात पग मिल कर चलते हैं।इसके बाद विवाह संबंध अटूट हो जाता है)।
  • सात महाद्वीप:एशिया,उत्तरी अमेरिका,दक्षिण अमेरिका,अफ्रीका,यूरोप,ऑस्ट्रेलिया,एंटार्कटिका हैं।
    मूल रंग सात बैंगनी (Violet),जामुनी (Indigo),नीला (Blue),हरा (Green),पीला (Yellow),नारंगी (Orange),तथा लाल (Red) हैं।
  • सात पाताल (सात अधोलोक):अतल,वितल,सुतल,रसातल,तलातल,महातल और पाताल भी सात ही है।
    सात पुरी:अयोध्या,मथुरा,माया,काशी,कांची,अवंतिका और द्वारका जो मोक्ष देने वाली मानी जाती है।
  • इंद्रधनुष भी सात रंगों का ही है।
  • सतरंग अर्थात् शरीर के लाल रंग वाले अंग सात हैं: हथेली,तलवा,नाखून,आँख का कोण,जीभ,ओंठ और तालु।
  • सात राशिक अर्थात् त्रैराशिक जैसी गणित की एक क्रिया जिसमें 7 राशियां होती हैं।
  • सात लोक:भूलोक,भुवर्लोक,स्वर्लोक,महर्लोक,जनलोक,तपोलोक और सत्य लोक भी सात हैं।
  • सात का स्पष्ट महत्त्व उल्लेख अथर्ववेद में मिलता है।उदाहरणार्थ निम्न मंत्र का अवलोकन करें:
    “सप्त होमा:समिधो ह सप्त मघूनि सप्तऋतवो ह सप्त।
    सप्त ज्यानि परिभूतमायन ता: सप्तगृघ्रा इति शुश्रुमावयम्”।।
  • भाषार्थ:सात (विषयों की) ग्रहण करने वाली (इन्द्रियाँ, त्वचा, नेत्र,कान, जिव्हा, नाक,मन और बुद्धि),सात ही विषय प्रकाश करने वाली (इन्द्रियों की सूक्ष्म शक्तियाँ),सात ज्ञान (विषय) और साथ ही गति (प्रवृत्ति) हैं।(वे ही) सात विषयों के प्रकाश साधन प्रत्येक प्राणी के साथ उन (प्रसिद्ध) सात इन्द्रियों से उत्पन्न हुई वासनाओं को प्राप्त हुए हैं,यह हमने सुना है।
  • इसी प्रकार:
    “सप्त च्छन्दांसि चतुरुत्तराण्यन्यो अन्यस्मिन ध्यार्पि तानि।
    कथं स्तोमा:प्रति तिष्ठन्ति तेषु तानि स्तोमेषु कथमार्पितानि”।।
    भाषार्थ:(धर्म,अर्थ,काम,मोक्ष) चतुर्वर्ग से अधिक उत्तम किए गए सात ढकने (मस्तक के सात छिद्र) एक दूसरे में यथावत जड़े हुए हैं।कैसे स्तुति योग्य गुण उन (मस्तक के गोलकों) में कैसे ठीक-ठीक जमे हुए हैं।

3.संख्या 7 का अंकविद्या में विवरण (Details of Number 7 in Numerology):

  • कोई अंक किसी के लिए शुभ होता है तो किसी दूसरे के लिए अशुभ हो सकता है।अंक अपने आपमें न शुभ है और न अशुभ।7 अंक वाले की सहानुभूति रखनेवाले अंक 1 और 4 हैं।7 अंक वाले की सहानुभूति 1 व 4 के साथ क्यों होती है, इसे केवल भौतिक ज्ञान के बल पर नहीं जाना जा सकता है।इसके लिए व्यावहारिक अनुभव,आध्यात्मिक ज्ञान और ज्योतिष (Astrology) का ज्ञान होना आवश्यक है।जैसे दाना डालने पर चिड़िया,कबूतर इत्यादि आ जाते हैं बिल्ली,कुत्ते इत्यादि नहीं आते हैं।इसका भी वैज्ञानिक रहस्य ही है।अंक विद्या के आधार पर शब्दों को अंको में परिवर्तित किया जा सकता है। और यह जाना जा सकता है कि कौनसा अंक किसी व्यक्ति के लिए शुभ है और कौनसा अंक अशुभ है?
  • सूर्य की सप्तमी,भागवत का सप्ताह (7 दिनों में पारायण),विवाह के समय सप्तपदी आदि अनेक अंकविद्या से संबंधित वैज्ञानिक रहस्य हैं।
  • छात्र-छात्राओं को इसका सामान्य ज्ञान तो होना ही चाहिए।इसी उद्देश्य से यह छोटा सा विवरण प्रस्तुत कर रहे हैं।यों किसी भी विद्या का ज्ञान प्राप्त करते हैं तथा जितनी गहराई में और विस्तृत ज्ञान प्राप्त करते हैं तो एक से एक अनमोल रत्न दिखाई पड़ते हैं।साधारण छात्र-छात्राओं के लिए अंकविद्या का गहन ज्ञान आवश्यक नहीं है परंतु इसके जो साधारण नियम है जैसे:भाग्यांक,मूल अंक कैसे बनाते हैं?अपनी जन्मतिथि के आधार पर भाग्यांक क्या होगा?नाम को अंकों में कैसे बदला जाए? नाम स्वयं के लिए शुभ है या अशुभ है।इसे आसानी से जाना जा सकता है।
  • इसमें सबसे मूल बात ध्यान रखने की यही है कि आपका भाग्यांक और भाग्यांक से सहानुभूति रखने वाले अंक शुभ है या अशुभ है इसे अपने अनुभव के आधार पर जांच करनी चाहिए।केवल अंक विद्या के आधार पर गणना करके उस पर विश्वास कर लेना पर्याप्त नहीं है।

Also Read This Article:Interesting Facts of 9

4.संख्या 7 का आध्यात्मिक महत्त्व (The Spiritual Significance of Number 7):

  • दर्शनशास्त्र में सप्तभंगी नय सात प्रकार का वचन विन्यास है जिसे स्याद्वाद सिद्धांत भी कहा जाता है। तात्पर्य यह है कि व्यावहारिक जीवन में हम सात प्रकार के परामर्शों (Judgement) का व्यवहार करते हैं।जैन दर्शन की सप्तमभंगी नय अनुपम देन है।यह विरोधी मतों के समन्वय का सिद्धांत है।दोनों बिल्कुल विरोधी मतों में समन्वय और समझौता करना जैन दर्शन की विशेषता है।साथ ही जैन दर्शन की उदारता तथा दर्शन की विशालता का सूचक है। किसी दृष्टि से सबका मत सत्य हैं।ऐसा मानकर ही विरोध और वैमनस्य का अंत संभव है।जैन दूसरों के मतो का भी समुचित आदर करते हैं।यह भावना धार्मिक दुराग्रहों को दूर करने के लिए आवश्यक है।
  • संगीत के सप्त स्वर:सा,रि,ग,म,प,घ,नी हैं।संगीत के सात स्वरों अर्थात् सप्तक निम्न हैं:षड्ज,ऋषभ,गांधार,मध्यम,पंचम, धैवत,निषाद का समाहार।
  • सप्त मातृका:विवाह आदि में पूजी जाने वाली 7 माताओं का वर्ग:ब्राह्मी,माहेश्वरी,कौमारी,वैष्णवी,वाराही,इंद्राणी और चामुंडा।
  • सप्त सुंदरव्रत:इस व्रत में पार्वती का सात नामों से पूजन किया जाता है।वे नाम हैं:कुमुदा,माधवी,गौरी,भवानी,पार्वती,उमा तथा अंबिका।
  • सप्त समुद्र व्रत:चैत्र शुक्ला प्रतिपदा से इस व्रत का आरंभ होता है।सुप्रभा,काञ्चनाक्षी,विशाला,मानसोद्भवा, मेघनादा,सुवेणु तथा विमलोदका सात धाराओं का 7 दिन तक पूजन किया जाता है।इस प्रकार अंक 7 का व्यावहारिक,धार्मिक व आध्यात्मिक महत्त्व है।
  • उपर्युक्त आर्टिकल में अद्भुत संख्या 7 के रोचक तथ्य (Interesting Facts of Amazing Number 7),गणित में मनोरंजक संख्या सात (Interesting Facts of 7 in Mathematics) के बारे में बताया गया है।

5.गणित अध्यापक की जिद्द (Mathematics Teacher’s Stubbornness):

  • किसी भी विषय में किसी व्यक्ति द्वारा पूर्णता हासिल करना बहुत मुश्किल है।परन्तु इसका अर्थ नहीं है कि छात्र-छात्राओं को गणित विषय का पूर्ण ज्ञान प्राप्त करने का प्रयास नहीं करना चाहिए।हमको गणित विषय का ज्ञान जितना ही गहन और विस्तृत होगा उतना दृढ़ आत्मविश्वास होगा।आधुनिक गणित का क्षेत्र भी बहुत व्यापक हो गया है।इसके अनेक शाखाएँ हो गई हैं।किसी एक शाखा का पूर्ण ज्ञान प्राप्त करना ही मुश्किल कार्य है।इसलिए यह कोई आश्चर्यजनक बात नहीं है गणित अध्यापक को कोई सवाल न आए।परंतु कई बार अपनी जिद्द के कारण गणित अध्यापक अपनी फजीहत भी करा लेते हैं। ऐसा ही एक वाकया प्रस्तुत है:
  • छात्र:सर (sir),मुझे यह सवाल नहीं आया।मुझे समझा दो।
  • गणित शिक्षक:लाओ इधर,अभी इस सवाल को हल कर देते हैं।
    छात्र अपनी नोटबुक गणित शिक्षक को दे देता है।
    गणित शिक्षक के काफी प्रयास करने पर भी सवाल हल नहीं होता है।
  • छात्र:सर (sir) सवाल हल नहीं हो रहा है तो कोई बात नहीं बाद में बता देना।
  • गणित शिक्षक:नहीं,नहीं अभी ठहरो। इसको दूसरे तरीके से हल करते हैं।दुबारा दूसरे तरीके से भी करने पर सवाल हल नहीं होता है।
  • छात्र:सर (sir) बाद में बता देना,अभी मुझे किसी काम से जाना है।
  • गणित शिक्षक:लाओ पुस्तक लाओ, कहीं तुमने सवाल तो गलत नहीं लिख दिया है।
    गणित शिक्षक छात्र से पुस्तक लेकर सवाल मिलान करते हैं।सवाल बिल्कुल ठीक लिखा हुआ था।फिर उत्तर भी देखते हैं तो जो उत्तर छात्र ने बताया था वही उत्तर पुस्तक में लिखा हुआ था।
  • गणित शिक्षक:एक बार ओर कोशिश करता हूं। गणित शिक्षक द्वारा काफी प्रयास करने पर भी सवाल हल नहीं हुआ।
    छात्र काफी परेशान हो गया परंतु छात्र विनम्रता से कह सकता था जो उसने कहकर देख लिया कि सर जिद्द पर अड़ गए हैं।काफी देर हो चुकने पर छात्र के पिताजी गणित शिक्षक के पास आते हैं।
  • छात्र के पिताजी: सर (sir) आज छात्र को इतनी देर कैसे हो गई? पढ़ाने का समय तो कभी का समाप्त हो चुका है।
  • छात्र:एक सवाल हल नहीं हो पाया है,सर (sir) उसमें अटके हुए हैं।
  • छात्र के पिताजी:यह भी तो हो सकता है कि सवाल या उत्तर ही गलत हो।इसको इत्मीनान से जांच कर लेना और बाद में बता देना।गणित शिक्षक ने मन ही मन सोचा।अरे!यह तो मैंने सोचा ही नहीं था कि सवाल या उत्तर भी गलत हो सकता है।
  • गणित शिक्षक:नोटबुक और पुस्तक लौटाते हुए तथा अपनी कमजोरी को छुपाते बोलते हैं।लो ये नोटबुक और पुस्तक तथा मेरी जान छोड़ो।

6.अद्भुत संख्या 7 के रोचक तथ्य (Interesting Facts of Amazing Number 7),गणित में मनोरंजक संख्या सात (Interesting Facts of 7 in Mathematics) के सम्बन्ध में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न:

प्रश्न:1.हिंदू धर्म में 7 महापातक कौन-कौन से हैं? (What are the Seven Great Sins in Hinduism?):

उत्तर:(1.)ब्रह्महत्या या वध,भ्रूण हत्या,(2.)सुरापान (शराब पीना),(3.)चोरी करना,(4.)गुरु पत्नी के साथ संभोग,(5.)वेद निन्दा,(6.)मांस भक्षण (पशु-पक्षियों इत्यादि को मारना),(7.)उपर्युक्त पातक करने वालों का संग करना तथा सहयोग करना।

प्रश्न:2.छात्र छात्राओं को शिक्षा प्रदान करने वाले कौन-कौनसे माध्यम हैं? (Which are the mediums that provide education to the students?):

उत्तर:शिक्षा प्रदान करने वाली संस्थाएं हैं:
(1.)शिक्षक (2.)माता-पिता,अभिभावक (3.)समाचार पत्र (न्यूज़ चैनल सहित) (4.)अच्छी पुस्तकें (5.)आध्यात्मिक संत,महात्मा (आध्यात्मिक गुरु) (6.)सोशल मीडिया व इंटरनेट (जैसे फेसबुक,ट्विटर,गूगल, यू ट्यूब,विभिन्न वेबसाइट,कोरा (Quora) इत्यादि) (7.)उपदेशक (प्रवचन,भाषण इत्यादि देने वाले) (8.)सिनेमा व टीवी तथा (9.)मित्र-संगी साथी इत्यादि।

प्रश्न:3.महात्मा कन्फ्यूशियस के अनुसार बुद्धि का विकास कैसे हो सकता है? (How can intelligence develop according to Mahatma Confucius?):

उत्तर:महात्मा कन्फ्यूशियस के अनुसार बुद्धि का विकास तथा ज्ञान तीन प्रकार से प्राप्त किया जा सकता है।प्रथम माध्यम है चिंतन और मनन के द्वारा जो सबसे अच्छा और उत्तम है।दूसरा मार्ग है:दूसरों का अनुकरण या नकल करके जो सबसे आसान तरीका है।तीसरा माध्य है स्वयं के अनुभव तथा दूसरों के अनुभवों का लाभ उठाकर।स्वयं के अनुभव से ज्ञान प्राप्त करना सबसे कठिन है।कई बार हानिकारक भी हो सकता है।जैसे अग्नि में हाथ देने से जल जाता है,जहर खाने से मृत्यु हो जाती है।इसे दूसरों के अनुभवों का अध्ययन करके अथवा देखकर जाना जा सकता है।

उपर्युक्त प्रश्नों के उत्तर द्वारा अद्भुत संख्या 7 के रोचक तथ्य (Interesting Facts of Amazing Number 7),गणित में मनोरंजक संख्या सात (Interesting Facts of 7 in Mathematics) के बारे में ओर अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

Interesting Facts of Amazing Number 7

अद्भुत संख्या 7 के रोचक तथ्य
(Interesting Facts of Amazing Number 7)

Interesting Facts of Amazing Number 7

अद्भुत संख्या 7 के रोचक तथ्य (Interesting Facts of Amazing Number 7) बहुत से हैं।
संख्या सात का व्यावहारिक तथा आध्यात्मिक महत्त्व है।संख्या
सात को इसीलिए रहस्यमय संख्या माना जाता है तथा अनोखी है।

No.Social MediaUrl
1.Facebookclick here
2.you tubeclick here
3.Instagramclick here
4.Linkedinclick here
5.Facebook Pageclick here
6.Twitterclick here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *