Menu

Math,The Last Refuge of Dissidents Worldwide,Is Vilified By Leftists

Math, The Last Refuge of Dissidents Worldwide, Is Now Vilified By Leftists

1.गणित , दुनिया भर में असंतुष्टों की अंतिम शरणस्थली, अब वामपंथियों द्वारा वशीभूत है का परिचय (Introduction to Math, the last refuge of dissidents worldwide, is now vilified by leftists)-

इस आर्टिकल में वास्तविक उदाहरणों के द्वारा बताया गया है कि राजनीतिक, सामाजिक या अन्य क्षेत्रों में उत्पीड़ित लोगों की शरणस्थली गणित क्षेत्र रहा है। यह गणित के लिए गौरव की बात है कि ऐसी प्रतिभाएं जो राजनितिक क्षेत्र में उत्पीड़ित हुई हैं उनको गणित में आश्रय मिला है, वरना ऐसे प्रतिभाओं को या तो कुचल दिया जाता है या उनको जेल में डाल दिया जाता है अथवा उनकी हत्या करवा दी जाती है। गणित विषय से शिक्षा प्राप्त युवावर्ग राजनीति को अपना कार्यक्षेत्र चुन लेते हैं या अन्य ऐसे क्षेत्र का चुनाव कर लेते हैं तथा वहाँ वे अपना जोड़-तोड़ व राजनीति के दाँवपेच नहीं जानते हैं या राजनीतिक के व्यवहारिक पहलुओं पर अमल नहीं करते हैं तथा आदर्शों, मूल्यों को महत्त्व देते हैं तो टकराव शुरू हो जाता है। आज के युग में राजनीति को चमकाने के लिए नीति नियमों व चारित्रिक मूल्यों को केवल सैद्धांतिक बातें मानकर उन्हें छोड़कर राजनीति में बने रहने तथा सत्ता का सुख भोगने के लिए लोक लुभावन कार्यक्रमों को लागू करते हैं। ऐसी स्थिति में कोई प्रतिभावान गणितज्ञ या अन्य कोई प्रतिभाशाली मनुष्य उनके खिलाफ आवाज उठाता है तो पहले तो उसकी आवाज को दबाने की कोशिश की जाती है और वह व्यक्ति अपनी जायज बात को उठाता रहता है, सार्वजनिक मंचों पर आलोचना करता है या कोई statement देता है तो ऐसे मनुष्य को राजनीति से निकाल दिया जाता है या निकलने के लिए मजबूर कर दिया जाता है। दरअसल सच्चाई का सच्ची बात का समर्थन करने वाले तथा साथ देने वाले बहुत कम लोग होते हैं। ऐसी स्थिति में जब ऐसे विद्वानों और प्रतिभाओं को राजनीति का क्षेत्र रास नहीं आता है तो वे वहाँ पर अपने आपको असहज महसूस करते हैं इसलिए राजनीति को छोड़कर वे गणित का क्षेत्र या अपना अन्य शिक्षा से सम्बंधित क्षेत्र को चुनते हैं। यहां कहने का तात्पर्य यह नहीं है कि राजनीति में सभी लोग सड़े-गले व फटीचर हैं। कुछ लोग राजनीति में ऐसे भी हैं जो वास्तविक रूप में जनसेवा का कार्य करते हैं और राजनीति में भी साधारण वेशभूषा में रहते हैं, जमीन से जुड़े हुए रहते हैं, लोगों की समस्याओं का समाधान करते हैं। ऐसे लोग क्यों टिके हुए हैं उसका कारण है कि उनका व्यक्तित्व इतना विशाल, शुद्ध, पवित्र तथा ऊँचा होता है कि उनको राजनीति से निकालना मुश्किल होता है।
हमारा विचार यह है कि यदि गणित या गणित जैसी कोई अच्छी प्रतिभाएं राजनीति में नहीं भी जाती है तथा अपने कार्यक्षेत्र में तन, मन, धन से समर्पित होकर कार्य करती तो भी उन्हें सामाजिक, राष्ट्रीय व जनता के हित के मुद्दो पर अपनी बात रखनी चाहिए और उन्हें कोई बात राजनीति में गलत लग रही है तो यथोचित विरोध व आलोचना करनी चाहिए आखिर में वे भी देश व समाज के अंग है। अगर प्रतिभाशाली, प्रभावशाली लोग देश व समाज के हित में आवाज नहीं उठाएंगे, आलोचना नहीं करेंगे तो फिर हमारी प्रतिभा केवल प्रतीकात्मक ही है। ऐसी स्थिति में हमारी प्रतिभा का वास्तविक उपयोग होना नहीं हुआ और न ही सच्चे अर्थों में मनुष्य कहलाने के ही अधिकारी हैं। यह अवश्य है कि गलत नीति नियमों व कार्यक्रमों का अपनी सीमा व मर्यादा में रहते हुए ही विरोध करें क्योंकि नीति में कहा गया है कि -” अच्छे शानदार वस्त्र पहनने वाला सभा को मोहित कर लेता है, अच्छी तेज सवारी वाला रास्ते की दूरी को कुछ नहीं समझता, अच्छे स्वभाव और मधुरभाषी सबको वश में कर लेता है। कभी किसी को निर्बल न समझो, विरोधी से भी प्रेम और मधुरता से व्यवहार करो, बलवान् से वैर मत करो और अवसर देखकर काम निकालो यानि मौका मत चुको बस इसी को चतुराई कहते हैं। “
चाणक्य ने भी कहा है कि” इस राष्ट्र को जितनी क्षति दुर्जनों की दुर्जनता से हुई है उससे कहीं अधिक क्षति सज्जनों की निष्क्रियता से हुई है। “
इस आर्टिकल में बताया गया है कि राजनीति या ऐसे ही जनता से सीधे जुड़ने वाले क्षेत्रो में ऐसे आवाज उठाने वाले लोगों को गणित व अन्य गणित जैसे क्षेत्रों में प्रतिभा रखनेवाले लोगों को प्रताड़ित किया गया है तथा यहाँ तक कि उनको जेल में ठूँस दिया गया है। अन्त में उन्होंने गणित के क्षेत्र में ही आकर अपना योगदान दिया है। आवाज उठाने वालो और आलोचना करने वालों को नुकसान तो उठाना पड़ता ही है। परन्तु अपनी मर्यादा व सीमा में रहते हुए हम ऐसा करते हैं तो परमात्मा हमारी रक्षा अवश्य करते हैं।
यदि आर्टिकल पसन्द आए तो अपने मित्रों के साथ शेयर और लाईक करें जिससे वे भी लाभ उठाए ।आपकी कोई समस्या हो या कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बताएं। इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें। 

2.गणित , दुनिया भर में असंतुष्टों की अंतिम शरणस्थली, अब वामपंथियों द्वारा वशीभूत है(Math, the last refuge of dissidents worldwide, is now vilified by leftists)-

08 अक्टूबर, 2019
गणित एक ऐसा क्षेत्र हुआ करता था जहाँ राजनीतिक रूप से उत्पीड़ित लोगों को शरण मिल सकती थी और शरण मिल सकती थी – “हुआ करता था।”
नातान श्राँस्की सोवियत संघ के सबसे प्रसिद्ध असंतुष्टों में से थे। उनकी आत्मकथा फियर नो ईविल में बताया गया है कि कैसे उन्होंने केजीबी को जेल में डाल दिया। वह एक गणितज्ञ भी थे।
इतना ही यूक्रेनी लियोनिद प्लायश भी थे, जिन्होंने 1968 में सोवियत संघ के अंदर से चेकोस्लोवाकिया पर आक्रमण की सार्वजनिक रूप से निंदा की थी। 1975 में नोबेल शांति पुरस्कार जीतने वाले आंद्रेई सखारोव एक भौतिक विज्ञानी थे। तो यूरी ओरलोव भी थे, जिन्होंने मॉस्को हेलसिंकी ग्रुप की स्थापना की थी। दिवंगत क्यूबा के असंतुष्ट ओसवाल्डो पेआ ने भी भौतिकी का अध्ययन किया। सद्दाम हुसैन की सुरक्षा सेवाओं द्वारा एक किशोर के रूप में गिरफ्तार किए गए वर्तमान इराकी राष्ट्रपति बरहम सलीह ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई की।

Math,The Last Refuge of Dissidents Worldwide,Is Vilified By Leftists,Secretary Pompeo Meets Iraqi President Barham Salih

Secretary Pompeo Meets Iraqi President Barham Salih

स्वर्गीय इराकी विपक्षी अहमद चालबी भी एक गणितज्ञ थे। पूर्व प्रधान मंत्री हैदर आबिदी एक इलेक्ट्रिकल इंजीनियर थे। मिस्र के राष्ट्रपति होस्नी मुबारक के विरोध में खड़े हुए मुस्लिम ब्रदरहुड कार्यकर्ता मोहम्मद मुर्सी ने उनका संक्षिप्त रूप से अध्ययन किया और इंजीनियरिंग की पढ़ाई भी की।
जिन देशों में जातीय या धार्मिक अल्पसंख्यकों के खिलाफ भेदभाव आधिकारिक और राज्य द्वारा स्वीकृत भेदभाव का सामना करते हैं, गणित और कठिन विज्ञान अक्सर शरण होते हैं। कारण सरल हैं: उन प्रणालियों में जहां राजनीति जीवन के लगभग हर पहलू, गणित, भौतिकी और इंजीनियरिंग में प्रतिरक्षा थी। जब सामाजिक विज्ञान की विषयवस्तु ने विश्वविद्यालय के धब्बों को “जीतने” के लिए शासन के वफादारों के लिए एक आसान रास्ता दिया, तो जिन लोगों ने सामाजिक विशेषाधिकार का आनंद नहीं लिया, वे केवल गणित की परीक्षा में अच्छी तरह से स्कोर करके विश्वविद्यालय के प्रवेश की आकांक्षा कर सकते थे, जहां एक स्पष्ट सही और गलत उत्तर था। जिसे कोई भी राजनेता हस्तक्षेप नहीं कर सकता था।
फिर विडंबना यह है कि यह क्षेत्र, जो अक्सर अल्पसंख्यकों और दलितों का अंतिम राहत है, का अब संयुक्त राज्य में अत्यधिक राजनीतिकरण हो रहा है।
द अमेरिकन कंजर्वेटिव में रॉड ड्रेहर ने पिछले महीने देर से कहानी को तोड़ दिया कि सिएटल गणित को “उत्पीड़न और नस्लवाद के लेंस के माध्यम से” सिखाने के लिए चाहता है। के -12 गणित के लिए सिएटल पब्लिक स्कूल का “एथनिक स्टडीज फ्रेमवर्क” यहां है। सिखाया जाने वाला एक विषय है, “जातीय अध्ययन द्वारा परिभाषित शक्ति और उत्पीड़न, वे तरीके हैं जिनमें व्यक्ति और समूह गणितीय ज्ञान को परिभाषित करते हैं ताकि गणितीय पहचान और बुद्धिमत्ता की एकमात्र वैध अभिव्यक्ति के रूप में is पश्चिमी’ गणित को देखें। वैधता की इस परिभाषा का उपयोग रंग के लोगों और समुदायों को अलग करने के लिए किया जाता है। ”कुछ आवश्यक प्रश्न जो सिखाए जाने हैं,“ सही होना कितना महत्वपूर्ण है? क्या सही है? कौन कहता है? ”एक प्लस एक इसलिए हमेशा दो नहीं होता है, अगर राजनीतिक समीचीनता कहे तो।
इस तरह के “वेक” गणित सिएटल के शिक्षकों के दिमाग में सामाजिक रूप से उदार प्रतीत हो सकते हैं, लेकिन वास्तव में वे अपने स्वयं के उदारवाद और दुनिया के अपने अज्ञानता के बुलबुले के बाहर के पाखंड को उजागर करते हैं। असंतुष्टों और कुछ सबसे अधिक परिणामी राजनेताओं और वैज्ञानिकों की उत्पीड़न और नस्लवादी व्यवस्थाओं से उत्पन्न होने वाली पीढ़ियों ने उनकी सफलता और इस तथ्य पर उनकी स्वतंत्रता का श्रेय दिया कि गणितीय सत्य की निष्पक्षता अत्यधिक सांस्कृतिक योद्धाओं की समझ से बाहर थी।
सामाजिक रुझानों के अनुरूप विज्ञान को बदलने से स्वतंत्रता और मुक्ति नहीं होती है, बल्कि मानव स्वतंत्रता को कम करने के लिए बलों, उदार या प्रतिक्रियावादी के लिए मार्ग को आसान बनाता है। अज्ञानता एक सिएटल शिक्षा का परिणाम हो सकता है, लेकिन स्वतंत्रता के लिए मार्ग पर इसका हमला भी एक त्रासदी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *